BLOG: उसने आंसुओं को थाम के रखा !

Monday, 10 April 2017 4:34 PM | Comments (0)
BLOG: उसने आंसुओं को थाम के रखा !

वेद विलास उनियाल

वरिष्ठ पत्रकार

रायपुर के एक चैनल आईबीसी 24 की एंकर सुप्रीत कौर अपने कर्तव्य को निभाने के लिए एक मिसाल बन गई. यह आभास होने पर भी कि महासमुंद के एक बडी सड़क दुघर्टना में जिन लोगों के गंभीर रूप से घायल या निधन होने की बात कही जा रही है, उसमें उनके पति भी शामिल है, वह अपनी भावनाओं और दुख को दबाए हुए पूरा समाचार पढती रही. वह एक पल भी विचलित नहीं हुई. मीडिया में अपने काम के प्रति समर्पण, हौसला, धैर्य नैतिकता की कितने ही प्रसंग सुनने को मिल जाते हैं. लेकिन यह घटना अपने आप में अलग है. सचमुच एक युवा नवविवाहिता को अपने जीवनसाथी के बारे मे ऐसी सूचना मिलना और फिर उसी सूचना को पढना, साथी टीवी रिपोर्टर से इनपुट लेना सब कुछ अंदर से मन को झकझोर देता है. अजीब सी बिडंबना लेकिन उन हालातों में भी कैमरे के सामने सहज रहना, अपनी उस वक्त की जिम्मेदारी को पूरा करना यही बताता है कि टीवी मीडिया में अब भी युवा किस समर्पण साहस के साथ आते हैं. वह केवल कैमरे के सामने बैठने वाली एक प्रतिमूर्ति भर नहीं होते. वहां केवल टीवी कैमरा और चौंधियाती हुई रोशनी नहीं होती, बल्कि उसमें जीवटता, साहस और धैर्य का परिचय भी होता है. ऐसे पल में जब आपको देश दुनिया में हजारों लोग देख सुन रहे होते हैं, एक एक पल संवेदनशील होता है जिम्मेदारी के अहसास का होता है. और कोई क्षण इस तरह भी झकझोर सकता है जैसे सुप्रीत के साथ हुआ. तब अपने स्तर पर ही संभलना होता है, जूझना होता है. उनके भी जज्बात हैं, उनकी भी भावनाएं हैं लेकिन जब जिंदगी के ऐसे मोड़ आते हैं तो कोई सुप्रीत कौर एक प्रेरणा बन जाती है.

सत्तर के दशक में महान शोमैन राजकपूर की एक फिल्म आई थी, मेरा नाम जोकर. फिल्म एक जोकर के मनोविज्ञान पर आधारित थी. बल्कि जोकर एक कलाकार का रूप था. वह हंसता है, हंसाता है. मगर उसकी अपनी जिंदगी में गहरा दुख होता है. जिसे वह मन ही मन महसूस करता है. उसकी आंख कभी छलकती नहीं. आंसू बाहर नहीं आते. बस वह मन के अंदर रोता है. शोमैन का यह चित्र न जाने क्यों आरके बैनर की हिट फिल्मों में नहीं आया. फिल्म नहीं चली. लेकिन राजकपूर ने अपने एक इंटरव्यू में कहा था कि वह नहीं जानते कि मेरा नाम जोकर फिल्म को एक सच्ची अभिव्यक्ति, सुदर संवाद और बेहतर संगीत के बावजूद क्यों नहीं स्वीकारा गया. लेकिन वह इससे कला जगत के बहाने उस इंसान की बात कह गए जिसके अंदर गहरा दर्द है, बिछुड़ने का अहसास है, टीस है लेकिन वह इसे अपने में ही समा लेता है. इसी फिल्म में एक दृश्य है. फिल्म के जोकर को अहसास हो जाता है कि उसे बिना बताए उसका सर्कस देखने आई उसकी मां अब इस जिंदगी में नहीं रही. उसकी मां के सिवा उसका दुनिया में कोई नहीं था. लेकिन वह अपने जज्बात को काबू में रखता है, वह अपना शो करता है. गाता है, मुस्कराता है. इन बातों से अनजान दर्शक उसके लिए तालियां बजाते रहते हैं. उसका दुख शो के खत्म होने पर झलकता है वह भी दूसरे अंदाज में. थीम यही थी कि शो मस्ट गो आन. कुछ भी हो कर्तव्य भावना से पहले है.

