प्रियंका चोपड़ा को सताता है असफलता का डर

By: | Last Updated: Sunday, 27 April 2014 3:52 AM

टैम्पा बे: अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा का कहना है कि उन्हें असफलता का डर सताता है और अगर उनकी कोई फिल्म बॉक्स ऑफिस पर सफल नहीं होती है तो वह कम से कम दो सप्ताह तक अपने कमरे से बाहर नहीं निकलतीं.

 

प्रियंका ने कहा ‘‘मुझे असफलता से बहुत डर लगता है. लेकिन यह मुझे आगे भी बढ़ाती है. अगर फिल्म असफल होती है तो मुझे बहुत खराब लगता है. मैं सोचती हूं कि कड़ी मेहनत के बाद भी फिल्म सफल क्यों नहीं हुई. मैं दो हफ्ते तक कमरे से बाहर नहीं निकलती.’’ यहां आयोजित 15 वें वीडियोकॉन डी2एच आईफा वीकेन्ड के दौरान ‘‘अभिनय’’ पर हुए एक संवाद सत्र में प्रियंका ने कहा ‘‘जो फिल्में मैंने कीं, उन्हें लेकर मैं खुश हूं और ‘सात खून माफ’, ‘व्हाट इज योर राशि’ जैसे कुछ गैर परंपरागत फिल्में हैं जो नहीं चलीं.’’

 

31 वर्षीय अभिनेत्री ने कहा ‘‘बरफी भी गैर परंपरागत फिल्म थी लेकिन अच्छी चली. यह फिल्म करते समय लोगों ने मुझे कहा था कि यह फिल्म नायिका के लिए नहीं है और मैं इसे न करूं. लेकिन मुझे लगता था कि मैं इसे करूं और इसे मिली प्रतिक्रिया से मैं खुश हूं.’’ प्रियंका के साथ मंच पर हॉलीवुड के कलाकार केविन स्पेसी भी थे.

 

बॉलीवुड में नायिका के तौर पर अपनी पहचान बना चुकी प्रियंका और दुनिया भर में गायन के क्षेत्र में अपनी पहचान बनाने के लिए प्रयासरत हैं.

 

ऐतराज, फैशन, कमीने, डॉन, दोस्ताना, बरफी जैसे हिट फिल्में दे चुकीं प्रियंका अब संजय लीला भंसाली के होम प्रोडक्शन की नयी फिल्म में नजर आने वाली हैं जो प्रख्यात भारतीय बॉक्सर मैरी कॉम के जीवन पर आधारित है. उमंग कुमार के निर्देशन में बन रही यह फिल्म इसी साल 2 अक्तूबर को रिलीज होगी. फिल्म में प्रियंका पांच बार वर्ल्ड बॉक्सिंग चैंपियन रही मांगते चुंगनेईजंग मैरी कॉम (एम सी मैरी कॉम) की भूमिका में हैं. प्रियंका ने कहा ‘‘मैंने पर्दे पर मैरी कॉम की भूमिका निभाने का जो फैसला किया, यह उससे कहीं ज्यादा कठिन है. इस फिल्म के बाद हमारे वास्तविक नायकों के लिए मेरे मन में सम्मान और बढ़ गया है. अब मुझे अहसास हुआ है कि बॉडी बिल्डिंग आसान नहीं है.’’

 

उन्होंने बताया ‘‘बॉक्सर की तरह दिखना भी बड़ा कठिन है. यह केवल एक लड़की की नहीं बल्कि उन सभी लड़कियों की कहानी है जो अपने जीवन में कुछ करना चाहती हैं.’’ प्रियंका ने कहा कि अभिनय तो उन्होंने अचानक ही शुरू कर दिया क्योंकि मिस वर्ल्ड बनने के बाद वह फिल्मों की दुनिया में आईं. हालांकि पहले उन्होंने अभिनय के बारे में नहीं सोचा था.

 

उन्होंने कहा ‘‘मैं एक प्रमुख फिल्म पत्रिका पढ़ रही थी जिसमें अमिताभ बच्चन का साक्षात्कार था. उन्होंने कहा था कि एक फिल्म में हम कितने सीन करते हैं यह महत्वपूर्ण नहीं है बल्कि महत्वपूर्ण यह है कि फिल्म देखने के बाद थिएटर से बाहर आते समय लोग आपको याद रखें.’’ उन्होंने कहा ‘‘कमर्शियल हिन्दी सिनेमा में महिला कलाकारों के पास करने के लिए बहुत कुछ नहीं होता. लेकिन मुझे लगता है कि मैं भाग्यशाली हूं क्योंकि अब तक मैंने छोटे बड़े जो भी रोल किए हैं वह मेरे लिए अच्छे ही रहे.’’

Bollywood News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: प्रियंका चोपड़ा को सताता है असफलता का डर
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: ??????? ???????? ??????
First Published:

Related Stories

नवाजुद्दीन ने 'बाबूमोशाय बंदूकबाज' को दिल्ली में किया प्रमोट
नवाजुद्दीन ने 'बाबूमोशाय बंदूकबाज' को दिल्ली में किया प्रमोट

नई दिल्ली : बॉलीवुड अभिनेता नवाजुद्दीन सिद्दीकी ने अपनी आगामी फिल्म ‘बाबूमोशाय बंदूकबाज’...

लोगों को सामाज का मन समझने में समय लगता है : अक्षय कुमार
लोगों को सामाज का मन समझने में समय लगता है : अक्षय कुमार

मुंबई : सामाजिक संदेश देने वाली फिल्मों के लिए प्रसिद्ध अक्षय कुमार का मानना है कि लोगों को...

Box Office : जानें पहले दिन 'बरेली की बर्फी' ने की है कितनी कमाई?
Box Office : जानें पहले दिन 'बरेली की बर्फी' ने की है कितनी कमाई?

मुंबई : कृति सैनन, आयुष्मान खुराना और राजकुमार राव अभिनीत फिल्म ‘बरेली की बर्फी’ ने...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017