BLOG: शर्मनाक है ‘तीन तलाक़’ पर मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की ज़िद!

Thursday, 20 April 2017 12:52 PM | Comments (0)
BLOG: शर्मनाक है ‘तीन तलाक़’ पर मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की ज़िद!

युसुफ अंसारी

वरिष्ठ पत्रकार

तीन तलाक़ के मुद्दे पर केंद्र सरकार और ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के बीच तल्ख़ी बढ़ती जा रही है. लखनऊ में दो दिन चली ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की बैठक के बाद बोर्ड ने एक बार फिर दोहराया है कि पर्सनल लॉ या शरीयत में किसी भी तरह की सरकारी या सुप्रीम कोर्ट की दख़अंदाजी बर्दाश्त नहीं की जाएगी.

हलांकि बोर्ड ने यह साफ़ नहीं किया है कि अगर सरकार या सुप्रीम कोर्ट दखल देकर तीन तलाक पर पाबंदी लगाता है तो बोर्ड क्या करेगा..? वहीं भुवनेश्वर में दो दिन चली बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के समापन भाषण में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तीन तलाक़ के नाम पर मुस्लिम महिलाओं के साथ हो रही नाइंसाफी को दूर करने की अपनी प्रतिबद्धता दोहराई है. साफ है कि इस मुद्दे पर केंद्र सरकार और ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड आर-पार के मूड में आ गए हैं.

बहरहाल एक अच्छी ख़बर यह है कि बोर्ड ने मुसलमानों से बेवजह एक साथ तीन तलाक़ नहीं देने की अपील की है. साथ ही मुस्लिम समाज से ऐसा करने वालों का सामाजिक बहिष्कार और तलाक़ पीड़िता की मदद करने की भी अपील की गई है. यहां सवाल पैदा होता है कि मुस्लिम समाज से यह अपील करने में बोर्ड को इतना वक़्त क्यों लगा. दूसरी बात ये है कि जब इस्लाम में बेवजह तलाक़ है ही नहीं तो ऐसी तलाक़ को मान्यता कैसे दी जा सकती है. इस्लाम में हर काम का दारोमदार नीयत पर है. फिर तलाक़ के मामले में शरीयत नीयत को क्यों नहीं मानती.

बोर्ड जिन क़ानूनों को शरीयत को रूप में मान्यता देता है उनमें साफ़ लिखा है कि कि अगर कोई शौहर अपनी बीवी को तलाक़ बोल दे तो उसे तलाक हो जाती है. चाहे तलाक़ देने की उसकी नीयत हो या न हो. हंसी मज़ाक़ में भी तलाक़ बोलने पर तलाक़ हो जाएगी. इतना ही नहीं जितनी बार तलाक़ कहा जाएगा उतनी बार तलाक़ हो जाएगी. इसी शरीयत के आधार पर दारुल उलूम देवबंद ने ऐसे भी फ़तवे दिए है कि अगर शौहर के मोबाइल से बीवी के मोबाइल पर तलाक़, तलाक, तलाक़ का मैसेज भेज दिया जाए तो उनका तलाक हो जाएगा. चाहे मैसेज ग़लती से ही भेज दिया गया हो या फिर पति की जगह किसी और ने मैसेज भेज दिया हो. ऐसे क़ानून मुस्लिम समाज कौन सा भला कर रहे हैं ये किसी से छिपा नहीं है.

हदीसों से साबित है कि पैगंबर-ए-इस्लाम हज़रत मुहम्मद (सअव) ने एक साथ तीन तलाक़ को तीन नहीं माना. बल्कि उन्होंने इसे एक ही माना. उनके सामने एक साथ तीन तलाक़ के दो मामले सामने आए. एक में उन्होंने तीन तलाक़ देने वाले सहाबी से कहा तुम्हारा एक ही तलाक़ हुआ है. तुम चाहो तो अपनी बीवी को अपने पास बुला सकते हो. दूसरे मामले में जब मुहम्मद (सअव) को एक सहाबी ने बताया कि एक शख़्स ने अपनी बीवी को एक साथ तीन तलाक़ दे दी हैं. इस पर उन्होंने बहुत ग़ुस्सा किया. उनके ग़ुस्से को देख कर एक सहाबी ने उनसे तीन तलाक़ देने वाले को क़त्ल करने की इजाज़त मांगी थी. इससे साबित होता है कि एक साथ तीन तलाक बोलने को मुहम्मद (सअव) अच्छा नहीं मानते थे. इसे वे एक ही तलाक़ मानते थे. यानि इस तलाक़ के बाद पति-पत्नी आपस में समझौता करके साथ रह सकते थे. हदीसों मे इस दलील के बावजूद बोर्ड एक साथ तीन तलाक़ को तीन ही मानने का ज़िद पर कैसे अड़ा रह सकता है.

