BLOG: शर्मनाक है ‘तीन तलाक़’ पर मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की ज़िद!

Thursday, 20 April 2017 12:52 PM | Comments (0)
BLOG: शर्मनाक है ‘तीन तलाक़’ पर मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की ज़िद!

युसुफ अंसारी

वरिष्ठ पत्रकार

तीन तलाक़ के मुद्दे पर केंद्र सरकार और ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के बीच तल्ख़ी बढ़ती जा रही है. लखनऊ में दो दिन चली ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की बैठक के बाद बोर्ड ने एक बार फिर दोहराया है कि पर्सनल लॉ या शरीयत में किसी भी तरह की सरकारी या सुप्रीम कोर्ट की दख़अंदाजी बर्दाश्त नहीं की जाएगी.

हलांकि बोर्ड ने यह साफ़ नहीं किया है कि अगर सरकार या सुप्रीम कोर्ट दखल देकर तीन तलाक पर पाबंदी लगाता है तो बोर्ड क्या करेगा..? वहीं भुवनेश्वर में दो दिन चली बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के समापन भाषण में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तीन तलाक़ के नाम पर मुस्लिम महिलाओं के साथ हो रही नाइंसाफी को दूर करने की अपनी प्रतिबद्धता दोहराई है. साफ है कि इस मुद्दे पर केंद्र सरकार और ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड आर-पार के मूड में आ गए हैं.

बहरहाल एक अच्छी ख़बर यह है कि बोर्ड ने मुसलमानों से बेवजह एक साथ तीन तलाक़ नहीं देने की अपील की है. साथ ही मुस्लिम समाज से ऐसा करने वालों का सामाजिक बहिष्कार और तलाक़ पीड़िता की मदद करने की भी अपील की गई है. यहां सवाल पैदा होता है कि मुस्लिम समाज से यह अपील करने में बोर्ड को इतना वक़्त क्यों लगा. दूसरी बात ये है कि जब इस्लाम में बेवजह तलाक़ है ही नहीं तो ऐसी तलाक़ को मान्यता कैसे दी जा सकती है. इस्लाम में हर काम का दारोमदार नीयत पर है. फिर तलाक़ के मामले में शरीयत नीयत को क्यों नहीं मानती.

बोर्ड जिन क़ानूनों को शरीयत को रूप में मान्यता देता है उनमें साफ़ लिखा है कि कि अगर कोई शौहर अपनी बीवी को तलाक़ बोल दे तो उसे तलाक हो जाती है. चाहे तलाक़ देने की उसकी नीयत हो या न हो. हंसी मज़ाक़ में भी तलाक़ बोलने पर तलाक़ हो जाएगी. इतना ही नहीं जितनी बार तलाक़ कहा जाएगा उतनी बार तलाक़ हो जाएगी. इसी शरीयत के आधार पर दारुल उलूम देवबंद ने ऐसे भी फ़तवे दिए है कि अगर शौहर के मोबाइल से बीवी के मोबाइल पर तलाक़, तलाक, तलाक़ का मैसेज भेज दिया जाए तो उनका तलाक हो जाएगा. चाहे मैसेज ग़लती से ही भेज दिया गया हो या फिर पति की जगह किसी और ने मैसेज भेज दिया हो. ऐसे क़ानून मुस्लिम समाज कौन सा भला कर रहे हैं ये किसी से छिपा नहीं है.

हदीसों से साबित है कि पैगंबर-ए-इस्लाम हज़रत मुहम्मद (सअव) ने एक साथ तीन तलाक़ को तीन नहीं माना. बल्कि उन्होंने इसे एक ही माना. उनके सामने एक साथ तीन तलाक़ के दो मामले सामने आए. एक में उन्होंने तीन तलाक़ देने वाले सहाबी से कहा तुम्हारा एक ही तलाक़ हुआ है. तुम चाहो तो अपनी बीवी को अपने पास बुला सकते हो. दूसरे मामले में जब मुहम्मद (सअव) को एक सहाबी ने बताया कि एक शख़्स ने अपनी बीवी को एक साथ तीन तलाक़ दे दी हैं. इस पर उन्होंने बहुत ग़ुस्सा किया. उनके ग़ुस्से को देख कर एक सहाबी ने उनसे तीन तलाक़ देने वाले को क़त्ल करने की इजाज़त मांगी थी. इससे साबित होता है कि एक साथ तीन तलाक बोलने को मुहम्मद (सअव) अच्छा नहीं मानते थे. इसे वे एक ही तलाक़ मानते थे. यानि इस तलाक़ के बाद पति-पत्नी आपस में समझौता करके साथ रह सकते थे. हदीसों मे इस दलील के बावजूद बोर्ड एक साथ तीन तलाक़ को तीन ही मानने का ज़िद पर कैसे अड़ा रह सकता है.

