रूस-यूक्रेन के शांति समझौता पर रूस को लेकर ओबामा 'आशान्वित और आशंकित'

रूस-यूक्रेन के शांति समझौता पर रूस को लेकर ओबामा 'आशान्वित और आशंकित'

By: | Updated: 18 Apr 2014 07:34 AM

वाशिंगटन: अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने जिनीवा में हुए समझौते के बाद कहा है कि उन्हें यूक्रेन में गंभीर हालात के सामान्य होने की उम्मीद है लेकिन इस बात को लेकर आशंकाएं भी जाहिर की हैं कि क्या रूस अपनी प्रतिबद्धताओं को पूरा करेगा?

 

ओबामा ने जिनीवा में अमेरिका, रूस, यूक्रेन और यूरोपीय संघ की चार पक्षीय वार्ता के बाद संवाददाताओं से कहा, ‘‘मैं नहीं समझता कि हम इस समय किसी चीज़ के बारे में आश्वस्त हो सकते हैं. मुझे लगता है कि संभावना है कि कूटनीति से स्थिति संभल जाए और हम अपने लक्ष्यों को हासिल करने की दिशा में बढ़ सकें जो कि यूक्रेन को अपने जीवन के बारे में अपने फैसले खुद करने की स्वतंत्रता देना है.’’

 

ओबामा ने कहा कि वार्ता के बाद वादों के संबंध में जारी किया गया भारी भरकम बयान संकेत देता है कि इमारतों पर कब्जा जमाए बैठे सभी अनियमित बलों, मिलिशिया और समूहों के निरस्त्रीकरण की जरूरत है.

 

उन्होंने कहा, ‘‘स्वैच्छिक तरीके से हथियार डालने वालों के लिए माफी की भी पेशकश थी ताकि पूर्वी और दक्षिणी यूक्रेन में कानून व्यवस्था बहाल की जा सके.’’

 

ओबामा ने कहा, ‘‘रूस ने उस बयान पर हस्ताक्षर किए हैं. और अब सवाल यह पैदा होता है कि क्या वे व्यवस्था बहाली के लिए अपने प्रभाव का इस्तेमाल करेंगे ताकि यूक्रेनवासी चुनाव करा सकें, विकेंद्रीकृत सुधारों की दिशा में बढ़ सकें, अर्थव्यवस्था को स्थिर कर सकें और विकास और लोकतंत्र के रास्ते पर बढ़ सकें और उनकी स्वायत्तता का सम्मान किया जाए.’’

 

उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन पिछले प्रदर्शन को देखते हुए मुझे नहीं लगता कि हम उन पर भरोसा कर सकते हैं और हमें पूर्वी और दक्षिणी यूक्रेन में रूसियों के हस्तक्षेप के प्रयासों का जवाब देने के लिए तैयार रहना होगा.’’

 

ओबामा ने कहा, ‘‘यदि वास्तव में हम कुछ सुधार देखते हैं तो निश्चित रूप से यह सकारात्मक होगा.’’ अमेरिकी राष्ट्रपति ने यूक्रेन में किसी प्रकार के सैन्य हस्तक्षेप की आशंका से इनकार किया और क्षेत्र में अशांति फैलाने के लिए रूस को जिम्मेदार ठहराया.

 

इसके पहले रूस ने यूक्रेन में ‘तनाव कम करने’ के समझौते की घोषणा की थी

 

जिनिवा: रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने घोषणा की कि पूर्व सोवियत गणराज्य में व्याप्त खतरनाक तनाव को कम करने के लिए यूक्रेन, अमेरिका और पश्चिमी देशों के साथ एक समझौता हो गया है.

 

जिनिवा में करीब आधे दिन चली वार्ता के बाद लावरोव ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘हमने एक दस्तावेज स्वीकार किया है, ‘17 अप्रैल का जिनिवा बयान’ जहां हमारे बीच तनाव को तुरंत कम करने के लिए कदम उठाने पर सहमति बनी है.’’

 

अमेरिकी विदेश मंत्री जॉन केरी, यूक्रेन के विदेश मंत्री एंड्री देश्चीत्स्या और यूरोपीय संघ की विदेश नीति प्रमुख कैथरीन एस्टन के साथ हुए समझौते पर उन्होंने कहा, ‘‘सभी अवैध हथियारबंद समूहों को नि:शस्त्र किया जाएगा, अवैध तरीके से जब्त की गई इमारतें उनके मलिकों को लौटायी जाएंगी.’’ लावरोव ने यह भी कहा कि रूस की यूक्रेन में सेना भेजने की कोई ‘इच्छा’ नहीं है.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest Bollywood News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story सिंगर पापोन के खिलाफ शिकायत दर्ज, फेसबुक लाइव में नाबालिग को किया था किस