मुसलमान होने के कारण सलमान खान को मिली जमानत: साध्वी प्राची

By: | Last Updated: Saturday, 9 May 2015 2:30 AM
Sadhvi Prachi questioned Salman Khan bail

नई दिल्ली: हिट एंड रन मामले में पांच साल की सजा पाए बॉलीवुड सुपरस्टार सलमान खान को बॉम्बे हाईकोर्ट ने शुक्रवार को बड़ी राहत दे दी. हाईकोर्ट ने ‘दबंग’ की पांच साल कैद की सजा निलंबित कर दी, जिसके साथ ही उन्हें नियमित जमानत मिलने का रास्ता साफ हो गया है.

 

लेकिन सलमान खान को जमानत मिलने के साथ ही इसका विरोध शुरू हो गया है. विश्व हिन्दू परिषद की नेता साध्वी प्राची ने सलमान की जमानत का विरोध करते हुए कहा है कि शराब पीकर गरीबों की हत्या करने वालों की जगह जेल में होनी चाहिए. साध्वी ने कहा कि सलमान को बेल सिर्फ इसलिए मिली क्योंकि वो मुसलमान है.

 

आपको बता दें कि कल जमानत मिलने के तुरंत बाद ही बीजेपी सांसद और पूर्व मुंबई पुलिस कमिश्नर सत्यपाल सिंह ने कहा, “पहले सेशंस कोर्ट के फैसले से लगा था कि इस देश में कानून के सामने अमीर और गरीब सब बराबर हैं. लेकिन हाईकोर्ट का फैसला बताता है कि गरीब को इंसाफ नहीं मिला है.”

 

सामाजिक कार्यकर्ता नीलम कटारा ने भी सलमान पर हाईकोर्ट के फैसले पर आपत्ति जाहिर की है. उन्होंने कहा कि इस निर्णय से समाज में गलत संदेश जाएगा. नीलम कटारा ने कहा, “इस फैसले से ग़लत संदेश गया है. इसका सीधा मतलब है कि अगर आपके पास पैसा है और आप ताकतवर हैं तो आप नशे में ड्राइविंग कर सकते हैं.”

 

क्या है मामला-

आपको बता दें कि 28 सितंबर, 2002 को सलमान ने मुंबई के बांद्रा इलाके में अपनी कार से पटरी पर सो रहे पांच लोगों को कुचल दिया था. जिनमें से एक की मौत हो गई थी और चार लोग घायल हुए थे.

 

सलमान ने नशे की हालत में अपनी कार एक बंद दुकान की सीढ़ियों पर सोए मजदूर नुरुल्ला शरीफ व मोहम्मद कलीम पर चढ़ा दी थी. इस हादसे में नुरुल्ला की तुरंत मौत हो गई थी और कलीम इस कदर घायल हुआ कि किसी काम के लायक नहीं रह गया है.

 

हाईकोर्ट ने क्या कहा-

ए.एम. थिपसे ने सलमान खान को मुंबई सत्र न्यायालय में 30 हजार रुपये का एक ताजा जमानत मुचलका भरने का निर्देश दिया. दो दिन पहले हाईकोर्ट ने अभिनेता को अंतरिम जमानत दी थी, जिसे आगे बढ़ाया गया है. निचली अदालत के फैसले के खिलाफ अपील के लंबित रहने तक सुपर स्टार को हिरासत में नहीं लिया जाएगा.

 

बाद में शुक्रवार शाम को सलमान (49) अपने वकीलों की टीम के साथ दक्षिण मुंबई स्थित सत्र न्यायालय पहुंचे, जहां उन्होंने आत्मसमर्पण कर दिया. उन्होंने 30 हजार रुपये का ताजा जमानत मुचलका भरा, जमानत की औपचारिकताएं पूरी कीं और घर लौट गए.

 

दबंग को जमानत मिलने की खुशी उनके प्रशंसकों के साथ-साथ बॉलीवुड की हस्तियों ने भी मनाई. सलमान की बहनें अलवीरा व अर्पिता सभी तरह की कानूनी औपचारिकताओं के लिए वकीलों के साथ देखी गईं.

 

हाईकोर्टमें न्यायाधीश थिप्से ने कहा कि चूंकि सजा की अवधि सात साल से कम है, इसलिए अपील स्वीकार कर लिए जाने के बाद सजा निलंबित हो सकती है. उन्होंने कहा, “यह सामान्य कानून है कि जब सजा सात साल से कम होती है, तो अपील मंजूर होने के बाद वह निलंबित हो सकती है. इसलिए सजा को निलंबित किया जाएगा. अपील पर फैसला आने तक उन्हें जेल नहीं भेजा जाएगा.”

 

उन्होंने कहा, “जब उनकी अपील स्वीकार कर ली गई है और वह लंबित है, फिर उनके अधिकारों से उन्हें क्यों वंचित किया जाए? कई मामलों में लोग जेल की पूरी सजा काटते हैं, जबकि बाद में वे हाईकोर्टद्वारा बरी कर दिए जाते हैं.”

 

न्यायाधीश थिप्से ने कहा कि बचाव पक्ष द्वारा सत्र न्यायालय के फैसले को चुनौती देने वाली अपील में कई बिंदुओं की ओर ध्यान आकृष्ट किया गया है, जिसमें यह भी कहा गया है कि इस मामले में भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 304ए (लापरवाही के कारण मौत) या 304,2 (गैर इरादतन हत्या)-का कौन सा प्रावधान लगाया जाए, इस पर विचार करने की जरूरत है.

 

न्यायाधीश थिप्से ने सलमान को पासपोर्ट जमा करने और विदेश यात्रा करने से पहले न्यायालय से मंजूरी लेने को कहा.

 

हाईकोर्टके समक्ष लगभग दो घंटे तक चली दलीलों में वकील अमित देसाई के नेतृत्व में सलमान के वकीलों ने कहा कि अभियोजन पक्ष गायक कमाल खान को गवाह के तौर पर पेश करने में विफल रहा और बचाव पक्ष को सलमान खान के सुरक्षाकर्मी रवींद्र पाटिल से जिरह करने का मौका नहीं मिला तथा दुर्घटना टोयोटा लैंड क्रूजर कार का टायर फटने से हुई थी.

 

मुख्य लोक अभियोजक संदीप शिंदे ने सलमान की जमानत का विरोध करते हुए दलील दी कि दुर्घटना के समय वह शराब के नशे में थे और कार में चौथे व्यक्ति की मौजूदगी पूरी तरह से निराधार है.

 

उल्लेखनीय है कि बुधवार को अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश डी.डब्ल्यू देशपांडे ने सलमान खान को सभी आरोपों में दोषी पाया था और उन्हें पांच साल जेल की सजा सुनाई थी.

 

जमानत मिलने के बाद हाईकोर्ट, सेशन कोर्ट और सलमान के बांद्रा स्थित घर के बाहर जमा हजारों प्रशंसकों ने हत्या (गैरइरादतन) के दोषी पर अदालत की मेहरबानी का जश्न नाच-गाकर मनाया.

 

वहीं खुद को सलमान का प्रशंसक बताने वाले 32 वर्षीय एक विक्षिप्त व्यक्ति जी. कुंदु ने जहर पीकर खुदकुशी करने का प्रयास किया, साथ ही उसने हाईकोर्टके बाहर लोगों के बीच सुसाइड नोट भी बांटा. उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

 

मुस्लिम होने के कारण सलमान को बेल-प्राची 

Bollywood News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Sadhvi Prachi questioned Salman Khan bail
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017