BLOG: ये ज्वलंत सवाल बता रहे हैं कि दाल में काला है?

Thursday, 5 October 2017 8:47 PM | Comments (0)
BLOG: ये ज्वलंत सवाल बता रहे हैं कि दाल में काला है?

एक बार फिर मूंग दाल की नई फसल बाजार में है. इसके बाद उड़द और फिर तूर यानी अरहर बाजार में आने वाली है. एक बार फिर किसान को उसकी उपज के उचित दाम नहीं मिल रहे हैं. एक बार फिर सरकारी खरीद में देरी हुई है. एक बार फिर उत्पादन कम हुआ है. एक बार फिर दालों के दाम में तेजी आने के आसार हैं. कुल मिलाकर दाल में जरुर कुछ काला है. सवाल उठता है कि जब उत्पादन कम हुआ है तो फिर क्यों दाल के निर्यात को मंजूरी दी गयी जिसपर पिछले दस सालों से रोक लगा रखी थी. सवाल उठता है कि चने को वायदा कारोबार में अचानक ही क्यों शामिल कर लिया गया जब वह न्यूनतम समर्थन मूल्य से ज्यादा भाव किसानों को दे रहा था. सवाल उठता है कि भारत सरकार अगर मोजाम्बिक और तंजानिया के किसानों से निश्चित मात्रा में और तय दर पर अनाज खरीदने का समझौता कर सकती है तो ऐसा ही समझौता भारत के दाल उगाने वाले किसानों के साथ क्यों नहीं कर सकती. सवाल दर्जनों है लेकिन जवाब नदारद हैं या फिर असंतोषजनक.

इन सवालों के जवाब तलाशते हुए हम पहुंचे राजस्थान के जयपुर जिले की फागी तहसील के गांव केरिया. वहां मूंग उगाई जाती है. एक बीघा में सौ किलो से लेकर दो सौ किलो और किसी साल तो तीन सौ किलो तक मूंग हो जाती है. गांव के किसान मूलाराम के घर मूंग का ढेर लगा था. उस ढेर पर बच्चों का खिलौना हवाई जहाज औंधा पड़ा था. मैंने उस हवाई जहाज को सीधा किया तो मूलाराम मुस्कराने लगा. कहने लगा कि इसे सीधा करने से हमारी उम्मीदें संभावनाओं के आसमान पर नहीं पहुंच जाएंगी. मूलाराम का दर्द जायज है. मूलाराम ने 25 पक्का बीघा में मूंग बोई थी. उन्हें पूरी उम्मीद थी कि कि 70 से 80 बोरी मूंग की पैदावार होगी लेकिन सात से आठ बोरी से ज्यादा मूंग पैदा नहीं हुई. जब बारिश की जरुरत थी तो पानी बरसा नहीं और जब मूंग पूरी तरह से पक गयी थी तो इतना पानी बरसा कि एक फुट के फलियों से लदे मूंग के पौधे पानी में पूरे डूब गये और फलियां काली पड़ गईं. दाना काला होकर सड़ गया. यही हाल जयनारायण गुर्जर का भी है जिन्होंने मूंग का खेत पशुओं की चराई के लिए छोड़ दिया है. गांव में हर तरफ मूंग के सूखे और कुम्हलाए हुए पौधे, सूखी फलियां, दाल के खेतों को चरते हुए पशु, काली पड़ चुकी फलियों से अंधकार में किसानों का भविष्य और काले भूरे दानों के ढेर ग्राहकों का इंतजार करते हुए दिख जाते हैं. फागी से लेकर किशनगढ़ और मेड़ता सिटी तक यही नजारा दिखता है जहां मूंग सबसे ज्यादा उगाई जाती है. अगर बारिश कहर न बरपाती तो जयनारायण के एक सिंचित बीघा खेत में सौ किलो से लेकर दो सौ किलो तक मूंग पैदा होती. प्रति बीघा चार हजार रुपये की लागत के साथ. अगर मूंग सरकारी दर पर यानि 5575 रुपये प्रति क्विंटल की दर से बिकती तो जयनारायण को प्रति बीघा 1575 रुपये का फायदा होता लेकिन यहां तो तस्वीर ही उल्टी है.