पहले ख़लीफ़ा हजरत अबू बक्र सिद्दीक़ के दौर-ए-ख़िलाफ़त में भी एक साथ दी गई तीन तलाक़ को एक ही माना जाता था. दूसरे ख़लीफा हज़रत उमर की ख़िलाफत के पहले दो साल में भी यही क़ानून था. कहा जाता है कि हज़रत उमर ने जब देखा कि लोगों में एक साथ तीन तलाक़ का चलन बढ़ गया है तो पहले उन्होंने तीन तलाक़ को तीन ही मान लेने की चेतावनी दी और फिर इसे लागू कर दिया.

सही मुस्लिम शरीफ़ की हदीस न. 1491 और 1492 में इसका ज़िक्र है. कहा ये भी जाता है कि कि बाद में हज़रत उमर ने एक साथ दी गई तीन तलाक़ को तीन मानने का अपना फ़ैसला वापस ले लिया था. इसका ज़िक्र सही मुस्लिम शरीफ के पुराने संस्करण की हदीस न. 1493 में था लेकिन अब उपलब्ध संसकरण में ये हदीस नहीं है. जाहिर है तीन तलाक़ के खेल को जारी रखने और इसके बहाने हलाला की लानत को मुस्लिम समाज पर थोंपने की नीयत से ऐसा किया गया होगा.

बोर्ड की ये दलील तर्क संगत नहीं है कि शरीयत क़ुरआन के सिद्धांतों पर आधारित है, लिहाज़ा इसमें किसी तरह का बदलाव नहीं हो सकता. दरअसल मुसलमानों को जिन क़ानूनों पर अमल कराया जा रहा है उन्हें बोर्ड ने गढ़ा है. बोर्ड की तरफ से 2001 में तैयार की गई किताब ‘मजमुआ-ए-क़वानीन’ अर्थात क़ानूनों का संकलन में ये क़ानून मौजूद है. बोर्ड की तरफ से देश भर में बनाए गए दारुल कज़ा यानि शरई अदालतों में इन्ही क़ानूनों के हिसाब से मुसलमानों के निजी मामलों में फैसले होते हैं. इस किताब में कुल 529 धाराएं हैं.

इसे अल्लाह ने नहीं लिखा है बल्कि इसे बोर्ड से जुड़े उलेमा ने तैयार है. इसे लिखने में कई जगहों पर कुरआन और सुन्नत की साफ़ तौर पर अनदेखी की गई है. ख़ासकर तलाक़ से जुड़ी ज़यादातर धाराएं क़ुरआन की मूल भावना से मेल नहीं खाती. इनमें से कुछ धाराएं तो कुरआन की मूल भावना के एकदम खिलाफ़ भी हैं. जब इन अदालतों में तलाक़ पीड़ितो को इंसाफ नहीं मिलता तो वो हाई कोर्ट या सुप्रीम कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाने को मजबूर होतीं हैं. बोर्ड से जुड़े तमाम उलमा इस हक़ीक़त से वाक़िफ हैं लेकिन उनकी ज़ुबान पर ताला लगा हुआ है.

