बिक गई मोदी की चाय

By: | Last Updated: Wednesday, 12 February 2014 2:23 PM

टीवी पर आने वाले विज्ञापनों में कुछ में कहा जाता है कि आप मेरा प्रोडक्ट खरीदो इसमें ये गुण है जबकि कुछ अलग विज्ञापन भी आते हैं जिसमें कोई कुछ बेचते हुए दिखाई नहीं देता. बस उपभोक्ताओँ को अपने ब्रांड की याद दिलाई जाती है. चाय पर चर्चा के जरिए नरेंद्र मोदी ने दोनों काम एक साथ कर दिए हैं. आमतौर पर एक रैली में हजारों की भीड़ जुटती है लेकिन इस तरह के हाईटेक संवाद के जरिए नरेंद्र मोदी ने अलग किस्म का मैसेज भेजा है. इस मैसेज में कई बातें कही अनकही तौर पर हैं.

 

पहला तो ये कि एक चाय बेचने वाला कहां से कहां पहुंच गया. नरेंद्र मोदी के बारे में जो जानकारी उपलब्ध है उसके मुताबिक नरेंद्र मोदी गुजरात के वडनगर रेलवे स्टेशन पर चाय बेचा करते थे. स्टेशन के पास स्कूल था और प्लेटफॉर्म पर पिता का चाय का ठेला. नरेंद्र उस वक्त दोनों कामों में सांमजस्य बैठा ही लेता था. गरीब घर से निकला नरेंद्र आज पीएम पद की कुर्सी का दावेदार है. ये बिल्कुल साफ मैसेज चाय पर चर्चा के जरिए नरेंद्र मोदी ने देश को दिया है. नरेंद्र मोदी और बीजेपी पुराने वक्त को भुनाने की कोशिश में हैं और ये ऐसा मैसेज है जो देश के बड़े तबके पर असर भी डाल सकता है.

 

दूसरा नरेंद्र मोदी का ये संवाद हाईटेक है. टीवी देखने वाली ऑडिएंस तक नरेंद्र मोदी ने ये मैसेज भी पहुंचा दिया है कि वो पूरे देश से जुड़े हैं और देश को बदलने के लिए नई तकनीक का इस्तेमाल भी जानते हैं. देश भर में 1200 जगहों से नरेंद्र मोदी जुड़े. नरेंद्र मोदी लगातार ऐसी चीजें कर रहे हैं जिससे वो देश के नेता के तौर पर साबित हो सकें. रन फॉर यूनिटी हो या फिर सरदार पटेल की विशाल प्रतिमा के लिए देश भर से लोहा मंगाना. इन सभी बातों के पीछे बीजेपी मोदी को गुजरात से निकाल कर देश का नेता साबित करना चाहती हैं.

 

इसके अलावा नरेंद्र मोदी ने ये भी संदेश दिया है कि वो देश की जनता से जुड़ना चाहते हैं ऐसा वो गुजरात में कर चुके हैं. नरेंद्र मोदी उन चुनिंदा मुख्यमंत्रियों में शामिल हैं जो इंटरनेट के जरिए अपने प्रदेश की जनता से जुड़े रहे हैं.

 

कांग्रेस की तरफ से कहा जा रहा था कि नरेंद्र मोदी पीक की तरफ बढ़ रहे हैं और इसके बाद उनका उतार शुरू होगा. पर कांग्रेस को गलत बताने के लिए बीजेपी ने चायकार्ड को विधानसभा चुनाव के बाद के लिए ही बचा कर रखा था. असम में पहुंच कर चाय से जुड़ना, मुंबई में चाय वालों को खास निमंत्रण, अब बीजेपी इस मोदी की चाय को गर्म करने की कोशिश में हैं. हाल के दिनों में लगभग हर रैली में मोदी अपनी पिछली जिंदगी और चाय बेचने का जिक्र कर रहे है और वो जानते हैं कि ये बात वोटरों तक पहुंच रही है.

 

Connect with Manish Sharma

 

FB https://www.facebook.com/manishkumars1976

 

Twitter  @manishkumars

Bollywood News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: बिक गई मोदी की चाय
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017