BLOG: बदले-बदले सरकार नजर आते हैं

Monday, 9 October 2017 4:10 PM | Comments (0)
BLOG: बदले-बदले सरकार नजर आते हैं

बड़ी जंग जीतने के लिए कई बार पीछे भी हटना पड़ता है और मोर्चा भी बदलना पड़ता है. पिछले दस दिनों में मोदी सरकार के दो बड़े फैसले संकेत दे रहे हैं कि बड़ी जंग जीतने की तैयारी हो रही है. पेट्रोल डीजल पर दो रुपये की छूट पहला फैसला था और जीएसटी में छोटे व्यपारियों को राहत देना दूसरा फैसला है. सबसे बड़ी बात है कि पेट्रोल के भाव पर कुछ दिन पहले ही मोदी सरकार के ही एक मंत्री ने देश की जनता को ज्ञान दिया था कि विकास के लिए पैसे का जुगाड़ किस तरह किया जाता है और कैसे पेट्रोल की बढ़ी कीमत को सहन कर सकने वाले भी बेकार का रोना रो रहे हैं. लेकिन इसके तत्काल बाद ही सरकार ने घोषणा कर दी. जीएसटी से कपड़ा व्यापारी दुखी थे. मोदी सरकार के अफसर से लेकर मंत्री तक यही कह रहे थे कि टैक्स के दायरे में पहली बार आने के कारण रोना रोया जा रहा है, लेकिन अब जीएसटी में राहत देकर सरकार ने टैक्स के दायरे से बचने वालों के आंसु पोंछने की कोशिश की है. ऐसा मोदी शासन में होता नहीं था. पिछले तीन सालों में ऐसा होना सुना देखा नहीं था. इससे भी बड़ा बदलाव मोदी सरकार ने अपने ही फैसले को उलट कर किया है. आर्थिक सलाहकार परिषद को मोदी ने खत्म कर दिया था, लेकिन अब इसका गठन किया गया है. यह बात हालांकि समझ के परे हैं कि नीति आयोग के ही एक सदस्य को परिषद की कमान क्यों सौंप दी गई?.

कुछ पर्यवेक्षकों का कहना है कि बीजेपी और मोदी हमेशा चुनाव जीतने की फिराक में ही रहते हैं, लिहाजा ताज़ा फैसले गुजरात और हिमाचल प्रदेश के विधानसभा चुनाव के संदर्भ में ही देखे जाने चाहिए. यह बात एक हद तक सही हो सकती है लेकिन मोदी तो जोखिम लेने के लिए जाने जाते हैं. उत्तर प्रदेश का चुनाव याद कीजिए. मतदान शुरु होने से कुछ दिन पहले ही घरेलु गैस सिलेंडर 76 रुपये मंहगा कर दिया गया था. यूपी जीतना मोदी और अमित शाह के लिए जन्म मरण का सवाल था, लेकिन उसके बावजूद सिलेंडर के दाम बढ़ा दिए गये थे. यूपी की तरह गुजरात जीतना भी मोदी और अमित शाह के लिए बहुत जरुरी है लेकिन यहां जीएसटी से खाखरा को अलग करने का फैसला मोदी सरकार ने कर लिया. जिन 27 चीजों पर से जीएसटी कम किया गया है, उनमें से सात का सीधा रिश्ता गुजरात से जुड़ता है. जाहिर है कि आर्थिक मोर्चे पर सरकार की नाकामी पर कभी अपने रहे बीजेपी नेता यशवंत सिन्हा और अरुण शौरी के लेख भारी पड़े हैं. शल्य से लेकर भीष्म पितामाह से लेकर दुशासन दुर्योधन जैसी उपमाओं और तुलनाओं से बात आगे बढ़ चुकी है. यह बात मोदी समझ गये हैं. जिस दिन रिजर्व बैंक आर्थिक हालात की गमगीन तस्वीर पेश करता है उसी दिन मोदी एक सम्मेलन में आंकड़ों के साथ पहुंचते और तालियां बजवाने में भी कामयाब हो जाते हैं लेकिन वह खुद जानते हैं कि आंकड़ों से न नौकरी मिलती है और न ही पेट भरता है. जब मनमोहनसिंह सरकार के समय विकास दर आठ पार कर गयी थी तब विपक्ष में बैठी बीजेपी ही कहा करती थी कि आंकड़ों से पेट नहीं भरता. अब जब वह सत्ता में है तो कांग्रेस जैसे विपक्षी दलों के साथ साथ बीजेपी के ही दो नेता यही राग अलाप रहे हैं. यह राजनीति है. छवि बनाने और बिगाड़ने की राजनीति है. इस छवि के खेल को मोदी और शाह से ज्यादा और कौन बेहतर ढंग से समझ सकता है. लिहाजा ताबड़तोड़ अंदाज में सारी आलोचना का मुंह तोड़ जवाब देने का फैसला किया लगता है.

