जानिए किन गेंदबाजों ने बिना 'गेंदबाजी' लुटाए थे रन

By: | Last Updated: Wednesday, 5 March 2014 7:32 AM
जानिए किन गेंदबाजों ने बिना ‘गेंदबाजी’  लुटाए थे रन

नई दिल्ली: एशिया कप में कल बांग्लादेश और पाकिस्तान के बीच खेले गए मुकाबले में गेंदबाजी का अजीबो-गरीब रिकॉर्ड देखने को मिला. पाकिस्तान के स्पिनर अब्दुर रहमान ने बिना बॉल फेंके आठ रन दे डाले. यह हुआ था रहमान के तीन लगातार बीमर फेंकने की वजह से.

 

तीन बीमर फेंकने के कारण उन्हें आगे गेंदबाजी करने से रोक दिया गया. इन तीन नो बॉल सहित कुल आठ रन बने. इस तरह उनका गेंदबाजी विश्लेषण हुआ 0-0-8-0 का.

 

लेकिन अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में यह पहला अवसर नहीं है जबकि किसी गेंदबाज के नाम पर बिना अधिकृत गेंद के रन लुटाने का रिकार्ड दर्ज रहा हो. एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों में यह चौथा अवसर है जबकि किसी गेंदबाज ने कोई गेंद नहीं की लेकिन उसने रन दिये. टेस्ट मैचों में भी तीन बार ऐसा वाकया देखने को मिल चुका है.

 

एकदिवसीय मैचों में पहली ऐसी घटना चार फरवरी 1984 को पाकिस्तान और वेस्टइंडीज के बीच पर्थ में खेले गये वर्ल्ड सीरीज कप के दौरान देखने को मिली थी. वेस्टइंडीज को जब जीत के लिये केवल एक रन की दरकार थी तब पाकिस्तानी कप्तान जावेद मियांदाद ने मंसूर अख्तर को गेंद सौंपी. अख्तर की पहली गेंद ही वाइड थी जिससे वेस्टइंडीज जीत गया और इस तरह से अख्तर का गेंदबाजी विश्लेषण 0-0-1-0 हो गया.

 

कीनिया और बांग्लादेश के बीच नैरोबी में 13 अगस्त 2006 को कोलिन्स ओबुया ने बिना किसी अधिकृत गेंद के पांच रन लुटा दिये थे. रहमान से पहले बिना किसी अधिकृत गेंद फेंके सर्वाधिक रन देने का रिकार्ड ओबुया के नाम पर ही दर्ज था. बांग्लादेश तब जीत से पांच रन दूर था जब ओबुया मैच में पहली बार गेंदबाजी के लिये आये. उनकी पहली गेंद ही नोबॉल थी जिस पर मशरेफी मुर्तजा ने कवर क्षेत्र में चौका जड़कर अपनी टीम को जीत दिलायी. ओबुया का गेंदबाजी विश्लेषण 0-0-5-0 रहा.

 

टेस्ट क्रिकेट में तीन ऐसे गेंदबाजी विश्लेषण देखने को मिलेंगे जिसमें गेंदबाज के नाम पर कोई गेंद दर्ज नहीं है लेकिन उसने रन दिये हैं. इनमें डेविड गावर का मामला दिलचस्प और विवादास्पद था. इंग्लैंड और न्यूजीलैंड के बीच सात से 12 अगस्त 1986 के बीच नाटिंघम में खेले गये मैच में यह घटना देखने को मिली थी. न्यूजीलैंड के सामने 74 रन का लक्ष्य था और उसने तीन विकेट खोकर स्कोर बराबरी पर ला दिया था. अब जीत एक रन दूर थी कि कप्तान माइक गैटिंग ने डेविड गावर को गेंद थमा दी. सामने बल्लेबाज मार्टिन क्रो थे जो छक्का जड़ने पर अर्धशतक पूरा कर देते. गावर ने जान बूझकर गेंद थ्रो की जो अंपायर ने नोबाल दी।. क्रो ने इस पर चौका जड़ा लेकिन नोबाल के कारण विजयी रन पहले बन गया था.

 

फरवरी 1986 में इंग्लैंड और वेस्टइंडीज के बीच किंग्सटन जमैका में खेले गये पहले टेस्ट मैच में एलन लैंब बिना अधिकृत गेंद किये रन देने वाले पहले गेंदबाज बन गये थे. वेस्टइंडीज के सामने जीत के लिये लक्ष्य पांच रन था. लैंब पारी का दूसरा ओवर करने के लिये जबकि लक्ष्य केवल एक रन रह गया था. उनकी नोबाल से कैरेबियाई टीम मैच जीत गयी. दक्षिण अफ्रीका और श्रीलंका के बीच जनवरी 2012 में केपटाउन में ऐसी घटना सामने आयी थी. दक्षिण अफ्रीका को मैच के चौथे दिन जीत के लिये दो रन का लक्ष्य मिला. तेज गेंदबाज धम्मिका प्रसाद की पहली गेंद ही नोबॉल थी जिस पर एल्विरो पीटरसन ने विजयी रन बना दिया था.

Bollywood News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: जानिए किन गेंदबाजों ने बिना ‘गेंदबाजी’ लुटाए थे रन
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017