केरिया गांव में ही सीताराम के खेत पर मूंग की बची खुची फसल को सहेजने में लगी हैं हंसा और अन्य महिलाएं. सभी का कहना है कि कहां तो प्रति बीघा कम से कम सौ किलो मूंग पैदा होने की उम्मीद थी और कहां बीस किलो मूंग तक नसीब नहीं. सीताराम को 65 बीघा में 180 बोरी मूंग की उम्मीद थी लेकिन सिर्फ 15-20 बोरी ही हुई है. घर पर मूंग रखी हुई है भाव बढ़ने के इंतजार में. अभी मंडी में ढाई हजार से लेकर चार हजार तक के भाव ही मिल रहे हैं. सीताराम की तरह अन्य घरों में भी मूंग के ढेर मिल जाते हैं. सभी को भाव बढ़ने की उम्मीद है. लेकिन इस बार एक तरफ मूंग कम बोई गई है और दूसरी तरफ बारिश की बेवफाई के चलते उपज खराब हुई है. राजस्थान में खरीफ की एक मुख्य दलहनी फसल मूंग है. हम पहुंचे किशनगढ़ की मंडी में. इस बार भारत सरकार ने मूंग का न्यूनतम समर्थन मूल्य 5575 रुपये प्रति क्विंटल रखा है लेकिन छोटे किसानों को कम भाव पर मूंग बेचने को मजबूर होना पड़ रहा है. मंडी पहुंचे तो जगह जगह मूंग के छोटे बड़े ढेर देखने को मिले. आसपास कुछ व्यापारी खड़े हैं. एक आदमी मूंग के कुछ दाने हथेली में लेकर देखता है. व्यापारियों को दिखाता है और फिर शुरु होती है बोली. बोली तीन हजार से शुरु होती है और 3800 पहुंचते पहुंचते हांफने लगती है. नजदीक के गांव से आठ बोरी यानि आठ सौ किलो मूंग लेकर आए गोपाल की मूंग 3800 रुपये प्रति क्विंटल के भाव पर बिकती है. कहने लगे कि मजबूरी है बेचना. घर में चूल्हा जलाने के लिए पैसे चाहिए. खेत खाली पड़ा है, बारिश हो गयी तो चना बो दिया जायेगा, उसके लिए भी पैसे चाहिए. सरकारी खरीद अभी शुरु हुई नहीं है और हुई भी तो उनकी खराब हुई मूंग सरकारी बाबू खरीदेंगे नहीं.

यहीं मिले रघुवीर चौधरी, 10 बोरी मूंग के साथ. कहने लगे कि एक तरफ तो भाव नहीं मिल रहा है तो दूसरी तरफ सरकारी संस्था नेफेड ने अपना पिछले साल खरीदा हुआ मूंग बेचना शुरु कर दिया है. नेफेड ने फिछली खरीफ में 5100 रुपये प्रति क्विंटल के भाव से मूंग खरीदा था जिसे वह 4100 से 4400 के बीच बेच रही है. यह अच्छी क्वालिटी का मूंग है. ऐसे में व्यापारी क्यों भला किसान का मूंग खरीदेगा. किसानों का कहना है कि सरकार को अपना मूंग छह सात महीने बाद निकालना चाहिए था. हैरानी की बात है कि किसान को मूंग का भाव चालीस रुपए किलो से ज्यादा का नहीं मिल रहा है और खुदरा बाजार में मूंग के भाव 80 से 90 रुपये प्रति किलो के बीच हैं. इस बारे में केन्द्रीय खाद्य और उपभोक्ता मामलों के मंत्री रामविलास पासवान से पूछा गया तो उनका कहना था कि समय आने पर उचित फैसला लिया जाएगा. लेकिन दिल्ली के दाल व्यापारी मनीष सिंघल इसे दाल माफिया का खेल मानते हैं. उनका कहना है कि एसोचैम के अनुसार इस बार खरीफ में 10 लाख टन दलहन का उत्पादन कम होगा. भारत सरकार ने करीब छह लाख टन दलहन कम होने का अनुमान लगाया है. इस कमी को अभी से भुनाने में जमाखोर लग गये हैं. छोटा किसान अभी मजबूरी में सस्ते में मूंग बेच रहा है. इसे बड़े किसान या व्यापारी खरीद रहे हैं. जब एसएसपी पर सरकारी खरीद शुरु होगी तो यही मूंग सरकार को एमएसपी पर बेच कर यह वर्ग घर बैठे मुनाफा कमा लेगा.