पहले ख़लीफ़ा हजरत अबू बक्र सिद्दीक़ के दौर-ए-ख़िलाफ़त में भी एक साथ दी गई तीन तलाक़ को एक ही माना जाता था. दूसरे ख़लीफा हज़रत उमर की ख़िलाफत के पहले दो साल में भी यही क़ानून था. कहा जाता है कि हज़रत उमर ने जब देखा कि लोगों में एक साथ तीन तलाक़ का चलन बढ़ गया है तो पहले उन्होंने तीन तलाक़ को तीन ही मान लेने की चेतावनी दी और फिर इसे लागू कर दिया.

सही मुस्लिम शरीफ़ की हदीस न. 1491 और 1492 में इसका ज़िक्र है. कहा ये भी जाता है कि कि बाद में हज़रत उमर ने एक साथ दी गई तीन तलाक़ को तीन मानने का अपना फ़ैसला वापस ले लिया था. इसका ज़िक्र सही मुस्लिम शरीफ के पुराने संस्करण की हदीस न. 1493 में था लेकिन अब उपलब्ध संसकरण में ये हदीस नहीं है. जाहिर है तीन तलाक़ के खेल को जारी रखने और इसके बहाने हलाला की लानत को मुस्लिम समाज पर थोंपने की नीयत से ऐसा किया गया होगा.

बोर्ड की ये दलील तर्क संगत नहीं है कि शरीयत क़ुरआन के सिद्धांतों पर आधारित है, लिहाज़ा इसमें किसी तरह का बदलाव नहीं हो सकता. दरअसल मुसलमानों को जिन क़ानूनों पर अमल कराया जा रहा है उन्हें बोर्ड ने गढ़ा है. बोर्ड की तरफ से 2001 में तैयार की गई किताब ‘मजमुआ-ए-क़वानीन’ अर्थात क़ानूनों का संकलन में ये क़ानून मौजूद है. बोर्ड की तरफ से देश भर में बनाए गए दारुल कज़ा यानि शरई अदालतों में इन्ही क़ानूनों के हिसाब से मुसलमानों के निजी मामलों में फैसले होते हैं. इस किताब में कुल 529 धाराएं हैं.

इसे अल्लाह ने नहीं लिखा है बल्कि इसे बोर्ड से जुड़े उलेमा ने तैयार है. इसे लिखने में कई जगहों पर कुरआन और सुन्नत की साफ़ तौर पर अनदेखी की गई है. ख़ासकर तलाक़ से जुड़ी ज़यादातर धाराएं क़ुरआन की मूल भावना से मेल नहीं खाती. इनमें से कुछ धाराएं तो कुरआन की मूल भावना के एकदम खिलाफ़ भी हैं. जब इन अदालतों में तलाक़ पीड़ितो को इंसाफ नहीं मिलता तो वो हाई कोर्ट या सुप्रीम कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाने को मजबूर होतीं हैं. बोर्ड से जुड़े तमाम उलमा इस हक़ीक़त से वाक़िफ हैं लेकिन उनकी ज़ुबान पर ताला लगा हुआ है.

