सावधान: सेल्फी लेने के चक्कर में जा सकती है जान

By: | Last Updated: Sunday, 25 October 2015 8:07 AM
सावधान: सेल्फी लेने के चक्कर में जा सकती है जान

नई दिल्ली:  सेल्फी के चलन ने देश-दुनिया में कई पैमानों को बदल दिया है. सेल्फी अब एक शौक नहीं, जुनून बन गया है. सोशल मीडिया पर जिसकी जितनी आकर्षक और लीक से हटकर सेल्फी होगी, उस पर ‘लाइक्स’ भी उतने ही ज्यादा आएंगे. सेल्फी के दीवाने अब ज्यादा से ज्यादा लाइक्स बटोरने की होड़ में कोई भी जोखिम उठाने के लिए तैयार हैं.

 

सेल्फी की वजह से होने वाली दुर्घटनाओं की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है. भारत समेत दुनियाभर में सेल्फी के चक्कर में जान गंवाने वाले लोगों की संख्या लगातार बढ़ रही है.

 

नागपुर से लगभग 20 किलोमीटर दूर कुही की एक झील में नाव पर सवार छात्रों के एक समूह द्वारा सेल्फी लेने के दौरान नाव संतुलन बिगड़ने से डूब गई.

 

रूस में एक किशोर ने रेलवे पुल के ऊपर सेल्फी लेने की सोची, इस दौरान उसका पैर फिसला और वह नीचे जा गिरा, जिससे मौके पर ही उसकी मौत हो गई. अमेरिका के कैलिफोर्निया में एक महिला ने कुछ अलग हटकर करना चाहा तो बंदूक के साथ सेल्फी खींचने की कश्मकश में बंदूक का ट्रिगर ही दब गया और उसे सेल्फी की कीमत अपनी जान गंवाकर चुकानी पड़ी.

 

सिंगापुर में तो एक शख्स पहाड़ की चोटी पर सेल्फी खींचने में मगन था और अचानक उसका पैर फिसल गया और वह नीचे जा गिरा. बुल्गारिया में बुल रन के दौरान सांडों के साथ सेल्फी खींचना भी एक शख्स को महंगा पड़ा. ताजमहल के सामने एक जापानी पर्यटक के सेल्फी खींचने की घटना हर किसी को याद होगी, जिसमें सेल्फी खींचने के दौरान जापानी युवक सीढ़ियों से नीचे गिर गया था और बाद में अस्पताल में उसने दम तोड़ दिया था.

 

ऐसे कई उदाहरण हैं, जो यह बताने के लिए काफी है कि एक ‘परफेक्ट’ सेल्फी की चाहत में लोगों को चोटिल होने के साथ-साथ अपनी जान तक गंवानी पड़ी है.

 

आंकड़ों के मुताबिक, दुनियाभर में सेल्फी की वजह से होने वाली मौतें, शार्क के हमलों से होने वाली मौतों से अधिक हैं. सेल्फी के कारण हुई मौतों में ऊंचाई से गिरने और चलते वाहन से टकराने की वजह से सर्वाधिक हुई हैं. रूस ने अपने नागरिकों को जोखिमभरी सेल्फी लेने से आगाह करते हुए जुलाई 2015 में ‘सेफ सेल्फी’ नाम से एक देशव्यापी अभियान की शुरुआत की थी.

वेबसाइट ‘माशेबल’ पर जारी आंकड़ों के मुताबिक, साल 2015 में अब तक शार्क हमलों की तुलना में सेल्फी से संबंधित मौतें अधिक हैं. इस साल शार्क के हमले से अब तक 8 लोग मारे जा चुके हैं, जबकि सेल्फी लेने के दौरान 12 लोगों की मौत हुई है.

 

दिल्ली के पीतमपुरा स्थित साइकोसिस ट्रीटमेंट सेंटर के मनोचिकित्सक अनूप लाघी कहते हैं, “दुनिया के हर कोने में हर रोज, हर मिनट सेल्फी ली जा रही है. सेल्फी के लिए कुछ भी कर गुजरना एक तरह के मनोरोग को भी दर्शाता है, जिसमें भीड़ से हटकर अलग दिखने की चाह में लोग कोई भी खतरा उठाने के लिए तैयार हैं.”

 

वर्ष 2013 में आस्ट्रेलिया में ‘माशेबल’ द्वारा किए गए एक सर्वेक्षण के मुताबिक, 18-35 आयुवर्ग की दो-तिहाई से अधिक महिलाएं सेल्फी का इस्तेमाल फेसबुक जैसी सोशल नेटवर्किंग साइट पर अपलोड करने में करती हैं.

 

लाघी कहते हैं कि यह मानव का स्वभाव है कि वह नई-नई चीजों के इस्तेमाल का आदी हो जाता है और इसके अत्यधिक उपयोग से त्रस्त होने में भी उसे समय नहीं लगता तो जाने-अनजाने आगे चलकर एक तरह के मनोविकार का रूप ले लेता है, जिसका परिणाम कुछ भी हो सकता है। इसलिए जरूरत है हर चीज का संयम व समझदारी से उपयोग करने की.

