मूवी रिव्यू: दर्शकों के डिप्रेशन वाली ‘हमारी अधूरी कहानी’

By: | Last Updated: Friday, 12 June 2015 8:18 AM

रेटिंग- डेढ़ स्टार

 

जिन लोगों को निर्देशक मोहित सूरी की ‘आशिक़ी-2’ और ‘एक विलेन’ अच्छी लगीं थीं, उन्हें ‘हमारी अधूरी कहानी’ से और ज़्यादा उम्मीद थी. इसकी वजह विद्या बालन, इमरान हाशमी और राजकुमार राव जैसे बेहतर एक्टर थे जो आमतौर पर औसत स्क्रिप्ट से ऊपर उठकर किसी भी फिल्म को देखने लायक तो कम से कम बना देते हैं.  लेकिन यहां स्क्रिप्ट और ख़ासतौर से डायलॉग इतने घिसे-पिटे और हास्यास्पद है कि लगता ही नहीं कि आप 2015 की कोई फिल्म देख रहे हैं. हालांकि भट्ट कैंप ने ‘ट्रेजेडी फिल्म’ बनाने की कोशिश की है लेकिन कुछ समय ये ‘कॉमेडी फिल्म’ के रूप में मशहूर हो जाए तो हैरत नहीं होगी. अच्छे एक्टर्स को कैसे बर्बाद किया जाता है ये फिल्म इसकी जीती-जागती मिसाल है.

 

कहानी

अगर आब भी आप इस फिल्म के बारे में और जानना चाहते हैं तो ठीक है. ‘हमारी अधूरी कहानी’ की कहानी में वसुधा (विद्या बालन) है जिसका पति हरि (राजकुमार राव) पांच साल से लापता है.

हरि दकियानूसी पतियों जैसा है जो वसुधा की ज़िंदगी पर अपना हक़ समझता है और वसुधा के कालई पर अपना नाम तक टैटू करवाता है. लेकिन उसके जाने के बाद वसुधा एक फाइव स्टार होटल में फ्लोरिस्ट बन जाती है. उसकी ज़िंदगी में एक अमीर बिज़नेसमैन आरव (इमरान हाशमी) आता है. दोनों में प्यार होता है मगर वसुधा भारतीय नारी है जिसके पास संस्कार है, समाज की फिक्र है और हां- एक मंगलसूत्र भी है जिसे लेकर वो बड़े कमाल के बकवास डायलॉग बोलती है. फिर उसका पति लौट आता है.

 

फिल्म देखते हुए कई बार तो लगा जैसे वसुधा एक डायलॉग ये भी बोलेगी- “मेरे पास संसकार है, समाज है, पति है, मंगलसूत्र है…तुम्हारे पास क्या है? हाईं!!!!!” 

 

अभिनय

विद्या बालन जैसी अच्छी एक्ट्रेस पूरी फिल्म रोती नज़र आती हैं और बेचारे दर्शकों की समझ में नहीं आता कि उनके साथ रोएं या इस फिल्म पर हंसे. इमरान हाशमी को ये फिल्म ऑफर करते वक़्त शायद बताया होगा कि ये उनकी ‘किसिंग स्टार’ वाली इमेज को बदल कर रख देगी. शायद इसी उम्मीद में बेहद कन्फ्यूज़ लगते हुए वो अजीबोग़रीब डायलॉग बोलते रहे. ज़्यादातर तो वो फिल्म में तस्वीरें ही लेते रहे. विद्या के साथ उनकी जो केमेस्ट्री फिल्म डर्टी पिक्चर में दिखी थी, यहां एक भी सीन में वो नज़र नहीं आती. राजकुमार राव जैसे कमाल के अभिनेता सिर्फ खराब विग पहनकर चीख़ते रहते हैं. एक सीन में जब वो गुस्से में विद्या से कहते है- “पति हूं मैं तेरा” तो लगता है जैसे निर्देशक पर अपना गुस्सा उतार रहे हैं जिसने उनके बेहतरीन टेलेंट तक की क़द्र नहीं की. फिल्म में सबसे अच्छा और मज़बूत रोल विद्या बालन के मंगलसूत्र का है क्योंकि फिल्म की पूरी कहानी और डायलॉग उसी के इर्द-गिर्द घूमते हैं.