अगर समाज में तलाक़ को खेल बनाने से रोकने के लिए हज़रत उमर ने पहले एक साथ दी गई तीन तलाक़ को तीन मानने का फ़ैसाल किया और बाद में उसे पलट कर फिर एक ही मानने का हुक्म सुनाया तो अब ऐसा क्यों नहीं हो सकता. हज़रत उमर का फैसला कोई पत्थर की लकीर तो है नहीं. मुसलमानों के लिए पत्थर की लकीर तो कुरआन के आदेश और महम्मद (सअव) की सुन्नत होनी चाहिए. ये इतनी सी बात ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड को समझ में क्यों नहीं आती. बोर्ड बार-बार केंद्र सरकार और सुप्रीम कोर्ट से कह रहा है कि शरीयत में कोई दखलंदाज़ी न करें. बोर्ड यह क्यो नहीं कहता कि वो ख़ुद ही इस मामले में मुस्लिम महिलाओं की समस्याएं सुलझाने की दिशा में उलमा-ए-दीन के साथ विचार विमर्श करके कोई क़दम उठाएगा. बोर्ड अगर ख़ुद को देश भर मुसलमानों के प्रतिनिधि को तौर पर पेश करता है तो उनकी समस्याए सुलझाने की ज़िम्मेदारी भी उसी पर आती है. अगर बोर्ड ये ज़िम्मेदारी सही से निभा रहा होता तो पहले बरेलवी मसलक के लोग, फिर शिया और महिलाएं अपना पर्सनल लॉ बोर्ड नहीं बनाते.

बोर्ड के अड़ियल रुख़ को केंद्र सरकार और सुप्रीम कोर्ट को तीन तलाक पर कोई कड़ा फैसला लेने पर मजबूर कर सकता है. उसके बाद जो होगा उसके लिए बोर्ड ख़ुद ही ज़िम्मेदार होगा. लखनऊ बैठक से कुछ ही दिन पहले बोर्ड के एक प्रतिनिधि मंडल ने विधि आयोग के चेयरमैन बलबीर चौहान से मुलाक़ात करके देश में समान नागरिक संहिता लागू करने की केंद्र सरकार की कोशिशों का विरोध किया है. बोर्ड ने आयोग को बताया कि देश भर के क़रीब पांच करोड़ मुसलमानों ने हस्ताक्षर करके मौजूदा शरीयत को ही जारी रखने के हक़ में अपन राय दी है. इस हस्ताक्षर अभियान में कऱीब पौने तीन करोड़ मुस्लिम महिलाओं ने भी हिस्सा लिया है. बोर्ड ने हस्ताक्षर करने वाले सभी लोगों के नाम पते और मोबाइल नंबरों वाले दस्तावेज़ की स्कैन कॉपी आयोग को सौंपी और साथ ही हार्ड डिस्क में सारा डाटा उपलब्ध कराया. बोर्ड ने आयोग से कहा कि देश के मुसलमान शरीयत से संतुष्ट हैं और वो इसमें केंद्र सरकार या सुप्रीम कोर्ट की दख़लअंदाज़ी नहीं चाहते. इसका मतलब तो यह होना चाहिए कि इसमें कोई सुधार करना होगा तो बोर्ड खुद कर लेगा.

ग़ौरतलब है कि बोर्ड ने कभी यह नहीं कहा कि वो समस्या के समाधान के लिए कोई पहल करेगा. उल्टे वो मुसलमानों से अपील कर रहा है. ऐसी अपीलें तो वो 1973 में अपने वजूद मे आने के बाद से ही कर रहा है. अगर उसकी अपील का असर तो अब तक मुस्लिम समाज में काफी सुधार आ चुका होता. ज़रूरत अपील की नहीं बल्कि सुधारात्मक क़दम उठाने की है. अगर तीन अगर हज़रत मुहम्मद (सअव) की सुनन्त पर अमल करते हुए अगर तीन तलाक़ को एक ही माना जाए तो इससे वो जोड़े अलग होने से बच जाएंगे जिनका तलाक़ ग़ुस्से में, नशे में, ग़लती से, मज़ाक में या बेसोचे समझे हुआ है. ऐसे मामलों में तलाक़ के बाद पछताने वाले लोगों को अपनी पत्नियों को फिर से साथ रखने के लिए हलाले की लानत से नहीं गुज़ारना पड़ेगा. जिसकी नीयत ही पत्नी से अलग होने की होगी वो ढह महीने और इंतेज़ार कर लेगा. आख़िर इतन जल्दबाज़ी क्यों…? तीन तलाक के खिलाफ़ मुहिम चला रहे महिला संगठन भी यही चाहते हैं. आखिर इसमें हर्ज ही क्या है. ज्यादातर मुस्लिम देशों में तलाक़ को लेकर ऐसा ही चलन है. ये मांग ऐस नहीं है जिसे ग़ैर इस्लामी या ग़ैर शरई कहा जाए.

