मूवी रिव्यू: जय गंगाजल

Movie Review: Jai Gangaajal

रेटिंग: ढाई स्टार

‘जय गंगाजल’ को आप प्रियंका चोपड़ा की फिल्म समझ कर देखने जाएंगे. इसलिए ये बताना ज़रूरी है कि फिल्म में सबसे अहम किरदार प्रियंका चोपड़ा का नहीं बल्कि निर्देशक प्रकाश झा का है जिन्होंने बतौर एक्टर ख़ुद को इस फिल्म में लॉन्च किया है. ‘जय गंगाजल’ की मूल कहानी उनकी 2003 की कामयाब फिल्म गंगाजल से ही मिलती जुलती है. भागलपुर ब्लाइंडिंग्स (आंखफोड़ कांड) से प्रेरित ‘गंगाजल’ में पुलिसवाले अपराधियों की आंख में तेज़ाब डालकर क़ानून हाथ में लेते हैं तो ‘जय गंगाजल’ में अपराधियों को फांसी पर लटकाने की घटनाएं हैं. इन सब के बीच पुलिस के सामने आने वाली परेशानियां, क़र्ज़ में डूबे किसानों की ख़ुदकुशी और इनपर होती राजनीति का ताना-बाना है. मगर ये सबकुछ आप पहले कई बार देख चुके हैं.jai5

यहां एक काल्पनिक शहर लखीसराय के बांकेपुर क़स्बे में एमएलए बबलू पांडे (मानव कौल) का राज है. शहर में एक पावर प्लांट के लिए ज़मीन चाहिए और बबलू का भाई डब्लू पांडे (निनाद कामत) ग़रीब किसानों की ज़मीन ज़बर्दस्ती हथियाने की कोशिश में लगा है. इन भ्रष्ट कारानामों में दोनों का साथ देता है डीसीपी भोलानाथ सिंह (प्रकाश झा). भोलानाथ सिंह नौकरी तो पुलिस की करता है लेकिन हुक्म मानता है एमएलए बबलू का.

priyanka-chopra-7592
इन हालात में आईपीएस अफसर आभा माथुर (प्रियंका चोपड़ा) को ज़िले की नई एसपी बनाकर भेजा जाता है. आभा ग़ैरक़ानूनी काम पर लगाम लगाने की कोशिश करती है तो पहला टकराव होता है अपने ही डिपार्टमेंट के डीएसपी भोलानाथ सिंह से. लेकिन फिर घटनाएं घटती है और बबलू पांडे का आतंक बढ़ता ही जाता है. आख़िरकार आभा माथुर भोलानाथ सिंह की आंखें खोलती है और वो बदल जाता है.

jai

कहानी सुनकर शायद आपको लगे कि ये फिल्म इस बारे में है कि कैसे आईपीएस अफ़सर आभा माथुर इस शहर से आतंक का सफ़ाया करती है. लेकिन ऐसा नहीं है. पौने तीन घंटे लंबी इस फिल्म का केंद्र भोलानाथ सिंह (प्रकाश झा) का किरदार है. सबसे ज़्यादा स्क्रीन टाइम प्रकाश झा के हिस्से आया है और सबसे मज़बूत सीन भी. फिल्म में प्रियंका समेत सारे किरदार किसी ना किसी तरह उन्हीं के किरदार के इर्द-गिर्द घूमते नज़र आते हैं और प्रकाश झा एक मंझे हुए अभिनेता की तरह अपना रोल निभा गए हैं. प्रियंका या मानव कौल के सामने एक एक्टर के तौर पर वो कहीं कमज़ोर नहीं पड़े हैं. लेकिन परेशानी ये है कि ना को किसी सीन में और ना ही स्क्रिप्ट में कुछ नयापन दिखाई देता है. ख़ुद प्रकाश झा की फिल्मों में ही आप ऐसी कहानियां, ऐसे शहर, ऐसे पुलिसवाले, ऐसे विलेन पहले कई बार देख चुके हैं.
प्रियंका चोपड़ा ने अपने किरदार को बहुत ईमानदारी से निभाया है लेकिन इस रोल में वो मिसफ़िट लगती हैं. साथ ही जैसे मज़बूत सीन गंगाजल में अजय देवगन के किरदार को मिले थे वैसे प्रियंका को नहीं मिले. खलनायक के रूप में मानव कौल का किरदार में हालांकि कमज़ोर लिखा गया है लेकिन उन्होंने बहुत अच्छा अभिनय किया है.
jai6

1985 में प्रकाश झा ने दमदार फिल्म दामुल के ज़रिए निर्दशन में क़दम रखा था. उस फिल्म में मज़दूरों की व्यथा और उनके शोषण की दर्शाया गया था. यही भाव प्रकाश झा के सिनेमा में लगातार नज़र आता रहा मगर अब गंभीरता की जगह मसाले ने ले ली है. कहने को तो ‘जय गंगाजल’ में भी किसानों की ख़ुदकुशी, नेताओं-उद्योपतियों की सांठ-गांठ और पुलिस के राजनीतिकरण जैसे बड़े मुद्दों की बात है. बीच में भाषण देने के लिए एक्टिविस्ट (राहुल भट्ट) भी हैं. मगर घटनाएं बेहद घिसीपिटी लगती हैं. एक सीन देखकर आपको अगले सीन का अंदाज़ा होने लगता है.
‘जय गंगाजल’ 80 के दशक की डायलॉगबाज़ी वाली एक्शन फिल्म से ज़्यादा कुछ नहीं बन पाती.

इसे देखना चाहते हैं तो सिर्फ अभिनेता प्रकाश झा के लिए देखिए.

Bollywood News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Movie Review: Jai Gangaajal
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

मनोज बाजपेयी ने की नीतीश से बाढ़ प्रभावितों की मदद की अपील
मनोज बाजपेयी ने की नीतीश से बाढ़ प्रभावितों की मदद की अपील

मुंबई : बॉलीवुड अभिनेता मनोज बाजपेयी ने बुधवार को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से बाढ़...

पिता विनोद खन्ना की बायोपिक में भूमिका निभाने के सवाल पर देखिए क्या बोले अक्षय खन्ना
पिता विनोद खन्ना की बायोपिक में भूमिका निभाने के सवाल पर देखिए क्या बोले...

विनोद खन्ना का अप्रैल में लंबी बीमारी के बाद 70 वर्ष की उम्र में निधन हो गया. यह पूछे जाने पर कि...

'भूमि' में श्लोकों का उच्चारण करते दिखेंगे संजय दत्त
'भूमि' में श्लोकों का उच्चारण करते दिखेंगे संजय दत्त

अभिनेता संजय दत्त अपनी आगामी फिल्म 'भूमि' में संस्कृत के कुछ श्लोकों का उच्चारण करते नजर आएंगे....

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017