मनीष सिंघल जिस खतरनाक स्थिति की तरफ इशारा कर रहे हैं वैसी हम 2015 में देख चुके हैं जब दाल के दाम खुदरा बाजार में 200 रुपये किलो पार कर गये थे. एक अध्ययन बताता है कि दो तीन साल में एक बार दाल के दाम बढ़ते हैं. हम 2006 से 2016 के बीच ऐसे चार चक्र देख चुके हैं लेकिन 2015 में जिस ढंग से दाल के दाम अप्रत्याशित रुप से बढ़े वह अपने आप में चौंकाने वाला था. 2014 के अंत में ही पता लग चुका था कि तूर यानि अरहर दाल की उपज बहुत कम होने वाली है. यह दाल जुलाई अगस्त में बोई जाती है और उपज जनवरी फरवरी में आती है. भारत में म्यांमार से तीस लाख टन के आसपास और अन्य अफ्रीकी देशों से तूर की दाल आयात की जाती है. कुछ बहुराष्ट्रीय कंपनियों ने वहां तूर की दाल खरीद कर उसकी जमाखोरी कर ली. इधर कुछ घरेलू कंपनियों ने देश में ऐसी ही जमाखोरी की और फिर शुरु हुआ पैसा कमाने का खेल. विदेशी बंदरगाहों पर गोदाम लेकर दाल की जमाखोरी की गयी और भारत में भाव बढ़ने पर जहाज रवाना किए गये. इसी तरह देशी बंदरगाहों पर भी कुछ ऐसा ही खेल हुआ. खाद्य और उपभोक्ता मामलों के मंत्री रामविलास पासवान ने तो खुद संसद में इस मामले को उठाया था. उनका कहना था कि विदेश के बंदरगाहों पर क्या होता है इस पर तो भारत सरकार कुछ नहीं कर सकती लेकिन देश के बंदरगाहों पर निश्चित समय और निश्चित मात्रा से ज्यादा दाल रखने पर सरकार ने रोक लगा दी है. तब इस मामले की इनकम टैक्स और ईडी ने भी जांच की थी और हवाला के माध्यम से पैसा बाहर भेजने तक के आरोप लगे थे. हैरानी की बात है कि दिसंबर 2015 में जो तूर 11 हजार रुपए क्विंटल बिक रही थी उसके दाम एक साल बाद यानि दिसंबर 2016 में 3800 से 4000 के बीच आ गये. यह एमएसपी से बीस फीसद कम थे. इससे साफ है कि दाल के दाम में बढ़ोतरी या कमी आना प्राकृतिक कारणों से नहीं होता है. इसके पीछे कुछ बहुराष्ट्रीय कंपनियों और कुछ घरेलु कंपनियों का आपसी षडयंत्र भी होता है.

देश में दाल की खपत दो करोड़ बीस लाख से लेकर दो करोड़ चालीस लाख टन के बीच है. हमारे यहां उत्पादन करीब एक करोड़ अस्सी लाख टन के आसपास होता है. यानि हर साल करीब चालीस पचास लाख टन की कमी होती है और इसकी विदेशों से भरपाई करना कोई मुश्किल काम नहीं है लेकिन सरकारी की दाल नीति में ही कुछ काला नजर आता है. ताजा मामला चना का है. चना का एमएसपी चार हजार रुपये प्रति क्विंटल है. जो चना 4800 रुपए के भाव पर आराम से बिकता रहा उसमें सरकार ने वायदा कारोबार खोल दिया जिससे चने के कारोबार में खलबली मच गयी. जो चना 4800 के भाव पर मिल रहा था वही चना वायदा कारोबार के बाद 6200 तक पार कर गया.

