बर्थडे स्पेशल: डांस की वजह से फिल्मों में आईं वहीदा रहमान, गुरूदत्त से अफेयर के चर्चे रहे

By: | Last Updated: Wednesday, 3 February 2016 1:09 PM
Happy Birthday Waheeda Rehman

नई दिल्ली: दशकों से सिनेमा प्रेमियों के दिलों पर राज करने वाली वहीदा रहमान की खूबसूरती के सभी कायल हैं. उन्होंने अपनी खूबसूरती और बेहतरीन अभिनय से सबको अपना दीवाना बनाया. बचपन से ही नृत्य और संगीत के प्रति दिलचस्पी रखने वाली अदाकारा असल जिंदगी में डॉक्टर बनना चाहती थीं. वह पद्मश्री और पद्मभूषण पुरस्कार से सम्मानित अभिनेत्री हैं.

वहीदा खुशकिस्मत थीं कि नाचने-गाने के उनके शौक को माता-पिता ने सराहा और उन्हें हमेशा आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया.

आंध्र प्रदेश के विजयवाड़ा में एक परंपरागत मुस्लिम परिवार में 14 मई 1936 को जन्मी वहीदा रहमान की गिनती बॉलीवुड की शीर्ष अभिनेत्रियों में की जाती है. यहां तक कि इस अभिनेत्री के बेशुमार प्रशंसकों के बीच बॉलीवुड के ‘शहंशाह’ अमिताभ बच्चन उनके सबसे बड़े प्रशंसक हैं.

वहीदा वैसे तो बचपन में डॉक्टर बनना चाहती थीं, लेकिन किस्मत में कुछ और ही लिखा था. उन्होंने डॉक्टरी की पढ़ाई शुरू भी की, लेकिन फेफड़ों में इंफेक्शन की वजह से यह कोर्स वह पूरा नहीं कर सकीं.

माता-पिता के मार्गदर्शन में वहीदा भरतनाट्यम नृत्य में निपुण हो गईं. इसके बाद वह मंचों पर प्रस्तुतियां देने लगीं, फिर उन्हें नृत्य के कई प्रस्ताव मिले, लेकिन वहीदा की कम उम्र के चलते उनके अभिभावकों ने उन प्रस्तावों को ठुकरा दिया. जब पिता का निधन हो गया, तब घर में आर्थिक संकट के चलते वहीदा ने मनोरंजन-जगत का रुख किया. उन्हें वर्ष 1955 में दो तेलुगू फिल्मों में काम करने का मौका मिला.

waheeda-youtube-first-waheeda-rehman-hindi-still_8e7771d6-ca41-11e5-9175-b0581234e99b

कुछ ही दिनों बाद हिंदी सिनेमा के अभिनेता, निर्देशक व निर्माता गुरुदत्त ने उनका स्क्रिन टेस्ट लिया और पास होने पर उन्हें फिल्म ‘सीआईडी (1956)’ में खलनायिका का किरदार दिया. अभिनय के अपने हुनर से उन्होंने इस किरदार में जान डाल दी, इसके बाद उन्हें एक के बाद एक फिल्में मिलनी शुरू हो गईं. ‘सीआईडी’ की कामयाबी के बाद फिल्म ‘प्यासा’ (1957) में वहीदा रहमान को बतौर नायिका के रूप में लिया गया.

गुरुदत्त और उनके प्रेम-प्रसंग के किस्से भी चर्चा में रहे. गुरुदत्त और वहीदा रहमान अभिनीत फिल्म ‘कागज के फूल’ (1959) की असफल प्रेम कथा उन दोनों की स्वयं के जीवन पर आधारित थी. इसके बाद दोनों ने फिल्म ‘चौदहवीं का चांद’ (1960) और ‘साहिब बीवी और गुलाम’ (1962) में साथ-साथ काम किया.

