एक इंसान जो मस्तिष्क के बिना 88 साल तक जीवित रहा

By: | Last Updated: Tuesday, 2 September 2014 1:48 AM

न्यूयार्क: यह बात आपको अविश्वसनीय लग सकती है, लेकिन सच है कि 88 साल के एक व्यक्ति के मस्तिष्क में दोनों भागों को जोड़ने वाली तंत्रिका नहीं है.

 

आमतौर पर एक इंसान का मस्तिष्क दो भागों में बंटा होता है और दोनों भाग आपस में तंत्रिकाओं के जाल के द्वारा जुड़े होते हैं, जिन्हें महासंयोजिका (कॉर्पस कॉलसम) कहते हैं.

 

लेकिन वेबसाइट वायर्ड डॉट कॉम के मुताबिक, एच. डब्ल्यू. नाम के इस 88 वर्षीय व्यक्ति के मस्तिष्क में कॉर्पस कॉलसम नहीं है. उनके मस्तिष्क में दो भागों को जोड़ने वाली मुख्य वाहिका गायब है.

 

चिकित्सकीय भाषा में कहें तो एच. डब्ल्यू. कॉर्पस कॉलसम में एजेनेसिस की समस्या से पीड़ित हैं. अर्थात जन्म के समय से ही उनके मस्तिष्क की यह संरचना गायब है.

 

चिकित्सकों के लिए यह बड़ी ही हैरतअंगेज बात है, कि एच. डब्ल्यू. ने इस समस्या के साथ फौज में एक सामान्य जीवन जिया और सेवानिवृत होने के बाद भी सामान्य कामकाजी जीवन जिया.

 

हाल ही में वह याददाश्त की मामूली समस्या को लेकर चिकित्सक से मिले.

 

वेतरंस अफेयर्स ईस्टर्न कोलोरैडो हेल्थ केयर सिस्टम के चिकित्सक ने कहा, “यह मामला दिमाग के विकास के लचीलेपन की ओर ध्यान खींचता है.”

Ajab Gajzab News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: man_lives_eightyeight_years_without_brain
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: ??? ??? ???????? ?????????
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017