व्यक्ति विशेष: कपिल के सीने में उठता है ये हूक और वे तड़प उठते हैं

By: | Last Updated: Saturday, 19 September 2015 12:37 PM
full information kapil sharma

आस्था मजहब और रिश्ता. इंसान की जिंदगी में शामिल ये वो तीन ऐसे अहसास हैं जो उसके दिलो दिमाग को खुशियों और दुखों के नए – नए आसमान दिखाते हैं. रिश्तों की कसक और उसकी चुभन कभी इंसान को जीते जी मार देती है तो कभी उसकी जिंदगी को एक ऐसी दास्तान में तब्दली कर देती है जिसकी दुनिया आने वाली नस्लों को मिसाल देती है. ऐसी ही एक दिलचस्प दास्तान है बिट्टू की. पंजाब के पुराने शहर अमृतसर का वो मासूम बिट्टू आज बॉलीवुड की सतंरगी दुनिया में कॉमेडी का किंग कांग बन चुका है. कॉमेडी किंग कपिल शर्मा की ये दास्तान एक जर्रे के आसमान बनने की कहानी है. अमृतसर का ये बिट्टू आज एक बेहद कामयाब कलाकार है. उसके पास बंगला है, गाड़ी है, बैंक बैलेंस हैं. और हां मां भी है.

 

बॉलीवुड की सुनहरी दुनिया में कपिल शर्मा आज हाई डिमांड में हैं. टीवी के छोटे परदे से लेकर फिल्म के बड़े पर्दे तक उनकी शख्सियत के चर्चे हैं. फोर्ब्स इंडिया ने भी उन्हें देश के सौ सबसे असरदार लोगों में जगह दी है लेकिन कपिल शर्मा की इस चमकती कामयाबी के पीछे एक ऐसा अंधेरा भी छिपा है जिसने उनके दिल को आज भी बेकरार कर रखा है. अपनी कॉमेडी से सबको हंसाने वाले कपिल के सीने में रिश्ते का एक ऐसा जख्म दबा है जो आज भी उनके सीने में एक हूक बन कर उभर उठता है. 

 

सबको हंसाने और गुदगुदाने वाले कपिल शर्मा की जिंदगी में कैसे और क्यों छाई थी कभी वीरानी. अभिनेता कपिल शर्मा के मुताबिक मेरे जो फादर थे वो बहुत स्ट्रांग थे. क्योंकि याद है. मुझे जब पहली बार पता चला कि उनको कैंसर का प्रॉब्लम है. लेकिन जिस आदमी को है उसको भी होता होगा लास्ट टाइम पर क्योंकि जब हम सफदरजंग मे एडमिशन करवाया तो बड़ा मुश्किल से उनका एडमिशन हुआ उनका तब मुझे लगा कि जब किसी आदमी का जाने का टाइम आता है तब तो शायद उन्हें जाने का अहसास हो जाता है औऱ वो मुझे 2-3 चीजें बोलते थे कि दो तीन काम रह गए मेरे तो मैं हमेशा बोलता कि क्या काम रह गए आप हमेशा ऐसा क्यों बोलते हो कुछ नहीं होगा आपको तो बोलते नहीं यार तेरी बहन की शादी करनी थी और घर बना कर देना था तुम लोगों के लिए वो नहीं मैं कर पाया. तो वो जो 2004 का टाइम था बड़ा मुश्किल टाइम था.

व्यक्ति विशेष: कॉमेडियन कपिल शर्मा 

कपिल शर्मा का शो कॉमेडी नाइट विथ कपिल दो सौ से ज्यादा एपीसोड के साथ कामयाबी की नई बुलंदी पर पहुंच चुका है. इस शो से कपिल को बेशुमार शोहरत और दौलत मिली है और उनकी मां को अपने बेटे की कामयाबी का सुकून भी. कपिल शर्मा की कॉमेडी आज घर – घर में ठहाकों की शक्ल में गूंज रही हैं यहीं वजह है कि भारतीय टेलीविजन के इतिहास में वो ऐसे पहले कॉमेडियन के तौर पर दर्ज हो चुके हैं जिन्हें ना सिर्फ छोटे परदे पर बॉलीवुड के स्टार जैसा दर्जा हासिल हुआ है बल्कि उनकी आने वाली फिल्म किस – किस को प्यार करुं ने उन्हें बॉलीवुड का स्टार भी बना दिया है और इसी के साथ अब उनका वो सपना भी पूरा हो गया है जो उन्होंने कभी अपने पिता के साथ जागती आंखों से देखा था. 

