Pahlaj Nihalani on Padmavati and CBFC | पद्मावती विवाद: फिल्म को मंजूरी देना या रोकना सेंसर बोर्ड की जिम्मेदारी, जनता या सरकार की नहीं: पहलाज निहलानी

पद्मावती पर निहलानी बोले, 'फिल्म को मंजूरी देना-रोकना सेंसर बोर्ड का काम, जनता या सरकार का नहीं'

फिल्म को मंजूरी देना या रोकना सेंसर बोर्ड की जिम्मेदारी है, जनता या सरकार की नहीं.

By: | Updated: 23 Nov 2017 10:04 AM
Pahlaj Nihalani on Padmavati and CBFC

नई दिल्ली: सेंसर बोर्ड के पूर्व चेयरमैन पहलाज निहलानी ने संजय लीला भंसाली की फिल्म 'पद्मावती' को लेकर पहले तो कुछ भी बोलने से मना कर दिया था लेकिन अब उन्होंने फिल्म को लेकर हो रहे विरोध को गलत बताया है. पहलाज निहलानी पर सेंसर बोर्ड के अध्यक्ष रहने के दौरान कई फिल्मों को रोकने के आरोप भी लगते रहे हैं.


एक न्यूज़ पोर्टल के मुताबिक निहलानी ने कहा कि सेंसर बोर्ड फिल्म को सर्टिफिकेट देता है और बोर्ड को पता है कि फिल्म में क्या होना चाहिए और क्या काट देना चाहिए. यह पैनल के सदस्यों का काम है जिन्हें सरकार द्वारा नामित किया गया है. फिल्म को मंजूरी देना या रोकना सेंसर बोर्ड की जिम्मेदारी है, जनता या सरकार की नहीं.


निहलानी ने आगे बात करते हुए कहा कि मैंने अपने कार्यकाल में ऐसा कुछ नहीं किया है. मैंने एक फिल्म को लेकर कभी देरी नहीं की चाहे वह छोटे या बड़े किसी भी बजट की फिल्म हो. सीबीएफसी के लिए सभी फिल्में महत्वपूर्ण होती हैं.


फिल्म 'पद्मावती' को लेकर सीबीएफसी के चीफ से संबंधित सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, प्रसून जोशी को विशेषज्ञों से सलाह लेने के बाद संतुलित निर्णय लेना चाहिए.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title: Pahlaj Nihalani on Padmavati and CBFC
Read all latest Bollywood News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story सात दिनों में 'फुकरों' ने हंसा-हंसा कर कमा लिए 50 करोड़, ये रहा अब तक का कलेक्शन