ब्लॉग: हालात बदलने के लिए उत्तराखंड का जनादेश, मोदी के नाम पर मिले वोट

Friday, 17 March 2017 12:43 PM | Comments (0)
ब्लॉग: हालात बदलने के लिए उत्तराखंड का जनादेश, मोदी के नाम पर मिले वोट

वेद विलास उनियाल

वरिष्ठ पत्रकार

उत्तराखंड में कांग्रेस की भारतीय जनता पार्टी के सामने मुख्यमंत्री हरीश रावत को अकेला महारथी की तरह पेश करने की रणनीति काम नहीं आई. राज्य के मतदाताओं ने आखिर नरेंद्र मोदी पर ही विश्वास किया और भाजपा की लहर नहीं आंधी चली. हरीश रावत कांग्रेस के किले को ही नहीं अपनी दोनों सीटें हरिदवार ग्रामीण और किच्छा नहीं बचा सके.

राज्य की सत्तर सीटों में 57 भाजपा को सौंपकर मतदाताओं ने एक तरह से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर अपना भरोसा जताया है. पिछले कई सालों से सत्ता की खींचतान और निर्दलियों की सौंदेबाजी से परेशान उत्तराखंड की जनता ने स्पष्ट जनादेश के साथ अपनी अपेक्षाओं को जता दिया है. मोदी स्वच्छ प्रशासन और तेजी से काम का वादा करके गए हैं, उत्तराखंड का जनादेश इन अपेक्षाओं के साथ है.

कांग्रेस की रणनीति

कांग्रेस की यही रणनीति थी कि चुनाव किसी न किसी रूप में हरीश रावत और मोदी के बीच का एक मुकाबला हो जाए और स्थानीय नेता कहीं न कहीं पहाड़ी चेहरे के तौर पर वोट आखिर में हरीश रावत को दे दें. कांग्रेस का पूरा चुनावी अभियान इसी रूप में चला. यहां तक कि कांग्रेस हाइकमान और सेलिब्रिटी भी चुनाव प्रचार अभियान में नजर नही आए. जिन राजबब्बर को राज्यसभा की सीट उत्तराखंड ने दी वो उत्तर प्रदेश के चुनावी रैलियों और मंचों पर दिखे. कहा भी जाने लगा था कि अगर कांग्रेस जीतती है तो यह हरीश रावत की जीत होगी और अगर पराजित होती है तो हरीश रावत की पराजय होगी. लेकिन ऐसे स्लोगन के बीच कांग्रेस दूसरे पहलुओं को नजरअंदाज करती चली गई. जिस कांग्रेस में बगावती स्वर रह रह कर गूंजते रहे उसकी परवाह नहीं की गई.

सामंती शैली में चलते राज्य की व्यवस्था में कांग्रेस यही मानकर चलती रही कि हरीश रावत कोई करिश्मा करेंगे और भारतीय जनता पार्टी में नए पुराने चेहरों के बीच के संघर्ष, मुख्यमंत्री बनने की होड़ के बीच लोग आखिर कांग्रेस पर ही अपना भरोसा जताएंगे. मगर इसके विपरीत एक तरह से यह मोदी के नाम पर वोट बरसे जो उत्तराखंड के न केवल पहाड़ी क्षेत्र बल्कि मैदानी तराई बावर क्षेत्र में भी यही स्थिति दिखी. तराई बाबर क्षेत्र में किसी तरह पार्टी दो सीट ले पाई. गढवाल कुमाऊ के पहाड़ी क्षेत्र या फिर मैदानी तराई बावर सारे क्षेत्रों की सियासत में भाजपा के लिए एकतरफा जीत रही.