 

अभिनेता कपिल शर्मा बताते हैं कि इसको आप मिक्सर कह सकते हैं आप हार्ड वर्क भी बहुत किया है और स्ट्रगल भी बहुत किया है ऐसी बात नहीं पर किस्मत भी कहीं न कहीं होती है क्योंकि मुझे ऐसा लगता है कि अगर आज मैं फिल्म कर रहा हूं बॉलीवुड में औऱ बड़े सारे लोगों का सपना होता है बहुत सारे लोग टैलेंटेड बैठे रहते हैं हजारों लोग रोज दादर में उतरते हैं स्टेशन पर लोग रोज इतने सारे उतरते हैं. और कुछ लोग तो पुश्तैनी अमीर होते हैं और इतना पैसा लेकर आते हैं कि यहां पर उनको सिर्फ राइट स्टोरी चाहिए होती है या राइट डॉयरेक्टर होते है उनके भी सपने पूरे नहीं होते हैं तो मुझे लगता है कि ये सब मिक्चर है और ऊपरवाले का करम है और मेरी मां की दुआएं है कि आज ये सब कुछ मेरे साथ हो रहा है.

 

टीवी के छोटे परदे से निकल कर कॉमेडियन कपिल शर्मा ने बॉलीवुड का स्टार बनने तक कामयाबी का एक लंबा सफर तय किया है लेकिन उनकी इस चमकती कामयाबी के पीछे दुख और दर्द का वो काला अंधेरा भी छिपा है जिसमें घुटकर ना जाने कितने लोगों के अरमान दम तोड़ देते हैं. पंजाब का शहर अमृतसर… और अमृतसर का कॉलेज कभी कपिल शर्मा की स्टूडेंट लाइफ का अहम पड़ाव रहा है. वो साल 1998 था जब कपिल शर्मा हिंदू कॉलेज में कामर्शियल आर्ट की पढ़ाई कर रहे थे और कॉलेज में पढ़ाई के दौरान ही एक लड़की को अपना दिल दे बैठे थे लेकिन कपिल की मोहब्बत ने जितनी तेजी से रफ्तार पकड़ी थी उतनी ही तेजी से उनकी मोहब्बत का मीटर डाउन भी हो गया था.

 

अभिनेता कपिल शर्मा ने बताया कि सर मैं कॉलेज में भी स्टार था मतलब मैं कॉलेज में काफी पापुलर था शुरु भी उसी ने किया था और खत्म भी उसी ने कर दिया था अभी उतना कोई मलाल नहीं है उस चीज का. मुझे ये लगता है कि प्यार व्यार के चक्कर में पड़ने से पहले न अपने काम पर फोकस करना चाहिए जब तक आप काम नहीं करते आप सैटल नहीं हो. सब की सब आपको धोखा ही देंगी क्योंकि आप कुछ करते ही नहीं कुछ हो आप उसको झेल ही नहीं सकते हो अगर अपने बाप के घर में कोई रानी बनकर रही हो और आप उसको कहो कि मैं प्यार बहुत करता हूं और आपको खाने के पास कुछ नहीं है तो ये प्यार कामयाब नहीं होते हैं. फिर मेरा एक ही फोकस था कि इस लाइन में कुछ करना है बस फिर वो दिखती हैं न आंख अर्जून को मछली की सिर्फ आंख दिखती है तो मुझे भी सिर्फ आंख ही दिखती थी.

 

अपनी माशूका के हाथों मोहब्बत में चोट खाने वाले कपिल शर्मा ने इस दर्द को तो हंसते – हंसते सह लिया था लेकिन उनके अहसास को उस चोट के दर्द ने हिला कर रख दिया जब उनके पिता ने वक्त से पहले ही दुनिया को अलविदा कह दिया था. वो साल 2004 था जो कपिल औऱ उनके परिवार पर किसी कयामत की तरह गुजरा था. दिल्ली के सफदर जंग अस्पताल में कपिल शर्मा के पिता जितेंद्र कुमार शर्मा ने अंतिम सांसे ली थी. दरअसल कपिल के पिता को कैंसर हो गया था लेकिन जब तक इस बीमारी के बारे में उनके परिवार को पता चलता तब तक काफी देर हो चुकी थी. कपिल शर्मा बताते हैं कि उनके पिता जिन दिनों सख्त बीमार थे तब भी वो अपने अभिनय को धार देने में लगे रहे. आखिर क्यों अपने पिता की बीमारी से अंजान रहे कपिल.

 

अभिनेता कपिल शर्मा बताते हैं कि जब मेरे पिताजी बहुत क्रिटिकल कंडीशन में थे दिल्ली में क्योंकि हम लोग दिल्ली में आते रहते थे तो मेरे बड़े भाई जो हैं जिन्हें अब मेरे फादर की जगह पुलिस में जॉब मिली है वो थे साथ में और मेरा प्ले था गर्ल्स कॉलेज के लिए जोनल हम लोग जीत चुके थे और फाइनल कांपटिशन था तो मेरे पिता ने उसको कहा कि मत बताना जो हो रहा है. तो उसको क्यों टेंशन देनी लेकिन मुझे पता तो था कि प्रॉब्लम तो है ही पर ये भी था कि कंपलिट करना है प्रोग्राम पैसे भी तब तक नहीं मिलेंगे और मुझे जब पहली बार पता चला कि उनको कैंसर का प्रॉब्लम है तो मैं बड़ा रोया बाहर मेरा भाई और मेरा एक दोस्त था हम सब लोग बड़ा दुखी हुए तो हमनें डॉक्टर से पूछा कि आपने उनको बताया कुछ तो उन्होंने कहा नहीं अभी तो हमने कुछ नहीं बताया है आप भी चाहो तो मत ही बताना. तो मैंने बोला अच्छा और फिर मैं बाहर गया और अपना मूड वगैरह ठीक वीक करके डैडी के पास हंसते हंसते गए कहते हैं क्या हुआ उनकी मेडिकल रिपोर्ट आनी थी उनकी ग्रोथ थी यूनिरल ब्लडर में तो मैंने बोला रिपोर्ट आ गई है और मैंने बोला सब ठीक है तो वो बोले कि वो तो कोई बता रहा है कि कैंसर है. तो चलो कोई नहीं ये तो होता रहता है औऱ सुनाओ खाना वाना लेकर आया मतलब उनका रिएक्शन देख कर लगा कि मेरे फादर को ये प्रॉब्लम है.

