'मुद्दों की जगह व्यक्तिकेंद्रित हो गए हैं लोकसभा चुनाव'

By: | Last Updated: Wednesday, 26 March 2014 9:19 AM
‘मुद्दों की जगह व्यक्तिकेंद्रित हो गए हैं लोकसभा चुनाव’

सागर: लोकतांत्रिक समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष रघु ठाकुर ने कहा है कि अगले महीने शुरू होने वाले लोकसभा चुनाव मुद्दों की जगह व्यक्तिकेंद्रित होकर रह गए हैं, जिसकी वजह से देश को दो साल के अंदर फिर से लोकसभा के चुनावों का सामना करना पड़ सकता है.

 

ठाकुर ने आज यहां अपने आवास पर पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा, ‘‘लोकसभा चुनावों को लेकर देश में निराशा का माहौल है. चुनाव प्रचार से मुद्दे गायब हो गए हैं और व्यक्ति प्रमुख हो गए हैं. इससे न केवल मतदान कम होगा, बल्कि देश की जनता को वर्ष 2016-17 में फिर से चुनावों का सामना करना पड़ सकता है.’’ देश में चुनावों के मौजूदा स्वरुप के लिए देश की जनता को जिम्मेदार ठहराते हुए उन्होंने बताया कि जब तक जनता दलीय दुराग्रहों से अलग हटकर राष्ट्र व समाज के हितों को ध्यान में रखकर मतदान नहीं करेगी, हालात ऐसे ही बने रहेंगे.

 

नई सरकार के स्थायित्व एवं स्वरुप से जुड़े सवाल पर ठाकुर ने कहा कि देश में परिवारवाद और दलबदल का जोर बढ़ रहा है. उन्होंने कहा कि जहां एक ओर 60 की उम्र पार के नेता परिवार को स्थापित करने में लगे हैं, वहीं कुछ नेता जेबी पार्टियों को बनाने में लगे हुए है और इनके ही दम पर वे गठबंधन करने की जुगत में रहते हैं. उन्होंने आरोप लगाया कि देश के मौजूदा सियासी हालात ऐसे हैं, जिसके चलते सत्ता लोलुप गठजोड़ ही देश की सत्ता पर काबिज होने वाले हैं.

 

देश में सियासी माहौल बदलने के तरीकों के बारे में पूछे गए एक सवाल पर ठाकुर ने कहा कि देश में इस मुद्दे पर चर्चा शुरु किए जाने की जरुरत है कि कोई भी व्यक्ति एक पद पर दो बार से ज्यादा चुनाव न लड़ सके. साथ ही दो बार का कार्यकाल पूरा कर चुके विधायक या सांसदों के परिवार से अगले 10 वर्ष तक किसी को भी टिकिट न दिया जाए. उन्होंने कहा कि ऐसे ही उपाय किए जाने पर देश परिवारवाद एवं सामंतवाद से उबर पाएगा.

Bollywood News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: ‘मुद्दों की जगह व्यक्तिकेंद्रित हो गए हैं लोकसभा चुनाव’
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: ele2014
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017