शहाबुद्दीन को श्रद्धांजलि: ऐसे बेबाक जिनमें हर बड़ी ताक़तों से टकरा जाने का हौसला था

Sunday, 5 March 2017 4:21 PM | Comments (0)
शहाबुद्दीन को श्रद्धांजलि: ऐसे बेबाक जिनमें हर बड़ी ताक़तों से टकरा जाने का हौसला था

मौत एक अटल हकीकत है और जो भी इस दुनिया में आया है, उसे एक दिन इस दार-ए-फानी से जाना पड़ता है. लेकिन कुछ शख्सियतें ऐसी होती हैं कि जिनके चले जाने का ग़म मुद्दतों सताता रहता है. सैयद शहाबुद्दीन का इंतेकाल भी भारत के मुसलमान के लिए ऐसा ही दर्द है.

सैयद शहाबुद्दीन की शख्सियत के कई रंग हैं. ये आपकी ही शख्तियत का कमाल है कि आपके वैचारिक विरोधी भी आपका ज़िक्र निहायत ही इज़्ज़त और एहतराम से करते हैं और आप से बेइंतेहा मुहब्बत करने वाले भी खफा-खफा से हो जाते हैं. भारतीय मुसलमानों के बीच आपकी हैसियत का अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है कि मौलाना अबुल कलाम आज़ाद के बाद जितने भी बड़े मुस्लिम रहनुमा हुए उनमें आपका नाम पहली पंक्ति के नेताओं में शुमार होता है. बल्कि उत्तर भारत के मुसलमान डॉक्टर जाकिर हुसैन के बाद आपको ही अपना क़ायद मानते हैं.

यूं तो शहाबुद्दीन छात्र जीवन से ही सियासी और समाजी मुद्दों को लेकर आवाज़ उठाते रहे हैं, लेकिन उन्हें अपनी जिंदगी के सफर में हर मोड़ पर जिस खूबी की सबसे बड़ी कीमत चुकानी पड़ी वो उनकी बेबाकी थी. शहाबुद्दीन का जुनून ऐसा कि समंदर की खतरनाक लहरें हों या जंगल की खामोशी हो या पहाड़ों की अना… बिना अंजाम की परवाह किए तने-तनहा लड़ जाते थे और इसकी नींव छात्र जीवन में ही पड़ गई. तभी तो पहली ही मुलाकात में पंडित नेहरू ने न सिर्फ पहचान लिया बल्कि उन्हें ‘बिहार का नॉटी ब्वॉय’ तक कहा. एमएससी तक हर जगह गोल्ड मेडिलिस्ट रहे शहाबुद्दीन ने 1955 में पटना यूनिवर्सिटी में छात्र आंदोलन का नेतृत्व किया और इसी वजह से उनका आईएफएस में ज्वाइन करना नामुमकिन सा हो गया था. एक साल तक उन्हें ज्वाइन नहीं कराया गया.

बाबरी मस्जिद और शहाबुद्दीन

जिस वजह से शहाबुद्दीन सबसे ज्यादा याद किए जाएंगे या कोसे जाएंगे उनमें बाबरी मस्जिद बनाम राम जन्म भूमि आंदोलन और शाहबानो केस के दौरान उनके नेतृत्व का मुद्दा सबसे अहम होगा.

जब 80 के आखिरी दशक और 90 के शुरुआती दशक में जय श्री राम जैसे धार्मिक नारे की गूंज से मुसलमान के घरों, मुहल्ले और बस्तियों में खौफ और सन्नाटा पसर जाता था, तब शहाबुद्दीन मुसलमानों के सबसे बड़े मसीहा और रहनुमा थे. उस नफरत, खौफ और मायूसी के दौर में जब सब ज़बानें सिली हईं थीं, शहाबुद्दीन अपने कलम और तर्क से डटे हुए थे, बल्कि दहाड़ रह थे. हालांकि, उस दौर के उनके सियासी अंदाज़ को लेकर उनके चाहने वाले भी सवाल उठाते हैं. उनकी बेबाकी, उनके जोश, जुरुअत और जुनून को कटघरे में खड़ा करते हैं. लेकिन यह भी हकीकत है कि वो ही लोग उनकी ईमानदारी और उनके इरादे पर फिदा हो जाते हैं और यहां तक कहते हैं कि मुसलमानों की तरक्की को लकेर उनमें मौलाना आज़ाद जैसी तदबीर (कोशिश) और अल्लमा इकबाल जैसी तड़प थी.

चाहने वाले क्यों नाराज़ हुए?

