40 years of Sholay: यदि ऐसा नहीं हुआ होता तो जिंदा होते शोले के 'जय'!

By: | Last Updated: Friday, 14 August 2015 12:21 PM
Amitabh Bachchan reveals a secret from ‘Sholay’ which you didn’t know!

नई दिल्ली: शोले के 40 साल पूरे होने पर अमिताभ ने फिल्म को लेकर एक बड़ा राज खोला है. फिल्म में जय का किरदार निभाने वाले अमिताभ ने कहा कि रिलीज के दिन जब फिल्म नहीं चली तो आखिरी सीन में ‘जय’ को जिंदा करने की तैयारी शुरू हो चुकी थी. क्या हुआ था साल 1975 में..सुनिए पूरी कहानी.

 

चालीस साल पहले आई ब्लॉकबस्टर फिल्म शोले में वीरू की गोद में जय को दम तोड़ते देख कई बार दर्शकों की आंखें नम हुई होंगी. अब तक आपने ये सीन कोई भूला नहीं होगा. लेकिन चालीस साल बाद खुलासा हुआ है कि शोले में जय मरने वाला ही नहीं था.

 

गब्बर के गुंडों की गोली खाने के बावजूद जय उठता और वीरू के साथ गब्बर का मुकाबला करता… लेकिन ये हो नहीं सका. दरअसल फिल्म के पहले दिन के खराब रिस्पॉन्स के बाद शोले बनाने वालों को लगा कि अमिताभ का फिल्म में मरना दर्शकों को पसंद नहीं आया. अमिताभ के घर हुई इस बैठक में ये भी तय हो गया कि फिल्म की शूटिंग अगले दिन यानी रविवार को की जाएगी और सोमवार शाम तक थियेटर में जो शोले दिखाई जाएगी उसमें जय आखिर तक जिंदा रहेगा.

 

अमिताभ के घर हुई बैठक के बाद मद्रास जो अब चेन्नई है वहां से शूटिंग का सामान रामनगर ले जाने का आदेश भी दे दिया गया. अब बस अगले दिन शूटिंग पर जाना था… लेकिन तभी रमेश सिप्पी का मन बदल गया.

 

सिप्पी गेट पर बोले- सोमवार तक देख लेते हैं. रमेश सिप्पी ने इतना कहा और फिर तत्काल शूटिंग करने का इरादा रोक दिया गया और देखते ही देखते फिल्म सुपरहिट हो गई.. वो साल 1975 था और ये साल 2015 है. चालीस साल बाद अमिताभ बताते हैं कि तब विधवा विवाह पर बनी एक फिल्म सफल हो गई थी इसलिए लगा कि अगर जया भादुड़ी और अमिताभ की शादी हो जाती तो चल पड़ती.

 

वैसे ये सारे फॉर्मूले धरे रह गए और जय की मौत के बाद दर्शकों से ऐसी सहानुभूति मिली कि बरसों तक दोस्त के लिए अपनी जान बचाने वाले जय-वीरू की दोस्ती के किस्से सुनाए जाते रहे.

 

VIDEO: फिल्म ‘शोले’ की दस गलतियां, जिन्हें आपने नोटिस नहीं किया होगा

 

दिलचस्प बात ये है कि फिल्म में गब्बर की मौत भी होनी थी लेकिन उसे भी बदल दिया गया. शोले जो सेंसर बोर्ड को दिखाई गई उसमें ठाकुर यानी संजीव कुमार गब्बर को मार डालता है लेकिन सेंसर बोर्ड के एतराज के बाद रमेश सिप्पी को क्लाईमेक्स बदलकर दिखाना पड़ा और ठाकुर गब्बर को पुलिस के हवाले कर देता है. यानी होता ये कि गब्बर मरता और जय जिंदा रहता. लेकिन ये सब अब किस्से-कहानियों में ही है.

 

हकीकत सिर्फ ये है कि शोले न सिर्फ सदी की सबसे कामयाब फिल्म बनी बल्कि इतिहास के पन्नों में भी दर्ज हो गई. हर किरदार लोगों के जेहन में आज भी जिंदा हैं चाहे वो जय हो या गब्बर… या फिर कोई और.

 

‘शोले’ के 40 साल होने पर अमिताभ ने कहा- गब्बर का किरदार करना चाहता था 

 

यह भी पढ़ें-

मूवी रिव्यू : ‘ब्रदर्स’ 

रणबीर के बारे में कुछ भी बोलने से कैटरीना ने किया इंकार 

‘ब्रदर्स’ को लेकर क्या बोले शाहरूख, सोनाक्षी और ऋतिक 

TRAILER: कपिल की डेब्यू ‘किस किसको प्यार करूं’ का ट्रेलर रिलीज 

सनी लियोनी की फिल्म ‘मस्तीजादे’ को सेंसर बोर्ड से हरी झंडी 

सेक्स पसंद है, इसमें शर्म जैसी कोई बात नहीं: अभय देओल

Bollywood News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Amitabh Bachchan reveals a secret from ‘Sholay’ which you didn’t know!
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: Amitabh Bachchan sholay
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017