मूवी रिव्यू: 'सपनों' और 'अपनों' पर बनी जायकेदार फिल्म है 'शेफ'

मूवी रिव्यू: 'सपनों' और 'अपनों' पर बनी जायकेदार फिल्म है 'शेफ'

इस फिल्म की सबसे खास बात ये है कि इसमें सैफ अली खान एक हीरो की तरह नहीं बल्कि एक बाप की तरह दिखाया गया है. बाप की भूमिका में सैफ बिल्कुल फिट लगते हैं और एक्टिंग भी अच्छी की है.

By: | Updated: 06 Oct 2017 03:09 PM
स्टार कास्ट: सैफ अली खान, पद्मप्रिया जानकीरमन, दानिश कार्तिक, चंदन रॉय सान्याल, मिलिंद सोमन

डायरेक्टर: राजा कृष्णा मेनन

रेटिंग: ***

रोज-दौड़ती भागती आज की दुनिया में कभी-कभी ऐसा होता है जब लोग करियर और सपनों को पूरा करने के लिए अपनों को बहुत पीछे छोड़ जाते हैं. इस बात का एहसास उन्हें बहुत बाद में होता है कि सिर्फ पैसों से परिवार खुश नहीं होता बल्कि उन्हें आपका वक्त भी चाहिए होता है. सैफ अली खान की आज रिलीज हुई फिल्म 'शेफ' भी आपको सपनों और अपनों के बीच एक ऐसी ही कहानी दिखाती है. ये फिल्म दिखाती है कि अपने पैशन को पूरा करने के लिए ये जरूरी नहीं है कि आप परिवार को पीछे छोड़ दें बल्कि आप अगर उनकी अहमियत समझते हैं तो उनके साथ और प्यार की बदौलत से आप कुछ भी कर सकते हैं. ये फिल्म को हॉलीवुड की फिल्म ‘शेफ’ से प्रेरणा लेकर बनाई गई है जो कि सिंपल है और दिलचस्प भी. बाप-बेटे  ये फैमिली फिल्म आपको ऐसे रोड ट्रिप पर ले जाती है जिसमें डिलिशियस फूड तो है ही साथ ही इसमें बाप-बेटे का प्यार-दुलार और इमोशन भी  है.

chef

कहानी-
चांदनी चौक के रोशन कालरा घर से भाग जाता है क्योंकि वो शेफ बनना चाहता है लेकिन घर में इसकी इज़ाजत नहीं. न्यूयॉर्क में वो शेफ बन भी जाता है लेकिन एक दिन एक कस्टमर से हाथापाई की वजह से उसे वहां से निकाल दिया जाता. रोशन अपनी पत्नी से अगल हो चुका है और बेटे अरमान को थोड़ा बहुत टाइम वीडियो कॉल पर देता है. नौकरी से निकाले जाने के बाद वो बेटे से मिलने कोच्चि आता है.


maxresdefault


यहां उसे एहसास होता है कि अपने बेटे के साथ गुजारा हुआ पल उसकी ज़िंदगी के सबसे खूबसूरत पल हैं और वो उन्हें खोना नहीं चाहता. रोशन कालरा कहता भी है, ''काम से प्यार...प्यार से काम... इन सब में प्यार को कहीं रह ही गया.'' एक्स-वाइफ राधा मेनन (पद्म प्रिया) के कहने पर वो फूड ट्रक चलाने की प्लॉनिंग करता है.  इसके बाद ये फिल्म आपको एक बाप-बेटे के एक इमोशनल जर्नी पर ले जाती है जिससे कुछ लोग खुद भी रिलेट कर पाएंगे.


एक्टिंग

इस फिल्म की सबसे खास बात ये है कि इसमें सैफ अली खान एक हीरो की तरह नहीं बल्कि एक बाप की तरह दिखाया गया है. बाप की भूमिका में सैफ बिल्कुल फिट लगते हैं और एक्टिंग भी अच्छी की है. फिल्म में वो अपने बेटे को चांदनी चौक सहित उन कई जगहों पर ले जाते हैं जहां से उनकी यादें जुड़ी हैं. फिल्म में इन लम्हों को बहुत ही तसल्ली से शूट किया गया है. ये कुछ ऐसे पल हैं जो दिखाते हैं कि 'खाली पैसे देकर कोई बाप नहीं बन जाता.' सैफ के खाना बनाने के सीन को भी बहुत ही आराम से दिखाया गया है. अच्छी बात यही है कि यहां ऐसा नहीं है कि सैफ ने गैस जलाई और डिश तैयार...

saif-ali-khan-759

इसी साल सैफ फिल्म रंगून में भी नज़र आए थे उनकी भूमिका की तारीफ तो हुई थी लेकिन दर्शकों को ये फिल्म कुछ खास पसंद नहीं आई. हीरो के इमेज से बाहर निकलकर इस फिल्म के जरिए सैफ ने अपने एक्टिंग पर फोकस किया है.

काफी समय बाद इस फिल्म मिलिंद सोमन भी नज़र आए हैं और उन्हें पर्दे पर देखना अच्छा लगा. उनकी भूमिका थोड़ी सी है लेकिन उन्होंने इंप्रेस किया है.

सिंगल मदर की भूमिका में अभिनेत्री पद्मप्रिया जानकीरमन खूब जमी हैं. अकेले घर चलाना और बच्चे को बड़ा करना कोई आसान काम नहीं होता खासकर पति जिम्मेदारियों से भागता हो. ऐसी महिला के अंदर उठ रहे तूफान और हलचल को कई जगहों पर पद्मप्रिया ने अपने चेहरे से बोल जाती हैं. उनके एक्सप्रेशन कमाल के हैं, जब वो हंसती हैं तो खुशी आंखो में दिखती है.

इसके अलावा सैफ के दोस्त की भूमिका में चंदन रॉय सान्याल भी असर छोड़ जाते हैं.

डायरेक्शन

इस फिल्म के डायरेक्टर राजा कृष्णा मेनन हैं जिन्होंने पिछले साल एयरलिफ्ट फिल्म बनाई थी और खूब तारीफें बटोरी थी. करीब दो घंटे की ये फिल्म लंबी तो लगती है लेकिन डायरेक्टर ने सारे सीन को तसल्ली से दिखाया है. कहीं भी कोई जल्दबाजी नहीं है. ऐसा नहीं है कि सीन शुरू होते ही खत्म हो जाते हैं.


कहीं-कहीं बस ये कमी खलती है कि सैफ अली खान इस फिल्म में एक ही डिश बनाते कई बार दिखे हैं. साथ ही फिल्म में कहीं-कहीं कॉमेडी करने की कोशिश की गई है जिसमें हंसी नहीं आती.


क्यों देखें

ये एक फैमिली फिल्म है और देखने लायक है. इसमें पूरा ध्यान खाने और रिलेशन दो ही बातों पर फोकस किया गया है. फिल्म लोगों को आकर्षित करे इसके लिए प्यार, रोमांस, आइटम सॉन्ग इत्यादि जबरदस्ती नहीं डाले गए हैं. ये फिल्म आपको कोच्चि, गोवा और दिल्ली के रोड ट्रिप पर ले जाती है जिसके नज़ारे बहुत ही खूबसूरत हैं. ये एक डिलिशयस फिल्म भी है जिसे आपको परिवार के साथ जरूर देखना चाहिए.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest Bollywood News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story अवार्ड शो में परफॉर्म करने के लिए प्रियंका ने मांगी एक मिनट की एक करोड़ रुपए फीस