ब्लॉग: क्या दार्जिलिंग के चाय बागान गोरखालैंड की आग में झुलस जाएंगे?

Monday, 24 July 2017 10:28 AM | Comments (0)
ब्लॉग: क्या दार्जिलिंग के चाय बागान गोरखालैंड की आग में झुलस जाएंगे?

फाइल फोटो

करीब छह वर्षों की शांति के बाद पश्चिम बंगाल का दार्जिलिंग इलाका पिछले महीने भर से बारूद के ढेर पर बैठा हुआ है. विमल गुरुंग के नेतृत्व में गोरखा जनमुक्ति मोर्चा वहां इस बार आर-पार की लड़ाई के मूड में है. गोरखालैंड बनाने के लिए गुरुंग ने करो या मरो का नारा दिया है जिसे यहां के प्रमुख निवासी गोरखाओं, राई, लेपचाओं और शेरपाओं ने प्राणपण से अपना लिया है. पूरे इलाके में सेना और अर्द्ध सैनिक बल तैनात कर दिए गए हैं इसके बावजूद जनभावनाएं इस कदर हिलोरें मार रही हैं कि यहां के दार्जिलिंग समेत प्रमुख शहरों- कलिम्पोंग, कर्सियांग और मिरिक में आमरण अनशन चल रहे हैं, सेना पर पथराव हो रहा है, वाहन फूंके जा रहे हैं, महिलाएं सड़क पर उतर गई हैं, साहित्यकार-कलाकार सम्मान लौटा रहे हैं और इंटरनेट सेवाएं ठप कर दी गई हैं. इसके साथ-साथ इस इलाके की अर्थव्यवस्था का आधार पर्यटन और चाय उद्योग भी सिसक रहा है.

देखा जाए तो इस बार का आंदोलन पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की पहाड़ी क्षेत्र में अपना प्रभुत्व जमाने की क्रिया की प्रतिक्रिया है. उन्होंने दार्जिलिंग स्थित राजभवन में लगभग 45 साल (1972 के) बाद पश्चिम बंगाल की विधानसभा के मंत्रिमंडल की बैठक आयोजित की. एक अधिसूचना जारी करके उन्होंने 9वीं कक्षा तक बांग्ला को चुनने की बात भी कही, जिससे यह संदेश चला गया कि मुख्यमंत्री दार्जिलिंग इलाके की नेपाली भाषा को दरकिनार करने की कोशिश करके सांस्कृतिक हमला कर रही हैं. जबकि नेपाली को पश्चिम बंगाल में 1961 से आधिकारिक भाषा का दर्जा मिला हुआ है. ममता ने दार्जिलिंग में पिछले वर्ष शुभकामनाओं के पोस्टर भी अंग्रेजी और बांग्ला में लगवाए थे, नेपाली में नहीं.

बीती मई में इस पर्वतीय क्षेत्र की चार नगरपालिकाओं दार्जिलिंग, कालिंपोंग, कर्सियांग और मिरिक के चुनावों में मिरिक नगरपालिका पर तृणमूल कांग्रेस ने कब्जा कर लिया. गोरखा जनमुक्ति मोर्चा के लिए यह खतरे की घंटी थी. मोर्चा के अध्यक्ष विमल गुरुंग को लगा कि ममता बनर्जी मैदान की तरह ही पश्चिम बंगाल के पूरे पर्वतीय क्षेत्र में भी अपनी दो पत्तियां खिलाना चाहती हैं. ममता ने राई, लेपचा और शेरपा समुदाय के लिए अलग-अलग विकास परिषदों का गठन भी कर दिया है, जिससे राज्य की आर्थिक मदद सीधे उन परिषदों को जाने लगी है. इस पर आग में घी का काम किया ममता की जीटीए (गोरखालैंड टेरिटोरियल एडमिनिस्ट्रेशन) का ऑडिट कराने की घोषणा ने. अगले महीने ही जीटीए के चुनाव होने हैं, जिसके मुखिया विमल गुरुंग हैं. कहा जाता है कि पर्वतीय क्षेत्र का प्रशासन चलाने के लिए पिछले पांच वर्षों में केंद्र ने 600 करोड़ और राज्य सरकार ने 1400 करोड़ रुपए जीटीए को दिए. लेकिन ऑडिट की बात आते ही पहाड़ में हिंसा शुरू हो गई.