सवाल उठता है कि जो प्रधानमंत्री कड़वी दवा देने और कड़े फैसले लेने की बात करते रहे हों उन्हें एक दो बयानों के बाद क्या सीधे बैक फुट पर आ जाना चाहिए था. या कहीं ऐसा तो नहीं कि विजयदश्मी के मौके पर संघ प्रमुख मोहन भागवत के भाषण से वह परेशान हो गये हैं. भागवत ने अपने भाषण में रोजगार का जिक्र किया था, छोटे व्यपारियों की तकलीफों के तरफ ध्यान दिलाया था और कुल मिलाकर अंसतोष की बात कही थी. ऐसा लगता है कि मोदी संघ प्रमुख को अर्थशास्त्र समझा नहीं सकते थे और उनके चिंतन को हाशिए पर नहीं छोड़ सकते थे. या कहीं ऐसा तो नहीं कि मोदी भी समझ गये हैं कि जितने आर्थिक सुधार के काम होने थे वह हो लिए, अब चुनाव जीतने हैं और इसके लिए लोकप्रिय फैसले लेने ही होंगे. इस साल गुजरात में और हिमाचल में विधानसभा चुनाव है. अगले साल कर्नाटक और फिर राजस्थान, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ जैसे राज्य हैं. इस बीच कांग्रेस ने भी अपने तेवर बदले हैं. राहुल गांधी ने पहले विदेशों में जाकर मोदी सरकार पर तंज कसे और अब देश में घूम घूम कर मोदी सरकार पर रोजगार नहीं देने के गंभीर आरोप लगा रहे हैं. गुजरात में मंदिर-मंदिर जाने के बाद वह मोदी सरकार पर वार करते हैं. वहां बीजेपी से नाराज पाटीदारों के नेता हार्दिक पटेल उनका स्वागत करते हैं. खफा दलित समाज के नेता जिग्नेश से भी कांग्रेस चुनावी तालमेल करने की तरफ बढ़ रही है. कुछ अन्य छोटे दल भी कांग्रेस के साथ आने का संकेत दे रहे हैं. तो क्या गुजरात में 150 प्लस सीटें जीतने का लक्ष्य सामने रखने वाले अमित शाह को अपने ही दावे पर शंका होने लगी है?

विदेशी एजेंसियां जीएसटी की तारीफ कर रही हैं. विदेशी सरकारों के नुमाइंदे कह रहे हैं कि भारत में भले ही विकास दर के 5.7 फीसद होने पर बवेला मचा हो लेकिन वह इसे बहुत गंभीरता से नहीं लेते. उन्हे लगता है कि भारत की अर्थव्यवस्था मजबूत है और जीएसटी के शुरुआती झटके सहने के बाद स्थिति काबू में आ जाएगी. मोदी सरकार के मंत्री,  मोदी खुद और पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह भी यही कुछ कह रहे हैं. लेकिन क्या वजह है कि उन्हें लगता है कि जनता उनके तर्कों से सहमत नहीं है. आत्मविश्वास में यह कमी क्यों देखी जा रही है. ऐसा पहले कभी नहीं हुआ. पिछले तीन सालों में दे ने देखा है कि किस तरह से मोदी सरकार ने विपक्ष के हर वार पर पलटवार कर उसे चित्त किया है. इस बार ऐसा क्यों हुआ कि राहुल गांधी के विदेशी दौरों पर दिये बयानों का जवाब देने के लिए मोदी सरकार के मंत्रियों को उतरना पड़ा. राहुल के बयानों पर प्रतिक्रिया लायक क्यों माना गया. इसकी वजह यही है कि राहुल गांधी ने कांग्रेस की हार के कारण स्वीकारे. राजनीति में अपनी गलती स्वीकार लेना खुद को जनता की नजर में माफी दिलवाना होता है. राहुल का कहना कि यूपीए सरकार घंमड के कारण हारी, रोजगार नहीं दे पाई इसलिए हारी. उसके बाद राहुल कहते हैं कि कांग्रेस रोजगार नहीं दे सकी तो लोगों ने मोदी को रोजगार के लिए चुना और अब अगर वह भी नहीं दे पा रहे हैं तो जनता उनका भी वही हश्र करेगी जो कांग्रेस का किया था. यह एक ऐसा बयान है जो सीधा सपाट होते हुए भी राजनीति की उलटबांसियों से युक्त था.