 

साल 2004 में कपिल और उनके परिवार को दोहरी मुश्किलों ने घेर लिया था. एक तरफ पिता का साया सिर से उठ गया तो वहीं दूसरी तरफ आर्थिक तंगी की वजह से उनके परिवार के लिए घर खर्च चलाना दुश्वार हो चुका था. तीन भाई – बहनों के परिवार का खर्च चलाने के लिए उनकी मां को मिलने वाली साढ़े तीन हजार रुपये की पेशन नाकाफी थी. उनका वो आशियाना भी अब छिन चुका था जो उनके पिता को सरकार की तरफ से रहने के लिए मिला था लेकिन ऐसे मुश्किल हालात के बीच भी कपिल ने अपने दिल के साथ दगा नहीं किया. अभिनय के रंग में रच – बस चुके कपिल शर्मा ने एक बार फिर उसी रास्ते पर कदम बढाने का फैसला किया जिस राह पर चलते हुए उन्हें अभी तक सिर्फ नाकामी ही हाथ लगी थी.   

 

अभिनेता कपिल शर्मा बताते हैं कि जब वो गए तो 2004-07 तक का टाइम 1997 से वो बिमार थे और 2004 तक उऩ्होंने काफी संघर्ष किया और बड़े जिंदादिल आदमी थे तो उसके बाद 2004-2007 तक का बड़ा मुश्किल टाइम था क्योंकि पापा ही नहीं थे तो जॉब भी नहीं थी खाली पेंशन आती थी मम्मी की वही करीब 3500-4000 हजार रुपए तो वो टाइम बड़ा मुश्किल था सरकारी क्वार्टर भी हमें खाली करना था तो इसके बाद मुझे लगता है कि ये उन्ही की ब्लैसिंग है मेरी बहन का हम लोगों ने सगाई कर दी थी औऱ उसकी शादी करनी थी.

 

जाहिर है कपिल के परिवार में आर्थिक हालात नाजुक थे. बहन के हाथ भी पीले करने थे लेकिन कमाई का कोई जरिया ना था लेकिन ऐसी मुश्किलों के बीच साल 2007 में वो पल भी आया जब कपिल शर्मा की किस्मत ने अचानक करवट बदल ली. स्टार टीवी पर आने वाले मशहूर कॉमेडी शो द ग्रेट इंडियन लॉफ्टर चैलेंज थ्री में कपिल शर्मा विजेता बन कर उभरे और फिर अगले कुछ ही सालों में वो कॉमेडी की दुनिया पर छा गए. लेकिन कपिल शर्मा की ये कामयाबी महज एक इत्तेफाक नहीं था बल्कि इसके पीछे उनके संघर्ष की वो सीढी रही है जिसका बोझ वो 14 बरस की कम उम्र से ही अपने कंधो पर उठाते रहे हैं.

 

अमृतसर का पीएनबी सीनियर सेकेंडरी स्कूल जहां से कपिल शर्मा ने अपने स्कूल की पढाई पूरी की है लेकिन जब वो दसवीं क्लास में पढ़ रहे थे तभी से उन्होंने शहर के एक पीसीओ में काम करना भी शुरु कर दिया था. कपिल शर्मा का कहना है कि वो ये काम महज अपने शौक पूरे करने के लिए किया करते थे. इसीलिए जब स्कूल में गर्मियों की छुट्टियां लगती तो वो साठ रुपये रोज की मजदूरी पर कपड़ा मिलों में रंगाई का काम भी करने जाते थे. वो ये भी बताते हैं कि उन्होंने कोको-कोला कंपनी के लिए भी काम किया है. कपिल का कहना है कि अपनी कमाई के पैसों से वो कभी कपड़े खरीदते तो कभी म्यूजिक सिस्टम खरीद कर म्यूजिक का अपना शौक पूरा किया करते थे. खास बात ये है कि स्कूल के दिनों में शुरु हुआ कपिल के संघर्ष का ये सिलसिला उनके कॉलेज में दाखिले के बाद भी थमा नहीं था और अपने इसी संघर्ष के दौरान उन्होंने अभिनय की बारिकियों का हुनर भी सीख लिया था.  