अफ़सोस की बात ये है कि बोर्ड महिलाओं के आवाज़ सुनना ही नही चाहता. उसके सही या ग़लत होने का सवाल तो बाद में आएगा. बोर्ड ने तीन तलाक़ के मौजूदा चलन को ख़त्म करने की मांग करने वाली औरतों के आंदोलन के ख़िलाफ़ अपनी सोच वाली महिलाओं को मैदान में उतार दिया है. बोर्ड ऐसा कोई भरोसा नहीं दे रहा कि वो तीन तलाक़ को ख़त्म करने की मुस्लिम महिलाओं की मांग पर विचार करेगा. बोर्ड तो शुरु से ही कह रहा है कि शरीयत अल्लाह का क़ानून है और इसमें कोई बदलाव नहीं हो सकता.

सुप्रीम कोर्ट में दिए गए अपने हलफ़नामे में तो उसने यहां तक कह दिया है कि शरीयत में बदलाव कुरआन को दोबारा लिखने जैसा क़दम होगा. हालांकि कुछ दिन पहले ही बोर्ड के उपाध्यक्ष और शिया धर्मगुरू डॉ. कल्बे सादिक़ ने कहा था कि अगर केंद्र सरकार दख़ल न दे तो बोर्ड अगले डेढ़ साल में तीन तलाक़ को खुद ही ख़त्म कर देगा. लेकिन बोर्ड में उनकी ये अपील नक्कारख़ाने में तूती की आवाज़ बन कर रह गई है. क़ुरआन और गदीस की रोशनी मे देखें तो एक साथ दी गई तीन तलाक को तीन ही मानने की ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल़ लॉ बोर्ड की ज़िद शर्मनाक है. इसका कोई ठोस आधार नहीं है.

(नोट- उपरोक्त दिए गए विचार व आकड़ें लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं. ये जरूरी नहीं कि एबीपी न्यूज ग्रुप सहमत हो. इस लेख से जुड़े सभी दावे या आपत्ति के लिए सिर्फ लेखक ही जिम्मेदार है.)

ALL BLOG POST

BLOG: एनडीए सरकार के तीन साल, मोदी जी का जलवा तो बरकरार है लेकिन...
BLOG: एनडीए सरकार के तीन साल, मोदी जी का जलवा तो बरकरार है लेकिन...

पीएम नरेंद्र मोदी को भारतीय राजनीति का शोमैन, सपनों का सौदागर या बैगपाइपर बाबा कहा जाए तो…

Tags: BJP blog Narendra Modi NDA three years of Modi government vijayshankar chaturvedi

BLOG: मदरहुड को सेफ बनाएं, गॉड गिफ्टेड नहीं
BLOG: मदरहुड को सेफ बनाएं, गॉड गिफ्टेड नहीं

देश तरक्की कर रहा है. पीछे खबर आई है कि पुणे में 21 साल की एक लड़की…

Tags: ABP News blog hindi news India Latest Hindi news Masha motherhood news in hindi Uterus Transplant

BLOG: तीन साल, मोदी त्रिशूल...नीति, वादे और व्यक्तित्व
BLOG: तीन साल, मोदी त्रिशूल...नीति, वादे और व्यक्तित्व

असीम अपेक्षाएं. बेतरतीब समस्याएं. वादों की लंबी लाइन. उनमें ज्यादातर पूरे नहीं. इतना ही नहीं सभी दावे…

Tags: ABP News BJP blog hindi news Latest Hindi news Modi Government Narendra Modi news in hindi PM Modi Rajkishor three years of Modi government

ब्लॉग: तुम्हारी अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता हमारी वाली से बड़ी कैसे?
ब्लॉग: तुम्हारी अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता हमारी वाली से बड़ी कैसे?