रोजगार का मतलब नौकरी होता है. सरकारी नौकरी होता है. बीजेपी ने भी अपने चुनाव अभियान में नौकरियां देने का वायदा किया था. हर साल एक करोड़ नौकरियां, लेकिन अब वही बीजेपी कह रही है कि उसने रोजगार के मौके प्रदान करने की बात कही थी और यह काम मुद्रा और अन्य योजनाओं के जरिए हो रहा है. लेकिन उसका यह तर्क शायद जनता के गले नहीं उतर रहा है या यूं कहा जाए कि बीजेपी नेताओं को ही लग रहा है कि यह तर्क काम नहीं कर रहा है. इस सबके बावजूद विपक्ष बिघरा है, राहुल गांधी की नेतृत्व क्षमता सवालों के घेरे में है, कांग्रेस के पास विकल्प का अभाव है और आम वोटर का मोदी में विश्वास कम नहीं हुआ है. (हालांकि यही बात बीजेपी की राज्य सरकारों के बारे में नहीं कही जा सकती). गरीबी रेखा से नीचे वालों को गैस कनेक्शन देने की उज्जवला योजना हो या बिजली से वंचित घरों तक उजाला फैलाने की सौभाग्य योजना, मोदी अपने नये वोट बैंक का निर्माण कर रहे हैं और उसका लगातार विस्तार भी कर रहे हैं. इसका तोड़ अभी तक विपक्ष नहीं निकाल सका है. लेकिन फिर वही सवाल उठता है कि जब चुनावी मोर्चे पर वोटों का गणित पक्ष में है तो फिर कड़े आर्थिक सुधारों से परहेज क्यों किया जा रहा है. सोशल मीडिया के कमेंट पढ़ कर देश को नहीं चलाया जा सकता न ही चलाया जाना चाहिए.

(नोट- उपरोक्त दिए गए विचार और आंकड़े लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं. ये जरूरी नहीं कि एबीपी न्यूज़ ग्रुप सहमत हो. इस लेख से जुड़े सभी दावे या आपत्ति के लिए सिर्फ लेखक ही जिम्मेदार है.)

ALL BLOG POST

BLOG: बदले-बदले सरकार नजर आते हैं
BLOG: बदले-बदले सरकार नजर आते हैं

बड़ी जंग जीतने के लिए कई बार पीछे भी हटना पड़ता है और मोर्चा भी बदलना पड़ता…

Tags: Narendra Modi Arun Jaitley GST Gujarat Elections Himachal Pradesh Elections blog

मैदान की गलतियों को तुरंत सुधारना सीख गई है टीम इंडिया
मैदान की गलतियों को तुरंत सुधारना सीख गई है टीम इंडिया

दुनिया की बड़ी से बड़ी टीम मैदान में गलतियां करती है. बड़े से बड़े खिलाड़ी भी चूक जाते हैं….

Tags: Team India australian cricket team 1st T20 RANCHI Virat Kohli

क्यों अपने घरेलू मैदान में हो सकता है धोनी का ये आखिरी मैच?
क्यों अपने घरेलू मैदान में हो सकता है धोनी का ये आखिरी मैच?

नई दिल्ली: आज के दिन रांची में कुछ लोग भावुक होंगे. आज रांची के मैदान में उस खिलाड़ी का…

Tags: Team India australian cricket team MS Dhoni RANCHI

BLOG: ये ज्वलंत सवाल बता रहे हैं कि दाल में काला है?
BLOG: ये ज्वलंत सवाल बता रहे हैं कि दाल में काला है?