 

कपिल शर्मा बताते हैं कि अमृतसर में हम लोगों का ग्रुप हुआ करता था हम सब यार दोस्त थे जो कालेज से एक साथ ही निकले थे तो हम लोग कालेज में ही यूथ फेस्टिवल करते थे हालांकि कॉलेज में मैंने ज्यादा प्लेज किए हैं मैं दूसरे कॉलेजों में भी जाया करता था प्ले तैयार कराने के लिए तो जब मैंने करवाया तो उस प्रोसेस में मैंने बहुत कुछ सिखा है सो जब मैं लड़कियों के कॉलेज में जाता था तो मैं उनको परफॉर्म करके बताता था कि ऐसा नहीं ऐसा करो. तो कई लड़कियां तो ऐसी मिलती थीं कि वो मुझसे भी ज्यादा डबल एनर्जी में परफॉर्म करती थीं. फिर मुझे होता था कि नहीं यार ये तो मेरे से ज्यादा अच्छा परफॉर्म करती हैं तो अब मुझे जब दूसरी बार जाना है तो इससे बेहतर करना है और प्रोसेस में मैंने बहुत कुछ सिखा है. और नाट्यशाला में भी हम लोग प्ले करते थे.

 

अमृतसर पंजाब नाटशाला है जिसकी सीढियों पर बैठ कर कपिल शर्मा ने अपनी जिंदगी का एक लंबा वक्त गुजारा हैं, इसी नाटशाला में उन्होंने अपने अभिनय को हर दिन एक नई धार भी दी है औऱ यहीं से उन्हें पहली बार एक कलाकार के तौर पर पहचान भी मिली थी.

 

टीवी के परदे का सबसे पहला औऱ सबसे बड़ा कॉमेडी शो द ग्रेट इंडियन लॉफ्टर चैलेंज था इस शो ने कपिल शर्मा की जिंदगी और उनके करियर को एक नया आयाम दिया था. मायानगरी मुंबई में कैसे कपिल को ये पहला ब्रेक मिला था ये कहानी भी बेहद दिलचस्प है.

 

सोनी टीवी पर आने वाले शो कॉमेडी सर्कस में यूं तो कॉमेडी की दुनिया के एक से बढ कर एक कलाकार मौजूद थे लेकिन कपिल शर्मा की अदाकारी और उनकी हाजिर जवाबी ने इस शो में भी उनके प्रशंसकों का एक अलग वर्ग तैयार कर दिया था और अब कॉमेडी नाइट विथ कपिल ने तो लोकप्रियता के उनके ही पिछले रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं. साल 2013 में शुरु हुए कॉमेडी नाइट कपिल के दो सौ एपीसोड पूरे हो चुके है बावजूद इसके इस शो में कॉमेडी की ताजगी और उसका वहीं पैनापन आज भी लोगों को हंसा रहा है.

 

साल 2007 में स्टार टीवी पर आने वाले शो द ग्रेट इंडिया लॉफ्टर चैलेंज से कपिल शर्मा को एक नई पहचान मिली थी. सोनी चैनल पर आने वाले शो कॉमेडी सर्कस से उन्हें ढेर सारा ईनाम मिला और उनके खुद के शो कॉमेडी विथ कपिल से उन्हें शोहरत का सातंवा आसमान दिया है लेकिन कपिल की इस कामयाबी के पीछे संघर्ष की एक लंबी कहानी भी छिपी है.

 

पंजाब का ऐतिहासिक शहर है अमृतसर. इसी शहर में कपिल शर्मा ने अदाकारी के हुनर सीखे हैं. यूं तो स्कूल के दिनों में ही उन्होंने अभिनय की शुरुआत कर दी थी लेकिन कपिल को गाने का शौक ज्यादा था और उनका ये शौक कॉलेज में आने के बाद एक जुनून में तब्दील हो चुका था. कम ही लोग जानते है कि अमृतसर की इन्ही गलियों में भटकते हुए कपिल ने कभी बॉलीवुड में बड़ा सिंगर बनने का ख्वाब देखा था. कपिल के पिता भी चाहते थे कि उनका बेटा बड़ा आदमी बने लेकिन वक्त और हालात ने उन्हें एक कॉमेडियन बना दिया था. कॉलेज के उनके दोस्त याद कर बताते है कि अभिनय की एक शैली हिस्टोनिक्स में महारत रखने वाले कपिल शर्मा कैसे उन दिनों अपनी गायकी और अदाकारी के जुनून को सुबह –शाम यहां धार देते थे.

 

कपिल शर्मा के कॉलेज के दोस्त बताते हैं कि जब हम कॉलेज में रिहर्सल करते थे और कालेज के बाहर भी जब कही थियेटर करते थे. तो कई कई घंटो हम रिहर्सल करते रहते थे. यूथ फेस्टिव में भी होते थे तो कई कई घंटे उसकी रिहर्सल करते थे. एक दस मिनट की स्क्रिप्ट के लिए कई कई दिन कई कई घंटे रिहरस्ल करते थे. एक आधे घंटे के प्ले के लिए दो दो महीने रिहर्लस सारा सारा दिन रिहर्सल. इसी मेहनत की वजह से इसी ईमानदारी की वजह से कपिल आज इस जगह पर है.