संविधान में दी गई अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का इस बार भाजपा सांसद और लोकप्रिय अभिनेता परेश रावल…

Tags: blog Freedom Of Speech Paresh Rawal shehla rashid vijayshankar chaturvedi

मोदी सरकार के तीन साल, नहीं सुलझा बेरोजगारी का सवाल
मोदी सरकार के तीन साल, नहीं सुलझा बेरोजगारी का सवाल

मोदी सरकार अपने तीन साल पूरे होने का जश्न मना रही है. केंद्र की तरफ से इस मौके पर…

Tags: employment Narendra Modi PM Modi

 बड़े बड़े स्टार तो फेल हो गए फिर किसने बनाया मुंबई को चैंपियन?
बड़े बड़े स्टार तो फेल हो गए फिर किसने बनाया मुंबई को चैंपियन?

वरिष्ठ खेल पत्रकार, शिवेंद्र कुमार सिंह आईपीएल में सितारों से सजी टीमों में इस सीजन की चैंपियन…

Tags: Hardik Pandaya IPL 10 IPL 2017 jaspreet bumrah Karn Sharma Krunal Pandya mumbai indians top players young players

BLOG: सिर्फ चार ओवर में कैसे बदल गया चालीस ओवर का खेल?
BLOG: सिर्फ चार ओवर में कैसे बदल गया चालीस ओवर का खेल?

हैदराबाद के राजीव गांधी स्टेडियम में मुंबई इंडियंस ने बेहद रोमांचक मुकाबले में पुणे सुपरजाएंट को हराकर आईपीएल-10 का…

Tags: IPL IPL10 IPL2017 Jasprit Bumrah lasith malinga mitchell johnson MS Dhoni ROHIT SHARMA Steve Smith

तीन तलाक: उलेमा की नजर में सज़ा और जुर्माने से लगेगी लगाम!
तीन तलाक: उलेमा की नजर में सज़ा और जुर्माने से लगेगी लगाम!

इन दिनों तीन तलाक का मुद्दा मस्जिदों, मदरसों और पाठशालाओं की परिधि से बाहर निकलकर राष्ट्रीय स्तर…

Tags: AIMPLB blog Khursheed Alam Triple Talaq

BLOG: लड़के पढ़ेंगे लिखेंगे तो बनेंगे नवाब लेकिन लड़कियां हो जाएंगी खराब! कब सुधरेंगे हम?
BLOG: लड़के पढ़ेंगे लिखेंगे तो बनेंगे नवाब लेकिन लड़कियां हो जाएंगी खराब! कब सुधरेंगे हम?

हमारी बच्चियां जीत गई हैं. हरियाणा के रेवाड़ी में 80 लड़कियों की भूख हड़ताल खत्म हो गई…

Tags: blog Girls Education India Masha survey

BLOG: मुंबई के खिलाफ कहां-कहां चूक गए गौतम गंभीर
BLOG: मुंबई के खिलाफ कहां-कहां चूक गए गौतम गंभीर

दो बार की आईपीएल चैंपियन कोलकाता नाइटराइडर्स की टीम दूसरे क्वालीफायर में मुंबई इंडियंस के खिलाफ एक…

Tags: gautam gambhir IPL IPL 2017 kolkata knight riders mumbai indians ROHIT SHARMA

BLOG: क्या आज मैदान में लौटेगा सन ऑफ सरदार ?
BLOG: क्या आज मैदान में लौटेगा सन ऑफ सरदार ?

बैंगलोर के चिन्नास्वामी स्टेडियम में आज कोलकाता नाइट राइडर्स और मुंबई इंडियंस की टीमें आमने सामने होंगी….