शहाबुद्दीन ने दो अहम मुद्दों पर सबसे ज्यादा लड़ाई लड़ी. बाबरी मस्जिद और शाहबानो केस. शाहबानो केस में वे सरकार को झुका तो पाए, लेकिन इसके बदले मुसलमानों की इसकी बड़ी कीमत चुकानी पड़ी. कानून के रखवालों के सामने बाबरी मस्जिद तोड़ी गई और देशभर में भारी दंगे हुए और इस तरह मुसलमानों के बुनियादी सवालों पर बहस नहीं हो सकी. हालांकि, मुसलमानों के एक तबके का मानना रहा कि 80 के दशक में शहाबुद्दीन की जो सियासी हैसियत थी अगर वो उस वक़्त मुसलमानों के शिक्षा, रोज़गार और आरक्षण जैसे मुद्दे को उठाते तो अपने समाज का ज्यादा भला कर पाते.

वो खूबी जिसका सभी कायल थे

शहाबुद्दीन एक ज़हीन शख्सियत के मालिक थे. इसका अंदाज़ा तो इसी से लगाया जा सकती है वो हमेशा गोल्ड मेडेलिस्ट रहे. भौतिकी शास्त्र में एमएससी करने के बावजूद अंग्रेजी, उर्दू, फारसी और अरबी के जानकार थे. उर्दू साहित्य से गहरी दिलचस्पी थी. हमेशा सामाजिक, राजनीतिक और कानूनी मुद्दों पर लिखते रहे. लेकिन ये लिखना कोई आम लिखना नहीं था… इस मजबूती के साथ लिखते थे कि सरकारें हिल जाती थी. विरोधी की जबानें सिल जाती थीं. मुसलमानों की बदहाली का सच सच्चर कमेटी ने बताया, लेकिन उस रिपोर्ट से सालों पहले शहाबुद्दीन यही दावा करते रहे, और ज़बानी नहीं, बल्कि दस्तावेजों और आंकड़ों के साथ ये दावा किया. उनकी इस खूबी का सभी कायल रहे.

जब शाही इमाम से भिड़ गए

बाबरी मस्जिद आंदोलन के दौरान शहाबुद्दीन की लड़ाई सरकार से तो थी ही, लेकिन उस वक़्त के शाही इमाम अब्दुल्लाह बुखारी से भी उनकी खूब तनातनी रही. इंडिया गेट के वोट कल्ब पर धरने के दौरान तो दोनों बड़ी शख्सियतें गुत्थम गुत्था हो गई. लेकिन जब 2008 में शाही इमाम के निधन पर मैंने शहाबुद्दीन से इस वाक्य पर पूछा तो उनका कहना था कि इमाम साहिब से उनके रिश्ते अच्छे थे, लेकिन वो इस बात के खिलाफ थे कि मस्जिद के मेंबर को सियासत का अड्डा बनाया जाए.

क्यों मुसलमानों की सियासत

शहाबुद्दीन न बहुत धार्मिक थे और न ही टिपिकल मुसलमानों जैसा रहन सहन था. छात्र जीवन में अपने नेतृत्व क्षमता से सबको आगाह किया था. तब उन्हें कम्युनिस्ट होने का तमग़ा मिला, लेकिन उन्होंने इनकार किया और कहा कि वो सेकुलर समाजवादी हैं. आउटस्टेंडिंग वॉयस ऑफ मुस्लिम इंडिया में शहाबुद्दीन का कहना है कि उन्होंने कानून और संविधान के भीतर मुसलमानों के हक और इंसाफ की लड़ाई लड़ी और इसपर उन्हें गर्व है.

राजनीति में कैसे आए

आम लोगों में यही राय है कि शहाबुद्दीन को तत्कालीन विदेश मंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने सियासत स्पॉंन्सर की. लेकिन खुद शहाबुद्दीन इससे इनकार करते हैं. ऑउटस्टेंडिंग वॉयस ऑफ मुस्लिम इंडिया में खुद शहाबुद्दीन लिखते हैं कि वाजपेयी से उनके रिश्ते बहुत ही मधुर थे, लेकिन वाजपेयी ने उन्हें तीन बार इस्तीफा वापस लेने के लिए समझाया. राजनीति में आने का फैसला उनका खुद का था. नौकरी से इस्तीफे के बाद दिल्ली के बजाए पटना को अपना ठिकाना बनया और यहीं से सियासत का आगाज़ किया.

इंदिरा गांधी से टकराहट

शहाबुद्दीन की शख्सियत ही ऐसी थी कि किसी से भी टकरा जाते थे. इंदिरा गांधी ने इसे भलीभांति भांप लिया था, तभी इंदिरा गांधी ने शहाबुद्दीन को अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के वीसी से लेकर मंत्री बनने तक के कई ऑफर दिए. 2004 में भी लोकसभा चुनाव से पहले सोनिया गांधी ने शहाबुद्दीन से मुलाकात की थी और उनसे मदद मांगी थी.