अगर समाज में तलाक़ को खेल बनाने से रोकने के लिए हज़रत उमर ने पहले एक साथ दी गई तीन तलाक़ को तीन मानने का फ़ैसाल किया और बाद में उसे पलट कर फिर एक ही मानने का हुक्म सुनाया तो अब ऐसा क्यों नहीं हो सकता. हज़रत उमर का फैसला कोई पत्थर की लकीर तो है नहीं. मुसलमानों के लिए पत्थर की लकीर तो कुरआन के आदेश और महम्मद (सअव) की सुन्नत होनी चाहिए. ये इतनी सी बात ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड को समझ में क्यों नहीं आती. बोर्ड बार-बार केंद्र सरकार और सुप्रीम कोर्ट से कह रहा है कि शरीयत में कोई दखलंदाज़ी न करें. बोर्ड यह क्यो नहीं कहता कि वो ख़ुद ही इस मामले में मुस्लिम महिलाओं की समस्याएं सुलझाने की दिशा में उलमा-ए-दीन के साथ विचार विमर्श करके कोई क़दम उठाएगा. बोर्ड अगर ख़ुद को देश भर मुसलमानों के प्रतिनिधि को तौर पर पेश करता है तो उनकी समस्याए सुलझाने की ज़िम्मेदारी भी उसी पर आती है. अगर बोर्ड ये ज़िम्मेदारी सही से निभा रहा होता तो पहले बरेलवी मसलक के लोग, फिर शिया और महिलाएं अपना पर्सनल लॉ बोर्ड नहीं बनाते.

बोर्ड के अड़ियल रुख़ को केंद्र सरकार और सुप्रीम कोर्ट को तीन तलाक पर कोई कड़ा फैसला लेने पर मजबूर कर सकता है. उसके बाद जो होगा उसके लिए बोर्ड ख़ुद ही ज़िम्मेदार होगा. लखनऊ बैठक से कुछ ही दिन पहले बोर्ड के एक प्रतिनिधि मंडल ने विधि आयोग के चेयरमैन बलबीर चौहान से मुलाक़ात करके देश में समान नागरिक संहिता लागू करने की केंद्र सरकार की कोशिशों का विरोध किया है. बोर्ड ने आयोग को बताया कि देश भर के क़रीब पांच करोड़ मुसलमानों ने हस्ताक्षर करके मौजूदा शरीयत को ही जारी रखने के हक़ में अपन राय दी है. इस हस्ताक्षर अभियान में कऱीब पौने तीन करोड़ मुस्लिम महिलाओं ने भी हिस्सा लिया है. बोर्ड ने हस्ताक्षर करने वाले सभी लोगों के नाम पते और मोबाइल नंबरों वाले दस्तावेज़ की स्कैन कॉपी आयोग को सौंपी और साथ ही हार्ड डिस्क में सारा डाटा उपलब्ध कराया. बोर्ड ने आयोग से कहा कि देश के मुसलमान शरीयत से संतुष्ट हैं और वो इसमें केंद्र सरकार या सुप्रीम कोर्ट की दख़लअंदाज़ी नहीं चाहते. इसका मतलब तो यह होना चाहिए कि इसमें कोई सुधार करना होगा तो बोर्ड खुद कर लेगा.

ग़ौरतलब है कि बोर्ड ने कभी यह नहीं कहा कि वो समस्या के समाधान के लिए कोई पहल करेगा. उल्टे वो मुसलमानों से अपील कर रहा है. ऐसी अपीलें तो वो 1973 में अपने वजूद मे आने के बाद से ही कर रहा है. अगर उसकी अपील का असर तो अब तक मुस्लिम समाज में काफी सुधार आ चुका होता. ज़रूरत अपील की नहीं बल्कि सुधारात्मक क़दम उठाने की है. अगर तीन अगर हज़रत मुहम्मद (सअव) की सुनन्त पर अमल करते हुए अगर तीन तलाक़ को एक ही माना जाए तो इससे वो जोड़े अलग होने से बच जाएंगे जिनका तलाक़ ग़ुस्से में, नशे में, ग़लती से, मज़ाक में या बेसोचे समझे हुआ है. ऐसे मामलों में तलाक़ के बाद पछताने वाले लोगों को अपनी पत्नियों को फिर से साथ रखने के लिए हलाले की लानत से नहीं गुज़ारना पड़ेगा. जिसकी नीयत ही पत्नी से अलग होने की होगी वो ढह महीने और इंतेज़ार कर लेगा. आख़िर इतन जल्दबाज़ी क्यों…? तीन तलाक के खिलाफ़ मुहिम चला रहे महिला संगठन भी यही चाहते हैं. आखिर इसमें हर्ज ही क्या है. ज्यादातर मुस्लिम देशों में तलाक़ को लेकर ऐसा ही चलन है. ये मांग ऐस नहीं है जिसे ग़ैर इस्लामी या ग़ैर शरई कहा जाए.