Tags: Harbhajan singh IPL IPL10 IPL2017 kolkata knight riders mumbai indians

BLOG: फाइनल से पहले ही देखने को मिलेगी चैंपियंस की लड़ाई
BLOG: फाइनल से पहले ही देखने को मिलेगी चैंपियंस की लड़ाई

शुक्रवार को आईपीएल का दूसरा क्वालीफायर खेला जाना है. बैंगलोर के चिन्नास्वामी स्टेडियम में मुंबई इंडियंस और कोलकाता नाइट…

Tags: gautam gambhir IPL IPL2017 kkr MI play off ROHIT SHARMA

BLOG: जिसकी बॉलिंग इतनी ‘सुंदर’ वो कितना सुंदर होगा!!!
BLOG: जिसकी बॉलिंग इतनी ‘सुंदर’ वो कितना सुंदर होगा!!!

2013 का साल था. 13 साल के एक लड़के को तमिलनाडु क्रिकेट एसोसिएशन की तरफ से ‘बेस्ट स्कूल क्रिकेटर’…

Tags: IPL IPL10 IPL2017 RPS Washington Sundar

Blog: यात्रा करने मात्र से नर्मदा सदानीरा नहीं होनेवाली!
Blog: यात्रा करने मात्र से नर्मदा सदानीरा नहीं होनेवाली!

जब किसी भारतवासी को पाप धोने होते हैं तो वह पवित्र नदियों की तरफ भागता है. इसी तर्ज़ पर…

Tags: Narendra Modi Narmada River shivraj singh chouhan

BLOG : तीन तलाक के सहारे कहीं और है मोदी सरकार का निशाना!
BLOG : तीन तलाक के सहारे कहीं और है मोदी सरकार का निशाना!

तीन तलाक के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट में लगातार चल रही सुनवाई अचानक भटकती नजर आने लगी…

Tags: Modi Government Muslims Narendra Modi government Triple Talaq

देर से ही सही दुरुस्त आया विराट कोहली का ‘गब्बर’
देर से ही सही दुरुस्त आया विराट कोहली का ‘गब्बर’

देर से ही सही लेकिन विराट कोहली का ‘गब्बर’ दुरूस्त वापस आ गया है. गब्बर को उसका इनाम भी…

Tags: champions trophy 2017 shikhar dhawan Team India Virat Kohli

BLOG: किन खिलाड़ियों के लिए अब बंद हो गए हैं टीम इंडिया के दरवाजे?
BLOG: किन खिलाड़ियों के लिए अब बंद हो गए हैं टीम इंडिया के दरवाजे?

गौतम गंभीर और हरभजन सिंह. इन दो खिलाड़ियों के लिए अब टीम इंडिया के दरवाजे बंद हो गए हैं….

Tags: champions trophy gautam gambhir Harbhajan singh IPL Team India Virat Kohli

BLOG: बैंगलोर का जो हाल हुआ वो तो ठीक है लेकिन विराट को क्या हो गया है?
BLOG: बैंगलोर का जो हाल हुआ वो तो ठीक है लेकिन विराट को क्या हो गया है?

एक आम भारतीय क्रिकेट प्रेमी की फिक्र इस वक्त यही है. बैंगलोर के टूर्नामेंट से बाहर होने और लगातार…

Tags: IPL IPL10 IPL2017 RCB Team India Virat Kohli

BLOG: ऋषभ पंत को स्टार बनाने से पहले जरूर याद करें कुछ और खिलाड़ियों का बीता कल
BLOG: ऋषभ पंत को स्टार बनाने से पहले जरूर याद करें कुछ और खिलाड़ियों का बीता कल

मुंबई के ख़िलाफ़ शनिवार के मैच में बग़ैर खाता खोले आउट होने से पहले एक करिश्माई पारी की बदौलत…

Tags: Delhi Dardevils delhi daredevils IPL IPL 2017 IPL10 IPL2017 mumbai indians Rishabh Pant

मर्द पीटता है...फिर माफी मांगता है, बेडरूम की बात ड्राइंगरूम तक भी नहीं पहुंच पाती?
मर्द पीटता है...फिर माफी मांगता है, बेडरूम की बात ड्राइंगरूम तक भी नहीं पहुंच पाती?

काश नेहा रस्तोगी मध्य प्रदेश के सागर में 2017 की अक्षय तृतीया के दिन ब्याही जाती तो…

Tags: blog domestic violence India Masha Women

View More

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017