मूवी रिव्यू: सादगी और मिठास से भरी 'दम लगाके हईशा'

By: | Last Updated: Saturday, 28 February 2015 8:19 AM
movie revie Dum Laga Ke Haisha

समीक्षक: यासिर उस्मान, सीनियर प्रोड्यूसर, एबीपी न्यूज़

 

रेटिंग: साढ़े तीन स्टार

नई दिल्ली: ‘दम लगाके हईशा’ पिछले कई सालों में ये यशराज बैनर से निकलने वाली सबसे अच्छी फिल्म है. अगर आप 90 के दशक में बड़े हुए हैं और अगर उस दौर का माहौल और ख़ासतौर पर रिश्तों के प्रति लोगों का नज़रिया आपकी यादों में धुंधला गया है तो ये फिल्म आपको वापस उस दौर में ले जाएगी.

 

वो दौर जब अरेंज्ड मैरिज सामान्य बात थी, तलाक से ज़्यादा रिश्तों को निभाने पर ज़ोर दिया जाता था, लोग वीएसएस टेप्स पर फिल्में देखते थे, ऑडियो कैसेट्स पर गीत-संगीत सुनते थे और गायक कुमार शानू नौजवानों के दिलों पर राज करते थे.

 

हरिद्वार के मध्यवर्गीय परिवार का लड़का प्रेम (आयुष्मान खुराना) हाई स्कूल फेल है, कुमार शानू का फैन है और ऑडियो कैसेट की दुकान चलाता है. उसके अंदर किसी तरह का कोई टैलेंट नहीं है.

 

परिवार उसकी शादी संध्या (भूमि पेडनेकर) से करवा देता है. भूमि पढ़ी-लिखी लड़की है लेकिन उसका वज़न ज़्यादा है जिसकी वजह से प्रेम बार-बार उसका अपमान करता है. तंग आकर संध्या अपने घर वापस लौट जाती है. फिर किस तरह दोनों में प्यार होता है फिल्म बड़े दिलचस्प अंदाज़ में यही कहानी कहती है.

 

ये स्टोरी आयडिया आपको यशराज फिल्म्स की ही रब ने बना दी जोड़ी की याद दिलाएगा लेकिन यहां ज़्यादा ध्यान फिल्म की सेटिंग और किरदारों पर दिया गया है. फिल्म की सपोर्टिंग कास्ट कमाल की है और इस फिल्म को दूसरे ही स्तर पर ले गई है.

 

फिल्म के कई सीन जैसे जब परिवार वाले लड़के को शादी के लिए मनाते हैं तो कैसे तर्क देते हैं, प्रेम और संध्या के बीच के सीन और प्रेम और उसके पिता के बीच के सीन कमाल के हैं. ये शायद अकेली मेनसट्रीम फिल्म होगी जिसमें हीरो आरएसएस की शाख़ा में नियमित रूप से जाता है. शाखा वाले सीन्स को जिस तरह ह्यूमर के ज़रिए कहानी में पिरोया गया है, वो बेहद मज़ेदार है.

 

हालांकि फिल्म का अंत बेहद घिसा-पिटा और फिल्मी है. आपको पहले से पता रहता है कि क्या होने वाला है मगर यहां तक पहुंचते पहुचते आप किरदारों की हरकतों और उनकी सादगी में मज़ा आने लगता है.   

 

अब बात कलाकारों की, प्रेम के रूप में आयुष्मान खुराना ने बढ़िया वापसी की है. उनकी हवाईज़ादा देखने के बाद दर्शकों ने उनसे उम्मीद ही छोड़ दी थी, ये फिल्म वापस उम्मीद जगाती है. हालांकि कई सीन में वो अपने पंजाबी लड़के वाले अंदाज़ में आ जाते हैं. लेकिन कई सीन उन्होंने बेहद अच्छे किए हैं.

 

संध्या के रोल में भूमि पेडनेकर बॉलीवुड में इस साल की सबसे बड़ी खोज हैं. जिस तरह से वो अपनी घबराहट, परेशानी, अपमान  और गुस्सा दिखाती हैं वो काबिले तारीफ़ है. एक ऐसा रोल निभाना आसान नहीं है जिसमें लुक्स और वज़न का मज़ाक उड़ाया जा रहा हो लेकिन भूमि इस खूबसूरती से निभा गई हैं कि दर्शक उनके किरदार का साथ हो जाते हैं.