 

अब ज़रा डायलॉग्स पर भी बात हो जाए. फिल्म में सारे किरदार तो तक़रीबन आज के ज़माने के हैं मगर उनके डायलॉग, उनकी ज़बान, उनके जज़्बात आपको 60-70 के दशक की कई बकवास फिल्मों की याद दिला देंगे. कुछ डायलॉग पेश हैं-

  • वो अपनी वासना की क़ीमत अपने पति के ख़ून से चुकाएगी (वासना!!!!!!!!!!!!!)

  • मैं किसी और की मिल्कियत हूं…

  • या फिर मृग्तृष्णा और कायनात जैसे शब्द जिनके इस्तेमाल की कोई वजह समझ में नहीं आती.

 

फिल्म की स्क्रिप्ट महेश भट्ट ने लिखी है और हर एक सीन में जैसे ज़बरदस्ती दर्द ठूसने की कोशिश की गई है. निर्देशक मोहित सूरी की पिछली फिल्मों की तरह यहां भी किरदार डिप्रेशन में डूब कर धीरे-धीरे डायलॉग बोलते हैं. मगर फिर भी उनके जज़्बात आपको छू नहीं पाते और सबकुछ नक़ली लगता है. ये एक ऐसा सब्जेक्ट था जिसपर एक मज़बूत फिल्म खड़ी की जा सकती थी.

 

ख़राब शादियों में फंसी महिलाएं जो समाज के नाम पर सब कुछ झेलती रहती हैं. जो ऐसे बंधनों को तोड़कर आगे बढ़ना चाहती हैं, ये फिल्म उन सबकी कहानी हो सकती थी. लेकिन मोहित सूरी ने फैसला किया कि उनकी मुख्य किरदार मंगलसूत्र लेकर रोती रहेगी. फिल्म के अंत में विद्या बालन औरतों के हक़ को लेकर एक भाषण भी देती हैं लेकिन तब तक दर्शक डिप्रेशन में आ चुके थे.

 

‘हमारी अधूरी कहानी’ देखने का कोई अर्थ नहीं हैं. बेहतर ये होगा कि आप इस वीकेंड महेश भट्ट की फिल्म ‘अर्थ’ देख लें. तीन दशक पहले आई महेश भट्ट की वो फिल्म और उसके किरदार आपको आज भी अधूरे नहीं लगेंगे. 

 

(Follow Yasser Usman  on Twitter @yasser_aks, You can also send him your feedback at yasseru@abpnews.in)

Bollywood News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Movie Review: Hamari Adhuri Kahani
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

देखें...

मनोज बाजपेयी ने की नीतीश से बाढ़ प्रभावितों की मदद की अपील
मनोज बाजपेयी ने की नीतीश से बाढ़ प्रभावितों की मदद की अपील

मुंबई : बॉलीवुड अभिनेता मनोज बाजपेयी ने बुधवार को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से बाढ़...

पिता विनोद खन्ना की बायोपिक में भूमिका निभाने के सवाल पर देखिए क्या बोले अक्षय खन्ना
पिता विनोद खन्ना की बायोपिक में भूमिका निभाने के सवाल पर देखिए क्या बोले...

विनोद खन्ना का अप्रैल में लंबी बीमारी के बाद 70 वर्ष की उम्र में निधन हो गया. यह पूछे जाने पर कि...

'भूमि' में श्लोकों का उच्चारण करते दिखेंगे संजय दत्त
'भूमि' में श्लोकों का उच्चारण करते दिखेंगे संजय दत्त

अभिनेता संजय दत्त अपनी आगामी फिल्म 'भूमि' में संस्कृत के कुछ श्लोकों का उच्चारण करते नजर आएंगे....

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017