BLOG : पीछा करना यहां गुनाह नहीं, इसे तो स्टाइलिश समझा जाता है!

Friday, 11 August 2017 7:22 PM | Comments (0)
BLOG : पीछा करना यहां गुनाह नहीं, इसे तो स्टाइलिश समझा जाता है!

लड़कों डरो क्योंकि ये लड़कियां कभी भी तुम्हें जेल की हवा खिला सकती हैं. तुमने प्यार से पुचकारा नहीं, एकाध बार उनके इर्द-गिर्द चक्कर लगाए नहीं- वो तुम्हें बदनाम कर देंगी. इन दिनों हरियाणा का एक छोरा बदनाम किया जा रहा है. प्यार जाहिर करने की सजा पा रहा है. काश, फिल्मी हीरो होता तो कोई वर्णिका उससे नाराज नहीं होती. नाराज होती तो भी मान जाती. दर्शक मुस्कुराकर कहते- किसी को बहुत शिद्दत से चाहो, तो हर जर्रा तुम्हें उससे मिलाने की साजिश करता है. पीछा करने में क्या है- बिहार के एक माननीय सांसद कह भी चुके हैं, ‘हममें से ऐसा कौन है जिसने कभी किसी का पीछा ना किया हो.‘

पीछा करना हमारे यहां गुनाह नहीं है. कानूनी धाराएं जो कुछ भी कहें पर पीछा करने को हम कभी सीरियसली नहीं लेते. चंडीगढ़ का मामला कौन सा अनोखा है. देश भर में स्टॉकिंग यानी पीछा करने की वारदातें हजारों होती हैं. कितनी घटनाओं की तो पुलिस में रिपोर्ट तक नहीं की जाती. लड़कियां दिलफेंक आशिकों को सह लेती हैं क्योंकि उनकी आदी हो चुकी होती हैं. वर्णिका कुंडू जैसी लड़कियां कम ही होती हैं जो उनका पुरजोर विरोध करती हैं. पीछा किया तो क्या है, कोई कुछ कर तो नहीं रहा. क्योंकि हम हमेशा क्राइम होने का इंतजार करते रहते हैं.

क्राइम होने पर अक्सर विक्टिम को अपराधी बता देते हैं- जींस पहनती है, रात को देर तक घूमती है, शराब पीती है, लड़कों से दोस्ती करती है. इसलिए विक्टिम को कहा जाता है कि तुम संभल कर रहो. देर रात तक बाहर मत रहो. लड़कों से बातचीत मत करो. तंग कपड़े मत पहनो. वरना, हारमोनल विस्फोट का शिकार हो जाओगी.

लड़कियां ही सारे फसाद की जड़ हैं. उन्हें हंसना नहीं चाहिए- लड़के फांस सकते हैं. उन्हें बोलना नहीं चाहिए- लड़के गालियां उगल सकते हैं. उन्हें बाहर अकेले घूमना नहीं चाहिए- लड़के रेप कर सकते हैं. उन्हें घर पर अकेले नहीं रहना चाहिए- रिश्तेदार रेप कर सकते हैं. लड़कियों को कुछ भी नहीं करना चाहिए क्योंकि लड़के इतना कुछ कर सकते हैं. पर लड़के इसीलिए तो बहुत कुछ कर सकते हैं क्योंकि लड़कियों को हम कुछ भी न करने की सीख देते हैं.

हां, उस कानून को सख्त करने की सीख किसी से नहीं लेते, जो स्टॉकिंग को बेलेबल यानी जमानती अपराध बनाए हुए है. स्टॉकिंग आईपीसी के सेक्शन 353 डी के तहत अपराध है. पर इसके लिए सजा कितनी है… दोषी साबित होने पर एक से तीन साल तक की जेल हो सकती है. हां, कोई चाहे तो जमानत पर रिहा हो सकता है. यह पहली बार पीछा करने पर है. जमानत लेने के लिए उसे अदालत जाने की जरूरत भी नहीं. वह पुलिस स्टेशन से सीधा जमानत लेकर छूट सकता है. अगर वही शख्स दूसरी बार पीछा करता हुआ पाया जाता है तो उसे जमानत नहीं मिल सकती लेकिन कोर्ट चाहे तो उसे अपने विवेकाधिकार पर जमानत दे सकता है. मतलब स्टॉकिंग जमानती क्राइम भी है, गैर जमानती भी.