 

कपिल शर्मा बताते हैं कि हिस्ट्रानिक बिना आपको कास्ट्यूम चैंज किए हुए यू हैव टू प्ले डिफरेंट कैरेक्टर्स जैसे कि एक आदमी खड़ा है सामने से खड़ा होकर बात कर रहा है और खुद ही जबाव दे रहा है और ये मेरे यूनिवर्सिटी का देन है सर, मैं कभी मेंशन करना नहीं भूलता गुरु नानक देव यूनिवर्सिटी अमृतसर और मुझे एक ही चीज का दुख था हमेशा कि मेरे स्कूल में म्यूजिक सबजेक्ट नहीं था और जो मैं सीखना चाहता था शायद लाइफ कुछ और होती अब भी टचवुड भगवान ने मुझे बहुत कुछ दिया है शायद इतना मैं डिसर्व नहीं करता था पर मुझे म्यूजिक का शौक भी था औऱ कॉमेडी मेरी एक्सीडेंटली हुई है.

 

अमृतसर की पुलिस कॉलोनी में कपिल शर्मा ने अपनी जिंदगी का शरुआती वक्त गुजारा है. कपिल के पिता पंजाब पुलिस में हेडकांस्टेबल थे और 18 अप्रैल 1981 को कपिल का जन्म भी पुलिस क्वॉर्टर में ही हुआ था खास बात ये है कि उनकी परवरिश भी पुलिसिया माहौल में हुई है. मायानगरी मुंबई आने और टेलीविजन स्टार बनने से काफी पहले कपिल शर्मा ने थियेटर कलाकार के तौर पर भी लंबा संषर्ष किया है. कॉलेज में पढाई के दौरान और उसके बाद भी उनका ज्यादातर वक्त नाटक और स्थानीय कार्यक्रमों में शो करते हुए गुजरता था. अमृतसर में उनका ये संघर्ष करीब दस सालों तक यूंही चलता रहा. इस दौरान कपिल शर्मा ने कई लोकल स्टेज शोज किए. खुद कपिल भी बताते है कि उन दिनों आस – पास के शहरों से जब कभी उन्हें बुलाया जाता था तो वो गाने या फिर कॉमेडी करने कार्यक्रमों में पहुंच जाते थे लेकिन फिर एक दिन अचानक कपिल की किस्मत का सितारा चमक उठा.

 

अमृतसर औऱ उसके आस-पास इसी तरह के छोटे – मोटे कार्यक्रम करते हुए कपिल शर्मा की किस्मत का सितारा भी धीरे – धीरे चमकने लगा था. पिता की मौत के एक साल बाद 2005 में कपिल को पहली बार पंजाबी चैनल एम एच वन के कॉमेडी शो में अपना हुनर दिखाने का बड़ा मौका मिला और इस शो में वो सेकंड रनरअप भी रहे. दरअसल ये पंजाबी शो उनके करियर में टर्निंग प्वाइंट साबित हुआ और यहीं से गायकी का उनका शौक कहीं पीछे छूटने लगा औऱ उनके जहन पर कॉमेडी हावी होती चली गई.

 

 

अभिनेता और कॉमेडियन कपिल शर्मा बताते हैं कि पढ़ाई के साथ में वो सर्कुलर एक्टिविटी है जो वो बहुत आपको बहुत कुछ सिखाती है क्योंकि वहां पर डिबेट होती है ड्रामा होता है सिंगिग कंपटिशन होता है उन्हीं में से कोई एक्टर निकलता है कोई नेता निकलते हैं जो बचपन से डिबेट में हिस्सा लिया होता है तो ये चीजें बहुत जरूरी हैं और मैंने उस स्टेज से बहुत कुछ सिखा है. औऱ मैंने जब कॉमेडी नाइट का एपिसोड शुरु किया था तो मैं उसका पहला एपिसोड शूट करने वहीं गया था.  हिस्ट्रानिक मैं वहां पर प्ले करता था तो वहां पर बड़ा रिस्पांस मिलता था क्योंकि कॉमेडी में क्या इंस्टेंट रिएक्शन मिलता है. मैंने पहली बार जो कॉमेडी की वो बेसिकली वो हिस्ट्रानिक में थी तो हिस्ट्रानिक में जब करता था तो जब रिस्पांस जो मुझे मिला तो मैंने कहा यार बड़ा मजा आता है लोगों को हंसाकर खुशी मिलती है तो हिस्ट्रानिक एक्चुअली शुरुआत थी मेरी.

 

कपिल शर्मा के दोस्त बताते हैं कि उसने एक पंजाबी कामेडी शो में काम किया उसमें वो रनर अप भी था. इसके अलावा अमृतसर में काफी शो होते थे इसके अलावा अगर किसी इवेंट में भी उसको बुलाते थे तो वो उसमें भी कर देता था. उसमें वो ज्यादातर सिंगिंग का करता था. औऱ उसके बाद जब उसको थोड़ा सा लगने लगा कि मैं कामेडी में अच्छा हूं तो वो कामेडी की तरफ भी बढने लगा.

