मांझी की भूमिका के लिए मैंने असली पत्थरों को तोड़ा: नवाजुद्दीन

By: | Last Updated: Tuesday, 18 August 2015 11:04 AM

गहलौर (बिहार): अभिनेता नवाजुद्दीन सिद्दकी ने जब हिन्दी फिल्मों में हीरो बनने का सपना देखा था तो लोग उन्हें ‘सनकी’ कहते थे. कोई कहता था , दिमाग खराब हो गया है तो कोई कहता था ये सपना कभी सच नहीं होगा.

 

जिस तरह से दशरथ मांझी ने लोगों के उपहास की परवाह किए बिना 22 वषरें में पूरा पहाड़ तोड़ा उसी प्रकार अपने इस चरित्र को साकार करने में सिद्दकी जुनून की हद तक चले गए . इस फिल्म में वह दशरथ मांझी की भूमिका में हैं .

 

सिद्दकी ने को बताया, ‘‘लोग मुझे कहते थे कि मैं एक हीरो जैसा नही दिखता हूं, मैं पागल हूं, मैं इसे कैसे संभव करूंगा? यह लगभग 16 साल पहले की बात है.’’ केतन मेहता की आने वाली फिल्म ‘मांझी द माउंटेन मैन’ में मांझी के चरित्र को जीवंत करने वाले 41 वर्षीय अभिनेता ने बताया कि उन्होंने मांझी के उस जुनून को अभिनय के प्रति अपने जुनून से मिलाकर देखा और उसी शिद्दत के साथ इस भूमिका को किया.

 

उन्होंने बताया, ‘‘मैंने कभी नहीं सोचा था कि यह होगा. लेकिन जुनून और सनक से जिस तरह मांझी ने पहाड़ को काट दिया, मैंने भी अभिनय के लिए यही किया था.’’ उन्होंने बताया, ‘‘जब कभी भी आप काम शुरू करते हैं आप इन चीजों से तुलना करते हैं. मैंने मांझी की भूमिका में अभिनय के अपने जुनून को उतारा.’’ मांझी के जीवन पर आधारित इस फिल्म में अभिनेत्री राधिका आप्टे ने भी अभिनय किया है. ‘माउंटेन मैन’ के नाम से जाने जाने वाले मांझी गया जिले के गहलौर गांव के रहने वाले गरीब श्रमिक थे .

 

मांझी ने केवल एक हथौड़े और छेनी के इस्तेमाल से पहाड़ काट कर सड़क बनायी थी. मांझी ने ऐसा पत्नी की याद में किया था जिनका निधन पहाड़ के कारण नजदीकी अस्पताल ले जाने में काफी समय लगने और चिकित्सा सुविधा नहीं मिल पाने के कारण हो गया था. सिद्दकी ने बताया कि उन्होंने कहानी सुनी थी कि कैसे एक व्यक्ति ने अपने प्यार की खातिर एक पहाड़ को काट दिया लेकिन उन्हें तब तक यकीन नहीं हुआ जब तक मेहता ने उन्हें पटकथा नहीं सुनायी.

 

उन्होंने बताया, ‘‘जब मैंने पटकथा सुनी, मैंने केतन सर से कहा ‘‘यह वास्तविक कहानी है? यह अविश्वसनीय है. यह वास्तव में एक दिलचस्प कहानी है, दुनिया का कोई भी अभिनेता इसमें अभिनय करने से इंकार नहीं कर सकता.’’ चरित्र में पूरी तरह से डूब जाने के लिए जाने जाने वाले नवाज ने बताया कि उन्होंने छेनी उठाने और असली चट्टानों को तोड़ने से पहले भूमिका को बेहतर तरीके से जीवंत करने की खातिर मांझी के परिवार से मुलाकात की.

 

उन्होंने बताया, ‘‘हम यहां शूटिंग के लिए आये थे और मैंने मांझी के परिवार सहित कई लोगों से मुलाकात की. मांझी किस तरह के इंसान थे, इस बारे में मुझे बहुत सारी बातें मालूम हुयी और इससे मुझे बहुत मदद मिली.’’ उन्होंने बताया कि भूमिका के लिए मैंने असली पत्थरों को तोड़ा. ऐसा करना बहुत मुश्किल था और इससे मुझे अहसास हुआ कि 22 सालों तक निष्ठापूर्वक ऐसा करना उनके लिए कितना मुश्किल रहा होगा.

 

‘मांझी – द माउंटेन मैन’ इस शुक्रवार को सिनेमा घरों में प्रदर्शित होगी.

Bollywood News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Channelised my passion for acting in Manjhi’s role: Nawazuddin
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017