लाल बत्ती हटाने का फैसला : नेतागीरी करना अब नहीं रहा आसान!

Thursday, 20 April 2017 7:56 PM | Comments (0)
लाल बत्ती हटाने का फैसला : नेतागीरी करना अब नहीं रहा आसान!

विजय विद्रोही

कार्यकारी संपादक, एबीपी न्यूज़

नई दिल्ली : मंत्री अब लाल बत्ती की गाड़ी का इस्तेमाल नहीं कर सकेंगे. मंत्री क्या, प्रधानमंत्री से लेकर राष्ट्रपति और मुख्यमंत्री तक को बिना लाल बत्ती की गाड़ी में ही सफर करना पड़ेगा. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की इस नई पहल का देश भर में चौतरफा स्वागत हो रहा है. अब गाड़ी से लाल बत्ती उतरने से न तो मंहगाई दर कम होने वाली है और न ही बेरोजगारों को रोजगार मिलने वाला है. लेकिन लोग खुश हैं.

सोशल मीडिया पर इस खुशी को बांटते बंटते देखा जा सकता है. वैसे लाल बत्ती की गाड़ी से रौब डालने में सरकारी अफसर सबसे आगे रहते हैं. लेकिन लोगों को गुस्सा नेताजी की गाड़ी पर लाल बत्ती देख कर ऐसे भड़कता है जैसे सांड लाल कपड़े को देखकर भड़कता है. मोदीजी ने पहली बार नेताओं के सुविधाओं के पर नहीं कतरे हैं. वह दसियों बार कह चुके हैं कि नेताओं को अपना काम पूरी ईमानदारी के साथ करना चाहिए, फाइलों को जल्दी निपटाना चाहिए, काम में पूरी पारदर्शिता होनी चाहिए और अपने इलाके का दौरा लगातार करते रहना चाहिए.

मोदी जी कह चुके हैं कि न खाउंगा, न खाने दूंगा. मोदी जी दावा करते हैं कि उन्होंने कभी एक दिन की भी छुटटी नहीं ली. मोदी जी रातदिन काम में जुटे रहते हैं. मोदी जी सांसदों को भी आगाह कर चुके हैं कि सत्र चलने के दौरान पूरे समय सदन में बैठना है. वह चेतावनी दे चुके हैं कि किसी भी सांसद से किसी भी समय पूछ सकते हैं कि सदन में क्या चल रहा है, किस विषय पर बहस हो रही है और उसमें सांसद महोदय का क्या योगदान रहा है.

यह सब बताने का मतलब यही है कि देश में राजनीति बदल बदल रही है. देश में नई तरह की राजनीति हो रही है. अब तक माना जाता रहा है कि चुनाव जीतने के बाद मंत्री पद की शपथ के साथ ही नेताजी आराम फरमाने लगते हैं. घर पर जब भी फोन करो तो यही जवाब मिलता है कि मंत्रीजी बाथरुम में हैं. हूटर बजाती लाल बत्ती की गाड़ी के आगे पुलिस की जीप. चौराहे पर खड़ी जनता.

चुनावी सभा हो या मंत्रालय की बैठक हो या फिर जनता दरबार…हर जगह देर से पहुंचना. मंत्रीजी खाते हुए, मंत्रीजी सुस्ताते हुए, मंत्रीजी डपटते हुए, मंत्रीजी विदेश दौरे से आते हुए या जाते हुए. मंत्रीजी के साथ चमचों का घेरा. ऐसे द्श्य कभी आम हुआ करते थे. लेकिन अब मंत्रीजी को सुबह समय पर दफ्तर आना है, शाम देर तक बैठना है, फाइलों को अटकाना नहीं है, इलाके का दौरा करते रहना है और लोगों की सेवा करनी है. यानि कुल मिलाकर नेतागीरी करना अब तफरीह का काम नहीं रहा है. अब पांच साल की नौकरी है विधायक या सांसद या मंत्री या मुख्यमंत्री या प्रधानमंत्री बनना.
parliament
वैसे इसमें गलत भी क्या है. आम आदमी को हमेशा से लगता रहा है कि मंत्री सांसद विधायक मौज करते हैं. उन्हे मुफ्त में घर मिलता है, बिजली पानी भी मुफ्त, गाड़ी घोड़े मुफ्त, टेलीफोन का बिल भी नहीं चुकाना पड़ता है. ट्रेन में फ्री, बस में फ्री, हवाई जहाज में फ्री. आम आदमी को हमेशा लगता रहा है कि बात बात में संसद और विधानसभा में हंगामा करने वाले एक ही बात पर सहमत होते हैं. तब जब खुद की तनख्वाह और भत्ते बढ़ाने होते हैं.