 

जिन दिनों कपिल शर्मा थियेटर की दुनिया में संघर्ष कर रहे थे उस दौर में टीवी के परदे पर कॉमेडी शो द ग्रेट इंडियन लाफ्टर चैलेंज की धूम मची थी. साल 2006 में स्टैंडअप कॉमेडी के तड़़के वाला ये शो इंटरटेनमेंट इंडस्ट्री के टॉप कार्यक्रमों में शुमार किया जाता था. साल 2007 में लॉफ्टर चैलेंज सीजन थ्री के लिए जब अमृतसर में ऑडिशन हो रहे थे तब अपने दोस्तों के कहने पर कपिल शर्मा भी ऑडिशन देने पहुंचे थे लेकिन वो ऑडिशन में रिजेक्ट कर दिए गए हांलाकि उनके स्कूल के दोस्त चंदन सलेक्ट हो गए थे. ये वही चंदन है जो इस वक्त कॉमेडी नाइट विथ कपिल में राजू नौकर का किरदार निभा रहे हैं.

 

कपिल शर्मा बताते हैं कि मैं बहुत रोया था अपने दोस्तों के आगे जाकर मैनें कहा यार मेरी तो.. मैंने इतनी लंबी चौड़ी प्लानिंग नहीं की थी कभी मैं फिल्में करूंगा या कभी फिल्में आफर होंगी या फिर कभी अपना शो बनाऊंगा अपना तो एक ही चीज मुझे नजर आ रही थी कि सिंगर तो बन नहीं पाएंगे क्योंकि बहुत कंपटिशन हैं और पैसे भी नहीं है लगाने के लिए तो मेरा एक ही उद्देश्य मुझे दिखता था लॉफ्टर चैलेंज कि इसमें जाना है मुझे अच्छा वो आए अमृतसर ऑडिशन करने के लिए तो भगवान की कृपा से सबसे पहले मुझे रिजेक्ट किया उन्होंने तो मुझे समझ नहीं आया कि मैं करुं क्या और मैं घर नहीं गया और अपने दोस्त के घर चला गया जहां पर जाकर हम लोग बैठा करते थे और मैं उसको बोलूं कि यार ऐसा हो गया है टचवुड वो लोग मेरे इतने अच्छे दोस्त रहे हैं शुरु से कि नहीं फिर क्या हो गया मुंबई जाएंगे दोबारा ट्राई करेंगे किसी और जगह पर ट्राई करेंगे.

 

अमृतसर के स्कूल और कॉलेज में अपनी कॉमेडी का हुनर दिखाने वाले कपिल के लिए द ग्रेट इंडियन लॉफ्टर चैलेंज बड़ी चुनौती थी. अपने ही शहर में हुए ऑडिशन में रिजेक्ट होने के बाद वो इस शो के लिए दोबारा ऑडिशन देने दिल्ली जा पहुंचे थे और इस बार किस्मत को भी कपिल से हार माननी पड़ी. कपिल शर्मा ना सिर्फ द ग्रेट इंडियन लॉफ्टर चैलेंज तीन में सलेक्ट हुए बल्कि उन्होंने इस शो का खिताब भी अपने नाम कर लिया.

 

कपिल शर्मा के दोस्त बताते हैं कि काफी तैयारी की थी कपिल ने हमारे यहां पंजाब नाट्यशाला है उसके बाहर अक्सर वो बैठा रहता था उसके पास एक बैग था बैग में कापी और एक पेन था. और वो सोचता था खुद ही लिखता था. और अपनी इसी क्रिएटिविटी की वजह से कपिल आज इस मुकाम पर है.

 

कपिल शर्मा बताते हैं कि लोग डर रहे थे क्योंकि पाकिस्तान से एक बड़े ही सीनियर आर्टिस्ट है अमानुल्लाह खान तो सारे ऑर्टिस्ट डर रहे थे कि ये हमारे कंपटिशन में न आ जाए एक जोन बनाए थे कि 6 लोगों का होगा. तो उनसे सब डर रहे थे और मेरे कंपटिशन में वो आ गए मुझे मेरे यार दोस्त राजीव और चंदन भी थे वो बोले कि यार तेरे को डर नहीं लग रहा है तो बोला क्यों तो मैंने बोला देखो मैं तो मान के चला हूं कि हारना तो है ही क्योंकि जीत के चक्कर में मैं अपनी परफार्मेंस क्यों खराब करूं कि अब जीतना है जीतना है तो टेंशन आ जाएगी मैंने कहा हारना तो है ही हारूंगा भी तो अमानुल्लाह खान से हारूंगा तो पंजाब जाकर इज्जत होगी क्योंकि उनको सब जानते हैं पंजाब में अच्छा अमानुल्लाह से हार कर आया है मैंने कहा तेरे से हारकर जाऊंगा ने तो मेरी बेइज्जती होगी.