अफ़सोस की बात ये है कि बोर्ड महिलाओं के आवाज़ सुनना ही नही चाहता. उसके सही या ग़लत होने का सवाल तो बाद में आएगा. बोर्ड ने तीन तलाक़ के मौजूदा चलन को ख़त्म करने की मांग करने वाली औरतों के आंदोलन के ख़िलाफ़ अपनी सोच वाली महिलाओं को मैदान में उतार दिया है. बोर्ड ऐसा कोई भरोसा नहीं दे रहा कि वो तीन तलाक़ को ख़त्म करने की मुस्लिम महिलाओं की मांग पर विचार करेगा. बोर्ड तो शुरु से ही कह रहा है कि शरीयत अल्लाह का क़ानून है और इसमें कोई बदलाव नहीं हो सकता.

सुप्रीम कोर्ट में दिए गए अपने हलफ़नामे में तो उसने यहां तक कह दिया है कि शरीयत में बदलाव कुरआन को दोबारा लिखने जैसा क़दम होगा. हालांकि कुछ दिन पहले ही बोर्ड के उपाध्यक्ष और शिया धर्मगुरू डॉ. कल्बे सादिक़ ने कहा था कि अगर केंद्र सरकार दख़ल न दे तो बोर्ड अगले डेढ़ साल में तीन तलाक़ को खुद ही ख़त्म कर देगा. लेकिन बोर्ड में उनकी ये अपील नक्कारख़ाने में तूती की आवाज़ बन कर रह गई है. क़ुरआन और गदीस की रोशनी मे देखें तो एक साथ दी गई तीन तलाक को तीन ही मानने की ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल़ लॉ बोर्ड की ज़िद शर्मनाक है. इसका कोई ठोस आधार नहीं है.

(नोट- उपरोक्त दिए गए विचार व आकड़ें लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं. ये जरूरी नहीं कि एबीपी न्यूज ग्रुप सहमत हो. इस लेख से जुड़े सभी दावे या आपत्ति के लिए सिर्फ लेखक ही जिम्मेदार है.)

ALL BLOG POST

BLOG: IPL के बाद आखिर क्यों ‘ओवरटाइम’ करेंगे टीम इंडिया के सेलेक्टर्स?
BLOG: IPL के बाद आखिर क्यों ‘ओवरटाइम’ करेंगे टीम इंडिया के सेलेक्टर्स?

इंडियन प्रीमियर लीग में जिस तरह का खेल चल रहा है उससे भारतीय टीम के चयनकर्ताओं का सिरदर्द बढ़ने…

Tags: champions trophy Nitish Rana Rishabhh Pant ROHIT SHARMA sanju samson shikhar dhawan suresh raina Team India Virat Kohli Yuvraj Singh

BLOG: क्या चैंपियन की रेस से बाहर होने वाली पहली टीम बनेगी गुजरात लायंस?
BLOG: क्या चैंपियन की रेस से बाहर होने वाली पहली टीम बनेगी गुजरात लायंस?

शुक्रवार को कोलकाता में गुजरात लायंस की टीम कोलकाता नाइटराइडर्स के खिलाफ मैदान में उतरेगी. गुजरात के…

Tags: Basil thampi dhawal kulkarni gujrat lions IPL IPL10 IPL2017 Munaf Patel praveen kumar Ravindra Jadeja shivendra kumar singh Shivil Kaushik suresh raina

BLOG: हार की हैट्रिक कैसे झेलेंगे अरविंद केजरीवाल ?
BLOG: हार की हैट्रिक कैसे झेलेंगे अरविंद केजरीवाल ?

अगर सी वोटर का सर्वे सही है तो मोदी-अमित शाह की जोड़ी दिल्ली में कमाल करने जा…

Tags: AAP BJP blog Congress MCD Elections 2017 VIJAY VIDROHI

BLOG: सिर्फ आंख मूंदकर बल्ला भांजने का नाम नहीं है आईपीएल
BLOG: सिर्फ आंख मूंदकर बल्ला भांजने का नाम नहीं है आईपीएल

पता नहीं आपने गौर किया या नहीं लेकिन अगर नहीं किया तो अभी देर नहीं हुई है. आईपीएल का…

Tags: David Warner IPL IPL10 IPL2017 Kane Williamson Manish Pandey sanju samson Virat Kohli

BLOG : सोनू निगम, अज़ान और फ़तवा
BLOG : सोनू निगम, अज़ान और फ़तवा

मशहूर फिल्मी गायक सोनू निगम के अज़ान वाले ट्वीट पर शुरु हुआ विवाद मौलवियों की फतवेबाजी के…

Tags: Bollywood fatwa SONU NIGAM

लाल बत्ती हटाने का फैसला : नेतागीरी करना अब नहीं रहा आसान!
लाल बत्ती हटाने का फैसला : नेतागीरी करना अब नहीं रहा आसान!