आम नौकरीपेशा आदमी को यही लगता है कि उसकी महेनत की कमाई इनकम टैक्स के रुप में लूट लेती है सरकार जिसे वह फिर नेताओं पर लुटा देती है. मोदी जी इस गुस्से को समझ रहे हैं. वैसे तो कहा जा रहा है कि लाल बत्ती हटाने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने कहा था और जब कोर्ट ने फटकार पिलाई तो मोदी सरकार ने ताबड़तोड़ अंदाज में इसे लागू कर दिया हालांकि उसे फैसले पर अमल करना ही था. खैर, इस बहस को छोड़ दिया जाए तो कहा जा सकता है कि मोदी जी समझ रहे हैं कि आम जनता का दिल किस तरह से जीता जा सकता है. अगर उसे मंहगाई, बेरोजगारी से राहत नहीं दे सकते तो अपनी ही जमात ( राजनीतिक दल और नेता ) पर शिकंजा कस दो ताकि आम आदमी इसी से खुश हो जाए.

नेतागीरी पर खर्चे कम करने की नकेलें कसी जा रही हैं. विदेशी दौरे भी कम होते जा रहे हैं. सूचना के अधिकार ने मंत्रियों के हाथ बांध दिये हैं. रही सही कसर अदालतें और चुनाव आयोग पूरा कर रहा है. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद ही दो साल या उससे ज्यादा की सजा पाने वाले नेता छह साल के लिए चुनाव नहीं लड़ सकते. चुनाव आयोग की सख्ती है कि नेताओं को चुनाव का पर्ची भरते समय संपत्ति का ब्यौरा देना पड़ता है और किसी खाने को वह खाली नहीं छोड़ सकते. चुनाव आयोग के कहने पर ही अब राजनीतिक दल दो हजार रुपये से ज्यादा का चंदा बिना रसीद काटे नहीं ले सकते. सुप्रीम कोर्ट समय समय पर सरकारों के रवैये पर सख्त टिप्पणियां करता रहता है.

लेकिन लोकपाल नियुक्त नहीं हो पा रहा है. सूचना के अधिकार को कमजोर किया जा रहा है. संस्थानों पर अनावश्यक दबाव डाला जा रहा है. स्वयंसेवी संगठनों पर शर्ते लादी जा रही हैं. ऐसा करने से राजनीतिक शक्तियों और अंतत नेताओं को ही फायदा मिलता है. आम आदमी की ताकत और ज्यादा कमजोर होती है. क्या इस तरफ भी कोई ध्यान देगा…

(नोट- उपरोक्त दिए गए विचार व आकड़ें लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं. ये जरूरी नहीं कि एबीपी न्यूज ग्रुप सहमत हो. इस लेख से जुड़े सभी दावे या आपत्ति के लिए सिर्फ लेखक ही जिम्मेदार है)

ALL BLOG POST

BLOG : नाम, अगर पति का हो, तो उसमें बहुत कुछ रखा है
BLOG : नाम, अगर पति का हो, तो उसमें बहुत कुछ रखा है

माशा

Monday, 26 June 2017

नाम में क्या रखा है- चच्चा शेक्सपीयर कह गए तो भी क्या.. क्योंकि इसी नाम के फेर…

Tags: blog husband name

BLOG : यूएसए के बदले माहौल में पीएम मोदी की यात्रा क्या गुल खिलाएगी?
BLOG : यूएसए के बदले माहौल में पीएम मोदी की यात्रा क्या गुल खिलाएगी?

पीएम नरेंद्र मोदी की यूएसए यात्रा अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के भारत के प्रति बदले हुए रुख…

Tags: Narendra Modi donald trump USA-India USA India

जम्मू-कश्मीर पुलिस के हौसले देखकर खौफ खा रहे हैं आतंकी!
जम्मू-कश्मीर पुलिस के हौसले देखकर खौफ खा रहे हैं आतंकी!

कल आधी रात श्रीनगर में एक दिलदहलाने वाली घटना घटी. नौहट्टा इलाके में जामा मस्जिद के बाहर एक DSP…

Tags: Jammu and Kashmir Police DSP Ayub Pandith lynched

अनिल कुंबले के इस्तीफे को लेकर विराट कोहली को खुला खत
अनिल कुंबले के इस्तीफे को लेकर विराट कोहली को खुला खत

”मैं क्रिकेट संचालन समिति की तरफ से मुख्य कोच की जिम्मेदारी पर बने रहने के प्रस्ताव से सम्मानित महसूस…

Tags: Virat Kohli Team India anil kumble coach indian cricket team BCCI

BLOG: कौन था वो खिलाड़ी जिसके हाथ को ‘रेजर’ से पहुंचाई गई थी चोट?
BLOG: कौन था वो खिलाड़ी जिसके हाथ को ‘रेजर’ से पहुंचाई गई थी चोट?

