हैप्पी बर्थडे: जॉनी वॉकर जिनकी 'हास्य चम्पी' थी बेमिसाल

By: | Last Updated: Tuesday, 11 November 2014 4:02 AM
jony walker birthday special

नई दिल्ली: कहते हैं कि रुलाने से कहीं ज्यादा मुश्किल होता है, हंसाना. लेकिन बॉलीवुड के मसखरे (हास्य अभिनेता) जॉनी वाकर ने अपनी मजाकिया भाव-भंगिमाओं से करोड़ों सिनेप्रेमियों को न केवल गुदगुदाया, बल्कि अपनी ‘चम्पी’ (गीत) से उनकी सारी थकान भी उतारते रहे.

 

जॉनी वाकर ने अपने चेहरे के हाव-भाव की बदौलत ही ‘जाने कहां मेरा जिगर गया जी’ (मिस्टर एंड मिसेज 55), ‘सिर जो तेरा चकराए या दिल डूबा जाए’ (प्यासा) और ‘ऐ दिल है मुश्किल जीना यहां’ जैसे गीतों को सदा के लिए अमर कर दिया. वह अपने मासूम, लेकिन शरारती चेहरे से सबको अपनी ओर खींचने का माद्दा रखते थे.

 

1925 को इंदौर में जन्मे वाकर का असली नाम बदरुद्दीन जमालुद्दीन काजी था. फिल्म जगत में आने से पहले वह एक बस कंडक्टर थे. उनके पिता श्रीनगर में एक कपड़ा मिल में मजदूर थे. कपड़ा मिल बंद हुई तो पूरा परिवार मुंबई आ गया. पिता के लिए अपने 15 सदस्यीय परिवार का भरण-पोषण करना मुश्किल हो रहा था.

 

पिता के कंधों से भार कुछ कम करने के लिए बदरुद्दीन बंबई इलेक्ट्रिक सप्लाई एंड ट्रांसपोर्ट (बेस्ट) बसों में एक कंडक्टर की नौकरी करने सहित विभिन्न व्यवसायों में हाथ आजमाने की कोशिश करते रहे.

 

27 की उम्र में वह दादर बस डिपो में मुख्य रूप से तैनात रहे. बदरुद्दीन बस में यात्रियों का टिकट काटने के अलावा अजीबोगरीब किस्से-कहानियां सुनाकर यात्रियों का मन बहलाते रहते. इसके पीछे उनका मकसद यही थी कि कोई उनकी गुप्त प्रतिभा (अदाकारी) को पहचान ले. उनकी यह इच्छा पूरी भी हुई. गुरुदत्त की फिल्म ‘बाजी’ के लिए पटकथा लिखने वाले अभिनेता बलराज साहनी की नजर एक बस सफर के दौरान बदरुद्दीन पर पड़ी.

 

साहनी ने बदरुद्दीन को गुरु दत्त के साथ अपनी किस्मत आजमाने का सुझाव दिया. बताया जाता है कि सेट पर दत्त से मिलने पहुंचे बदरुद्दीन से एक शराबी की एक्टिंग करने के लिए कहा गया, जिसे देख गुरुदत्त इतने प्रभावित हुए कि उन्होंने बदरुद्दीन को तुरंत ‘बाजी’ (1951) में साइन कर लिया.

 

इसके बाद वाकर ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा. देखते ही देखते भारतीय सिनेमा के सबसे यादगार हास्य कलाकारों की फेहरिस्त में नंबर एक पायदान पर कब्जा कर लिया.

 

कहा जाता है कि उन्हें ‘जॉनी वाकर’ नाम देने वाले गुरु दत्त ही थे. उन्होंने वाकर को यह नाम एक लोकप्रिय व्हिस्की ब्रांड के नाम पर दिया था. हालांकि, फिल्मों में अक्सर शराबी की भूमिका में नजर आने वाले वाकर असल जिंदगी में शराब को कतई हाथ नहीं लगाते थे.

 

वाकर जहां रोते को हंसाने की क्षमता रखते थे, वहीं अपनी बेहतरीन आकारी से भावुक भी कर देते थे. कुछ ऐसा ही उन्होंने ऋषिकेश मुखर्जी की फिल्म ‘आनंद’ में कर दिखाया था.