नई दिल्ली : मंत्री अब लाल बत्ती की गाड़ी का इस्तेमाल नहीं कर सकेंगे. मंत्री क्या, प्रधानमंत्री…

Tags: Narendra Modi Red beacons VIP status

मिशन इम्पॉसिबल : बहन मायावती दुश्मन से भी हाथ मिलाने को तैयार!
मिशन इम्पॉसिबल : बहन मायावती दुश्मन से भी हाथ मिलाने को तैयार!

बसपा सुप्रीमो मायावती की माया तो राम ही जाने! जिस यूपी में बारी-बारी से भाजपा और सपा…

Tags: Akhilesh yadav BJP BSP BSP chief mayawati Congress mayawati Narendra Modi Rahul Gandhi SP vijayshankar chaturvedi

बाबरी मस्जिद विवाद : साजिश के आरोप से बीजेपी को फायदा!
बाबरी मस्जिद विवाद : साजिश के आरोप से बीजेपी को फायदा!

सुप्रीम कोर्ट के विवादित ढ़ांचे को तोड़े जाने के विवाद पर बीजेपी के बड़े नेताओं पर आपराधिक…

Tags: Babri Action Committee Babri Case hearing Babri Demolition Hearing news Babri Masjid case BJP

BLOG: शर्मनाक है ‘तीन तलाक़’ पर मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की ज़िद!
BLOG: शर्मनाक है ‘तीन तलाक़’ पर मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की ज़िद!

तीन तलाक़ के मुद्दे पर केंद्र सरकार और ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के बीच तल्ख़ी…

Tags: triple talaaq

BLOG : कश्मीर के पत्थरबाजों के हाथ में क्या रखें पीएम मोदी...
BLOG : कश्मीर के पत्थरबाजों के हाथ में क्या रखें पीएम मोदी...

कश्मीर घाटी फिर सुलग रही है. श्रीनगर लोकसभा सीट के लिए सात फीसद मतदान होता है और…

Tags: CM Mehbooba Mufti jammu and kashmir Kashmir Narendra Modi

BLOG : आम्बेडकर को हड़पने की होड़ में बीजेपी सबसे आगे
BLOG : आम्बेडकर को हड़पने की होड़ में बीजेपी सबसे आगे

जैसे ही चौदह अप्रैल का दिन आता है, डॉ. भीमराव आम्बेडकर की जयंती मनाने की धूम मच…

Tags: b r ambedkar BJP BSP chief mayawati Narendra Modi

BLOG : सांसद महोदया...लड़कियां सिर्फ देह नहीं, सुरक्षा के बजाए हक दीजिए
BLOG : सांसद महोदया...लड़कियां सिर्फ देह नहीं, सुरक्षा के बजाए हक दीजिए

माशा

Monday, 17 April 2017

हम उदारमना हैं. मतलब बड़े दिल वाले. सब चाहते हैं कि हमारी लड़कियां सुरक्षित रहें. नेता, पुलिस,…

Tags: Bollywood jaya bachchan Masha women security women security and rights

BLOG: एक जैसी गलती करके खतरे में पड़ गए हैं रोहित शर्मा
BLOG: एक जैसी गलती करके खतरे में पड़ गए हैं रोहित शर्मा

अब से कुछ देर बाद मुंबई की टीम गुजरात के खिलाफ मैदान में उतरने वाली है. यूं…

Tags: IPL IPL10 IPL2017 Rashid Khan ROHIT SHARMA shivendra kumar singh Sunil naren

जन्मदिन विशेष: हंसाते-हंसाते लोगों को रुलाने वाले 'जादूगर' चार्ली चैपलिन
जन्मदिन विशेष: हंसाते-हंसाते लोगों को रुलाने वाले 'जादूगर' चार्ली चैपलिन

हंसना किसे अच्छा नहीं लगता. मनुष्य और जानवर में एक बड़ा अंतर है कि जानवर मनुष्य की…

Tags: birthday special Charlie Chaplin

उप-चुनाव नतीजे: बीजेपी, कांग्रेस की जय-जयकार, 'आप' में मचा हाहाकार!
उप-चुनाव नतीजे: बीजेपी, कांग्रेस की जय-जयकार, 'आप' में मचा हाहाकार!

