गुड़गांव में राम रहीम की फिल्म MSG का प्रीमियर रुका,ईएनएलडी के 60 कार्यकर्ता हिरासत में लिए गए

By: | Last Updated: Saturday, 17 January 2015 11:01 AM

गुड़गांव: बाबा राम रहीम की फिल्म मैसेंजर ऑफ गॉड का रिलीज के पहले जोरदार विरोध हो रहा है. दिल्ली, पंजाब और हरियाणा के कई शहरों में विरोध हो रहा है.  दूसरी ओर गुड़गांव के सेक्टर 29 में में आज फिल्म का प्रीमियर होना था जिसे टाल दिया गया है.  राम रहीम ने अपने प्रेस कॉन्फ्रेंस में प्रीमियर रोके जाने की जानकारी दी.

 

इंडियन नेशनल लोकदल ने हिसार में राम रहीम का पुतला जलाकर फिल्म का विरोध किया. इसके बाद आईएनएलडी 60 कार्यकर्ताओं को हिरासत में भी लिया गया है.

 

 पार्टी ने एलान कर दिया है कि वो फिल्म चलने नहीं देगी.

 

दिल्ली में भी राम रहीम की फिल्म के खिलाफ प्रदर्शन हुआ है. शिरोमणि अकाली दल के कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया है. हरियाणा में 50 से ज्यादा उन लोगों को हिरासत में लिया गया है, जो इस फिल्म का विरोध कर रहे थे.

 

विवादों के बीच डेरा सच्चा सौदा के राम रहीम की फिल्म मैसेंजर ऑफ गॉड की रिलीज का रास्ता साफ हो गया है. ये फिल्म 18 जनवरी को रिलीज होगी.

 

क्या कहना है राम रहीम का

 

फिल्म के खिलाफ हो रहे विरोध पर राम रहीम ने कहा, “जो लोग इस फिल्म का इस विरोध कर रहे हैं, मैं उनसे आग्रह करूंगा कि पहले वो इस फिल्म को देखें. इस फिल्म में ऐसा कुछ नहीं है जिससे इसका विरोध किया जा सके.”

 

जब उनसे पूछा गया कि क्या वो इस फिल्म के जरिए अपनी ताकत दिखा रहे हैं तो बाबा राम रहीम ने कहा, “मैंने इस फिल्म में वही दिखाया है जो मैंने किया है, मैंने 5 करोड़ पेड़ लगाएं हैं, इसे ही दिखाया है. कैसे लोग इसे नहीं देखना चाहेंगे?”

 

कई सिख संगठनों का आरोप है कि इस फिल्म के आने से संप्रदायिक तनाव बढ़ने का खतरा है.

 

क्या थी तैयारी

 

फिल्म के प्रीमियर के लिए गुडगांव के सेक्टर 29 के एक ग्राउंड में बड़े पैमाने पर तैयारी की गई थी. 12 बड़ी स्क्रीन्स लगाई गयी थी और 3 लाख से ज्यादा भक्ततो के आने का अनुमान था. लेकिन प्रीमियर आज नहीं हो सकी.

 

क्या है विवाद-

राम रहीम की मुख्य भूमिका वाली ये फिल्म विवादों से घिर गई है. आरोपों के मुताबिक फिल्म में उन्होंने खुद को भगवान बताया है और इसी पर सेंसर बोर्ड ने आपत्ति जाहिर की थी. इस फिल्म की रिलीज पर सेंसर बोर्ड ने रोक लगा दी थी लेकिन एफसीएटी ने इसके रिलीज करने को गुरूवार रात झंडी दे दी.

 

एफसी एटी  के इस निर्णय के बाद सेंसर बोर्ड की अध्यक्ष लीला सैमसन ने इस्तीफा दे दिया है.  लीला सैमसन ने इस्तीफे के लिए जो कारण बताया है उसमें सबसे बड़ा आरोप है कि उनके काम में दखल दिया जा रहा था. उन्होंने ये नहीं बताया है कि दखल कौन दे रहा था. हालांकि उन्होंने इशारा किया है मंत्रालय की ओर से बोर्ड में नियुक्त अफसरों पर किया है. लीला ने सेंसर बोर्ड में भ्रष्टाचार का भी आरोप लगाया है.

 

सेंसर बोर्ड ने ‘मैसेंजर आफ गॉड’ फिल्म के मुद्दे को एफसीएटी को भेज दिया था. फिल्म शुक्रवार को रिलीज़ होनी थी. यह पूछे जाने पर कि उन्होंने पद छोड़ने का निर्णय क्यों किया, उन्होंने फिल्म को कथित मंजूरी मिलने का जिक्र नहीं किया लेकिन कहा कि बताए गए कारणों में ‘हस्तक्षेप, दबाव, पैनल सदस्यों और संगठन अधिकारियों का भ्रष्टाचार शामिल है जिनकी नियुक्ति मंत्रालय द्वारा की जाती है.’

 

संबंधित ख़बरें-

सरकार की सफाई- सेंसर बोर्ड में सरकारी हस्तक्षेप नहीं  

‘एमएसजी’ की अगली कड़ी का निर्माण जारी: बाबा राम रहीम

…तो सलमान, शाहरुख और आमिर के कमाई के रिकॉर्ड को तोड़ देंगे बाबा राम रहीम!

सेंसर बोर्ड में ‘राम लीला’ 

किसी भी मजहब के खिलाफ नहीं है एमएसजी: डेरा प्रमुख

आरोप सिद्ध होने पर सिर कटवा लेंगे: राम रहीम

गुरमीत राम रहीम सिंह फिल्म को लेकर विवाद में

एक्शन और रोमांच से भरपूर फिल्म में दुनिया बचाने आ रहा है भगवान का फरिश्ता

Bollywood News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: msg premier stopped
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017