 

द ग्रेट इंडियन लॉफ्टर चैलेंज की चुनौती को हरा कर कपिल शर्मा कॉमेडी की दुनिया में अपनी अलग पहचान बना चुके थे. उन्होंने छोटे परदे पर कई शोज में भी काम किया. ये वो दौर था जब कपिल शर्मा की कॉमेडी शमशेर, रोशनलाल औऱ दलेर सिंह नाम के तीन किरदारों के आस-पास घूमती थी औऱ ये किरदार ही तब उनकी कॉमेडी की सबसे बडी पहचान बन गए थे.

 

लॉफ्टर चैलेंज की जबरदस्त कामयाबी ने कपिल शर्मा के लिए फिल्मों के दरवाजे भी खोल दिए थे लेकिन दूसरे हास्य कलाकारों के उलट उन्होंने फिल्मों के उन ऑफर को ठुकरा दिया था.

 

लॉफ्टर चैलेंज की चुनौती के बाद कपिल शर्मा टीवी के परदे पर कम ही नजर आए लेकिन कॉमेडी के उनके करियर को उस वक्त पंख लग गए जब कॉमेडी सर्कस नाम का उनका कॉमेडी शो टेलीविजन इंडस्ट्री में लोकप्रियता के पिछले सारे रिकॉर्ड तोड़ता चला गया.

 

फिल्म निर्देशक रोहित शेट्टी बताते हैं कि मेरा और उनका एसोसिएशन काफी पुराना है कॉमेडी सर्कस में मैं जज था जब वो कॉमेडी किया करते थे. तीन साल पुरानी बात है और आज वो जो कुछ भी है उनकी मेहनत उनकी लगन औऱ आज जो भी लोग है उनके साथ जुड़े हुए है बहुत अच्छे लोग है ये सारी टीम की वजह से और उनकी मेहनत की वजह से आज उनको ये कामयाबी मिली है.

 

 

 

कपिल शर्मा की कॉमेडी जितनी शानदार होती है स्टेज पर उनकी गलतियां भी उतनी ही जानदार होती है क्योंकि उन्होंने स्टेज पर अपनी गलतियों को भी कॉमेडी का रंग देकर इसे अपनी एक यूएसपी बना लिया था. कपिल शर्मा के भूल-चूक वाले इस अंदाज ने भी दर्शकों को हंसने पर मजबूर किया है. अपने हर एक्ट्स में गड़बडझालों का तड़का लगा कर वो खुद को दूसरे हास्य कलाकारों से अलग दिखाने की कोशिश करते रहे खास बात ये है कि अपनी इस कोशिश में वो कामयाब भी नजर आए है.

 

कपिल शर्मा बताते हैं कि मुझे लगता है कि जब भी आप स्टेंडअप कॉमेडी की बात करते हैं तो हमेशा आपको वही आदमी करता मिलेगा जो बड़ी छोटी सी जगह से निकला है बड़े छोटे शहर से निकला है जिसने बसों और ट्रेन में सफर किय़ा है और . अब आप देखिए मैंने 2007 के बाद कभी रेलवे स्टेशन नहीं देखा क्योंकि मुझे ट्रेन में जाने की जरुरत भी नहीं पड़ती और टाइम भी नहीं मिलता इतना सो उससे पहले जो ट्रेन का सफर किया है ट्रेन पकड़ना और जाना दूसरों की बगले सूंघते हुए और अपनी सुंघाते हुए जाना वो सब अब नहीं होता है पर वो 20-25 साल हमनें देखा है और मुझे शौक है सर. अलग अलग चेहरों के अलग अलग स्वभाव क्या होते हैं वो जानने का फिल्म के शूट के दौरान या जब मेरा सीन नहीं होता था तो मैं कैमरामैन के पास चला जाता था वो साउथ इंडियन था तो मैं पूछता कि ये लैस की जानकारी लेता नालेज में अपना लेने गया हूं पर उसका एक्सेंट उसका स्वभाव कैसा है बात करने का स्टाइल कैसा है वो सब चीजें कोई इंटेशनली ऑबजर्व नहीं करता हूं पर हो जाती है तो बस वहीं से पकड़ते हैं कैरेक्टर.

 

कॉमेडी नाइट्स विद कपिल शो से कपिल ने कामयाबी की नई उड़ान भरी है. कलर्स चैनल पर आने वाले इस शो को कपिल शर्मा सिर्फ होस्ट नहीं करते है बल्कि वो शो के निर्माता निर्देशक भी हैं. वो इस शो की स्क्रिप्ट भी लिखते हैं और अपनी टीम भी खुद ही चुनते हैं. नए रंग और नए तड़के के साथ आया कपिल शर्मा का ये कॉमेडी शो सुपर हिट रहा है. कॉमेडी नाइट्स विद कपिल नॉन फिक्शन कटैगरी में अपने दो सौ एपीसोड पूरे करने के साथ ही सबसे ज्यादा रेटिंग्स वाला शो भी बन चुका है. कपिल के इस शो की कामयाबी का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि उनके इस शो में बॉलीवुड का हर छोटा बड़ा सितारा पहुंचा है. सलमान और शाहरुख खान से लेकर करीना कूपर और परिणीति चोपड़ा जैसी हीरोइन भी कपिल के शो में मेहमान बन चुकी हैं. यही वजह है कि उन पर अपने शो में स्टार्स के साथ शोशेबाजी के आरोप भी लगते रहे हैं.

