BIRTHDAY SPECIAL: निर्देशक सुभाई घई ने 'म' की नैया लगाई पार

By: | Last Updated: Saturday, 24 January 2015 3:31 AM
BIRTHDAY SPECIAL SUBHASH GHAI

नई दिल्ली: ‘बॉलीवुड के शो-मैन’ नाम से मशहूर फिल्म निर्माता-निर्देशक सुभाष घई का जन्म पंजाबी पृष्ठभूमि वाले परिवार में 24 जनवरी, 1945 को हुआ. उनके पिता राजधानी दिल्ली में एक दंत चिकित्सक थे. घई ने अपनी शुरुआती पढ़ाई दिल्ली में की. बाद में ‘हरियाणा का दिल’ कहे जाने वाले रोहतक से वाणिज्य में स्नातक की शिक्षा ली.

 

घई बाद पुणे शहर में स्थित भारतीय फिल्म एवं टेलीविजन संस्थान (एफटीआईआई) चले गए. वहां से डिप्लोमा लेने के बाद उन्होंने 1970 में हिंदी सिनेजगत में काम करना शुरू किया.

 

घई ने हिंदी सिनेमा में अपने करियर की शुरुआत ‘तकदीर’ (1967) व ‘आराधना’ (1971) फिल्म में छोटी भूमिकाओं से बतौर अभिनेता की. ‘उमंग’ (1970) और ‘गुमराह’ (1976) फिल्म में उन्होंने मुख्य अभिनेता की भूमिका निभाई.

 

बतौर निर्देशक उनकी पहली फिल्म ‘कालीचरण’ (1976) थी, जिसमें अभिनेता शत्रुघ्न सिन्हा, रीना रॉय, अजीत और डैनी मुख्य भूमिका में थे. यह फिल्म उस समय की एक बड़ी हिट साबित हुई. वर्ष 1982 में उन्होंने अपनी पत्नी के नाम पर मुक्ता आर्ट्स प्राइवेट लिमिटेड नाम से एक फिल्म प्रोडक्शन कंपनी शुरू की.

 

1980 व 1990 के दशक के दौरान उन्होंने बॉलीवुड के नामचीन अभिनेता दिलीप कुमार के साथ मिलकर ‘कर्मा’ (1986), ‘सौदागर’ (1991) और ‘विधाता’ (1982) सरीखी फिल्मों का निर्देशन किया. घई ने ‘झकास’ अभिनेता अनिल कपूर और जैकी श्रॉफ के फिल्मी करियर को स्थापित करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई. वह ‘हीरो’ (1983) फिल्म के जरिए जैकी श्रॉफ को बतौर अभिनेता सबके सामने लाए.

 

‘म’ की लगाई नैया पार : घई की ‘म’ वर्ण वाली अभिनेत्रियों पर विशेष कृपादृष्टि रही है. माधुरी दीक्षित, मीनाक्षी शेषाद्रि, मनीषा कोईराला व महिमा चौधरी का उनकी कई फिल्मों में होना यह साबित करता है. उन्होंने हाल में अपनी फिल्म ‘कांची’ के जरिए इसी वर्ण के नाम वाली एक और अभिनेत्री को लांच किया, जिसका नाम मिष्ठी है.

 

फिल्मों में दिखा देश प्रेम : कभी बॉक्स ऑफिस को अपने इशारों पर नचाने वाले घई की कई फिल्मों में देश के प्रति उनका प्रेम झलकता है. फिर चाहे यह उनकी फिल्में ‘कर्मा’, ‘परदेस’, ‘यादें’ और कोई और क्यों न हो. उनके इसी देश प्रेम के बारे में ऑस्कर विजेता संगीतकार ए.आर. रहमान ने एक साक्षात्कार में कहा था कि घई ने ही उन्हें एक गाने में ‘जय हो’ शब्द का इस्तेमाल करने के लिए कहा था.

 

झोली में कई पुरस्कार : घई को वर्ष 1992 में ‘सौदागर’ फिल्म के लिए सर्वश्रेष्ठ निर्देशक के पुरस्कार से नवाजा गया. उन्होंने 1998 में ‘परदेस’ के लिए सर्वश्रेष्ठ पटकथा का पुरस्कार जीता. ‘इकबाल’ के लिए अन्य सामाजिक मुद्दों पर सर्वश्रेष्ठ फिल्म बनाने के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार जीता.

Bollywood News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: BIRTHDAY SPECIAL SUBHASH GHAI
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

गुलज़ार के जन्मदिन पर फैन्स को मिला तोहफ़ा, 1988 में बनी फिल्म ‘लिबास’ होगी रिलीज
गुलज़ार के जन्मदिन पर फैन्स को मिला तोहफ़ा, 1988 में बनी फिल्म ‘लिबास’ होगी...

मुंबई : जाने माने गीतकार और फिल्म निर्देशक गुलज़ार के 83वें जन्मदिन के मौके पर आज उनके फैन्स के...

माधुरी पर बनने वाले अमेरिकी शो की प्रोड्यूसर होंगी प्रियंका
माधुरी पर बनने वाले अमेरिकी शो की प्रोड्यूसर होंगी प्रियंका

मुंबई : बॉलीवुड की धक-धक गर्ल व डासिंग क्वीन के नाम से मशहूर अभिनेत्री माधुरी दीक्षित ने उनके...

धर्मेंद्र ने ट्विटर पर की शुरुआत
धर्मेंद्र ने ट्विटर पर की शुरुआत

मुंबई : दिग्गज अभिनेता धर्मेंद्र ने सोशल मीडिया वेबसाइट ट्विटर पर शुरुआत की है, जिस पर बेटे...

Watch : रिलीज हुआ 'भूमि' का पहला गाना 'ट्रिप्पी ट्रिप्पी', दिखा सनी का बोल्ड अंदाज
Watch : रिलीज हुआ 'भूमि' का पहला गाना 'ट्रिप्पी ट्रिप्पी', दिखा सनी का बोल्ड अंदाज

नई दिल्ली : संजय दत्त की आने वाली फिल्म ‘भूमि’ का पहला गाना ‘ट्रिप्पी ट्रिप्पी’ रिलीज हो...

मूवी रिव्यू: फीकी है 'बरेली की बर्फी'
मूवी रिव्यू: फीकी है 'बरेली की बर्फी'

स्टार कास्ट: आयुष्मान खुराना, कृति सैनन और राजकुमार राव, पंकज त्रिपाठी, सीमा पाहवा डायरेक्टर:...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017