मतलब पहली बार पीछा करने के बाद आप चाहें तो पीड़ित को मजा चखा सकते हैं. ऐसे कितने ही मामले हैं जिसमें लड़की को मजा चखाने के लिए उसका मर्डर कर दिया गया. क्योंकि कानून कहीं यह नहीं कहता कि शिकायत दर्ज करने के बाद पीछा करने वाला शख्स लड़की को अप्रोच नहीं कर सकता, जैसा अमेरिकी कानून में है. वहां स्टॉकर के खिलाफ रीस्ट्रेनिंग ऑर्डर लिया जा सकता है और कहा जा सकता है कि स्टॉकर लड़की के एक किलोमीटर तक के दायरे से बाहर रहेगा. हमारे यहां इन्जंक्शन यानी निषेधाज्ञा ली जा सकती है लेकिन वह रीस्ट्रेनिंग जैसी नहीं होती.

कानूनविद कहते हैं कि रीस्ट्रेनिंग हमारे संविधान के अनुच्छेद 21 के खिलाफ है जो सभी को व्यक्तिगत स्वतंत्रता का अधिकार देता है. फिर प्रोहिबिटिव इन्जंक्शन लेने से हम सिर्फ यह कह सकते हैं कि आप किसी की व्यक्तिगत आजादी में दखल नहीं देंगे. इसके लिए सिविल कोर्ट में अर्जी देनी होती है. पर ऐसा ऑर्डर तभी मिलता है जब आरोपी के खिलाफ कोई क्रिमिनल केस पेंडिंग होता है. ऐसे इन्जंक्शन भी शायद ही कभी दिए जाते हैं. फिर सिविल प्रोसीडिंग्स इतनी थकाऊ होती हैं कि इसे लेकर कौन मगजमारी करे. अगर इन्जंक्शन के ऑर्डर मिल भी जाते हैं तो उन्हें लागू करना बहुत मुश्किल होता है. सो, ये सिर्फ कागज के टुकड़े भर रह जाते हैं. कुल मिलाकर, स्टॉकिंग के खिलाफ कानून बहुत नरम है.

इसे नरम किसने बनाया? हमारे अपने जन प्रतिनिधियों ने. दिल्ली गैंगरेप के बाद 2012 में जस्टिस वर्मा कमिटी ने साफ कहा था कि पीछा करने को नॉन बेलेबल ऑफेंस ही माना जाना चाहिए. इसे सरकार ने माना भी था, पार्लियामेंट की स्टैंडिंग कमिटी ने भी इस पर सहमति की मुहर लगाई थी लेकिन इस पर बिल को लाने से पहले ही होम मिनिस्टर साहब ने एक अध्यादेश लाकर इसे नॉन बेलेबल ऑफेंस ही बने रहने दिया.

समाजवादी पार्टी, आरजेडी, जेडीयू सभी ने शोर मचाया कहा कि अगर स्टॉकिंग नॉन बेलेबल ऑफेंस बना दिया जाएगा तो औरतें आदमियों के खिलाफ इसका मिसयूज करेंगी. फिर उस समय की यूपीए सरकार ने बिल लाकर स्टॉकिंग को बेलेबल और नॉन बेलेबल ऑफेंस, दोनों के बीच खड़ा कर दिया. यानी शोहदे फिर से खुश हो गए.

खुश हो गए तो लड़कियों की शामत आ गई. पिछले कुछ सालों में जमकर लड़कियों का पीछा किया. पुलिसिया आंकड़े कहते हैं कि हर 24 घंटे में कम से कम एक दर्जन लड़कियां स्टॉकिंग की शिकायत करती हैं. नेशनल क्राइम रिकॉर्ड्स ब्यूरो के 2015 के डेटा में बताया गया है कि आईपीसी के सेक्शन 354 डी के तहत अकेले दिल्ली में स्टॉकिंग के 1124 मामले सामने आए. पूरे देश में तो ऐसे 6266 केसेज दर्ज किए गए. यूं केस दर्ज करने से भी खास कुछ होने वाला नहीं. तभी तो 2016 में ही अदालतों में स्टॉकिंग के 84 परसेंट केसेज पेंडिंग थे, सिर्फ 26 परसेंट केसेज में दोष साबित हुआ था और 83 परसेंट में आरोपियों को बेल मिल गई थी.