वहीदा ने अपने करियर की शुरुआत में गुरुदत्त के साथ तीन साल का कॉन्ट्रेक्ट किया था, जिसमें उन्होंने शर्त रखी थी कि वह कपड़े अपनी मर्जी के पहनेंगी और उन्हें कोई ड्रेस पसंद नहीं आई तो उन्हें पहनने के लिए मजबूर नहीं किया जाएगा.

गुरुदत्त ने 10 अक्टूबर, 1964 को कथित रूप से आत्महत्या कर ली थी. इसके बाद वहीदा अकेली हो गईं, लेकिन उन्होंने अपने करियर से मुंह नहीं मोड़ा. राज कपूर के साथ फिल्म ‘तीसरी कसम’ में उन्होंने नाचने वाली हीराबाई का किरदार निभाया था और नौटंकी में गया था- ‘पान खाए सैंया हमारो..मलमल के कुर्ते पर पीक लाले लाल’ जो काफी लोकप्रिय हुआ. बिहार के फारबिसगंज की पृष्ठभूमि पर बनी इस फिल्म को राष्ट्रीय पुरस्कार मिला था.

सन् 1965 में ‘गाइड’ के लिए वहीदा को फिल्मफेयर अवार्ड मिला. 1968 में आई ‘नीलकमल’ के बाद एक बार फिर से वहीदा रहमान सभी का आकर्षण रहीं, इस फिल्म में वह अभिनेता मनोज कुमार और राजकुमार के साथ नजर आई थीं, यह फिल्म उनके करियर को बुलंदियों तक पहुंचाने में सफल साबित हुई.

इसके बाद, अभिनेता कंवलजीत ने शादी का प्रस्ताव रखा, जिसे वहीदा रहमान ने खुशी से स्वीकार कर लिया और शादी के बंधन में बंध गईं. वर्ष 2002 में उनके पति का आकस्मिक निधन हो गया. वह एक बार फिर अकेली हो गईं, लेकिन टूटी नहीं, उन्होंने हार नहीं मानी.

वहीदा ने 2006 ‘रंग दे बसंती’ के बाद ‘पार्क एवेन्यू’, ‘मैंने गांधी को नहीं मारा’, ‘ओम जय जगदीश’ जैसी कई फिल्मों में अपने अभिनय के जलवे बिखेरे. वहीदा और देव आनंद की जोड़ी को भी दर्शकों ने खूब सराहा. दोनों ने ‘सीआईडी’, ‘काला बाजार’, ‘गाइड’ और ‘प्रेम पुजारी’ जैसी सफल फिल्मों में काम किया.

वहीदा का जिक्र आते ही सिने प्रेमियों को अक्सर फिल्म ‘गाइड’ की याद आ जाती है. इसमें वहीदा रहमान और देवानंद की जोड़ी ने ऐसा कमाल किया कि दर्शक सिनेमाघरों में फिल्म देखने को टूट पड़ते थे. वहीदा को इस फिल्म के लिए बेस्ट एक्ट्रेस का फिल्मफेयर पुरस्कार मिला था.

उपलब्धियां : वहीदा ने अपने फिल्मी करियर के दौरान दो बार फिल्मफेयर का पुरस्कार जीता, पहला सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री पुरस्कार उन्होंने 1969 की फिल्म ‘नीलकमल’ और दूसरा 1967 की ‘गाइड’ के लिए जीता. अभिनय के क्षेत्र में बेमिसाल प्रदर्शन करने वाली वहीदा को 1972 में पद्मश्री और साल 2011 में पद्मभूषण पुरस्कार से सम्मानित किया गया.

बुजुर्ग हो चुकीं अभिनेत्री वहीदा अब भी पूरी तरह सक्रिय हैं, लेकिन अब फिल्मों में काम करने को इच्छुक नही हैं. वह अपना पूरा समय परिवार को ही देना चाहती हैं.

Bollywood News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Happy Birthday Waheeda Rehman
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017