मूवी रिव्यू: और बेहतर हो सकती थी जुगनी!

Jugni movie review

रेटिंग- *** (तीन स्टार)

कई बार ऐसा होता है कि हम कोई काम कर रहे होते हैं और उससे एक खास किस्म के नतीजे की उम्मीद करते हैं लेकिन नतीजा वैसा नहीं आता जैसा हम चाहते हैं. फिल्म जुगनी की लीड विभवरी (सुगंधा) के साथ भी यही होता है लेकिन वे हममें से ज़्यादातर लोगों की तरह बैठी नहीं रहती बल्कि निकल पड़ती है कुछ नए, ताज़े की तलाश में और फिल्म चल पड़ती है.

विभवरी नए संगीत की तलाश में जब पंजाब का रुख करती है तब तलाश के केंद्र में पंजाब की एक लोकल सिंगर बीवी सरूप (साधना सिंह) होती हैं जिनकी आवाज़ से वो कुछ ऐसा हासिल करना चाहती है जिसकी उसे तलाश है लेकिन विभवरी की तलाश बीवी से नहीं बल्कि किसी और से पूरी होती है.

फिल्म का जॉनर म्युज़िक ड्रामा है जिसके सेंटर में म्युज़िक तो है लेकिन पता नहीं क्यों, फिल्म के संगीत में ऑस्कर जीतने वाले एआर रहमान के होते हुए भी इसके टाइटल ट्रैक ‘जुग-जुग जुगनी’ के अलावा आपकी जुबान पर कुछ नहीं ठहरता. टाइटल ट्रैक भी थोड़ी देर के बार गायब हो जाता है. स्क्रिप्ट के हिसाब से विभवरी संगीत के तलाश में दीवानी है लेकिन फिल्म के किसी भी सीन में अपनी एक्टिंग से सुगंधा इस बात को साबित नहीं कर पातीं कि विभवरी संगीत की दीवानी हैं. उनकी एक्टिंग ना तो बहुत कमज़ोर है और ना ही बहुत मजबूत! वहीं पंजाब के एक लोकल सिंगर मस्ताना (सिद्धांत बहल) एक ऐसा फैक्टर हैं जिनकी वजह से आप इस फिल्म को देख सकते हैं. उन्होंने अपने कैरेक्टर को बनाए रखा है. कहीं-कहीं पर उनकी एक्टिंग थोड़ी कमज़ोर पड़ती लेकिन वे तुरंत इससे बाहर आ जाते हैं.

ऑफबीट होने के नाते फिल्म में कुछ नया दिखाने की कोशिश की गई है जो आपको कई और फिल्मों में भी देखने को मिल जाएगा. जैसे फिल्म की विभवरी लड़की होते हुए अपनी ज़िंदगी में मौजूद तमाम लड़कों पर हावी है. आमतौर पर हिंदी फिल्मों में सेक्स से रेप तक का भार हिरोइन्स के कंधे पर बोझ की तरह डाला जाता रहा है. यहां मामला उल्टा है, जिसमें अपने लिव इन पार्टनर सिद्धार्थ की सेक्स डिमांड्स रिजेक्ट करने से लेकर पैसे की कमी पड़ने पर उससे पैसे मंगवाने और ब्रेक अप के बाद एक ही घर में अलग-अलग रहना दिखाता है कि शहर में लड़कियों की एक ऐसी आबादी है जिसकी ज़िंदगी और फैसले उसके अपने होते हैं. वहीं संगीत की खोज में पंजाब निकली जुगनी को जब बीवी सरूप से ज़्यादा उनका बेटा मस्ताना भा जाता है और जब शराब के नशे में दोनों सेक्स करते हैं तब लड़की इसे लेकर बिल्कुल ओके है लेकिन डीडीएलजे की कॉजोल की तरह लड़के में इस बात की गिल्ट है कि कुछ ऐसा हुआ है जो नहीं होना चाहिए था.

फिल्म में पंजाब के गांव में मौजूद टैलेंट से लेकर मुंबई में इसकी बेकद्री जैसी बाते भी हैं. साल की शुरुआत में आए ‘चौरंगा’ की तरह फिल्म की कहानी का अंत आपके ऊपर छोड़ दिया गया है जहां से आप अपनी कहानी बुन सकते हैं. फिल्म की कहानी दमदार है लेकिन एवरेज एक्टिंग, एवरेज डाइरेक्शन और ख़राब एक्ज़िक्युशन की वजह से फिल्म आप पर कोई प्रभाव नहीं छोड़ती.

Bollywood News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Jugni movie review
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

धर्मेंद्र ने ट्विटर पर की शुरुआत
धर्मेंद्र ने ट्विटर पर की शुरुआत

मुंबई : दिग्गज अभिनेता धर्मेंद्र ने सोशल मीडिया वेबसाइट ट्विटर पर शुरुआत की है, जिस पर बेटे...

Watch : रिलीज हुआ 'भूमि' का पहला गाना 'ट्रिप्पी ट्रिप्पी', दिखा सनी का बोल्ड अंदाज
Watch : रिलीज हुआ 'भूमि' का पहला गाना 'ट्रिप्पी ट्रिप्पी', दिखा सनी का बोल्ड अंदाज

नई दिल्ली : संजय दत्त की आने वाली फिल्म ‘भूमि’ का पहला गाना ‘ट्रिप्पी ट्रिप्पी’ रिलीज हो...

मूवी रिव्यू: फीकी है 'बरेली की बर्फी'
मूवी रिव्यू: फीकी है 'बरेली की बर्फी'

स्टार कास्ट: आयुष्मान खुराना, कृति सैनन और राजकुमार राव, पंकज त्रिपाठी, सीमा पाहवा डायरेक्टर:...

आज रिलीज हो रही है ‘बरेली की बर्फी’, ‘पार्टीशन 1947’ और 'वीआईपी 2'
आज रिलीज हो रही है ‘बरेली की बर्फी’, ‘पार्टीशन 1947’ और 'वीआईपी 2'

नई दिल्ली: ‘बरेली की बर्फी’, ‘पार्टीशन 1947’ और वीआईपी 2 (ललकार) तीन फिल्में आज सिनेमाघरों में...

कई सितारों वाली फिल्म में काम करने पर कम दबाव महसूस होता है: परिणीति
कई सितारों वाली फिल्म में काम करने पर कम दबाव महसूस होता है: परिणीति

हैदराबाद : अभिनेत्री परिणीति चोपड़ा का कहना है कि उनको कई सितारों से भरी फिल्म ‘गोलमाल अगेन’...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017