गोरखालैंड की मांग करने वालों का तर्क है कि उनकी भाषा और संस्कृति शेष बंगाल से भिन्न है. वैसे दार्जिलिंग में अलग प्रशासनिक इकाई की मांग 1907 से चली आ रही है, जब हिलमेन्स असोसिएशन ऑफ दार्जिलिंग ने मिंटो-मोर्ली रिफॉर्म्स को एक अलग प्रशासनिक क्षेत्र बनाने के लिए ज्ञापन सौंपा था. इस बीच समय-समय पर मांगें उठती रहीं लेकिन भारत की आजादी के बाद एक कानून पास किया गया ‘द अब्जॉर्बड एरियाज एक्ट 1954’, जिसके तहत दार्जिलिंग और इसके साथ के क्षेत्र को पश्चिम बंगाल में मिला दिया गया. स्वतंत्र भारत में अखिल भारतीय गोरखा लीग वह पहली राजनीतिक पार्टी थी जिसने पश्चिम बंगाल से अलग एक नए राज्य के गठन के लिए पंडित जवाहर लाल नेहरू को एनबी गुरुंग के नेतृत्व में कालिम्पोंग में एक ज्ञापन सौंपा था. 1980 में गोरखा लीग के नेता इंद्र बहादुर राई ने भी तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को पत्र लिखकर गोरखालैंड के गठन की मांग की थी.
आगे चलकर 1986 में गोरखा राष्ट्रीय मुक्ति मोर्चा के द्वारा एक हिंसक आंदोलन की शुरुआत हुई जिसका नेतृत्व सुभाष घीसिंग के हाथ में था. इस आंदोलन के फलस्वरूप 1988 में एक अर्ध स्वायत्त इकाई का गठन हुआ जिसका नाम था- ‘दार्जिलिंग गोरखा हिल परिषद’. बता दें कि गोरखा राष्ट्रीय मुक्ति मोर्चा के अध्यक्ष सुभाष घीसिंग भी परिषद का ऑडिट शुरू होते ही हिंसक आंदोलन शुरू कर दिया करते थे!

darjeeling school 6

एक बार हिंसा भड़क गई है. पुलिस और पब्लिक के बीच कई जगहों पर झड़पों की सूचना है. इसके साथ ही इंडियन रिजर्व बटालियन (आईआरबी) के एक अधिकारी पर हमले की सूचना है. उन पर खुखरी से हमला किया गया है. इसबीच इसे लेकर अफवाहों के बाद पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी का बयान आया है…आगे जानिए…

घीसिंग के समय पहाड़ी क्षेत्र की ट्रांसपोर्ट यूनियन की देखभाल करने वाले विमल गुरुंग ने 2006-07 में अपना अलग गोरखा जनमुक्ति मोर्चा बना लिया. 2011 तक उन्होंने गोरखालैंड की मांग को लेकर काफी संघर्ष किया लेकिन जब ममता बनर्जी मुख्यमंत्री बनीं तो उन्होंने ‘दार्जिलिंग गोरखा हिल परिषद’ को भंग करके एक समझौते के तहत जीटीए का गठन कर दिया. चुनाव जीत कर जीटीए का मुखिया बनने के बाद विमल गुरुंग के पास उसका पूर्ण प्रशासन आ गया और वह गोरखालैंड की मांग को लेकर धीरे-धीरे ठंडे पड़ते गए. लेकिन एक समय गुरुंग की ‘दीदी’ कही जाने वाली ममता बनर्जी ने अपनी राजनीतिक महत्वाकांक्षाओं के चलते गुरुंग को 2017 में बेहद असुरक्षित करके एक बार फिर उन्हें उग्र आंदोलन के मोड में डाल दिया है.

लगभग 12 लाख की आबादी वाले कुल 3150 वर्ग किलो मीटर में फैले इस पहाड़ी इलाके में दो जिले, तीन विधानसभा सीटें, चार नगरपालिकाएं हैं और यह एक लोकसभा क्षेत्र का हिस्सा मात्र है. इस सीमावर्ती इलाके को अलग राज्य का दर्ज़ा देने में कई व्यावहारिक समस्याएं हैं. यह सभी राजनीतिक दल बखूबी जानते हैं. लेकिन भाजपा, कांग्रेस और वामदल गोरखालैंड की मांग को लेकर परिस्थिति के अनुसार अपने सुर बदलते रहते हैं. जुलाई 2009 में संसद के बजट सत्र में भाजपा के तीन सांसदों राजीव प्रताप रूडी, सुषमा स्‍वराज और जसवंत सिंह ने अलग गोरखा राज्‍य की मांग की थी. लेकिन आज दार्जिलिंग में फिर हालात खराब हैं तो पश्चिम बंगाल में उनकी ही पार्टी के मुखिया दिलीप घोष का कहना है वह गोरखालैंड को अलग राज्य बनने के पक्ष में बिल्कुल भी नहीं हैं.