विरोधी भी करते हैं सलाम

शहाबुद्दीन के कलम के सभी कायल थे. जब कुछ साल पहले उन्होंने अपनी मैगजीन मुस्लिम इंडिया को बंद करने का एलान किया तो उनके विरोधी विचारधारा के लेखक सुधेंद्र कुलकर्णी ने इंडियन एक्सप्रेस में लेख लिखकर उनकी काबलियत को सलाम किया था.

कईं किंवदंतियां हैं…

शहाबुद्दीन को लेकर कई किंवदंतियां भी हैं. कई पार्टियों में जाने और खुद की इंसाफ पार्टी बनाने को लेकर मुसलमानों के भीतर उनके नेतृत्व पर सवाल उठते रहे हैं. इसपर शहाबुद्दीन का ये जवाब उड़ाया जाता रहा है कि जब अपने बेटे की प्यास बुझाने के लिए पानी की आस में मां हाजरा सात-सात बार सफा और मरवा की पहाड़ियों पर दौड़ सकती हैं तो क्या मैं कौम की मुहब्बत में सियासी पार्टी भी नहीं बदल सकता.

ALL BLOG POST

वाघेला गए, अब गुजरात में कांग्रेस का क्या होगा?
वाघेला गए, अब गुजरात में कांग्रेस का क्या होगा?

नई दिल्लीः जिसका डर था वही बात हो गई. गुजरात में कांग्रेस के ज़मीनी और कद्दावर नेता शंकर सिंह…

Tags: Shanker sinh Vaghela Gujarat CONGRESS PARTY INC indian national congress BJP bhartiya janta party

BLOG : पीरियड लीव...ये आइडिया कुछ जमा नहीं
BLOG : पीरियड लीव...ये आइडिया कुछ जमा नहीं

माशा

Saturday, 22 July 2017

मुंबई की एक ‘कूलेस्ट’ स्टार्टअप कंपनी ने अपने महिला एंप्लॉयीज को पीरियड लीव देने का फैसला किया…

Tags: blog Period leave Masha

बहनजी ने ये क्या कर दिया: मायावती की रणनीति को लेकर जितनी मुंह उतनी बातें
बहनजी ने ये क्या कर दिया: मायावती की रणनीति को लेकर जितनी मुंह उतनी बातें

पंकज झा

Friday, 21 July 2017

23 जुलाई को मायावती ने दिल्ली में अपने घर पर बीएसपी (बहुजन समाज पार्टी) के बड़े नेताओं…

Tags: mayawati BSP chief mayawati BSP President Mayawati BSP supremo Mayawati Mayawati's resignation Mayawati News

चीन सीमा विवाद: अब भारत को 'ड्रैगन' की आंखों में आंखें डाले रखना होगा!
चीन सीमा विवाद: अब भारत को 'ड्रैगन' की आंखों में आंखें डाले रखना होगा!

भारत और चीन ने सिक्किम के डोकलाम इलाके में 35 दिनों से नॉन-कॉम्बैट मोड में अपने-अपने तंबू…

Tags: hindi news Latest Hindi news news in hindi ABP News India blog vijayshankar chaturvedi Doklam border dispute

क्या औरत भी पूछ सकती है कि बच्चे में आपका योगदान कितना है?
क्या औरत भी पूछ सकती है कि बच्चे में आपका योगदान कितना है?

किसी आदमी ने इंटरनेट पर सवाल पूछा कि  ”अगर मैं अपनी ‘वुड बी’ बीवी से चार गुना…

Tags: Women Men equality Opportunity blog

BLOG: अमरनाथ हमले को मोदी सरकार की विफलता कहिए
BLOG: अमरनाथ हमले को मोदी सरकार की विफलता कहिए

जम्मू-कश्मीर में आतंकी हमले कोई नई बात नहीं है. पिछले कई वर्षों से यहां आंतक का नंगा नाच खेला…

Tags: amarnath attack Amarnath pilgrims amarnath yarta amarnath yarta attack Amarnath Yatra 2017

BLOG: तिहरे शतक वाला बाहर, 3 अर्धशतक वाला टीम में...बहुत नाइंसाफी है
BLOG: तिहरे शतक वाला बाहर, 3 अर्धशतक वाला टीम में...बहुत नाइंसाफी है

श्रीलंका के खिलाफ तीन टेस्ट मैचों की सीरीज के लिए भारतीय टीम का ऐलान कर दिया गया है. तीन…

Tags: Team India Virat Kohli ROHIT SHARMA Karun Nair Yuvraj Singh Sri Lanka Tour

ब्लॉग: तेजस्वी पर आर-पार, लेकिन नहीं टूटेगी लालू-नीतीश की दोस्ती!
ब्लॉग: तेजस्वी पर आर-पार, लेकिन नहीं टूटेगी लालू-नीतीश की दोस्ती!