एक बार फिर मूंग दाल की नई फसल बाजार में है. इसके बाद उड़द और फिर तूर यानी अरहर…

Tags: Narendra Modi pulses Modi Government blog

BLOG: लड़कियों को लड़कियां होना हम बचपन से ही सिखाते हैं
BLOG: लड़कियों को लड़कियां होना हम बचपन से ही सिखाते हैं

लड़कियों का सम पर आना आसान नहीं. क्योंकि बचपन से ही उन्हें उनकी जगह दिखा दी जाती…

Tags: blog girls women empowerment family

आह! टॉम ऑल्टर नहीं रहे
आह! टॉम ऑल्टर नहीं रहे

नई दिल्ली: जैसे ही इस अदाकार की मौत की ख़ब़र आई, यकायक यादों की घड़ी की सुई टिक टिक…

Tags: Tom Alter

Blog: हर बार नो का मतलब नो ही होता है
Blog: हर बार नो का मतलब नो ही होता है

लड़कियां इसका बुरा मान रही हैं. लगातार विक्टिम ब्लेमिंग उन्हें परेशान कर रही है. वे कहीं कॉलेज…

Tags: blog Court Judgements Rape Cases

BLOG: सर्जिकल स्ट्राइक से चुनावी लाभ
BLOG: सर्जिकल स्ट्राइक से चुनावी लाभ

पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में सर्जिकल स्ट्राइक के एक साल बाद भी इसके नफा-नुकसान पर बहस जारी है….

Tags: blog Indian army Line Of Control Pakistan surgical strike politics Narendra Modi hindi news Hindi Samachar Samachar Latest Hindi news news in hindi ABP News

BLOG: लग ही नहीं रहा है कि ये ऑस्ट्रेलिया की टीम है
BLOG: लग ही नहीं रहा है कि ये ऑस्ट्रेलिया की टीम है

एक वक्त था जब शेन वॉर्न को छक्का मारिए तो वो क्रीज पर वापस आकर बल्लेबाज को घूर कर…

Tags: Team India australian cricket team David Warner odi series

महिला आरक्षण बिल: जीवन की 'टुच्चई' राजनीति में टांगें फैलाए डटी है!
महिला आरक्षण बिल: जीवन की 'टुच्चई' राजनीति में टांगें फैलाए डटी है!

बोतल से जिन्न बाहर निकलने को तैयार है. सोनिया गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखी हैं कि…

Tags: Women’s Reservation bill

BLOG: दो दशक पहले वाली ऑस्ट्रेलियाई टीम की तरह अब खेल रही ही टीम इंडिया
BLOG: दो दशक पहले वाली ऑस्ट्रेलियाई टीम की तरह अब खेल रही ही टीम इंडिया

90 के दशक के आखिरी कुछ साल और उसके बाद अगले दस साल तक के अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट को याद…

Tags: Team India australian cricket team

क्या विराट का नया कमाल है एक जैसे दो स्पिनर्स का जाल ?
क्या विराट का नया कमाल है एक जैसे दो स्पिनर्स का जाल ?

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले वनडे के समय विराट कोहली से एक दिलचस्प सवाल पूछा गया. इस सवाल…

Tags: Virat Kohli wrist spinners Kukdeep Yadav Yuzvendra Chahal Australia Team India

BLOG:  धोनी की तरह ही विराट कोहली को भी मिल गया है ‘सुपरमैन’
BLOG: धोनी की तरह ही विराट कोहली को भी मिल गया है ‘सुपरमैन’

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे सीरीज का आगाज बिल्कुल वैसे ही हुआ जैसा होना चाहिए था. क्या फर्क…

Tags: sivendra kumar singh blog Hardik Pandya Dhoni Virat Kohli Team India INDVSAUS

तो क्या 2019 विश्व कप में नहीं नजर आएगी वेस्टइंडीज की टीम?
तो क्या 2019 विश्व कप में नहीं नजर आएगी वेस्टइंडीज की टीम?

जिस टीम ने 1975 में ऑस्ट्रेलिया को हराकर विश्व कप का पहला खिताब जीता. जिस टीम ने…

Tags: West Indies ICC World Cup 2019 England and wales

ब्लॉग: नेहरू जैकेट या मोदी जैकेट? कुछ सवाल, कुछ उलझनें
ब्लॉग: नेहरू जैकेट या मोदी जैकेट? कुछ सवाल, कुछ उलझनें

जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे को कुर्ते पजामे और जवाहर जैकेट में देख कर हर भारतीय का मन खुश हो…

Tags: Jawaharlal Nehru Narendra Modi jacket Shinzo Abe

BLOG: बिना सोच बदले हम जापान की तरह प्रगति नहीं कर सकते!
BLOG: बिना सोच बदले हम जापान की तरह प्रगति नहीं कर सकते!