बतौर खेल पत्रकार मैंने पाकिस्तान के चार दौरे किए. इन दौरों की तमाम यादें ताजा हैं. भारत…

Tags: hanif mohammad arazor hurt pakistani cricketer shivendra kumar singh shivendra kumar singh blog

...जब सड़कों पर बिखरी थी लाशें, इंसानियत हुई जमींदोज़
...जब सड़कों पर बिखरी थी लाशें, इंसानियत हुई जमींदोज़

अनहोनी की खबर सबसे पहले पशु पक्षियों को होती है. अचानक आसमान में चिड़ियों की चीख और…

Tags: 1993 Mumbai serial blast Tada Court Abu Salem Abdul Qayyum Mustafa Dossa Firoz Abdul Rashid Khan Tahir Mechant Riaz Siddiqui Blast memories witness account

INDvsPAK: 13 मार्च 2004 की तारीख का इतिहास
INDvsPAK: 13 मार्च 2004 की तारीख का इतिहास

13 मार्च 2004 को कराची का नेशनल स्टेडियम खचाखच भरा हुआ था. प्रेस बॉक्स में भी सीटें भरी हुई…

Tags: Team India pakistan cricket team sourav ganguly Inzamam Ul Haq ICC Champions Trophy

कोच को लेकर क्यों साफ नहीं है बीसीसीआई की सोच?
कोच को लेकर क्यों साफ नहीं है बीसीसीआई की सोच?

आखिरकार तमाम हो हल्ले के बाद बीसीसीआई ने साफ किया कि वेस्टइंडीज के दौरे तक अनिल कुंबले…

Tags: anil kumnle indian cricket coach BCCI Virender Sehwag Sachin Tendulkar sourav ganduly vvs Laxaman

उपवास का उपविश: मत चूको चौहान...
उपवास का उपविश: मत चूको चौहान...

मुख्यमंत्री का अनिश्चितकालीन उपवास खत्म हो गया है. चौबीस घंटे के अंदर ही उनकी अंतरात्मा ने कह…

Tags: Mandsaur Violence Madhya Pradesh government One Member Committee farmers MP government madhya pradesh onion hindi news Latest Hindi news news in hindi ABP News Shakuntla khateek

बीयर बार्स में हम सेफ नहीं तो फिर हम आखिर सेफ कहां हैं
बीयर बार्स में हम सेफ नहीं तो फिर हम आखिर सेफ कहां हैं

माशा

Tuesday, 13 June 2017

बदलाव की ठंडी हवा चल रही है, तो थोथे रिवाजों के गुम मौसम में कुछ भला सा लग रहा…

Tags: Kerala Kerala beer bars opening Masha's blog on the opening of beer bars in Kerala dance bars

क्या गुजरात कांग्रेस में असंतोष की आग दिसंबर की चुनावी गर्मी से पहले बुझेगी?
क्या गुजरात कांग्रेस में असंतोष की आग दिसंबर की चुनावी गर्मी से पहले बुझेगी?

गुजरात विधानसभा की 182 सीटों के लिए चुनाव होने में अब मुश्किल से 6 महीने का ही वक्त बचा…

Tags: gujrat congress

BLOG: किसानों की कर्ज माफी समस्या का समाधान नहीं
BLOG: किसानों की कर्ज माफी समस्या का समाधान नहीं

मध्य प्रदेश औऱ महाराष्ट्र में किसान आंदोलन का एक और दिन निकल गया. किसान आंदोलन पर हैं…

'किसान पुत्र' शिवराज बताएं आखिर किसान क्या करें जो उसे जान न गंवानी पड़े
'किसान पुत्र' शिवराज बताएं आखिर किसान क्या करें जो उसे जान न गंवानी पड़े

“उत्तम खेती मध्यम बाम। निषिद चाकरी भीख निदान।। कवि घाघ ने अपनी इन पंक्तियों में कृषि की महिमा का…

Tags: blog farmers Shot Dead Madhya Pradesh police Agriculture

बिहार का फर्जी टॉपर्स को लेकर मज़ाक़ मत उड़ाओ, पढ़ने, कुछ बनने का है जुनून यहां
बिहार का फर्जी टॉपर्स को लेकर मज़ाक़ मत उड़ाओ, पढ़ने, कुछ बनने का है जुनून यहां

बिहार के ‘टॉपर्स’ का खूब मजाक उड़ाया जा रहा है. सोशल मीडिया और मेन स्ट्रीम मीडिया तक…

View More

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017