मूवी रिव्यू: इस साल की बेहतरीन फिल्मों में से एक है 'पीके'

By: | Last Updated: Saturday, 20 December 2014 7:43 AM

रेटिंग: साढ़े तीन स्टार

 

पीके शानदार फिल्म है. इसे साल की सबसे अच्छी फिल्मों में से एक कहना ग़लत नहीं होगा. निर्देशक राजू हीरानी अपने बेहतरीन स्टाइल पर चलते हुए मनोरंजन भी कर गए और बहुत ख़ूबसूरत संदेश भी दे गए हैं. लगे रहो मुन्नाभाई में गांधीगीरी का संदेश था, तो पीके बताती है कि भगवान तक पहुंचने का रास्ता बेहद सरल और सीधा है. इसके लिए किसी बाबा या धर्मगुरू की ज़रूरत नहीं है. इस संदेश को देते हुए पीके हंसाती, सोचने पर मजबूर करती है और किसी परी-कथा कि तरह आपको ढाई घंटे तक बांध के रखती है.

 

पूरी कहानी बताऊंगा तो मज़ा नहीं आएगा. लेकिन थोड़ी सी ज़ाहिर कर देता हूं. एक शख़्स (आमिर खान) अपने विशेष यान से किसी दूसरे ग्रह से पृथ्वी पर उतरता है. उसका कोई नाम नहीं है. लेकिन उसकी अजीबोगरीब हरकतें देख कर सबको लगता है कि वो शराब पीके आया है, इसलिए उसका नाम पीके पड़ जाता है. पृथ्वी पर उतरते ही एक चोर उसका रिमोट कंट्रोल चुरा लेता है. रिमोट कंट्रोल के बिना वो अपने ग्रह वापस नहीं जा सकता. वो देखता है कि यहां सब लोग अपनी खोई चीज़ वापस पाने के लिए भगवान का दरवाज़ा खटखटाते हैं. वो भी अपनी गुहार लेकर मंदिर, मस्जिद और गिरिजाघर में जाता है. लेकिन यहां उसके दिमाग़ मे कई सवाल उठते हैं. यहीं से भगवान को समझने और उस तक पहुंचने का रास्ता तलाश करने का सफ़र शुरू होता है. इस सफ़र में उसका साथ देती है टीवी पत्रकार जगत जननी (अनुष्का).

हो सकता है मेरी बताई कहानी की लाइने आपको किसी डाक्यूमेंट्री जैसी लगी हों लेकिन ये बताना ज़रूरी है कि पीके का सफ़र बहुत मनोरंजक है, साथ ही सोचने पर मजबूर करने वाला है. फिल्म के एक दृश्य में पीके भगवान की मूरत बनाने वाले से पूछता है- आपने भगवान को बनाया या भगवान ने आपको? अगर भगवान अपने भक्तों की बात सीधे सुनते हैं तो मूर्ति की क्या ज़रूरत? 

 

आमिर ख़ान पीके के किरदार को जी गए हैं. एक एलियन के रोल में आंखे फाड़े, कान बाहर निकाले वो हॉलीवुड वाले मिस्टर बीन्स की तरह, सीधे-सादे अंदाज़ से बहुत हंसाते हैं. धर्मगुरू से बहस वाले सीन्स में कई सवाल उठाते हैं, फिर आख़िर तक आते आते प्यार में डूबे शख्स के रोल में सबको चेहरे पर मुस्कान ले आते हैं. एक सीन में अनुष्का उनसे पूछती हैं, ‘तुम्हारे ग्रह पर लोग कपड़े नहीं पहनते, तुम्हे नंगा रहना अजीब नहीं लगता?’ पीके जवाब देता है- ‘सामने जो कौआ बिना कपड़ों के बैठा है क्या वो अजीब लगता है? उसको टाई पहना दो तब अजीब लगेगा.’ फिल्म में ऐसे कई अच्छे डायलॉग हैं.

 

अनुष्का शर्मा को बड़ा रोल मिला है जिसे वो बढ़िया ढंग से निभा गई हैं. छोटे से रोल में संजय दत्त ने बहुत अच्छा अभिनय किया है. बाबा के रूप में सौरभ शुक्ला को रोल कमज़ोर लिखा गया है लेकिन वो फिर भी उसे निभा गए हैं.  फिल्म के गीत कहानी के साथ जाते हैं और फिल्म में काफ़ी अच्छे लगते हैं.

फिल्म की स्क्रिप्ट राजू हीरानी और अभिजात जोशी ने लिखी है. हालांकि इसकी मूल कहानी एक साल पहले आई परेश रावल की कामयाब फिल्म ओ माय गॉड से काफ़ी मेल खाती है. लेकिन समानता सिर्फ़ स्टोरी आयडिया पर ही ख़त्म हो जाती है. पीके का ट्रीटमेंट बहुत अलग है. ख़ास तौर पर फिल्म का पहला भाग बहुत अच्छा है. इंटरवल के बाद फिल्म की रफ़्तार थोड़ी सी धीमी होती है लेकिन अंत तक ये फिर ट्रैक पर आ जाती है.

Related Stories

फोर्ब्स : सबसे ज्यादा कमाई करने वाली अभिनेत्रियों की लिस्ट से दीपिका बाहर
फोर्ब्स : सबसे ज्यादा कमाई करने वाली अभिनेत्रियों की लिस्ट से दीपिका बाहर

लॉस एंजेलिस : बॉलीवुड अभिनेत्री दीपिका पादुकोण फोर्ब्स मैगजीन की 2017 में दुनिया की सबसे अधिक...

राजकुमार राव की फिल्म 'न्यूटन' का टीजर रिलीज, देखें
राजकुमार राव की फिल्म 'न्यूटन' का टीजर रिलीज, देखें

नई दिल्ली: अभिनेता राजकुमार राव की फिल्म ‘न्यूटन का पहला टीजर रिलीज हो गया है. इरोस इंटरनैशनल...

किराया नहीं चुकाया तो मालिक ने रजनीकांत की Wife के स्कूल पर जड़ दिया ताला
किराया नहीं चुकाया तो मालिक ने रजनीकांत की Wife के स्कूल पर जड़ दिया ताला

स्कूल अधिकारियों ने बताया कि उन्होंने इमारत मालिक के खिलाफ ‘‘ स्कूल की प्रतिष्ठा को ठेस...

Video: 'बरेली की बर्फी' के सितारों से एबीपी न्यूज़ की खास बातचीत, देखें
Video: 'बरेली की बर्फी' के सितारों से एबीपी न्यूज़ की खास बातचीत, देखें

इस हफ्ते सिनेमाघरों में फिल्म ‘बरेली की बर्फी’ रिलीज होने वाली है. इस फिल्म के सितारों...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017