राज्य में 70 सीटों में भाजपा के पक्ष में 57 सीटें आना मतदाताओं के मिजाज को स्पष्ट बता रहा था. बसपा के लिए कहीं कोई गुंजाइश नहीं बची और सौदेबाजी के लिए निर्दलीयों का आकंडा भी दो सीट लेकर दूर छिटक गया. मैदानी इलाकों में तो हरीश रावत पूरी तरह बेअसर रहे. जिस शैली में एक विपक्ष के नाते भाजपा चलती रही, जिस तरह लगभग मित्र विपक्ष की शैली में पांच साल तक मौन पसरा रहा, जिस तरह कई कदावर नेताओं के कांग्रेस छोड़कर भाजपा में आने की वायद को भाजपा का ही आसन्न संकट मान कर चला गया उससे एक बारगी यह लगने भी लगा था कि भाजपा कही अपने ही बनाए चक्रव्यूह में न घिर जाए. कहना होगा अगर लडाई हरीश रावत की कांग्रेस और उत्तराखंड की भाजपा के बीच ही होता तो इलेक्टोनिक मशीन के नतीजे चौंका भी सकते थे. लेकिन जब भाजपा का प्रचार अभियान नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में चला तो उत्तराखड का जनमानस उस बयार में कमल को जिताने चल पडा.

नरेंद्र मोदी की आखरी समय की ताबडतोड चार बड़ी जनसभाओं ने माहौल को काफी कुछ बदल दिया. नरेंद्र मोदी ने पूरी कुशलता से चुनावी सभाओं में लोगों को भरोसे मे ले लिया कि वह पहाडों में विकास के लिए कृतसंकल्प हैं. बड़ी कुशलता से उन्होंने हर क्षेत्र के अऩुरूप अपने मुद्दों को सामने रखा. श्रीनगर की सभा में वह मुजफ्फरनर कांड की याद दिलाना नहीं भूले. ठीक चुनावी अधिसूचना से पहले पहाडों में चार धामों में बारहमासा सड़क की घोषणा और सैन्य क्षेत्र में कुछ बड़ी नियुक्तियों से अप्रत्यक्ष संदेश देने की कोशिश की गई कि केंद्र की सरकार उत्तराखंड के मामले मे संवेदनशील रवैया रखती है. इसलिए भाजपा के प्रचार तंत्र और मोदी की सभाओं में लोगों को महसूस कराया गया कि राज्य के लिए भाजपा का आना जरूरी होगा. नरेंद्र मोदी ने अपने प्रचार संभाओं में हरीश रावत की सरकार को भ्रष्ट साबित करने के लिए कोई कसर नहीं छोडी और बडी कुशलता से अपनी इमानदार और तेजी से काम करने वाले नेता की छवि को सामने रखा. अपनी सभाओं में पहाड़ी भाषा का पहला वाक्य कहकर मोदी ने बहुत चुन चुन कर अपने मुद्दों को रखा साथ ही लोगों के मन में यह बात बिठाई कि गैरसैण राजधानी पंरपरागत खेती खान पान आदि की बातें महज छलावे के साथ है.

