यूएन में शरीफ ने उठाया कश्मीर मुद्दा, विदेश सचिव वार्ता रद्द करने का दोष भारत पर मढ़ा

By: | Last Updated: Friday, 26 September 2014 7:50 PM

संयुक्त राष्ट्र: पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने आज संयुक्त राष्ट्र महासभा में कश्मीर मुद्दा उठाया और भारत पर इस बात की तोहमत लगायी कि उसने विदेश सचिव स्तर की वार्ता को रद्द कर लंबित मुद्दों का समाधान करने के लिए एक अन्य अवसर को गंवा दिया.

 

उन्होंने दावा कि कश्मीर के मूल मुद्दे पर पर्दा नहीं डाला जा सकता. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान बातचीत के जरिये इस समस्या का समाधान निकालने के मकसद से काम करने के लिए तैयार है.

 

शरीफ ने वार्षिक संरा महासभा को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘जम्मू कश्मीर के लोगों को आत्म निर्णय का अधिकार दिलाने का हमारा समर्थन और पैरवी कश्मीर विवाद का एक पक्ष होने के नाते हमारी ऐतिहासिक प्रतिबद्धता एवं दायित्व है.’’

 

भारत को ताने मारते हुए शरीफ ने कहा कि छह दशक से भी पहले संयुक्त राष्ट्र में जम्मू कश्मीर में जनमत संग्रह कराने के लिए प्रस्ताव पारित किया गया था.

 

उन्होंने कहा, ‘‘जम्मू कश्मीर के लोग अब भी उस वादे को पूरा किए जाने का इंतजार कर रहे हैं. कश्मीरियों की कई पीढ़ियां आधिपत्य में रहीं और :उनके साथ: हिंसा हुई तथा उनके मौलिक अधिकारों का हनन हुआ. खासकर कश्मीरी महिहलाएं भयंकर मुसीबत और अपमान से गुजरी हैं. ’’

 

उन्होंने कहा कि दशकों तक संयुक्त राष्ट्र के तत्वाधान एवं एवं लाहौर घोषणापत्र के आलोक में द्विपक्षीय ढंग से भी इस विवाद को सुलझाने के प्रयास किए गए.

 

शरीफ ने कहा, ‘‘जम्मू कश्मीर का मूल मुद्दा सुलझाया जाना है. यह अंतरराष्ट्रीय समुदाय की जिम्मेदारी है. जबतक जम्मू कश्मीर के लोगों की इच्छा के अनुसार कश्मीर मुद्दे का हल नहीं कर लिया जाता, उस पर हम पर्दा नहीं डाल सकते. ’’

 

पाकिस्तानी उच्चायुक्त ने भारत की चेतावनी को नजरअंदाज करते हुए कश्मीरी अलगाववादी हुर्रियत नेताओं से भंेट की थी जिसके बाद भारत ने विदेश सचिव स्तर की वार्ता रद्द कर दी थी.

 

शरीफ ने कहा, ‘‘हमें विदेश सचिव स्तर की वार्ता रद्द होने से निराशा हुई. अंतरराष्ट्रीय बिरादरी ने भी इसे गंवा दिए जाने वाले अवसर के रूप में देखा. ’’ उन्होंने कहा, ‘‘पाकिस्तान मानता है कि हमें विवादों के हल तथा आर्थिक एवं व्यापारिक संबंध कायम करने के लिए वार्ता प्रक्रिया में लगा रहना चाहिए. शांति के लाभांश की उपेक्षा नहीं करे. ’’

 

भारत और पाकिस्तान दोनों ने अलग अलग कहा है कि संयुक्त राष्ट्र महासभा के सत्र के अवसर पर शरीफ और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आपस में भेंटवार्ता करने का कोई निर्धारित कार्यक्रम नहीं है.

 

हालांकि शरीफ ने संकेत दिया कि पाकिस्तान भारत के साथ वार्ता प्रक्रिया की बहाली के विरूद्ध नहीं है.

 

उन्होंने कहा, ‘‘पाकिस्तान बातचीत के जरिए इस समस्या का हल करने की दिशा में प्रयास करने को तैयार है. ’’

 

शरीफ ने कहा, ‘‘पाकिस्तान इस क्षेत्र में हथियारों की दौड़ में शामिल नहीं हो रहा. लेकिन हम उभरते सुरक्षा परिदृश्य और हथियारों के बनते जखीरों से बेपरवाह नहीं हो सकते. शानदार एवं भरोसेमंद प्रतिरोधक बनाए रखना हमारी भी बाध्यता है. ’’

Bollywood News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: India_Pakistan_Kashmir_United Nation_Nawaz Sharif_
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017