देश में नरेन्द्र मोदी और नीतीश कुमार ऐसे रणनीतिकार हैं जिनकी चाल की भनक समझना मुश्किल ही…

Tags: Narendra Modi lalu parsad yadav Bihar chief minister Nitish Kumar

CBI छापे: इस बार कुनबा समेत बुरे फंसे लालू!
CBI छापे: इस बार कुनबा समेत बुरे फंसे लालू!

आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव और घोटालों के आरोपों और विवादों का चोली-दामन का साथ रहता है,…

Tags: hindi news Latest Hindi news news in hindi ABP News India blog vijayshankar chaturvedi CBI raids Lalu Prasad Yadav

BLOG: सचिन तेंडुलकर का ‘ये’ रिकॉर्ड कैसे तोड़ेंगे विराट कोहली?
BLOG: सचिन तेंडुलकर का ‘ये’ रिकॉर्ड कैसे तोड़ेंगे विराट कोहली?

किंग्सटन के सबाइना पार्क में विराट कोहली ने शानदार शतक जड़ा. इस शतक की बदौलत भारत ने…

Tags: Virat Kohli Sachin Tendulkar Record Team India BCCI shivendra kumar singh blog shivendra kumar singh blog ODI test

आज जन्मदिन पर कौन सा बड़ा फैसला लेंगे धोनी?
आज जन्मदिन पर कौन सा बड़ा फैसला लेंगे धोनी?

धोनी आज 36 के हो गए. अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में ये उनका तेरहवां साल है. इन तेरह सालों में उन्होंने…

Tags: Team India MS Dhoni retirement Happy Birthday MS Dhoni

आज किसकी-किसकी किस्मत का फैसला करेंगे विराट कोहली?
आज किसकी-किसकी किस्मत का फैसला करेंगे विराट कोहली?

लंबे समय के बाद विराट कोहली दबाव में हैं. दबाव में इसलिए नहीं कि पिछले मैच में भारतीय टीम…

Tags: Team India Virat Kohli west indies cricket team Mohammad Shami umesh yadav Bhuvneshwar Kumar

BLOG : प्रेग्नेंसी में सलाह नहीं, सुविधा दीजिए
BLOG : प्रेग्नेंसी में सलाह नहीं, सुविधा दीजिए

माशा

Saturday, 1 July 2017

प्रेग्नेंट औरतों को सलाह देने वाले कम नहीं. हममें से हर कोई उनका खैरख्वाह बन जाता है….

Tags: blog pregnant women India

BLOG : नाम, अगर पति का हो, तो उसमें बहुत कुछ रखा है
BLOG : नाम, अगर पति का हो, तो उसमें बहुत कुछ रखा है

माशा

Monday, 26 June 2017

नाम में क्या रखा है- चच्चा शेक्सपीयर कह गए तो भी क्या.. क्योंकि इसी नाम के फेर…

Tags: blog husband name

BLOG : यूएसए के बदले माहौल में पीएम मोदी की यात्रा क्या गुल खिलाएगी?
BLOG : यूएसए के बदले माहौल में पीएम मोदी की यात्रा क्या गुल खिलाएगी?

पीएम नरेंद्र मोदी की यूएसए यात्रा अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के भारत के प्रति बदले हुए रुख…

Tags: Narendra Modi donald trump USA-India USA India

जम्मू-कश्मीर पुलिस के हौसले देखकर खौफ खा रहे हैं आतंकी!
जम्मू-कश्मीर पुलिस के हौसले देखकर खौफ खा रहे हैं आतंकी!

कल आधी रात श्रीनगर में एक दिलदहलाने वाली घटना घटी. नौहट्टा इलाके में जामा मस्जिद के बाहर एक DSP…

Tags: Jammu and Kashmir Police DSP Ayub Pandith lynched

अनिल कुंबले के इस्तीफे को लेकर विराट कोहली को खुला खत
अनिल कुंबले के इस्तीफे को लेकर विराट कोहली को खुला खत

”मैं क्रिकेट संचालन समिति की तरफ से मुख्य कोच की जिम्मेदारी पर बने रहने के प्रस्ताव से सम्मानित महसूस…

Tags: Virat Kohli Team India anil kumble coach indian cricket team BCCI

View More

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017