दलबदलुओं को संभाला

एक स्तर पर भाजपा ने जान लिया था कि वह राज्य स्तर के संगठन और महज अपनी पिछली सरकारों के कामकाजों को सामने रखने की स्थिति में नहीं है. भाजपा की दुविधा कांग्रेस छोडकर आए बागी और उससे पहले या बाद में शामिल हुए कुछ दिग्गज नेताओं की मौजूदगी के साथ उठे कुछसवालों से जूझना भी था. कांग्रेस से बगावत करके भाजपा में आए विजय बहुगुणा, हरक सिंह रावत और मोहभंग की
स्थिति में कमल को पकडे सतपाल महाराज और यशपाल आर्य तमाम नेता कांग्रेस की अग्रिम पंक्ति की नेताओं में रहे हैं. उनके समय में भाजपा की आलोचना के केंद्र में ये बड़े नेता आते थे. फिर अब वही दलबदल कर भाजपा में आए हैं तो उन उठाए सवालों से बचना और फिर विधानसभा सीट को लेकर भाजपा के पुराने लोगों और इन बड़े नेताओं में द्वंद की स्थिति होन स्वाभाविक था. कांग्रेस को भाजपा में कुछ ऐसी ही घमासानों की अपेक्षा थी. लेकिन कुछ जगहों पर टकराहट की स्थिति जरूर बनी लेकिन बाकी जगह बगावतियों की टिकट और भाजपा के संभावित प्रत्याशियों के बीच की खींचतान को आखिर पार्टी ने किसी तरह सुलझा ही लिया था. देखा गया कि भाजपा ने कांग्रेस के बागियों को टिकट देने से कतई संकोच नहीं किया. और भाजपा ने यही माना कि इन बागियों में चुनाव जीतने का कौशल है. भाजपा ने चुनाव जीतना ही पहली और जरूरी कसौटी माना. यमकेश्वर से सीटिंग विधायक का टिकट काटकर भुवन चंद्र खंडूडी की बेटी ऋतु खंडूडी को टिकट देना चौकाने वाला निर्णय था. लेकिन भाजपा ने यह दांव भी खेल लिया. और पार्टी के अंदर भुवन चंद खंडूडी की नाराजगी से होने वाली किसी अप्रिय स्थिति को टाल दिया.

भाजपा के चुनावी अभियान में सतपाल महाराज, हरक सिंह रावत, विजय बहुगुणा, सुबोध उनियाल, यशपाल आर्य को किसी नायक की तरह प्रस्तुत नहीं किया गया. बल्कि रणनीति यही रही कि वे चुपचाप अपने क्षेत्र में सक्रिय रहे. भाजपा ने यह बात भूलकर भी नहीं दोहराई कि कांग्रेस से नेता किस तरह टूटे. भाजपा जान रही थी कि बागियों को नायक की तरह प्रस्तुत करने में कुछ नुकसान भी हो सकते हैं. इसलिए उनका प्रचार अभियान अपने क्षेत्रों तक सिमटा रहा. और उनकी अपनी लडाई कठिन भी थी.

मोदी की अपने प्रचार अभियान में लोगों तक यह संदेश देने की कोशिश रही कि वे हरीश रावत की सरकार को भ्रष्टाचार में डूबी हुई साबित करे. इसलिए वे सीधे सीधे आक्षेप लगाते रहे. भाजपा ने इस मुद्दे को अपनी रणनीति के तहत एक अभियान के रूप में लिया. माहौल यही बनाया गया कि इस सरकार को हटाकर नई व्यवस्था में ही राज्य को प्रगति पर लाया जा सकता है. जिस पहाड़ी चेहरे की छवि के साथ और उत्तराखंडी नेता की छवि के साथ हरीश रावत भाजपा को पीछे छोडना चाहते थे, वह तानाबाना बिखर सा गया.

हाल के दो वर्षों में पहाड़ी व्यंजन, पहाड के त्यौहार और लोकजीवन से नाता रखने की छवि देने की कोशिश के पीछे एक व्यक्तित्व देने की कोशिश थी, लेकिन चुनाव में हरीश रावत नायक नहीं बन पाए. उत्तराखंड के नेता की छवि देने की उनकी कोशिश तब कारगर होती अगर मजबूत संगठन उनके साथ होता. बेशक हरीश रावत कांग्रेस में सबसे बडे और प्रभावी नेता की तरह दिख रहे थे , लेकिन यह ऐसी कांग्रेस थी जो अंदर से बेहद कमजोर नजर आ रहा था. यह हरीश कांग्रेस के रूप में ऐसी किश्ती का रूप ले चुकी थी जिसमें माझी तो कुशल तैराक है पर नौका जर्जर थी. जाहिर है ऐसे में कुशल तैराक खिवेया पर लोग ज्यादा भरोसा नहीं कर पाए. वे टूट रही किश्ती को भी देख रह थे.