राजकपूर की फिल्म तो पर्दे पर थी लेकिन आज यहां जिंदगी का एक सच्चा मगर दुख देने वाला दृश्य था. एक टीवी एंकर के लिए यह कर पाना, इस हालात से गुजर जाना आसान नहीं था. यहां उसके साहस हौसले की कोई छोटा इम्तिहान नहीं था बल्कि जिंदगी की सबसे बडी परीक्षा थी. वह यह जान रही थी कि जिस खबर में वह कुछ लोगों के गंभीर घायल या मारे जाने की आशंका की बात लोगों को बता रही है उसमें एक व्यक्ति उसका पति भी है. एक ऐसे दौर में जब दोनों ने वैवाहिक जीवन की शुरुआत की हो तब यह सब गहरा सदमा ही है. लेकिन सुप्रीत ने खबरों को पढना जारी रखा. टीवी खबरें देता रहा. लोग खबरों को देखते सुनते रहे. बिना यह जाने की टीवी के पर्दे पर जो युवा एंकर उन्हें कुछ बता रही है, उसकी जिदगी में क्या घट गया है. सचमुच ऐसे क्षण काल्पनिक से लगते हैं, कहानियों के लगते है, या फिर किसी टीवी घारावाहिक के लिए बुनी कहानी के लग सकते हैं. लेकिन जब वह महज काल्पनिक न होकर हकीकत होता है तो सब कुछ सिहर सा जाता है. राजकपूर के उस किरदार की तरह सुप्रीत कौर ने असली जीवन में अपने इस शो को रुकने नहीं दिया. उसने भी आसुंओं को थाम कर रखा. अपने कतर्व्य का पूरा निर्वाह किया. जिदंगी के ऐसे क्षणों को झेलकर कोई इंसान जब कुछ अनूठा कर गुजरता है तो वह एक समाज के लिए एक नई कहानी कह जाता है.

अपने चैनल के रायपुर स्टूडियो में हर सुबह की तरह सुप्रीत उस रोज भी आई थी. लेकिन वह सुबह उसके जीवन के लिए कुछ और थी. उसे मालूम नहीं था कि अगले कुछ क्षणों में उसे जीवन के सबसे मुश्किल क्षणों से गुजरना होगा. एक अजीब, कष्ट देने वाला मन को पूरी तरह विचलित करने वाली चुनौती से गुजरना होगा. ऐसे हालात जहां कोई केवल विलाप ही कर सकता है. सांत्वना, धैर्य ये सब तो बाद की चीजें हैं. वह जब खबर पढ़ रही थी तो बीच में ही महासमुंद के टीवी पत्रकार ने एक सड़क हादसे की जानकारी दी थी. ऐसे क्षण मे टीवी क चैनल हैड ने यह जानते हुए भी कि पिथौरा के पास सड़क दुर्घटना में हादसे से प्रभावित लोग कौन हैं, बडी कुशलता से नाम सामने नहीं आने दिया. लेकिन वाहन, दुर्घटना की जगह, लोगों की बाते तमाम चीजों से सुप्रीत को शक हो गया था कि जिस हादसे के बारे में जानकारी दी जा रही है उसमें उसका पति भी शामिल हैं. यूएसवी डस्टर को किसी भारी वाहन ने पीछे से टक्कर मारी थी. सुप्रीत को यह पता था कि उसके पति को अपने दोस्तों के साथ सराईपाला जाना है. इसलिए उसे यह भांपते देर नहीं लगी कि जिस घटना के बारे में पत्रकार ने जानकारी दी है वह उसके पति से जुड़ी है.

उसका मन अंदर से झकझोर गया होगा लेकिन उसके चेहरे पर एक पल के लिए भी भाव नहीं आया. वह खबरों को पढ़ती गई. स्टूडियो से बाहर आकर उसने पाया कि उसके मोबाइल फोन पर कई बार फोन किया गया है. और फिर उसे सच्चाई का सामना करना ही पडा कि दुर्घटना में गंभीर घायल बताया जा रहा उसका पति इस दुनिया में नहीं है.

