नेपाल में माओवादी पार्टियां मिलाएंगी हाथ

By: | Last Updated: Friday, 14 March 2014 7:07 AM

काठमांडू: अलग होने के 21 माह बाद नेपाल की दो माओवादी पार्टियों ने गुरुवार को कामकाज में गठबंधन बनाने की घोषणा की है. पुष्प कमल दहाल उर्फ प्रचंड और मोहन वैद्य किरण के नेतृत्व वाले गुटों के बीच बनी यह सहमति एकजुट होने की दिशा में पहला कदम माना जा रहा है.

 

दोनों गुटों के बीच करीब 21 माह पहले गंभीर वैचारिक मतभेद पैदा हो गए थे जिसके बाद किरण ने नेपाल की कम्युनिस्ट पार्टी (माओवादी) का गठन कर लिया और प्रचंड के नेतृत्व में नेपाल की एकीकृत कम्युनिस्ट पार्टी-माओवादी (यूसीपीएन-एम) रह गई थी.

 

गुरुवार को जारी एक संयुक्त प्रेस विज्ञप्ति में प्रचंड और किरण ने कहा कि उन्होंने सरकार की स्थानीय निकायों के चुनाव कराने की तैयारी के खिलाफ हाथ मिलाया है और चेतावनी दी कि देश भर में प्रदर्शन के जरिए वे इसे विफल कर देंगे.

 

दोनों नेताओं ने सरकार को संघर्ष कालीन मामलों की समीक्षा नहीं करने और उनके कैडरों को वास्तविकता एवं सामंजस्य आयोग (टीआरसी) के गठन की तैयारी के समय गिरफ्तार नहीं करने के लिए कहा है.

 

नेपाल में विभिन्न राजनीतिक घटकों के बीच आम सहमति के आधार पर टीआरसी का गठन होना है और इससे गृह युद्ध के दौरान के मामलों को निपटाने का साझा आधार तय करने की उम्मीद की जा रही है.

 

माओवादी पार्टी के नेतृत्व में 1996 से चले गृह युद्ध के दौरान कम से कम 13000 लोग मारे गए जबकि करीब 1000 लोग लापता हैं और हजारों विस्थापित हो गए.

 

नेपाल की नवगठित सुशील कोइराला सरकार ने छह माह में स्थानीय निकायों के चुनाव कराने की घोषणा की है. नेपाल में स्थानीय निकायों के अंतिम चुनाव 1997 में कराए गए थे. बाद में जनप्रतिनिधियों के अभाव में लाखों रुपये का गबन कर लिया गया है.

 

अपने गठन के बाद से किरण नीत सीपीएन-एम ने मुख्यधारा की राजनीति से खुद को अलग कर रखा है और पिछले वर्ष नवंबर में हुए संविधानसभा के चुनाव का भी उसने बहिष्कार किया था.

 

दूसरी तरफ प्रचंड नीत यूसीपीएन-एम को चुनाव में करारी शिकश्त का सामना करना पड़ा और डर है कि स्थानीय निकाय के चुनाव में भी उसे पराजय का सामना करना पड़ सकता है.

Bollywood News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: नेपाल में माओवादी पार्टियां मिलाएंगी हाथ
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017