भारतीय जनता पार्टी की राज्य इकाई अबीर गुलाल के सा उल्लास मना रही है. लेकिन सच्चाई यही है कि उत्तराखंड में वोट मोदी के नाम पर बरसें है. यह संघर्ष स्थानीय ताकतों के भरोसे ही होता तो हरीश रावत ज्यादा कुशलता से काम कर जाते. राज्य के हालातों में कभी नहीं लगा कि यह पार्टी लोगों के हित को लेकर सडकों में उतर सकती हैं. उत्तराखंड में राज्य भाजपा अध्यक्ष अपनी किसी पहचान के साथ है तो यही कि उन्हें कांग्रेस शानदार मित्र विपक्ष के तौर पर प्रचारित करते रहे. राज्य में भाजपा की तरफ से कोई आवाज नहीं उठी जिसमें कांग्रेस शासन के तौर तरीकों पर उसे घेरा गया हो.

बागियों का आना और कांग्रेस में उठापटक होना एक सियासी रणनीति है. लेकिन राज्य भाजपा सड़क पर उतर कर संघर्ष करने वाली पार्टी नहीं दिखी. लेकिन राज्य के लोगों ने यही भरोसा किया कि केंद्र में बैठी मोदी की सरकार राज्य की ओर देखेगी. राज्य की दो सीटों पर पर्चा भरते समय हरीश रावत कई ऐंगल को एक साथ साधने की कोशिश करते रहे. जितनी लड़ाई पहाड़ की थी तराई बावर और मैदानी इलाकों के संघर्ष और पेने थे. जिस तरह विजय बहुगुणा सितारगंज की ओर गए थे लगभग उसी शैली में हरीश रावत हरिद्वार को देख रहे थे. हरिद्वार ग्रामीण उनके लिए बेहद आसान सीट होती लेकिन मुकाबला जब भाजपा कांग्रेस के बीच ही नहीं रहा तो स्थिति जटिल होती गई. वह कुमाऊ को भी नहीं छोड सकते थे. स्थिति यहां तक आई कि कोई भी कांग्रेसी यह कहने की स्थिति में नहीं था कि हरीश रावत के लिए ज्यादा सहज सीट कौन सी है.

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष किशोर उपाध्याय के साथ भी सियासी नौकझोंक और पैंतरे जिस तरह दिखे उसमें साफ झलकता रहा कि सब कुछ ठीक नहीं चल रहा. भाजपा के अंदरूनी संकट की कहानी तो बाहर आती रही लेकिन कांग्रेस के अंदर क्या चल रहा है उसका कम शोर मचा. लेकिन वह अंदर ही अंदर कांग्रेस को चित्त कर रहा था. ले देकर काग्रेस के उम्मीदवारों को हरीश रावत के करिश्मे का सहारा ही था. मगर इन हालात में किस तरह का करिश्मा काम करता. हरीश रावत की सरकार अपने मतदाताओं के सामने ऐसे ब्यौरे नहीं रख पाई कि उत्तराखंड को वह कहां तक ले गई. शासन लेते समय हरीश रावत जिन जुमलों को कह गए थे वह भाजपा के मंचों से बाणों की तरह चले. मैं अपनी आंखे बंद कर दूंगा तुम जो चाहे करो की बात उठने पर कांग्रेस नेता के पास कोई ठीक जवाब नहीं था. बार बार यह बात उठती थी कि हरीश रावत जैसे नेता तो उत्तराखंड को बदलना चाहते थे पर उनके ही नए नए मंत्री संगठन के लोग जकडे हुए हैं.

कुछ मंत्रियों नेताओं का सामंतों की तरह व्यवहार करना राज्य में किसी परिवर्तन की चाह को जगा गया. कैलाश खैर के खाते में करोड रुपए जाना, संगीत कला के नाम पर कोष बहाना, केवल केदारनाथ मंदिर को परिसर ठीक कराकर आपदा पुर्नवास का काम को सीमित करके देखना, कई छोटी बड़ी मीडिया पर राज्य की संपत्ति लुटाना, राज्य के हित में किसी बड़ी योजना को सामने न ला पाना, केवल कोदा काफली झगोरा की लुभावनी बातें करना, तमाम ऐसे पहलू हैं जिसने लोगों को हताश किया. खनन माफिया, जमीन के सौदेबाजों के लिए जिस तरह उत्तराखंड मुक्त आकाश था उसने यहां के जनमानस को हैरान किया.