नई दिल्ली: जापान के पीएम शिजो आबे ने कहा कि एक वक्त हमारे पास खाली खेत और…

Tags: Japanese Prime Minister Shinzo Abe Prime Minister Narendra Modi ahmadabad India Japan

BLOG : औरत की देह पर हक किसका, उसका या समाज का?
BLOG : औरत की देह पर हक किसका, उसका या समाज का?

माशा

Monday, 11 September 2017

मुंबई में 13 साल की रेप विक्टिम ने एक बच्चे को जन्म दे दिया है. यह मामला तब चर्चा…

Tags: blog abortion senior journalist Masha Women supreme court

BLOG: क्या 13 अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टार्स करवा पाएंगे पाकिस्तान में क्रिकेट की वापसी?
BLOG: क्या 13 अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टार्स करवा पाएंगे पाकिस्तान में क्रिकेट की वापसी?

करीब 8 साल के लंबे इंतजार के बाद पाकिस्तान में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टार्स मैदान में उतरेंगे. मंगलवार…

Tags: shivendra kumar singh World XI Faf du Plessis Pakistan Pakistan cricket board Sarfaraz Ahmed blog

BLOG: एशियाई क्रिकेट के लिए अच्छी हो सकती है बांग्लादेश क्रिकेट की तरक्की, बशर्ते...
BLOG: एशियाई क्रिकेट के लिए अच्छी हो सकती है बांग्लादेश क्रिकेट की तरक्की, बशर्ते...

शीर्षक में बात जहां खत्म हुई है लेख में वहीं से बात शुरू की जानी चाहिए. इस बात में…

Tags: australian cricket team Bangladesh Cricket Team test series

BLOG: पैसा कमाएंगे तो लड़कों को सिर पर ज्यादा चढ़ाएंगे
BLOG: पैसा कमाएंगे तो लड़कों को सिर पर ज्यादा चढ़ाएंगे

माशा

Wednesday, 6 September 2017

लड़के हमारे दिमाग से, हमारी सोच से, हमारी गोद से कभी नहीं उतरते. हम पैसे कमाएं- ज्यादा…

Tags: blog Elite bourgeoisie class male boys girls female Woman Man Masha

BLOG: विराट कोहली क्यों बनाना चाहते हैं टीम इंडिया को ‘रहस्यलोक’
BLOG: विराट कोहली क्यों बनाना चाहते हैं टीम इंडिया को ‘रहस्यलोक’

श्रीलंका में वनडे सीरीज जीतने के बाद विराट कोहली ने एक बड़ी अहम बात कही. उन्होंने ये…

Tags: shivendra kumar singh blog Team India Virat Kohli World Cup world team BCCI Ravi Shastri MS Dhoni

BLOG: बच्चों की मौत पर राजनीति के बजाय समग्र स्वास्थ्य नीति बनाए योगी सरकार
BLOG: बच्चों की मौत पर राजनीति के बजाय समग्र स्वास्थ्य नीति बनाए योगी सरकार

उत्तर प्रदेश आजकल मासूम बच्चों की मौत को लेकर राष्ट्रीय मीडिया में लगातर सुर्खियों में है. राज्य…

Tags: UP government hospitals Health Policy Child Death yogi adityanath brd hospital Gorakhpur UP uttar pradesh health services private hospital

BLOG: निर्मला सीतारमण का रक्षा मंत्री बनना महिलाओं के लिए शुभ संकेत है और खुशखबरी भी
BLOG: निर्मला सीतारमण का रक्षा मंत्री बनना महिलाओं के लिए शुभ संकेत है और खुशखबरी भी

रशीद किदवई

Monday, 4 September 2017

नई दिल्ली : निर्मला सीतरमण का रक्षा मंत्री बनना देश के लिये गौरव की बात होने के…

Tags: blog new defence minister Nirmala Sitharaman Rasheed Kidwai

View More

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017