SELFIE: पत्नी ने कहा, 'एक्टिंग को लेकर दूसरों से अलग सोचते हैं नवाज'

By: | Last Updated: Saturday, 14 November 2015 4:32 PM
selfie on nawazuddin siddhqui

नई दिल्ली: जब भी हम बुरे वक्त से गुजर रहे होते हैं हमसे कहा जाता है कि, “दोस्त.. सब्र करो…ये  वक्त भी बीत जायेगा – आखिर हर बुरा टाइम गुजर जाता है” ये कहना तो आसान है लेकिन जिसपे गुजरी हो उससे पूछिये. ये सच है की आगे बढ़ने के लिए बीते कल की ओर नहीं, आनेवाली कल की ओर देखना चाहिए, पर साथ ही पुराने कल को, उन यादों की गलियों को, उन गलियों में देखे सपनों को भी नहीं भूलना चाहिए.

 

हम हर बार आते हैं आपके सामने इंट्रेस्टिंग कहानियों को लेकर. ये कहानियां होती है हिंदी सिनेमा की उन कामयाब हस्तियों की जिन्होंने एक लम्बे स्ट्रगल के बाद जीत हासिल की तो आईए जानते हैं आज के स्टार के बारे में…

 

आज हम बात कर रहे हैं ‘बहुत ही टेलेंटेड नवाजुद्दीन सिद्दीकी की.’ वो थका नहीं, वो रुका नहीं, बस चलता रहा अपनी ही धुन में.

संघर्ष के हर रंग को अपने में समेटे, ये कहानी है एक ऐसे लड़के की जिसने अपनी जिद से, अपनी मेहनत, लगन और धैर्य से हर कदम पर जिंदगी के हर इम्तहानों का डटकर सामना किया है. ये कहानी है नवाजुद्दीन की , नवाजुद्दीन सिद्दीकी की जिसने सहा है लाइफ का हर अत्याचार.

 

एबीपी न्यूज़ के स्पेशल शो ‘सेल्फी’ में नवाज ने अपने शुरु के दिनों को याद करते हुए कई ऐसी बातें बताई जिससे उनके चाहने वाले शायद वाकिफ नहीं है. आइये जानते हैं नवाजद्दीन के जीवन से जुड़े कुछ अनसुनी बातों को जिसे उन्होनें आप के चैनल एबीपी न्यूज़ से शेयर किया है.

 

बात उन दिनों की है जब नवाज ग्रेजुएशन पूरी करने के बाद नौकरी की तलाश में थे. नवाज ने एबीपी न्यूज़ को बताया कि शुरु में वे बरोदा के पेट्रोकेमिकल कंपनी में चीफ केमिस्ट थे लेकिन उनका वहां मन नहीं लगा और उसके बाद वो घुमते घमते दिल्ली पहुंच गये.

 

नवाज ने पुराने दिनों को याद करते हुए कहा, ”दिल्ली में जाके किसी ने थिएटर दिखाया. थिएटर देखने के बाद, फिर पहली बार मैंने 50-60 प्ले देखें, क्योंकि मेरे अंदर कॉन्फिडेंस नाम की कोई चीज बिलकुल ही थी. स्टेज पर जाके ऑडियंस के सामने एक बात भी कर सकूं ऐसा कॉन्फिडेंस मुझमें नहीं था. इसलिए मुझे इतने सारे प्ले देखने पड़े, प्ले देखने के बाद फिर मैंने एक ग्रूप ज्वाइन किया.”

 

नवाज की सबसे बड़ा संघर्ष शुरु होता है अब. दरअसल दिल्ली में नवाज को थिएटर का ऐसा चस्का लगा कि वे इसी में रम गये. ऐसे में खुद का खर्च चलाने और साथ-साथ इस शौक को पूरा करने के लिए नवाज ने कर ली नौकरी, और वो भी वॉचमन की.

नवाज के मुताबिक, ”थियेटर में क्या होता है कि पैसा वैसा तो मिलता नहीं है तो एक दिन मैं टॉयलेट में गया तो वहां पोस्टर लगा हुआ था कि 360 सिक्यूरिटी गार्ड्स चाहिए. 500 वॉचमैन चाहिए तो मैने जल्दी उसका नंबर नोट कर लिया. फिर उनके पास गया कि भई मुझे जॉब चाहिए तो वो बोले नोएडा में है वॉचमैन का, कर लो…तो मैने कहा ठीक है दे दो. तो उन्होने बोला पैसे दो पहले डिपोजिट के लिए तो उनको 5000 हजार डिपोजिट दिया फिर वो जॉब मिला. फिर क्या था वहां काम किया एक साल और साथ में थियेटर भी करता था. ”

 

दिनभर वॉचमन की नौकरी करते और रात म मंच पर एक्टिंग, यानी थिएटर. नवाज ने आगे बताया, ”मैं ड्यूटी करता था नाइन टू फाइव. वॉचमैन का काम करता था फिर जाकर थियेटर करता था मतलब ये कि सरवाईवल के लिए ये चीजें होनी बहुत जरूरी होती है ताकि आप अपनी मर्जी का काम भी कर सको.”

 

रंगमंच का रंग नवाज़ पर कुछ ऐसा चढ़ा की नवाज वहीँ के हो लिए हो गए. फिर क्या था दिनभर लोगों को सलाम ठोंकता, जी साहब कहता ये लड़का अपने दो लफ्ज के डायलॉग से आगे निकल आया. नवाज के अंदर छुपा एक एक्टर को उड़ान मिली दिल्ली के NSD में.

 

संघर्ष से निकाले नवाज की कई अनसुनी बातें उनकी पत्नी ने भी एबीपी न्यूज़ से शेयर की. नवाज एक्टिंग की दीवानगी पर बात करते हुए उनकी पत्नी ने बताया, ”ये कभी शांत नहीं बैठे…और माशाअल्लाह ये ही इनकी तरक्की है. इसी वजह से इन्होने शायद तरक्की की है. जबसे मैं इनके साथ हूं तबसे मैंने देखा की ये कभी शांत बैठे नहीं हैं.”

उन्होनें आगे बताया, ”एक्टिंग को लेकर नवाज हमेशा सोचते रहते हैं कि कुछ नया करना है. बड़े खोजी टाइप के हैं. एक्टिंग को लेकर कुछ अलग सा हो जाता है इनमें…साइंटिस्ट टाइप का तेवर आ जाता है. मुझे हमेशा लगता है की ये कुछ नया करनेवाले हैं.”

Bollywood News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: selfie on nawazuddin siddhqui
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017