बेशक यह सब सोलह वर्षों से अलग नहीं है. लेकिन लोग गहरी निराशा में यकीन कर रहे हैं कि शायद दिल्ली से अब नए मुखिया को कुछ बेहतर सलाह मिले. पर्यटन, बागवानी, योगचिकित्सा, आर्युवेद जडी बूटी जल ससाधन शिक्षा ऐसे पहलू है जिनसे राज्य को उन्नत बनाया जा सकता है. मुख्यमंत्री हरीश रावत उत्तराखंड की जनता से संवाद नहीं कर पाए कि आखिर वह वोट किस लिए मांग रहे हैं. किसी बड़े विजन के साथ वह नहीं दिखे. जबकि उनके अनुभव और लंबी राजनीतिक यात्रा यह अपेक्षा करती थी.

देखा भी गया कि प्रचार अभियान में जहा भाजपा शुरू से बढे मनोबल के साथ थी वहीं कांग्रेसी खेमा चुनावी प्रचार की औपचारिकता ही निभा रही थी. उत्तराखंड में कांग्रेस कमजोर हुई है. सियासी वर्चस्व में जो हालात हरीश रावत और उनके साथी विजय बहुगुणा की सत्ता में पैदा करते रहे, उसी तरह के दांवपैंच उन्हें अपनी सत्ता में देखने को मिले. बेशक वह कह सकते हैं कि उन्हें कांग्रेसियों ने बीच मझधार में छोडा, बेशक उनके प्रवक्ता चिल्ला कर कहें कि जो नकली थे वो चले गए असली कांग्रेस वही है जो सामने हैं, लेकिन कांग्रेस को इस हाल में लाने में हरीश रावत का भी उतना ही हाथ है. कांग्रेस की राज्य शाखा को अपनी निजी पार्टी के रूप में चलाने की उनकी मंशा में वह भूल गए कि सपा बसपा के विपरीत कांग्रेस एक अलग तरह की पार्टी है. वह केंद्र हाइकमान के स्तर पर भले ही एक परिवार से निर्देशित होती हो लेकिन किसी क्षत्रप को इतनी आजादी नहीं मिलती है. आंध्र में भी कोई ऐसी भूल करने लगा था. संभव है कि पार्टी के उच्च नतृत्व ने हरीश रावत के स्तर पर ही हानि लाभ देखने की इच्छा संजोई हो. हरीश रावत के हाथों सत्ता आने पर लोग यकीन कर रहे थे कि एक अनुभवी पुराना राजनेता प्रदेश को कोई नई राह देगा, अब लोग चर्चा कर रहे है कि शायद कोई नया चेहरा आ सकता है जो प्रदेश को आगे ले जा सके. अनुभवी हाथों से राज्य के लोग बार बार धोखा खाते गए हैं. देखना है कि भाजपा अब अपने कद्दावरों को किस तरह साधती है.

सब कुछ आसान यहां भी नहीं. नेतृत्व की होड़ जमकर दिख रही है. नेतृत्व को लेकर पल पल कयास लग रहे हैं. एक नहीं कई नाम उछले हैं. भाजपा के चुनाव जीतते ही इसकी संभावना प्रबल थी. लेकिन सियासत में कोई भी नाम चले यह अबूझ पहेली नहीं कि पर्ची तो अमित शाह की जेब में ही होनी थी.

ALL BLOG POST

चीन सीमा विवाद: अब भारत को 'ड्रैगन' की आंखों में आंखें डाले रखना होगा!
चीन सीमा विवाद: अब भारत को 'ड्रैगन' की आंखों में आंखें डाले रखना होगा!