 

सेल्फी की शुरुआत की बात करें तो फोटोग्राफर जिम क्रॉस ने साल 2005 में पहली बार सेल्फी शब्द का इस्तेमाल किया था, लेकिन इस शब्द को सोशल मीडिया के बढ़ते प्रभाव की वजह से 2012 में उस समय लोकप्रियता मिली, जब टाइम पत्रिका ने सेल्फी शब्द को उस साल के शीर्ष 10 शब्दों में स्थान दिया.

 

सेल्फी की बढ़ती लोकप्रियता को देखते हुए 2013 में ऑक्सफोर्ड इंग्लिश शब्दकोश के ऑनलाइन वर्जन में भी इसे शामिल कर लिया गया. इसी साल सेल्फी को 2013 का ‘वर्ड ऑफ द ईयर’ भी घोषित किया गया.

First Published:

Related Stories

बच्चे के शव के साथ माता-पिता को भी मुर्दाघर में बंद कर चला गया अस्पताल कर्मी
बच्चे के शव के साथ माता-पिता को भी मुर्दाघर में बंद कर चला गया अस्पताल कर्मी

जयपुर: राजस्थान में बीते शनिवार को एक सरकारी अस्पताल का कर्मचारी बच्चे के शव के साथ उसके...

मिलिए हजारों बिच्छुओं के साथ रहने वाली इस 'स्कॉर्पियन क्वीन' से
मिलिए हजारों बिच्छुओं के साथ रहने वाली इस 'स्कॉर्पियन क्वीन' से

नई दिल्ली: यदि आपके आस-पास कोई बिच्छू दिख जाए तो जाहिर है आपके जेहन में बिजली सी कौंध जाएगी, मगर...

फुटबॉल के मैदान में दिखा आस्था का बेजोड़ संगम
फुटबॉल के मैदान में दिखा आस्था का बेजोड़ संगम

नई दिल्ली: जिंदगी के हर क्षेत्र में सफलता के लिए खुद पर विश्वास होना बेहद जरूरी है. फिर चाहे वो...

बरगद और पीपल के पेड़ की हुई शादी, शरीक हुए सैकड़ों लोग
बरगद और पीपल के पेड़ की हुई शादी, शरीक हुए सैकड़ों लोग

नई दिल्ली: कहते हैं शादी का बंधन जन्म-जमांतर का रिश्ता होता है. इंसानों में ये रिश्ता बेहद मायने...

प्रोस्टिट्यूशन बैन है पर सेक्स वर्कर्स के साथ संबंध बनाकर 23.1% पुरुष खो चुके हैं वर्जिनिटी
प्रोस्टिट्यूशन बैन है पर सेक्स वर्कर्स के साथ संबंध बनाकर 23.1% पुरुष खो चुके...

नई दिल्ली: दक्षिण कोरियाई जनता अब तक करोड़ों का धन सेक्स के ऊपर बर्बाद कर चुकी हैं. जिसकी बदौलत...

जब हाईवे पर चलती कार के ऊपर चढ़ा सांपः जानिए क्या हुआ आगे?
जब हाईवे पर चलती कार के ऊपर चढ़ा सांपः जानिए क्या हुआ आगे?

नई दिल्ली: यदि आप किसी कार में कहीं जा रहे हों और एक सांप आपकी कार के ऊपर चढ़ता चला आए तो आपको कैसा...

पाकिस्तान: 3 पिता के 96 बच्चे, कहा- 'अल्लाह ने वादा किया है, जरूरतें पूरी करेगा'
पाकिस्तान: 3 पिता के 96 बच्चे, कहा- 'अल्लाह ने वादा किया है, जरूरतें पूरी करेगा'

बन्नू/पाकिस्तान: दक्षिण एशिया में सबसे अधिक बर्थ रेट वाले देश पाकिस्तान में करीब 100 बच्चों को...

दर्दनाक: जू के अधिकारियों ने जिंदा गधे को बाघों के सामने फेंका, VIDEO वायरल
दर्दनाक: जू के अधिकारियों ने जिंदा गधे को बाघों के सामने फेंका, VIDEO वायरल

नई दिल्ली: वैसे तो आपने शेरों और बाघों को जंगल में शिकार करते और चिड़ियाघर में छोटे जानवरों को...

इस पुलिस थाने में 23 साल में दर्ज हुए केवल 55 मुकदमे, कोई रेप का केस नहीं
इस पुलिस थाने में 23 साल में दर्ज हुए केवल 55 मुकदमे, कोई रेप का केस नहीं

जैसलमेर: जैसलमेर जिले में एक थाना ऐसा भी है जहां 23 वर्ष में महज 55 मुकदमे दर्ज हुए हैं और जहां...

जंगल के राजा और रानी की अनोखी शादी, 400 लोग हुए शरीक
जंगल के राजा और रानी की अनोखी शादी, 400 लोग हुए शरीक

चिटगांव: बांग्लादेश में एक अजीबो-गरीब पार्टी का आयोजन सुर्खियां बटोर रहा है. यह पार्टी चिटगांव...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017