पत्रकारिता जगत में झकझोरने वाली दास्तां है ये. जहां एक टीवी एकंर पति की मौत की ब्रेकिंग न्यूज पढ रही होती है. साथ ही मीडिया के प्रति उस बनी बनाई धारणा को भी दूर करती है जहां टीवी मीडिया को केवल ग्लैमर की चीज मान लिया जाता है. कल्पना कर सकते हैं कि एक नवविवाहिता टीवी एंकर किस हालात से गुजरी होगी. किस तरह की मनस्थिति बनी होगी. लेकिन उसने अपने कतर्व्य को निभाया. पल भर में जो कुछ हो गया वह सुप्रीत को जिंदगी भर का दुख दे गया लेकिन उसने जो हौसला सयम का परिचय दिया वह मीडिया के क्षेत्र को एक सम्मान भी दे गया. खासकर तब जबकि मीडिया को समाज से जोड़कर एक बडे नैतिक कर्म और जिम्मेदारी के तौर पर देखा जाता रहा हो. आज के समय में मीडिया की वह जगह कुछ धुंधली होती जा रही है. तब ऐसे
समय में सुप्रीत से जुडी इस घटना का सामना आना मीडिया को फिर से हौसला देता है और कहीं न कहीं गहरी जिम्मेदारियों का अहसास कराता है. सुप्रीत रुकी नहीं क्योंकि मीडिया रुकता नहीं. उसे समाज के लिए चलते रहना है.

कर्तव्य को निभाने की एक खबर रायपुर से आई तो साथ ही कुछ टीवी चैनलों मे एक खबर यह भी आ रही थी कि एक बस ड्राइवर ने अपनी जिंदगी को दांव पर लगाकर कई लोगो की जान बचाई. बस चलाते समय उसे दिल का दौरा पडा. लेकिन उसने बस चलाना नहीं रोका, कुछ दूर एक सुरक्षित जगह पर ले गया. सुप्रीत के जीवन की तरह यह घटना भी एक मिसाल ही बनती है. बेशक इसकी कम चर्चा हुई हो लेकिन इस जिदंगी का भी वही मकसद रहा कि अपने कर्तव्य को निभाना है. सुप्रीत को अपनी जिम्मेदारी खबर पढते हुए निभानी थी, टीवी के पर्दे को विचलित नहीं करना था. बस ड्राइवर की जिम्मेदारी अपने यात्रियों की रक्षा करनी था. दोनो अपनी कसौटियों में खरे उतरे बल्कि प्रेरणा बने. हाल में बिहार की बाढ के समय एक टीवी पत्रकार का गहरे पानी में उतर कर रिपोर्टिंग करना इसी तरह हौसले की एक कड़ी है. जिसमें अपने कर्म क्षेत्र के लिए खतरों से भी खेला जाता है.

कर्तव्य निभाने की कई दास्तांन मिलती है. सैन्य क्षैत्र में जसवंत सिंह का तो तंवाग में मंदिर भी बना है. चीन भारत युद्ध में तीन तरफ से चीनी सैनिकों से
घिरे होने पर जसंवत सिंह चाहते तो अपनी चौकी को छोडकर अपन जीवन बचा सकते थे. लेकिन वह अकेले सत्तर घंटे तक जूझते रहे और आखिर शहीद हुए. अगर जसंवत का वह युद्ध कौशल अपने कर्तव्य के लिए समर्पण न होता तो चीनी सना नूरानांग क्षेत्र से बहुत नीचे तक आ जाती. नूरानांग की घाटी दो बहनों को भी याद करती हैं जो रह रहकर जसंवत सिंह को बारुद दिया करती थी. आखिर खाई में छलांग लगाकर वह भी शहीद हुई. सैन्य क्षेत्र में जसवंत सिंह या आम जीवन में एक ट्रक ड्राइवर या फिर टीवी एकंर के तौर पर सुप्रीत की निभाई गई जिम्मेदारी समाज से बहुत कुछ कह जाती है. साहस समर्पण निष्ठा के ऐसे भाव समाज को अधीर नही होने लगते. विश्वास बना रहता है.

नोट- उपरोक्त दिए गए विचार व आकड़ें लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं. ये जरूरी नहीं कि एबीपी न्यूज ग्रुप सहमत हो. इस लेख से जुड़े सभी दावे या आपत्ति के लिए सिर्फ लेखक ही जिम्मेदार है.

ALL BLOG POST

उप-चुनाव नतीजे: बीजेपी, कांग्रेस की जय-जयकार, 'आप' में मचा हाहाकार!
उप-चुनाव नतीजे: बीजेपी, कांग्रेस की जय-जयकार, 'आप' में मचा हाहाकार!

नई दिल्ली: हांडी का एक चावल मसल कर यकीनन कहा जा सकता है कि हांडी के पूरे…

Tags: BJP Bypoll results Congress Karnataka vijayshankar chaturvedi

BLOG: दुनिया भर के गेंदबाजों को आज क्यों नहीं आएगी नींद?
BLOG: दुनिया भर के गेंदबाजों को आज क्यों नहीं आएगी नींद?