भारत और चीन ने सिक्किम के डोकलाम इलाके में 35 दिनों से नॉन-कॉम्बैट मोड में अपने-अपने तंबू…

Tags: hindi news Latest Hindi news news in hindi ABP News India blog vijayshankar chaturvedi Doklam border dispute

क्या औरत भी पूछ सकती है कि बच्चे में आपका योगदान कितना है?
क्या औरत भी पूछ सकती है कि बच्चे में आपका योगदान कितना है?

किसी आदमी ने इंटरनेट पर सवाल पूछा कि  ”अगर मैं अपनी ‘वुड बी’ बीवी से चार गुना…

Tags: Women Men equality Opportunity blog

BLOG: अमरनाथ हमले को मोदी सरकार की विफलता कहिए
BLOG: अमरनाथ हमले को मोदी सरकार की विफलता कहिए

जम्मू-कश्मीर में आतंकी हमले कोई नई बात नहीं है. पिछले कई वर्षों से यहां आंतक का नंगा नाच खेला…

Tags: amarnath attack Amarnath pilgrims amarnath yarta amarnath yarta attack Amarnath Yatra 2017

BLOG: तिहरे शतक वाला बाहर, 3 अर्धशतक वाला टीम में...बहुत नाइंसाफी है
BLOG: तिहरे शतक वाला बाहर, 3 अर्धशतक वाला टीम में...बहुत नाइंसाफी है

श्रीलंका के खिलाफ तीन टेस्ट मैचों की सीरीज के लिए भारतीय टीम का ऐलान कर दिया गया है. तीन…

Tags: Team India Virat Kohli ROHIT SHARMA Karun Nair Yuvraj Singh Sri Lanka Tour

ब्लॉग: तेजस्वी पर आर-पार, लेकिन नहीं टूटेगी लालू-नीतीश की दोस्ती!
ब्लॉग: तेजस्वी पर आर-पार, लेकिन नहीं टूटेगी लालू-नीतीश की दोस्ती!

देश में नरेन्द्र मोदी और नीतीश कुमार ऐसे रणनीतिकार हैं जिनकी चाल की भनक समझना मुश्किल ही…

Tags: Narendra Modi lalu parsad yadav Bihar chief minister Nitish Kumar

CBI छापे: इस बार कुनबा समेत बुरे फंसे लालू!
CBI छापे: इस बार कुनबा समेत बुरे फंसे लालू!

आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव और घोटालों के आरोपों और विवादों का चोली-दामन का साथ रहता है,…

Tags: hindi news Latest Hindi news news in hindi ABP News India blog vijayshankar chaturvedi CBI raids Lalu Prasad Yadav

BLOG: सचिन तेंडुलकर का ‘ये’ रिकॉर्ड कैसे तोड़ेंगे विराट कोहली?
BLOG: सचिन तेंडुलकर का ‘ये’ रिकॉर्ड कैसे तोड़ेंगे विराट कोहली?

किंग्सटन के सबाइना पार्क में विराट कोहली ने शानदार शतक जड़ा. इस शतक की बदौलत भारत ने…

Tags: Virat Kohli Sachin Tendulkar Record Team India BCCI shivendra kumar singh blog shivendra kumar singh blog ODI test

आज जन्मदिन पर कौन सा बड़ा फैसला लेंगे धोनी?
आज जन्मदिन पर कौन सा बड़ा फैसला लेंगे धोनी?

धोनी आज 36 के हो गए. अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में ये उनका तेरहवां साल है. इन तेरह सालों में उन्होंने…

Tags: Team India MS Dhoni retirement Happy Birthday MS Dhoni

आज किसकी-किसकी किस्मत का फैसला करेंगे विराट कोहली?
आज किसकी-किसकी किस्मत का फैसला करेंगे विराट कोहली?