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी ने अलग गोरखालैंड राज्य की मांग को लेकर हिंसक आंदोलन के लिए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा है- “ममता बनर्जी ने अलग राज्य का दर्जा दिए जाने को लेकर कुछ अनावश्यक उम्मीदें जगाई थीं. वाम दल शुरुआत से ही अलग राज्य की मांग के खिलाफ थे.” जबकि हकीकत यह है कि 1947 में अनडिवाइडेड कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया (सीपीआई) ने एक ज्ञापन कांस्टिट्यूट असेम्बली को दिया था, जिसमें सिक्किम और दार्जिलिंग को मिलाकर एक अलग राज्य ‘गोरखास्थान’ के निर्माण की मांग की गई थी. इसी तरह कांग्रेस जब केंद्र में थी तो उसने सुभाष घीसिंग के साथ क्या-क्या खेल नहीं खेले! अब बारी केंद्र में सत्तारूढ़ भाजपा की है.

लेकिन झांसी की रानी की तर्ज पर ममता का ऐलान है- “मैं अपनी अंतिम सांस रहने तक पश्चिम बंगाल का एक और विभाजन नहीं होने दूंगी.” जबकि गोरखा जनमुक्ति मोर्चा ने ठान लिया है कि इस बार वह गोरखालैंड लेकर ही रहेगा! लगता है इस सीजन में दार्जिलिंग के चाय बागान आंदोलन की हिंसक आग में झुलस कर ही रहेंगे.
लेखक से ट्विटर पर जुड़ने के लिए क्लिक करें

और फेसबुक पर जुड़ने के लिए क्लिक करें

ALL BLOG POST

BLOG: श्रीलंका की टीम को आखिर हुआ क्या है?
BLOG: श्रीलंका की टीम को आखिर हुआ क्या है?

ये सच है कि खेल में हार जीत होती है. ये भी सच है कि दुनिया के…

Tags: blog shivendra kumar singh shivendra kumar singh blog sri lanka INDvsSL Team India

BLOG: शादी में बलात्कार, पर्सनल नहीं-पब्लिक कॉज ही है
BLOG: शादी में बलात्कार, पर्सनल नहीं-पब्लिक कॉज ही है

माशा

Saturday, 19 August 2017

पिछले दिनों बेरुत के समुद्र किनारे विरोध जताने के लिए शादी के सफेद गाउन्स लटकाए गए. विरोध…

Tags: marital rape IPC rape rape victim supreme court blog

BLOG : सेंसर बोर्ड फिल्मों पर कैंची चलाना कब बंद करेगा?
BLOG : सेंसर बोर्ड फिल्मों पर कैंची चलाना कब बंद करेगा?

केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड के अध्यक्ष पद से बर्ख़ास्त किए गए पहलाज निहलानी का हमें तहे दिल…

Tags: Prasoon Joshi CBFC Pahlaj Nihalani Vidya Balan lyricist Central Board of Film Certification

गोरखपुर ट्रेजडी : ‘अगस्त’ को बदनाम ना करो!
गोरखपुर ट्रेजडी : ‘अगस्त’ को बदनाम ना करो!

अब तक तो हमने अगस्त क्रांति के बारे में सुना था जिसकी 75वीं सालगिरह 9 अगस्त यानि…

Tags: Gorakhpur tragedy brd medical college NHRC UP government notice children deaths hindi news Latest Hindi news news in hindi ABP News

BLOG: टेस्ट क्रिकेट की लोकप्रियता के लिए अच्छी नहीं हैं ऐसी सीरीज
BLOG: टेस्ट क्रिकेट की लोकप्रियता के लिए अच्छी नहीं हैं ऐसी सीरीज

भारत ने श्रीलंका को एक और टेस्ट मैच में हरा दिया है. इस टेस्ट मैच में हार…

Tags: India sri lanka shivendra kumar singh blog INDvsSL Virat Kohli

BLOG: योगी जी कुछ करिए न! ...ताकि लगे आप जो कहते हैं वही करते हैं
BLOG: योगी जी कुछ करिए न! ...ताकि लगे आप जो कहते हैं वही करते हैं

पंकज झा

Monday, 14 August 2017

देवकी हों या फिर यशोदा… गोरखपुर और आस पास के इलाक़ों में सबकी आंखें पथराई हैं.. हर…

Tags: Gorakhpur tragedy yogi adityanath

BLOG: बदले खिलाड़ियों के साथ उतरेंगी भारत श्रीलंका की टीमें
BLOG: बदले खिलाड़ियों के साथ उतरेंगी भारत श्रीलंका की टीमें

अब से कुछ घंटे बाद भारत और श्रीलंका की टीमें टेस्ट सीरीज के आखिरी मैच में भिड़ने…

Tags: shivendra kumar singh shivendra kumar singh blog Team India INDvsSL Virat Kohli test match

BLOG : पीछा करना यहां गुनाह नहीं, इसे तो स्टाइलिश समझा जाता है!
BLOG : पीछा करना यहां गुनाह नहीं, इसे तो स्टाइलिश समझा जाता है!