विराट कोहली ने आज इंस्टाग्राम पर एक वीडियो डाला. उससे पहले वो नेट्स में प्रैक्टिस करते भी दिखाई दिए….

Tags: IPL IPL10 IPL2017 mumbai indians RCB Virat Kohli

BLOG: शराबबंदी आंदोलन से बदलेगी देश की राजनीति
BLOG: शराबबंदी आंदोलन से बदलेगी देश की राजनीति

सुप्रीम कोर्ट के हाई-वे पर शराब की दुकानें बंद कराने के आदेश के बाद केन्द्र और राज्य…

Tags: Bihar election liquor ban Liquor Shops Nitish Kumar politics UP CM uttar pradesh Women yogi adityanath

BLOG: शायद इसीलिए अरविंद केजरीवाल को 'अराजक' कहते हैं !
BLOG: शायद इसीलिए अरविंद केजरीवाल को 'अराजक' कहते हैं !

चुनाव आयोग पर निशाना साधते हुए उन्होंने जिन शब्दों का इस्तेमाल किया उससे ना सिर्फ किसी भी…

Tags: arvind kejriwal Election Commision

BLOG: उसने आंसुओं को थाम के रखा !
BLOG: उसने आंसुओं को थाम के रखा !

रायपुर के एक चैनल आईबीसी 24 की एंकर सुप्रीत कौर अपने कर्तव्य को निभाने के लिए एक मिसाल बन…

Tags: duty ibc 24 news channel journlism news anchor supreet kaur

BLOG: 'दिलवालों' की दिल्ली कभी आईपीएल जीतने वाली दिल्ली भी बनेगी क्या ?
BLOG: 'दिलवालों' की दिल्ली कभी आईपीएल जीतने वाली दिल्ली भी बनेगी क्या ?

मंगलवार को सुपरजाइंट पुणे और दिल्ली डेयरडेविल्स का मैच खेला जाना है. ये मैच पुणे में खेला…

Tags: delhi daredevils IPL IPL10 IPL2017 jp duminy shivendra kumar singh Zaheer Khan

BLOG : ऐसे मारक सवालों पर आंखें नम हो जाती हैं
BLOG : ऐसे मारक सवालों पर आंखें नम हो जाती हैं

माशा

Saturday, 8 April 2017

गौरी सावंत की कहानी को टीवी पर देखकर गदगद होने वालों… सड़कों पर भीख मांगते ट्रांसजेंडरों को…

Tags: blog Masha transgenders issue

BLOG: यूपी कर्ज़माफी: देश भर के किसानों की आंखें चमक उठीं!
BLOG: यूपी कर्ज़माफी: देश भर के किसानों की आंखें चमक उठीं!

यूपी के किसानों का 1 लाख तक का फ़सली कर्ज़ माफ़ हो गया है, भले ही कर्ज़…

ब्लॉग: 'तीन तलाक़' पर पाबंदी की पहल खुद मुसलमानों की तरफ से होनी चाहिए
ब्लॉग: 'तीन तलाक़' पर पाबंदी की पहल खुद मुसलमानों की तरफ से होनी चाहिए

मुस्लिम समाज में एक साथ दी जाने वाली ‘तीन तलाक’ के मुद्दे पर क़रीब साल भर से…

Tags: Muslims Triple Talaq Yusuf Ansari

BLOG : क्या औरतें इस बात के लिए तैयार हैं कि उन्हें रौंदा जा सकता है?
BLOG : क्या औरतें इस बात के लिए तैयार हैं कि उन्हें रौंदा जा सकता है?

माशा

Tuesday, 4 April 2017

ये हम गुनहगार औरतें हैं… जो न रोआब खोएं/न बेचें/न सर झुकाएं/न हाथ जोड़ें- आरा वाली अनारकली…

Tags: anarkali of arrah swara bhaskar womens

BLOG: आप चाहें ‘कुंभकर्ण’ कहें या ‘स्लीपिंग ब्यूटी’ रोहित शर्मा जैसा कोई नहीं...
BLOG: आप चाहें ‘कुंभकर्ण’ कहें या ‘स्लीपिंग ब्यूटी’ रोहित शर्मा जैसा कोई नहीं...

