कोलकाता के स्कूल में लौटा पत्र मित्र बनाने का पुराना दौर

By: | Last Updated: Wednesday, 1 April 2015 6:12 AM
kolkata

कोलकाता: ईमेल, ट्विटर और फेसबुक को दरकिनार करते हुए कोलकाता के एक स्कूल के छात्र पुराने परंपरागत डाक पत्र के जरिए अमेरिका में पत्र मित्र बना रहे हैं. कोलकाता के सिल्वर प्वाइंट स्कूल में छात्रों को पढ़ाने के दौरान एलेक्जेंडर लेविन नाम के युवक के मन में यह विचार कौंधा कि किस तरह से पत्र लिखे जाएं और कैसे प्रभावी तरीके से बातचीत की जाए.

 

कक्षा के कार्य को मौज मस्ती भरे अंदाज में करने के मकसद से उन्होंने छठी, सातवीं और आठवीं कक्षा के छात्रों को एक चिट्ठी लिखने और उसे न्यू हैम्पशायर में रह रहे उनके एक दोस्त को पोस्ट करने को कहा. छात्रों से कुछ ही साल बड़ा जारडे उनके लिए बिल्कुल अनजान था.

 

उन्होंने उससे अपने परिचय के साथ इसकी शुरूआत की और जल्द ही उनकी भूमिका सांस्कृतिक आदान प्रदान करने वाले एजेंट में तब्दील हो गई क्योंकि उन्होंने अपने नए मित्र से कोलकाता के लोकप्रिय दुर्गा पूजा के बारे में बातचीत शुरू कर दी.

 

पत्र मित्र बनाने की कला ने कैसे कक्षा में पढ़ाने में मदद पहुंचाई, इस बारे में लेविन ने विस्तार से बताते हुए कहा, ‘‘इससे उन्हें यह सीख मिली कि जब किसी के लिए कोई बिल्कुल अनजान हो ऐसे में उससे अचानक बातचीत कैसे शुरू की जाए. इन छात्रों के लिए दुर्गा पूजा उनके जीवन में काफी अहम है लेकिन किसी दूसरे देश में लोगों ने इसके बारे में शायद ही सुना हो.’’

 

इसने छात्रों को न केवल भाषाई अभ्यास बल्कि सांस्कृतिक आदान प्रदान को प्रचारित करने में भी मदद पहुंचाई. यूनाइटेड स्टेट्स-इंडिया एजुकेशनल फाउंडेशन (यूएसआईईएफ) के फुलब्राइट-नेहरू कार्यक्रम के तहत एक अंग्रेजी भाषा के शिक्षक के रूप में कार्यरत लेविन कहते हैं कि डाक पत्र के जरिए चिट्ठी का जवाब पाने को लेकर छात्रों में बहुत रोमांच था.

Ajab Gajzab News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: kolkata
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017