 

कपिल शर्मा के शो कॉमेडी विथ कपिल का फॉर्मेट ब्रिटेन के मशहूर टेलीविजन शो ‘द कुमार्स एट नंबर 42’ से लिया गया है. जिसमें वेम्ब्ले में रह रही ब्रिटिश भारतीय परिवार की कहानी है लेकिन कपिल शर्मा ने अपने इस शो में पंजाबी तड़का मारा है. शो के पंजाबी परिवार में बिट्टू है उसकी दादी अली असगर हैं इसमें अविवाहित बुआ का किरदार उपासना सिंह निभा रही हैं और सुनील और किकू बिट्टू के पड़ोसी बने हैं लेकिन कपिल शर्मा के शो को बड़ा झटका उस वक्त लगा था जब इसके एक अहम किरदार गुत्थी ऊर्फ सुनील ग्रोवर ने इस शो से किनारा कर लिया था मुंबई के गोरेगांव की फिल्म सिटी में कॉमेडी नाइट्स विद कपिल का सेट एक बार जल कर खाक भी हो चुका है लेकिन इन हालात से जूझते हुए कॉमेडी विथ कपिल आज भी जारी है.

 

कॉमेडियन से एक्टर और गायक बने कपिल शर्मा आज सफलता के सातवें आसमान पर हैं लेकिन वो आज भी अपने उन दोस्तों को भूले नहीं हैं जो अमृतसर में उनके संघर्ष के दिनों के साथी रहे हैं. वो आज भी अपने दिल में अपने पिता के उस दर्द को महसूस करते है जो उन्होंने कैंसर से लड़ते हुए बर्दाश्त किया और इसीलिए ऐसी चमकदार कामयाबी के बावजूद आज भी कपिल के दिल के किसी कोने तक हंसी का उजाला नहीं पहुंच सका है उनके दिल का एक कोना आज भी अधूरा है. आज भी खाली है.

 

महज नौ साल पहले अमृतसर की तंग गलियों से मुंबई की चमचमाती सड़को पर कदम रखने वाला अमृतसर का ये बिट्टू आज बॉलीवुड में कॉमेडी किंग के तौर पर पहचाना जाता है. बिट्टू बॉलीवुड का एक बड़ा सिंगर बनना चाहता था लेकिन वो बन गया कॉमेडी का सरताज. लेकिन अब छोटे परदे पर धूम मचाने के बाद इस बिट्टू ने फिल्मी परदे पर भी कदम रख दिया है और इसी के साथ पूरा हो गया है उसका एक और अरमान.

Bollywood News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: full information kapil sharma
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: ??????? ????? Kapil Sharma
First Published:

Related Stories

गुलज़ार के जन्मदिन पर फैन्स को मिला तोहफ़ा, 1988 में बनी फिल्म ‘लिबास’ होगी रिलीज
गुलज़ार के जन्मदिन पर फैन्स को मिला तोहफ़ा, 1988 में बनी फिल्म ‘लिबास’ होगी...

मुंबई : जाने माने गीतकार और फिल्म निर्देशक गुलज़ार के 83वें जन्मदिन के मौके पर आज उनके फैन्स के...

माधुरी पर बनने वाले अमेरिकी शो की प्रोड्यूसर होंगी प्रियंका
माधुरी पर बनने वाले अमेरिकी शो की प्रोड्यूसर होंगी प्रियंका

मुंबई : बॉलीवुड की धक-धक गर्ल व डासिंग क्वीन के नाम से मशहूर अभिनेत्री माधुरी दीक्षित ने उनके...

धर्मेंद्र ने ट्विटर पर की शुरुआत
धर्मेंद्र ने ट्विटर पर की शुरुआत

मुंबई : दिग्गज अभिनेता धर्मेंद्र ने सोशल मीडिया वेबसाइट ट्विटर पर शुरुआत की है, जिस पर बेटे...

Watch : रिलीज हुआ 'भूमि' का पहला गाना 'ट्रिप्पी ट्रिप्पी', दिखा सनी का बोल्ड अंदाज
Watch : रिलीज हुआ 'भूमि' का पहला गाना 'ट्रिप्पी ट्रिप्पी', दिखा सनी का बोल्ड अंदाज

नई दिल्ली : संजय दत्त की आने वाली फिल्म ‘भूमि’ का पहला गाना ‘ट्रिप्पी ट्रिप्पी’ रिलीज हो...

मूवी रिव्यू: फीकी है 'बरेली की बर्फी'
मूवी रिव्यू: फीकी है 'बरेली की बर्फी'

स्टार कास्ट: आयुष्मान खुराना, कृति सैनन और राजकुमार राव, पंकज त्रिपाठी, सीमा पाहवा डायरेक्टर:...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017