रामायण के किरदार कुंभकर्ण को हमेशा नकारात्मक छवि में देखा गया है. कुंभकर्ण को अगर उस नकारात्मक छवि से…

Tags: Inzamam Ul Haq IPL IPL10IPL2017 ROHIT SHARMA Sachin Tendulkar shivendra kumar singh Team India Virat Kohli

BLOG: EVM मशीनों की अविश्वसनीयता का जिन्न हमें ले डूबेगा!
BLOG: EVM मशीनों की अविश्वसनीयता का जिन्न हमें ले डूबेगा!

ईवीएम की विश्वसनीयता से जुड़े विवाद का जिन्न पर्वताकार होता जा रहा है. एमपी के भिंड ज़िला…

Tags: blog EVM vijayshankar chaturvedi

BLOG: दस साल का जश्न मेरे नाम तो नहीं, आपके नाम है क्या ?
BLOG: दस साल का जश्न मेरे नाम तो नहीं, आपके नाम है क्या ?

ये विज्ञापन हर तरफ बज रहा है. बज क्या रहा है गूंज रहा है साहब. आईपीएल के उस बाजे…

Tags: BCCI dd GL IPL IPL10 kkr KXIP MI RCB RPS SRH

BLOG:  रवींद्र जडेजा के वो आंकड़े और कामयाबी जो जानकर आप चौंक जाएंगे
BLOG: रवींद्र जडेजा के वो आंकड़े और कामयाबी जो जानकर आप चौंक जाएंगे

क्या आप जानते हैं कि इस सीजन में पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा गेंदबाजी किस गेंदबाज ने…

Tags: Austraian Cricket Team BCCI cricket australia praveen kumar Ravindra Jadeja shivendra kumar singh Team India

ये चिट्ठी हर उन IIT-ians के लिए जिन्होंने कभी ना कभी अपनी जिंदगी में ऐसा महसूस किया होगा
ये चिट्ठी हर उन IIT-ians के लिए जिन्होंने कभी ना कभी अपनी जिंदगी में ऐसा महसूस किया होगा

इंटैलिजेंट IIT-ians,   मैं तुम्हारी वो दोस्त हूं जिसने कभी आईआईटी, आईआईएम, एम्स के क्लासरुम नहीं देखे, जिसे  sin2(x) + cos2(x)…

Tags: 10th student IIT IIT Delhi student sucide

ब्लॉग: शिवसेना सांसद महोदय! आप भी इंसान हैं, भगवान नहीं!!
ब्लॉग: शिवसेना सांसद महोदय! आप भी इंसान हैं, भगवान नहीं!!

‘हम कहें सो कायदा’ की नीति शिवसेना ने स्वर्गीय बालासाहेब ठाकरे के उदयकाल से ही अपना रखी…

Tags: blog Ravindra Gaikwad Shiv Sena vijayshankar chaturvedi

BLOG: क्या है शुक्रवार रात की पार्टी से लेकर शनिवार सुबह तक का सबसे बड़ा सस्पेंस?
BLOG: क्या है शुक्रवार रात की पार्टी से लेकर शनिवार सुबह तक का सबसे बड़ा सस्पेंस?

शुक्रवार की शाम जब पूरे देश के क्रिकेट प्रेमी अगले दो दिन की छुट्टियों की खुमारी में…

Tags: anil kumble cricket australia shivendra kumar singh Steve Smith Team India Virat Kohli

योगी बनाम त्रिवेंद्र की होड़ से उत्तराखंड दौड़ेगा!
योगी बनाम त्रिवेंद्र की होड़ से उत्तराखंड दौड़ेगा!

उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में सरकार बदलने में उत्तराखंड के इलाकों में ज्यादा चर्चा यूपी के मुख्यमंत्री…

Tags: adityanath yogi Cm Adityanath Yogi Trivendra Singh Rawat

कब तक लगते रहेंगे जय श्रीराम के नारे...
कब तक लगते रहेंगे जय श्रीराम के नारे...

बीजेपी के नेता सुब्रहमण्यम स्वामी यूपी में कट्टर हिंदुवादी छवि वाले योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री बनने से…

Tags: adityanath yogi Ayodhya Ram Mandir issue Babri-ram mandir dispute Narendra Modi Ram Mandir Ram Mandir case Supreme court on Ram Mandir

आदित्यनाथ योगी को यूपी का सीएम बनाने के मायने
आदित्यनाथ योगी को यूपी का सीएम बनाने के मायने

गोरखनाथ पीठ के महंत और गोरखपुर से पांच बार सांसद चुने गए आदित्यनाथ योगी को जब यूपी…

Tags: adityanath yogi

View More