 

‘बाजी'(1951), ‘जाल'(1952), ‘आंधियां’, ‘बाराती'(1954), ‘टैक्सी ड्राइवर’, ‘मिस्टर एंड मिसेज 55’ (1955), ‘श्रीमती 420’ (1956), ‘सीआईडी’, ‘प्यासा'(1957), ‘गेटवे ऑफ इण्डिया'(1957), ‘मिस्टर एक्स’,’मधुमती'(1958), ‘कागज के फूल'(1959), ‘सुहाग सिन्दूर'(1961), ‘घर बसा के देखो'(1963), ‘मेरे महबूब'(1962) एवं ‘चाची 420’ (1998) उनकी चर्चित फिल्मों में से हैं.

 

जॉनी वाकर ने 1920 के दशक से वर्ष 2003 के बीच लगभग 300 फिल्मों में अभिनय किया.

 

वाकर, बी.आर. चोपड़ा की फिल्म ‘नया दौर’ (1957), चेतन आनंद की ‘टैक्सी ड्राइवर’ (1954) और बिमल रॉय की ‘मधुमति’ (1958) से विशेष रूप से संतुष्ट हुए थे. उनकी आखिरी फिल्म 14 साल के लंबे अंतराल के बाद आई और यह फिल्म थी ‘चाची 420’. इसमें कमल हासन और तब्बू की मुख्य भूमिका थी.

 

वाकर ने फिल्मों में अपनी बेहतरीन अदाकारी का नमूना दिखाने के अलावा कुछ गीत भी गए थे. उन्होंने फिल्म बनाने की भी सोची थी, लेकिन बाद में इस विचार को तिलांजलि दे दी.

 

..जब नूरजहां से लड़ गए नैन

 

वाकर ने परिवार की इच्छा के विरुद्ध नूरजहां से शादी की. दोनों की मुलाकात 1955 में फिल्म ‘आरपार’ के सेट पर हुई थी, जिसका एक गीत नूर और वाकर पर फिल्माया जाना था. इस गीत के बोल थे ‘अरे ना ना ना ना तौबा तौबा.’

वाकर को 1959 में ‘मधुमती’ के लिए फिल्मफेयर के सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता पुरस्कार से नवाजा गया था. इसके अलावा ‘शिकार’ के लिए भी सर्वश्रेष्ठ हास्य अभिनेता के लिए फिल्मफेयर के पुरस्कार से सम्मानित किया गया था.

 

ताउम्र दर्शकों को हंसाते रहे वाकर 29 जुलाई, 2003 को सबको रोता छोड़ गए. उनके निधन पर तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने शोक जताते हुए कहा था, “जॉनी वाकर की त्रुटिहीन शैली ने भारतीय सिनेमा में हास्य शैली को एक नया अर्थ दिया है.”

Bollywood News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: jony walker birthday special
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: celebrity birthday jony walker
First Published:

Related Stories

'ए जेंटलमैन' के 'किस' सीन नहीं हटाए गए
'ए जेंटलमैन' के 'किस' सीन नहीं हटाए गए

मुंबई: आगामी फिल्म ‘ए जेंटलमैन’ की टीम ने उन अफवाहों का खंडन किया, जिनमें कहा गया था कि सेंसर...

गुलज़ार के जन्मदिन पर फैन्स को मिला तोहफ़ा, 1988 में बनी फिल्म ‘लिबास’ होगी रिलीज
गुलज़ार के जन्मदिन पर फैन्स को मिला तोहफ़ा, 1988 में बनी फिल्म ‘लिबास’ होगी...

मुंबई : जाने माने गीतकार और फिल्म निर्देशक गुलज़ार के 83वें जन्मदिन के मौके पर आज उनके फैन्स के...

माधुरी पर बनने वाले अमेरिकी शो की प्रोड्यूसर होंगी प्रियंका
माधुरी पर बनने वाले अमेरिकी शो की प्रोड्यूसर होंगी प्रियंका

मुंबई : बॉलीवुड की धक-धक गर्ल व डासिंग क्वीन के नाम से मशहूर अभिनेत्री माधुरी दीक्षित ने उनके...

धर्मेंद्र ने ट्विटर पर की शुरुआत
धर्मेंद्र ने ट्विटर पर की शुरुआत

मुंबई : दिग्गज अभिनेता धर्मेंद्र ने सोशल मीडिया वेबसाइट ट्विटर पर शुरुआत की है, जिस पर बेटे...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017