स्टॉकिंग हमारे यहां स्टाइलिश समझा जाती है. हीरो ‘हंस मत पगली, प्यार हो जाएगा’ गाता है और मोबाइल से चुपचाप लड़की की फोटो लेता जाता है. थक-हारकर हीरोइन गले लग ही जाती है. रील लाइफ को सपना देखने वाले रियल लाइफ में हीरो क्यों नहीं बनना चाहेंगे. वैसे भी उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री रेप को लड़कों की जरा सी मिस्टेक बता चुके हैं. फिर विकास बराला ने तो ऐसी मिस्टेक भी नहीं की, वह जेल क्यों जाना चाहेंगे.

नोट- उपरोक्त दिए गए विचार और आंकड़ें लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं. ये जरूरी नहीं कि एबीपी न्यूज़ ग्रुप सहमत हो. इस लेख से जुड़े सभी दावे या आपत्ति के लिए सिर्फ लेखक ही जिम्मेदार है.

ALL BLOG POST

BLOG: बदले खिलाड़ियों के साथ उतरेंगी भारत श्रीलंका की टीमें
BLOG: बदले खिलाड़ियों के साथ उतरेंगी भारत श्रीलंका की टीमें

अब से कुछ घंटे बाद भारत और श्रीलंका की टीमें टेस्ट सीरीज के आखिरी मैच में भिड़ने…

Tags: shivendra kumar singh shivendra kumar singh blog Team India INDvsSL Virat Kohli test match

BLOG : पीछा करना यहां गुनाह नहीं, इसे तो स्टाइलिश समझा जाता है!
BLOG : पीछा करना यहां गुनाह नहीं, इसे तो स्टाइलिश समझा जाता है!

माशा

Friday, 11 August 2017

लड़कों डरो क्योंकि ये लड़कियां कभी भी तुम्हें जेल की हवा खिला सकती हैं. तुमने प्यार से…

Tags: blog stalking Masha Vikas Barala Chandigarh stalking case police custody hindi news Latest Hindi news news in hindi ABP News

जडेजा को ऐसी गलती करने की क्या जरूरत थी
जडेजा को ऐसी गलती करने की क्या जरूरत थी

कोलंबो टेस्ट में भारतीय टीम ने आसानी से बड़ी जीत दर्ज की. भारत ने ये मैच पारी…

Tags: Ravindra Jadeja Ban ICC sri lanka Team India Dimuth Karunaratne test match Colombo shivendra kumar singh shivendra kumar singh blog

BLOG : औरतें सिर्फ यूनिवर्सल बेसिक इनकम के झांसे में आने वाली नहीं
BLOG : औरतें सिर्फ यूनिवर्सल बेसिक इनकम के झांसे में आने वाली नहीं

माशा

Saturday, 5 August 2017

पोथियां भर-भर अध्ययन करने वाले कई बार शिगूफे छोड़ते रहते हैं. नया नारा यूनिवर्सल बेसिक इनकम का…

Tags: blog universal basic income Masha Women

BLOG: बीजेपी के लिए उच्च सदन फ़तह करना अहम क्यों है?
BLOG: बीजेपी के लिए उच्च सदन फ़तह करना अहम क्यों है?

संसद का उच्च सदन यानि राज्यसभा देश का एकमात्र ऐसा सदन है जिसमें 23 अगस्त 1954 को हुए…

Tags: BJP rajya sabha PM Modi opposition NDA SP BSP Congress JDU amit shah

कौन सा है वो एक शॉट जो लगा देता है टीम इंडिया के गेंदबाजों की वाट?
कौन सा है वो एक शॉट जो लगा देता है टीम इंडिया के गेंदबाजों की वाट?

कोलंबो टेस्ट में अभी कुछ भी बिगड़ा नहीं है. श्रीलंका की टीम अब भी भारत से करीब…

Tags: INDvsSL Team India sri lanka shivendra kumar singh shivendra kumar singh blog test match

आप सोच भी नहीं सकते कि श्रीलंका ने टीम इंडिया के खिलाफ की थी कैसी साजिश?
आप सोच भी नहीं सकते कि श्रीलंका ने टीम इंडिया के खिलाफ की थी कैसी साजिश?

अपने ही घर में पहला टेस्ट मैच हारने के बाद कोलंबो में दूसरे टेस्ट मैच के लिए…

Tags: sivendra kumar singh INDvsSL Virat Kohli Team India Dinesh Chandimal

साल भर पहले चेतेश्वर पुजारा को क्यों पड़ी थी विराट कोहली से डांट?
साल भर पहले चेतेश्वर पुजारा को क्यों पड़ी थी विराट कोहली से डांट?