आपको जानकर हैरानी होगी कि कनाडा और आस्ट्रेलिया ने भारत से 1970 में दाल के बीज मंगवाए थे. आज इन दोनों देशों से भारत दाल का आयात करता है. 1993 में कुल दलहन की जरुरत का तीन फीसद ही आय़ात करता था लेकिन आज तीस से चालीस लाख टन दलहन का आयात किया जाता है. पिछले साल तो साठ लाख टन से ज्यादा का रिकार्ड आयात किया गया जबकि पिछले साल सवा दो करोड़ टन दलहन का रिकार्ड उत्पादन हुआ था. पिछले दस सालों से भारत सरकार ने चना को छोड़ बाकी की दालों के निर्यात पर रोक लगा रखी है. पिछले साल देश में रिकार्ड दो करोड़ 24 लाख टन के उत्पादन के बावजूद दालों का निर्यात खोला नहीं गया था लेकिन इस साल खरीफ में लाखों क्विंटल की संभावित कमी के बावजूद सरकार ने अचानक ही दालों के निर्यात की मंजूरी दे दी है. रामविलास पासवान का इस पर कहना है कि देश में दाल का 18-20 लाख टन का स्टाक है और किसान की शिकायत रही है कि एमएसपी का दाम नहीं मिल रहा है, इसलिए निर्यात की मंजूरी दी गयी है. वैसे विशेषज्ञ भी सीमित मात्रा में दाल का निर्यात खोलने की बात करते रहे हैं. लेकिन इनका साथ में यह भी कहना है कि आयातित दाल के भाव एसएसपी से नीचे नहीं होने चाहिए. 2016-17 में चने का एमएसपी 3500 रुपये प्रति क्विंटल था लेकिन देश में चना 2550 रुपये प्रति क्विंटल की दर से आयात किया गया जिससे किसानों को घाटा हुआ.

(नोट- उपरोक्त दिए गए विचार और आंकड़े लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं. ये जरूरी नहीं कि एबीपी न्यूज़ ग्रुप सहमत हो. इस लेख से जुड़े सभी दावे या आपत्ति के लिए सिर्फ लेखक ही जिम्मेदार है.)

ALL BLOG POST

BLOG: ये ज्वलंत सवाल बता रहे हैं कि दाल में काला है?
BLOG: ये ज्वलंत सवाल बता रहे हैं कि दाल में काला है?

एक बार फिर मूंग दाल की नई फसल बाजार में है. इसके बाद उड़द और फिर तूर यानी अरहर…

Tags: Narendra Modi pulses Modi Government blog

BLOG: लड़कियों को लड़कियां होना हम बचपन से ही सिखाते हैं
BLOG: लड़कियों को लड़कियां होना हम बचपन से ही सिखाते हैं

लड़कियों का सम पर आना आसान नहीं. क्योंकि बचपन से ही उन्हें उनकी जगह दिखा दी जाती…

Tags: blog girls women empowerment family

आह! टॉम ऑल्टर नहीं रहे
आह! टॉम ऑल्टर नहीं रहे

नई दिल्ली: जैसे ही इस अदाकार की मौत की ख़ब़र आई, यकायक यादों की घड़ी की सुई टिक टिक…

Tags: Tom Alter

Blog: हर बार नो का मतलब नो ही होता है
Blog: हर बार नो का मतलब नो ही होता है

लड़कियां इसका बुरा मान रही हैं. लगातार विक्टिम ब्लेमिंग उन्हें परेशान कर रही है. वे कहीं कॉलेज…

Tags: blog Court Judgements Rape Cases

BLOG: सर्जिकल स्ट्राइक से चुनावी लाभ
BLOG: सर्जिकल स्ट्राइक से चुनावी लाभ

पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में सर्जिकल स्ट्राइक के एक साल बाद भी इसके नफा-नुकसान पर बहस जारी है….