माशा

Friday, 11 August 2017

लड़कों डरो क्योंकि ये लड़कियां कभी भी तुम्हें जेल की हवा खिला सकती हैं. तुमने प्यार से…

Tags: blog stalking Masha Vikas Barala Chandigarh stalking case police custody hindi news Latest Hindi news news in hindi ABP News

जडेजा को ऐसी गलती करने की क्या जरूरत थी
जडेजा को ऐसी गलती करने की क्या जरूरत थी

कोलंबो टेस्ट में भारतीय टीम ने आसानी से बड़ी जीत दर्ज की. भारत ने ये मैच पारी…

Tags: Ravindra Jadeja Ban ICC sri lanka Team India Dimuth Karunaratne test match Colombo shivendra kumar singh shivendra kumar singh blog

BLOG : औरतें सिर्फ यूनिवर्सल बेसिक इनकम के झांसे में आने वाली नहीं
BLOG : औरतें सिर्फ यूनिवर्सल बेसिक इनकम के झांसे में आने वाली नहीं

माशा

Saturday, 5 August 2017

पोथियां भर-भर अध्ययन करने वाले कई बार शिगूफे छोड़ते रहते हैं. नया नारा यूनिवर्सल बेसिक इनकम का…

Tags: blog universal basic income Masha Women

BLOG: बीजेपी के लिए उच्च सदन फ़तह करना अहम क्यों है?
BLOG: बीजेपी के लिए उच्च सदन फ़तह करना अहम क्यों है?

संसद का उच्च सदन यानि राज्यसभा देश का एकमात्र ऐसा सदन है जिसमें 23 अगस्त 1954 को हुए…

Tags: BJP rajya sabha PM Modi opposition NDA SP BSP Congress JDU amit shah

कौन सा है वो एक शॉट जो लगा देता है टीम इंडिया के गेंदबाजों की वाट?
कौन सा है वो एक शॉट जो लगा देता है टीम इंडिया के गेंदबाजों की वाट?

कोलंबो टेस्ट में अभी कुछ भी बिगड़ा नहीं है. श्रीलंका की टीम अब भी भारत से करीब…

Tags: INDvsSL Team India sri lanka shivendra kumar singh shivendra kumar singh blog test match

आप सोच भी नहीं सकते कि श्रीलंका ने टीम इंडिया के खिलाफ की थी कैसी साजिश?
आप सोच भी नहीं सकते कि श्रीलंका ने टीम इंडिया के खिलाफ की थी कैसी साजिश?

अपने ही घर में पहला टेस्ट मैच हारने के बाद कोलंबो में दूसरे टेस्ट मैच के लिए…

Tags: sivendra kumar singh INDvsSL Virat Kohli Team India Dinesh Chandimal

साल भर पहले चेतेश्वर पुजारा को क्यों पड़ी थी विराट कोहली से डांट?
साल भर पहले चेतेश्वर पुजारा को क्यों पड़ी थी विराट कोहली से डांट?

कोलंबो टेस्ट मैच चेतेश्वर पुजारा के लिए खास था. उन्होंने अपने इस खास टेस्ट मैच को खास…

Tags: Cheteshwar pujara Virat Kholi test shivendra kumar singh shivendra kumar singh blog Team India SLvsIND

BLOG : महिलाएं सिर्फ बचा-खुचा खाने के लिए नहीं बनी हैं
BLOG : महिलाएं सिर्फ बचा-खुचा खाने के लिए नहीं बनी हैं

घर में खाना कौन पकाता है? और घर में खाना पकाने वाला खाना कब खाता है… हममें…

Tags: food Nutrition facts Woman unesco malnutrition woman health

बिहार में सियासी भूचाल से उठे बड़े राजनीतिक सवाल
बिहार में सियासी भूचाल से उठे बड़े राजनीतिक सवाल

बिहार में नीतीश कुमार के बीजेपी के साथ जाने पर विपक्ष और खासतौर पर कांग्रेस को धोखा औऱ साजिश…

BLOG: हैदराबाद हाउस में मोदी-नीतीश की भेंट में तय हुआ था क्लाइमेक्स!
BLOG: हैदराबाद हाउस में मोदी-नीतीश की भेंट में तय हुआ था क्लाइमेक्स!

राजकिशोर

Thursday, 27 July 2017

नीतीश का आरजेडी से बाहर जाना तो करीब छह माह पहले ही तय हो गया था. लालू…

BLOG: तेजस्वी इस्तीफा दे देते तो भी नीतीश महागठबंधन से अलग हो जाते!
BLOG: तेजस्वी इस्तीफा दे देते तो भी नीतीश महागठबंधन से अलग हो जाते!

अगर तेजस्वी यादव बिहार के उप मुख्यमंत्री के पद से इस्तीफ़ा दे देते तो क्या महागठबंधन की सरकार बच…

Tags: Nitish Kumar resignation pre-planed tejasvi yadav

View More

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017