लंबे समय के बाद विराट कोहली दबाव में हैं. दबाव में इसलिए नहीं कि पिछले मैच में भारतीय टीम…

Tags: Team India Virat Kohli west indies cricket team Mohammad Shami umesh yadav Bhuvneshwar Kumar

BLOG : प्रेग्नेंसी में सलाह नहीं, सुविधा दीजिए
BLOG : प्रेग्नेंसी में सलाह नहीं, सुविधा दीजिए

माशा

Saturday, 1 July 2017

प्रेग्नेंट औरतों को सलाह देने वाले कम नहीं. हममें से हर कोई उनका खैरख्वाह बन जाता है….

Tags: blog pregnant women India

BLOG : नाम, अगर पति का हो, तो उसमें बहुत कुछ रखा है
BLOG : नाम, अगर पति का हो, तो उसमें बहुत कुछ रखा है

माशा

Monday, 26 June 2017

नाम में क्या रखा है- चच्चा शेक्सपीयर कह गए तो भी क्या.. क्योंकि इसी नाम के फेर…

Tags: blog husband name

BLOG : यूएसए के बदले माहौल में पीएम मोदी की यात्रा क्या गुल खिलाएगी?
BLOG : यूएसए के बदले माहौल में पीएम मोदी की यात्रा क्या गुल खिलाएगी?

पीएम नरेंद्र मोदी की यूएसए यात्रा अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के भारत के प्रति बदले हुए रुख…

Tags: Narendra Modi donald trump USA-India USA India

जम्मू-कश्मीर पुलिस के हौसले देखकर खौफ खा रहे हैं आतंकी!
जम्मू-कश्मीर पुलिस के हौसले देखकर खौफ खा रहे हैं आतंकी!

कल आधी रात श्रीनगर में एक दिलदहलाने वाली घटना घटी. नौहट्टा इलाके में जामा मस्जिद के बाहर एक DSP…

Tags: Jammu and Kashmir Police DSP Ayub Pandith lynched

अनिल कुंबले के इस्तीफे को लेकर विराट कोहली को खुला खत
अनिल कुंबले के इस्तीफे को लेकर विराट कोहली को खुला खत

”मैं क्रिकेट संचालन समिति की तरफ से मुख्य कोच की जिम्मेदारी पर बने रहने के प्रस्ताव से सम्मानित महसूस…

Tags: Virat Kohli Team India anil kumble coach indian cricket team BCCI

BLOG: कौन था वो खिलाड़ी जिसके हाथ को ‘रेजर’ से पहुंचाई गई थी चोट?
BLOG: कौन था वो खिलाड़ी जिसके हाथ को ‘रेजर’ से पहुंचाई गई थी चोट?

बतौर खेल पत्रकार मैंने पाकिस्तान के चार दौरे किए. इन दौरों की तमाम यादें ताजा हैं. भारत…

Tags: hanif mohammad arazor hurt pakistani cricketer shivendra kumar singh shivendra kumar singh blog

...जब सड़कों पर बिखरी थी लाशें, इंसानियत हुई जमींदोज़
...जब सड़कों पर बिखरी थी लाशें, इंसानियत हुई जमींदोज़

अनहोनी की खबर सबसे पहले पशु पक्षियों को होती है. अचानक आसमान में चिड़ियों की चीख और…

Tags: 1993 Mumbai serial blast Tada Court Abu Salem Abdul Qayyum Mustafa Dossa Firoz Abdul Rashid Khan Tahir Mechant Riaz Siddiqui Blast memories witness account

INDvsPAK: 13 मार्च 2004 की तारीख का इतिहास
INDvsPAK: 13 मार्च 2004 की तारीख का इतिहास

13 मार्च 2004 को कराची का नेशनल स्टेडियम खचाखच भरा हुआ था. प्रेस बॉक्स में भी सीटें भरी हुई…

Tags: Team India pakistan cricket team sourav ganguly Inzamam Ul Haq ICC Champions Trophy

View More

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017