Tags: blog Indian army Line Of Control Pakistan surgical strike politics Narendra Modi hindi news Hindi Samachar Samachar Latest Hindi news news in hindi ABP News

BLOG: लग ही नहीं रहा है कि ये ऑस्ट्रेलिया की टीम है
BLOG: लग ही नहीं रहा है कि ये ऑस्ट्रेलिया की टीम है

एक वक्त था जब शेन वॉर्न को छक्का मारिए तो वो क्रीज पर वापस आकर बल्लेबाज को घूर कर…

Tags: Team India australian cricket team David Warner odi series

महिला आरक्षण बिल: जीवन की 'टुच्चई' राजनीति में टांगें फैलाए डटी है!
महिला आरक्षण बिल: जीवन की 'टुच्चई' राजनीति में टांगें फैलाए डटी है!

बोतल से जिन्न बाहर निकलने को तैयार है. सोनिया गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखी हैं कि…

Tags: Women’s Reservation bill

BLOG: दो दशक पहले वाली ऑस्ट्रेलियाई टीम की तरह अब खेल रही ही टीम इंडिया
BLOG: दो दशक पहले वाली ऑस्ट्रेलियाई टीम की तरह अब खेल रही ही टीम इंडिया

90 के दशक के आखिरी कुछ साल और उसके बाद अगले दस साल तक के अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट को याद…

Tags: Team India australian cricket team

क्या विराट का नया कमाल है एक जैसे दो स्पिनर्स का जाल ?
क्या विराट का नया कमाल है एक जैसे दो स्पिनर्स का जाल ?

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले वनडे के समय विराट कोहली से एक दिलचस्प सवाल पूछा गया. इस सवाल…

Tags: Virat Kohli wrist spinners Kukdeep Yadav Yuzvendra Chahal Australia Team India

BLOG:  धोनी की तरह ही विराट कोहली को भी मिल गया है ‘सुपरमैन’
BLOG: धोनी की तरह ही विराट कोहली को भी मिल गया है ‘सुपरमैन’

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे सीरीज का आगाज बिल्कुल वैसे ही हुआ जैसा होना चाहिए था. क्या फर्क…

Tags: sivendra kumar singh blog Hardik Pandya Dhoni Virat Kohli Team India INDVSAUS

तो क्या 2019 विश्व कप में नहीं नजर आएगी वेस्टइंडीज की टीम?
तो क्या 2019 विश्व कप में नहीं नजर आएगी वेस्टइंडीज की टीम?

जिस टीम ने 1975 में ऑस्ट्रेलिया को हराकर विश्व कप का पहला खिताब जीता. जिस टीम ने…

Tags: West Indies ICC World Cup 2019 England and wales

ब्लॉग: नेहरू जैकेट या मोदी जैकेट? कुछ सवाल, कुछ उलझनें
ब्लॉग: नेहरू जैकेट या मोदी जैकेट? कुछ सवाल, कुछ उलझनें

जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे को कुर्ते पजामे और जवाहर जैकेट में देख कर हर भारतीय का मन खुश हो…

Tags: Jawaharlal Nehru Narendra Modi jacket Shinzo Abe

BLOG: बिना सोच बदले हम जापान की तरह प्रगति नहीं कर सकते!
BLOG: बिना सोच बदले हम जापान की तरह प्रगति नहीं कर सकते!

नई दिल्ली: जापान के पीएम शिजो आबे ने कहा कि एक वक्त हमारे पास खाली खेत और…

Tags: Japanese Prime Minister Shinzo Abe Prime Minister Narendra Modi ahmadabad India Japan

BLOG : औरत की देह पर हक किसका, उसका या समाज का?
BLOG : औरत की देह पर हक किसका, उसका या समाज का?

माशा

Monday, 11 September 2017

मुंबई में 13 साल की रेप विक्टिम ने एक बच्चे को जन्म दे दिया है. यह मामला तब चर्चा…

Tags: blog abortion senior journalist Masha Women supreme court

BLOG: क्या 13 अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टार्स करवा पाएंगे पाकिस्तान में क्रिकेट की वापसी?
BLOG: क्या 13 अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टार्स करवा पाएंगे पाकिस्तान में क्रिकेट की वापसी?