नई दिल्ली: हांडी का एक चावल मसल कर यकीनन कहा जा सकता है कि हांडी के पूरे…

Tags: BJP Bypoll results Congress Karnataka vijayshankar chaturvedi

BLOG: दुनिया भर के गेंदबाजों को आज क्यों नहीं आएगी नींद?
BLOG: दुनिया भर के गेंदबाजों को आज क्यों नहीं आएगी नींद?

विराट कोहली ने आज इंस्टाग्राम पर एक वीडियो डाला. उससे पहले वो नेट्स में प्रैक्टिस करते भी दिखाई दिए….

Tags: IPL IPL10 IPL2017 mumbai indians RCB Virat Kohli

BLOG: शराबबंदी आंदोलन से बदलेगी देश की राजनीति
BLOG: शराबबंदी आंदोलन से बदलेगी देश की राजनीति

सुप्रीम कोर्ट के हाई-वे पर शराब की दुकानें बंद कराने के आदेश के बाद केन्द्र और राज्य…

Tags: Bihar election liquor ban Liquor Shops Nitish Kumar politics UP CM uttar pradesh Women yogi adityanath

BLOG: शायद इसीलिए अरविंद केजरीवाल को 'अराजक' कहते हैं !
BLOG: शायद इसीलिए अरविंद केजरीवाल को 'अराजक' कहते हैं !

चुनाव आयोग पर निशाना साधते हुए उन्होंने जिन शब्दों का इस्तेमाल किया उससे ना सिर्फ किसी भी…

Tags: arvind kejriwal Election Commision

BLOG: उसने आंसुओं को थाम के रखा !
BLOG: उसने आंसुओं को थाम के रखा !

रायपुर के एक चैनल आईबीसी 24 की एंकर सुप्रीत कौर अपने कर्तव्य को निभाने के लिए एक मिसाल बन…

Tags: duty ibc 24 news channel journlism news anchor supreet kaur

BLOG: 'दिलवालों' की दिल्ली कभी आईपीएल जीतने वाली दिल्ली भी बनेगी क्या ?
BLOG: 'दिलवालों' की दिल्ली कभी आईपीएल जीतने वाली दिल्ली भी बनेगी क्या ?

मंगलवार को सुपरजाइंट पुणे और दिल्ली डेयरडेविल्स का मैच खेला जाना है. ये मैच पुणे में खेला…

Tags: delhi daredevils IPL IPL10 IPL2017 jp duminy shivendra kumar singh Zaheer Khan

BLOG : ऐसे मारक सवालों पर आंखें नम हो जाती हैं
BLOG : ऐसे मारक सवालों पर आंखें नम हो जाती हैं

माशा

Saturday, 8 April 2017

गौरी सावंत की कहानी को टीवी पर देखकर गदगद होने वालों… सड़कों पर भीख मांगते ट्रांसजेंडरों को…

Tags: blog Masha transgenders issue

BLOG: यूपी कर्ज़माफी: देश भर के किसानों की आंखें चमक उठीं!
BLOG: यूपी कर्ज़माफी: देश भर के किसानों की आंखें चमक उठीं!

यूपी के किसानों का 1 लाख तक का फ़सली कर्ज़ माफ़ हो गया है, भले ही कर्ज़…

ब्लॉग: 'तीन तलाक़' पर पाबंदी की पहल खुद मुसलमानों की तरफ से होनी चाहिए
ब्लॉग: 'तीन तलाक़' पर पाबंदी की पहल खुद मुसलमानों की तरफ से होनी चाहिए

मुस्लिम समाज में एक साथ दी जाने वाली ‘तीन तलाक’ के मुद्दे पर क़रीब साल भर से…

Tags: Muslims Triple Talaq Yusuf Ansari

View More