Supreme Court refuses to stay release of ‘Padmavati’

भंसाली को सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत, 'पद्मावती' की रिलीज पर नहीं लगेगी रोक

बता दें कि इस फिल्म को रिलीज करने से रोकने संबंधी याचिका को आज सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया और कहा कि सेंसर बोर्ड किसी भी फिल्म को प्रमाणपत्र देने से पहले सभी पहलूओं पर गौर करता है.

By: | Updated: 10 Nov 2017 02:58 PM
Supreme Court refuses to stay release of ‘Padmavati’
नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने पद्मावती के मेकर्स को बड़ी राहत ही है. आज सुप्रीम कोर्ट ने पद्मावती की रिलीज पर रोक लगाने संबंधी याचिका को खारिज करते हुए कहा कि सेंसर बोर्ड किसी भी फिल्म को प्रमाणपत्र देने से पहले सभी पहलूओं पर गौर करता है.

प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति ए. एम. खानविलकर और न्यायमूर्ति डी. वाई. चन्द्रचूड़ की पीठ ने कहा कि रिलीज से पहले फिल्म को प्रमाणपत्र देने के संबंध में सेंसर बोर्ड के पास अनुपालन के लिय पर्याप्त दिशा-निर्देश हैं.

पीठ सिद्धराजसिंह एम. चूडासामा और 11 अन्य की ओर से दायर याचिका पर सुनवायी कर रही थी. याचिका में प्रतिष्ठित इतिहासकारों की एक समिति बनाने का अनुरोध किया गया था जो फिल्म में रानी पद्मावती के फिल्मांकन में किसी गलती को रोकने के लिए पटकथा की जांच करे. याचिका में यह भी अनुरोध किया गया था कि निर्माता..निर्देशक द्वारा फिल्म से इतिहास संबंधी कथित गड़बड़ियां दूर होने तक इसकी रिलीज प्रतिबंधित कर दी जाये.

आपको बता दें कि बढ़ते विरोध के बीच इस फिल्म के डायरेक्टर संजय लीला भंसाली अपना पक्ष पहले ही रख चुके हैं. भंसाली ने दो दिन पहले एक वीडियो संदेश के जरिए ये साफ किया है कि फिल्म में दीपिका यानि पद्मावती और रणवीर यानि अलाउद्दीन खिलजी के बीच को ड्रीम सीक्वेंस नहीं है. साथ ही उन्होंने ये भी बताया है कि इन दोनों सितारों ने कभी 'पद्मावती' की शूटिंग साथ भी नहीं की. इसके बावजूद भी ये विरोध नहीं थमा और मामला सुप्रीम कोर्ट जा पहुंचा. अब सुप्रीम कोर्ट ने खुद इस पर रोक लगाने से इंकार कर दिया है.



बता दें कि इस फिल्म में रणवीर सिंह और दीपिका पादुकोण के अलावा शाहिद कपूर भी मुख्य भूमिका में हैं. इसमें शाहिद कपूर दीपिका के किरदार के पति महारावल रतन सिंह की भूमिका में हैं.

यह फिल्म 1 दिसंबर को रिलीज के लिए तैयार है. शूटिंग के दौरान से ही भंसाली को विरोध का सामना करना पड़ा रहा है. शूटिंग के दौरान राजपूतों के संगठन 'करणी सेना' ने सेट पर जाकर तोड़फोड़ की और भंसाली के साथ दुर्व्यवहार किया. सेंसर बोर्ड से पास इस फिल्म को दिखाए जाने से रोकने के लिए कई बीजेपी नेता भी आगे आए. एक  बीजेपी सांसद चिंतामणि मालवीयने तो भंसाली के प्रति अभद्र टिप्पणी भी कर दी. उन्होंने कहा, 'भंसाली को जूतों की भाषा समझ में आती है.'

लेकिन अब सारे विवादों को रोकते हुए सुप्रीम कोर्ट ने इस फिल्म को लेकर बड़ा फैसला दिया है जो मेकर्स के लिए बड़ी राहत है.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title: Supreme Court refuses to stay release of ‘Padmavati’
Read all latest Bollywood News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story पूरे परिवार के साथ अंबानी स्कूल के एनुअल फंक्शन में नज़र आए शाहरुख खान, देखें तस्वीरें