करीब 8 साल के लंबे इंतजार के बाद पाकिस्तान में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टार्स मैदान में उतरेंगे. मंगलवार…

Tags: shivendra kumar singh World XI Faf du Plessis Pakistan Pakistan cricket board Sarfaraz Ahmed blog

BLOG: एशियाई क्रिकेट के लिए अच्छी हो सकती है बांग्लादेश क्रिकेट की तरक्की, बशर्ते...
BLOG: एशियाई क्रिकेट के लिए अच्छी हो सकती है बांग्लादेश क्रिकेट की तरक्की, बशर्ते...

शीर्षक में बात जहां खत्म हुई है लेख में वहीं से बात शुरू की जानी चाहिए. इस बात में…

Tags: australian cricket team Bangladesh Cricket Team test series

BLOG: पैसा कमाएंगे तो लड़कों को सिर पर ज्यादा चढ़ाएंगे
BLOG: पैसा कमाएंगे तो लड़कों को सिर पर ज्यादा चढ़ाएंगे

माशा

Wednesday, 6 September 2017

लड़के हमारे दिमाग से, हमारी सोच से, हमारी गोद से कभी नहीं उतरते. हम पैसे कमाएं- ज्यादा…

Tags: blog Elite bourgeoisie class male boys girls female Woman Man Masha

BLOG: विराट कोहली क्यों बनाना चाहते हैं टीम इंडिया को ‘रहस्यलोक’
BLOG: विराट कोहली क्यों बनाना चाहते हैं टीम इंडिया को ‘रहस्यलोक’

श्रीलंका में वनडे सीरीज जीतने के बाद विराट कोहली ने एक बड़ी अहम बात कही. उन्होंने ये…

Tags: shivendra kumar singh blog Team India Virat Kohli World Cup world team BCCI Ravi Shastri MS Dhoni

BLOG: बच्चों की मौत पर राजनीति के बजाय समग्र स्वास्थ्य नीति बनाए योगी सरकार
BLOG: बच्चों की मौत पर राजनीति के बजाय समग्र स्वास्थ्य नीति बनाए योगी सरकार

उत्तर प्रदेश आजकल मासूम बच्चों की मौत को लेकर राष्ट्रीय मीडिया में लगातर सुर्खियों में है. राज्य…

Tags: UP government hospitals Health Policy Child Death yogi adityanath brd hospital Gorakhpur UP uttar pradesh health services private hospital

BLOG: निर्मला सीतारमण का रक्षा मंत्री बनना महिलाओं के लिए शुभ संकेत है और खुशखबरी भी
BLOG: निर्मला सीतारमण का रक्षा मंत्री बनना महिलाओं के लिए शुभ संकेत है और खुशखबरी भी

रशीद किदवई

Monday, 4 September 2017

नई दिल्ली : निर्मला सीतरमण का रक्षा मंत्री बनना देश के लिये गौरव की बात होने के…

Tags: blog new defence minister Nirmala Sitharaman Rasheed Kidwai

Blog: खेलमंत्री का पद तो मिल गया, कुछ अधिकार भी मिलेंगे क्या?
Blog: खेलमंत्री का पद तो मिल गया, कुछ अधिकार भी मिलेंगे क्या?

सर्वानंद सोनोवाल नए नए खेलमंत्री बने थे. मीडिया के साथ अपनी शुरूआती मुलाकातों में उन्होंने एक बड़ा दिलचस्प किस्सा…

Tags: Sports Minister rajyavardhan singh rathore tennis Hockey badminton shooting

तो क्या अब मान लें कि 2019 विश्व कप खेलेंगे महेंद्र सिंह धोनी?
तो क्या अब मान लें कि 2019 विश्व कप खेलेंगे महेंद्र सिंह धोनी?

आज सभी अखबारों में खेल के पन्ने पर एक बड़ी खबर है. इस खबर में रवि शास्त्री के हवाले…

Tags: Team India MS Dhoni Sri lanka Cricket Team Virat Kohli Ravi Shastri MSK Prasad

मुंबई फिर हुई पानी-पानी! शर्म इनको मगर नहीं आती?
मुंबई फिर हुई पानी-पानी! शर्म इनको मगर नहीं आती?

देश की आर्थिक राजधानी मुंबई 2005 की तरह इस साल फिर पानी-पानी हो गई लेकिन इसके लिए भारी बारिश…

View More

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017