खुलासा: KBC से पहले बिग बी को हुआ था टीबी, ब्लॉग में बताया कैसे पाई निजात

By: | Last Updated: Tuesday, 24 March 2015 5:23 AM
HOW AMITABH BACHCHAN DEFEATED TB

नई दिल्ली: बॉलीवुड मेगास्टार अमिताभ बच्चन ने खुलासा किया है कि 2000 में टेलीविजन रिएलिटी शो ‘कौन बनेगा करोडपति’ के लांच से पहले उन्हें टीबी हो गई थी. लेकिन इसकी वजह से उनके काम पर कोई असर नहीं पड़ा. वह दवा लेते रहे और साथ में काम भी करते रहे.

 

आज विश्व टीबी दिवस है. इस मौके पर बिग बी ने ने इस बीमारी से लड़ने के अपने अनुभव को साझा किया है. अमिताभ को अब इस बीमारी के खिलाफ मुंबई नगर निगम का ब्रैंड ऐंबैसडर बनाया गया है. आज अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया में बिग बी का ब्लॉग छपा है जिसमें उन्होंने बताया है कि टीबी जैसी गंभीर बीमारी ने उन्होंने कैसे निजात पाई.

 

बिग बी ने खुलासा किया है कि साल 2000 में टेलीविजन रिएलिटी शो ‘कौन बनेगा करोडपति’ के लांच से पहले उन्हें टीबी हो गई थी. लेकिन इसकी वजह से उनके काम पर कोई असर नहीं पड़ा. वह दवा लेते रहे और साथ में काम भी करते रहे. अमिताभ बच्चन ने कहा लिखा है, ”2014 में मुनिसिपल कॉरपोरेशन ऑफ ग्रेटर मुंबई (एमसीजीएम) ने टीबी के इलाज और रोकथाम के लिए ‘टीबी हारेगा, देश जीतेगा’ अभियान की शुरूआत की. इस कैंपेन से जुड़ने के लिए मुझसे संपर्क किया गया तो मैं तैयार हो गया. मुझे महसूस हुआ कि देशवासियों को इस बीमारी के बारे में अवगत कराना मेरी ड्यूटी है. मुझे पता है कि इसके इलाज में किस प्रकार के अनुशासन और कठिनाई का सामना करना पड़ता है. इस कैंपेन के जरिए मैं लोगों के साथ सार्वजनिक मंच पर अपने अनुभव को साझा कर सका.”

 

बिग बी ने लिखा है, ”हमारी सरकार और ऑथरिटीज को टीबी खत्म करने के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ती है. रिवाइज्ड टीबी कंट्रोल प्रोग्राम (आरएनटीसीपी) 400000 डॉट्स सेंटरों के जरिए संचालित होता है. देश भर में इस प्रोग्राम द्वारा मुफ्त में बीमारी की पहचान की जाती है और दवा दी जाती है. भारत में स्वास्थ्य सिस्टम इस प्रकार खड़ा होने में सक्षम है ताकि टीबी को जड़ से खत्म किया जा सके.”

 

अमिताभ ने लिखा है, ”टीबी के होने के बाद इंसान का पूरा स्वास्थ्य बिगड़ जाता है. इसके चलते थूक में खून, वजन में कमी, कमजोरी और बुखार रहता है. इस बीमारी के बारे में अवेयरनेस इसलिए भी जरूरी है क्योंकि अगर इलाज नहीं हुआ तो टीबी जानलेवा हो सकती है. कभी ऐसा भी समय था जब दवा और बचाव की कमी के कारण टीबी के मरीज को बहिष्कृत कर दिया जाता था और मान लिया जाता था कि इसका इलाज नहीं हो सकता है. लेकिन आधुनिक युग में ऐसे उपकरण हैं जो कि टीबी के मरीज की पूरी तरह से न केवल पहचान कर सकते हैं बल्कि समय रहते इलाज शुरू कराने में सक्षम हैं.”

 

बिग बी ने मंगलवार को मुंबई में आयोजित एक प्रेस कॉंफ्रेंस में भी बताया, ‘टीबी की बात पता चलते ही मैंने इलाज शुरू करा दिया था, इलाज के कारण मेरे काम पर असर नहीं पड़ा. मैं शो के लिए शूटिंग करता रहा. टीबी की मॉर्डन मेडिकेशन इस हद तक विकसित हो चुकी है कि इस बीमारी के बावजूद आप कम से कम बाधा के बीच अपने दैनिक कार्य कर सकते हैं.’ अमिताभ ने कहा, ‘मैंने इस बीमारी के दौरान पूरा ट्रीटमेंट लिया. इस ट्रीटमेंट में मुझे रोजाना 10 से 12 दवाएं लेनी पड़ती थीं. मैं चाहता तो विदेश जा सकता था, लेकिन मुझे यहां के डॉक्टरों पर पूरा भरोसा था. मैंने अपनी दवाओं का कोर्स पूरा किया और आज मैं आपके सामने हूं.’

 

बिग बी ने अपने ब्लॉग में कहा है कि पोलियो अभियान का हिस्सा बनने उनके लिए गर्व की बात है और उन्होंने इस ऐतिहासिक अभियान में अपना छोटा सा हिस्सा निभाकर वे बहुत खुश हैं. बिग बी लिखते हैं, ‘अब हमारा लक्ष्य है कि हम देश को टीबी मुक्त बनाएं. मुझे उम्मीद है कि मैं इस ऐतिहासिक उपलब्धि का हिस्सा बनूंगा जो कि हमारे देश के लोगों को खुशहाल और स्वस्थ जीवन जीने में मदद करेगा. मैं प्रार्थना करता हूं कि ‘टीबी हारेगा देश जीतेगा’ का हमारा बहुत ही जल्द पूरा होगा.’

Bollywood News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: HOW AMITABH BACHCHAN DEFEATED TB
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017