 

मगर फिल्म को अच्छा सिर्फ़ ये दोनों एक्टर ही नहीं बनाते पिता के रोल में संजय मिश्रा कमाल करते हैं, सीमा पाहवा, अल्का अमीन और शीबा चढ्ढा ने मिलकर हर सीन में जैसे जान फूंक दी है. फिल्म ख़त्म होती है तो लीड एक्टर्स के बजाय इनके सीन ज़्यादा याद रहते हैं.

 

फिल्म की शुरुआत गायक कुमार शानू की आवाज़ से होती और आप 90 के दौर में चले जाते हैं. ये आवाज़ और कुमार शानू का ज़िक्र फिल्म के कई अहम सीन्स में सुनाई देता है. पूरी फिल्म में कुमार शानू जैसे एक किरदार की तरह मौजूद रहकर जो उस दौर के नौजवानों की चाहतों और सपनों को आवाज़ देते नज़र आते हैं.

 

शायद 90 के दशक की कहानी के लिए ही उस दौर के मशहूर संगीतकार अनु मलिल का कमबैक कराया गया है और अनु ने सब्जेक्ट के हिसाब से बढ़िया संगीत दिया है. फिल्म के गीत वरण ग्रोवर ने लिखे हैं और ख़ास तौर पर एक गीत ये मोह मोह के धागे बहुत अच्छा है.

 

बड़ी-बड़ी स्टारकास्ट के साथ धूम और ग़ुंडे जैसी बकवास फिल्में बनाने में महारत हासिल कर चुके यशराज बैनर के लिए निर्देशक शरद कटारिया अच्छी ख़बर हैं. जिस तरह से उन्होंने फिल्म का मिडिल क्लास सेटअप, सादगी और एक ख़ास दौर को पर्दे पर उतारा है उसकी तारीफ़ होनी चाहिए.

 

हालांकि फिल्म की गति कहीं-कहीं धीमी पड़ती है और ख़ासतौर पर भूमि के किरदार पर और मेहनत की जा सकती थी. लेकिन शरद कटारिया ने दिल से ये फिल्म बनाई है और यही बात इस फिल्म को ख़ास बनाती है.

 

यह भी पढ़ें:

मूवी रिव्यू: पुराने सब्जेक्ट का शानदार ट्रीटमेंट है ‘बदलापुर’ 

मूवी रिव्यू रॉय: समझ में नहीं आया कि ये फिल्म कैसे बन गई 

मूवी रिव्यू: ‘ये आवाज़ तो एक कुत्ते के मुंह से भी अच्छी लगेगी’, अमिताभ की आवाज को सलाम है शमिताभ

मूवी रिव्यू: बोरियत की उड़ान है ‘हवाईज़ादा’ 

मूवी रिव्यू: डराती कम, बोर ज़्यादा करती है अलोन 

मूवी रिव्यू: नए पैकेट में बहुत पुराना माल है ‘तेवर’

मूवी रिव्यू: क्या हर इंसान है अंदर से ‘अग्ली’? 

 

(Follow Yasser Usman  on Twitter @yasser_aks, You can also send him your feedback at yasseru@abpnews.in)

Bollywood News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: movie revie Dum Laga Ke Haisha
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

नवाजुद्दीन ने 'बाबूमोशाय बंदूकबाज' को दिल्ली में किया प्रमोट
नवाजुद्दीन ने 'बाबूमोशाय बंदूकबाज' को दिल्ली में किया प्रमोट

नई दिल्ली : बॉलीवुड अभिनेता नवाजुद्दीन सिद्दीकी ने अपनी आगामी फिल्म ‘बाबूमोशाय बंदूकबाज’...

लोगों को सामाज का मन समझने में समय लगता है : अक्षय कुमार
लोगों को सामाज का मन समझने में समय लगता है : अक्षय कुमार

मुंबई : सामाजिक संदेश देने वाली फिल्मों के लिए प्रसिद्ध अक्षय कुमार का मानना है कि लोगों को...

Box Office : जानें पहले दिन 'बरेली की बर्फी' ने की है कितनी कमाई?
Box Office : जानें पहले दिन 'बरेली की बर्फी' ने की है कितनी कमाई?

मुंबई : कृति सैनन, आयुष्मान खुराना और राजकुमार राव अभिनीत फिल्म ‘बरेली की बर्फी’ ने...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017