कोलंबो टेस्ट मैच चेतेश्वर पुजारा के लिए खास था. उन्होंने अपने इस खास टेस्ट मैच को खास…

Tags: Cheteshwar pujara Virat Kholi test shivendra kumar singh shivendra kumar singh blog Team India SLvsIND

BLOG : महिलाएं सिर्फ बचा-खुचा खाने के लिए नहीं बनी हैं
BLOG : महिलाएं सिर्फ बचा-खुचा खाने के लिए नहीं बनी हैं

घर में खाना कौन पकाता है? और घर में खाना पकाने वाला खाना कब खाता है… हममें…

Tags: food Nutrition facts Woman unesco malnutrition woman health

बिहार में सियासी भूचाल से उठे बड़े राजनीतिक सवाल
बिहार में सियासी भूचाल से उठे बड़े राजनीतिक सवाल

बिहार में नीतीश कुमार के बीजेपी के साथ जाने पर विपक्ष और खासतौर पर कांग्रेस को धोखा औऱ साजिश…

BLOG: हैदराबाद हाउस में मोदी-नीतीश की भेंट में तय हुआ था क्लाइमेक्स!
BLOG: हैदराबाद हाउस में मोदी-नीतीश की भेंट में तय हुआ था क्लाइमेक्स!

राजकिशोर

Thursday, 27 July 2017

नीतीश का आरजेडी से बाहर जाना तो करीब छह माह पहले ही तय हो गया था. लालू…

BLOG: तेजस्वी इस्तीफा दे देते तो भी नीतीश महागठबंधन से अलग हो जाते!
BLOG: तेजस्वी इस्तीफा दे देते तो भी नीतीश महागठबंधन से अलग हो जाते!

अगर तेजस्वी यादव बिहार के उप मुख्यमंत्री के पद से इस्तीफ़ा दे देते तो क्या महागठबंधन की सरकार बच…

Tags: Nitish Kumar resignation pre-planed tejasvi yadav

BLOG: क्या राष्ट्रपति के रूप में सफल रहे प्रणब दा!
BLOG: क्या राष्ट्रपति के रूप में सफल रहे प्रणब दा!

देश के तेरहवें राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की रायसीना हिल्स से रविवार को ससम्मान विदाई हो गई. बिना…

Tags: hindi news Latest Hindi news news in hindi ABP News India blog Pranab Mukherjee president

क्या है टीम इंडिया की हार का 10 बजकर 10 मिनट से कनेक्शन?
क्या है टीम इंडिया की हार का 10 बजकर 10 मिनट से कनेक्शन?

उस वक्त रात के दस बजकर दस मिनट हो रहे थे. घड़ी के डायल का सबसे प्रचलित समय दस…

Tags: Women Team Indie Womens World Cup 2017 england cricket team final WWC17

वाघेला गए, अब गुजरात में कांग्रेस का क्या होगा?
वाघेला गए, अब गुजरात में कांग्रेस का क्या होगा?

नई दिल्लीः जिसका डर था वही बात हो गई. गुजरात में कांग्रेस के ज़मीनी और कद्दावर नेता शंकर सिंह…

Tags: Shanker sinh Vaghela Gujarat CONGRESS PARTY INC indian national congress BJP bhartiya janta party

BLOG : पीरियड लीव...ये आइडिया कुछ जमा नहीं
BLOG : पीरियड लीव...ये आइडिया कुछ जमा नहीं

माशा

Saturday, 22 July 2017

मुंबई की एक ‘कूलेस्ट’ स्टार्टअप कंपनी ने अपने महिला एंप्लॉयीज को पीरियड लीव देने का फैसला किया…

Tags: blog Period leave Masha

बहनजी ने ये क्या कर दिया: मायावती की रणनीति को लेकर जितनी मुंह उतनी बातें
बहनजी ने ये क्या कर दिया: मायावती की रणनीति को लेकर जितनी मुंह उतनी बातें

पंकज झा

Friday, 21 July 2017

23 जुलाई को मायावती ने दिल्ली में अपने घर पर बीएसपी (बहुजन समाज पार्टी) के बड़े नेताओं…

Tags: mayawati BSP chief mayawati BSP President Mayawati BSP supremo Mayawati Mayawati's resignation Mayawati News

View More

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017