रूसी फिल्म ‘लेवियेथन’ को आईएफएफआई में स्वर्ण मयूर पुरस्कार

By: | Last Updated: Sunday, 30 November 2014 5:02 PM

पणजी: रूसी निर्देशक एंड्रे वैगिनस्टेव की फिल्म ‘लेवियेथन’ को 45वें भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (आईएफएफआई) का स्वर्ण मयूर पुरस्कार दिया गया जबकि मराठी फिल्म ‘एक हजारची नोट’ को सर्वश्रेष्ठ फिल्म का शताब्दी पुरस्कार दिया गया. इसी के साथ महोत्सव का आज समापन हो गया.

 

‘लेवियेथन’ के अभिनेता एलेक्सेई सेरेब्रियाकोव और ‘छोटोदेर छोबी’ के अभिनेता दुलाल सरकार को संयुक्त रूप से सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का पुरस्कार दिया गया. दोनों को केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण राज्य मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ और अभिनेता जैकी श्रॉफ ने पुरस्कार दिया. दुलाल ने अपना पुरस्कार बौने लोगों के समुदाय को समर्पित किया.

 

दुलाल की ओर से बोलते हुए ‘छोटोदेर छोबी’ के निर्देशक कौशिक गांगुली ने कहा, ‘‘हम लोगों से अनुरोध करते हैं कि हमें :बौने लोगों: कभी भी कम ना आंकें. हम लोगों से यह अनुरोध भी करते हैं कि हमारे साथ र्दुव्यहवहार न करें और हमारा मजाक न उड़ाएं. हम केवल प्यार चाहते हैं.’’

 

सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का पुरस्कार क्यूबा की अभिनेत्री एरिना रोड्रिग्स और इस्राइली अभिनत्री सैरिट लैरी को संयुक्त रूप से मिला. एरिना को क्यूबाई-स्पेनिश फिल्म ‘बिहेवियर’ के लिए जबकि सैरिट को फ्रेंच-इस्राइली फिल्म ‘द किंटरगार्डन टीजर’ के लिए पुरस्कार मिला. संयोगवश दोनों ने इन फिल्मों में शिक्षिकाओं के किरदार निभाए थे.

 

एरिना ने कहा, ‘‘भारत आना मेरा सपना था. क्यूबा में भारतीयों को बहुत पसंद किया जाता है. मैं कल लौट जाउंगी लेकिन मेरा दिल हमेशा भारत में रहेगा.’’ नैडव लैपिड ने ‘द किंडरगार्डन टीजर’ के लिए सर्वश्रेष्ठ निर्देशक का पुरस्कार जीता. लैपिड को ‘एमिलीज गर्लफ्रेंड’ फिल्म के लिए जाना जाता है जिसे 2006 के कान फिल्म महोत्सव में समीक्षकों ने बहुत सराहा था.

 

महाराष्ट्र के विदर्भ क्षेत्र में किसानों के आत्महत्या के मुद्दे पर आधारित ‘एक हजारची नोट’ ने शताब्दी पुरस्कार एवं विशेष ज्यूरी पुरस्कार :नवोदित निर्देशक श्रीहरि साठे को: जीतकर आईएफएफआई में इतिहास रच दिया.

 

लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार हांगकांग के प्रसिद्ध फिल्मकार वांग कार-वाई को दिया गया. ‘इन दि मूड फोर नाइट’, ‘एशेज ऑफ टाइम’ और ‘चुंकिंग एक्सप्रेस’ जैसी चर्चित फिल्मों के निर्देशक ने यह सम्मान अपनी पत्नी चान ये-चेंग को समर्पित किया.

 

कार-वाई ने कहा, ‘‘मैं सम्मानित महसूस कर रहा हूं कि मेरी फिल्म ‘द ग्रंैडमास्टर’ महोत्सव की समापन फिल्म है. यह एक बड़ा सम्मान है और आश्चर्यजनक है. मैं उम्मीद करता हूं कि यह मेरे लिए :फिल्मों से: सन्यास लेने का संकेत नहीं है.’’

 

समापन समारोह में रमेश सिप्पी, पिछली बार की शताब्दी पुरस्कार विजेता वहीदा रहमान, राकेश ओमप्रकाश मेहरा, इंटरटेनमेंट सोसाइटी ऑफ गोवा के उपाध्यक्ष दामोदर नाइक और दिव्या दत्ता समेत कई गणमान्य लोग शामिल हुए. गायक जुबिन गर्ग की एक खूबसूरत प्रस्तुति के साथ समारोह का अंत हुआ. गर्ग ने पूर्वोत्तर के सात राज्यों की संस्कृति को शानदार तरीके से पेश किया.

 

महोत्सव की शुरूआत 20 नवंबर को हुई थी. इस मौके पर अभिनेता अमिताभ बच्चन और रजनीकांत मौजूद थे. रजनीकांत को भारतीय फिल्म हस्ती का शताब्दी पुरस्कार दिया गया था.

 

इस बार चीन को विशेष देश :फोकस कंट्री: का दर्जा दिया गया था और उसकी 12 फिल्में यहां दिखायी गयीं. महोत्सव में 79 देशों की 178 फिल्में दिखायी गयीं जिनमें कान, बर्लिन एवं दूसरे महोत्सवों की पुरस्कार विजेता फिल्में शामिल थीं.

 

महोत्सव में पैनोरमा खंड समेत 20 अंतरराष्ट्रीय एवं 91 भारतीय प्रीमियर आयोजित किए गए. समारोह का आगाज ईरानी फिल्मकार मोहसिन मखमालफ की फिल्म ‘द प्रेसीडेंट’ के प्रदर्शन से हुआ.

 

महोत्सव में रॉबिन विलियम्स, रिचर्ड एटिनबरो, जोहरा सहगल, सुचित्रा सेन और फारूक शेख की फिल्मों के प्रदर्शन के साथ सिनेमा की इन दिवंगत महान हस्तियों को श्रद्धांजलि दी गयी.

Bollywood News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Russian film “Leviathan” bags best film award at IFFI
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017