धोनी-विराट के बीच सब ठीक: रवि शास्त्री

By: | Last Updated: Friday, 2 January 2015 4:45 AM

नई दिल्ली: टीम इंडिया के डायरेक्टर रवि शास्त्री ने दैनिक भास्कर को दिए इंटरव्यू में कहा कि महेंद्र सिंद घोनी और टीम इंडिया के नए कप्तान विराट कोहली के बीच सबकुछ बिल्कुल ठीक है.

 

रवि शास्त्री ने साथ ही कहा ऑस्ट्रेलिया में टीम इंडिया के ड्रेसिंग रूम के खराब माहौल पर लग रहे आरोप भी बेबुनियाद है. भारतीय टीम के ड्रेसिंग रूम का माहौल बेहद अचछा है.

 

डायरेक्टर शास्त्री ने पूर्व टेस्ट कप्तान धोनी की तारीफ करते हुए कहा कि धोनी एक अलग खिलाड़ी हैं और संन्यास जैसी चीज़ उनके लिए कोई मायने नहीं रखती. महेंद्र सिंह धोनी संन्यास से कहीं आगे निकल गए हैं. उन्हें इस बात से फर्क नहीं पड़ता कि उन्होनें कौन सा आंकड़ा छुआ और कितने टेस्ट खेले.

 

पढ़ें दैनिक भास्कर से रवि शास्त्री की बातचीत के अंश:

 

धोनी के संन्यास पर ड्रेसिंग रूम में क्या माहौल था?

 

– हम सब स्टंप्ड हो गए…. सबकुछ बेहद चौंकाने वाला था. मैच के बाद होने वाले प्रजेंटेशन खत्म होने तक कुछ पता नहीं था. संन्यास के बारे में सिर्फ एक व्यक्ति ही जानता था, खुद धोनी.

 

धोनी के फैसले से भारत में मीडिया और उनके प्रशंसकों में नाराजगी है?

 

– देखिए, हर खिलाड़ी को कभी न कभी रिटायरमेंट लेना ही होता है. यह बेहद निजी मामला होता है.

 

कोई दूसरा कैसे सवाल उठा सकता है? लेकिन क्या उन्हें सीरीज का आखिरी टेस्ट नहीं खेलना था?

 

– शायद उन्हें लगा होगा कि वे अब खुद और टीम के साथ न्याय नहीं कर पा रहे हैं. इससे तो उनका कद बढ़ा ही है.

 

चर्चा है कि विराट के बढ़ते कद और उन्हें आपके साथ से धोनी असहज थे?

 

– हां, इस तरह की खबरें मैंने भी सुनी है. लेकिन यह सब बकवास है. ड्रेसिंग रूम का माहौल आज भी बहुत अच्छा है.

 

तो क्या धोनी और विराट में अनबन नहीं थी?

 

– जहां तक मैं जानता हूं, बिलकुल नहीं. क्या आपको पता है- धोनी का कितना सम्मान है? सिर्फ विराट के मन में नहीं, टीम के हर खिलाड़ी के मन में. सपोर्ट स्टाफ और एडमिनिस्ट्रेशन की नजर में भी.

 

सुना है कि धोनी अगले टेस्ट में रिद्धिमान साहा के स्टैंडबाई रहेंगे?

 

– बिल्कुल. अगर जरूरत पड़ी तो….

 

आपके हिसाब से कौन सी खूबी धोनी को अलग बनाती हैं?

 

– उन्होंने सबका ईगो संभाला, लगातार शानदार प्रदर्शन और क्रिकेट कमिटमेंट. लेकिन उनका समय खत्म नहीं हुआ है. वनडे और टी-20 के लिए धोनी में बहुत क्रिकेट बाकी है.

 

विराट के आने के बाद ड्रेसिंग रूम का मिजाज बदलेगा. क्या इससे खिलाड़ी गुमराह हो सकते हैं?

 

– नहीं. मैं अपने समय में कई कप्तानों के साथ खेला. सबका अपना व्यक्तित्व होता है. और सबसे बेहतर वे होते हैं जो खिलाड़ियों को अपने अनुसार खेलने की सहूलियत देते हैं.

 

तुनकमिजाजी ड्रेसिंग रूम का माहौल बिगाड़ सकती है. कोहली-धवन का मामला सामने है….

 

– मीडिया के कुछ लोग फिल्म की पटकथा लिख रहे हैं. जबकि इन दोनों के बीच कुछ हुआ ही नहीं था. कोहली पांच साल से टीम में हैं. लड़के उनको जानते हैं. कई तो अंडर-19 के समय से उनके साथ हैं.

 

आप कोहली की आक्रामकता की तारीफ करते रहे हैं. लेकिन जनसन के मामले में उनका रवैया गैरजरूरी लग रहा था…

 

– ये कोहली का व्यक्तित्व है. वे आक्रामक और जोशीले हैं. लेकिन ये भी ध्यान रखिए कि अभी वे सिर्फ 26 साल के हैं.

 

लेकिन इस सबके बावजूद टीम सीरीज हार गई. बुरा नहीं लगा?

 

– टीम अभी युवा है, थोड़ा समय तो दीजिए.

 

टेस्ट क्रकेट में अब आप भारत की स्थित को कैसे आंकते हैं?

 

– बहुत मेहतन करनी है. सबसे पहले हमें ऐसे गेंदबाज बनाने हैं जो 20 विकेट ले सके. लेकिन इस सबसे पहले हमें एग्रेसिव मांइडसेट चाहिए.

 

तो क्या आप धोनी के फैसले से सहमत हैं?

 

धोनी इस एक फैसले से मीलों आगे निकल गए हैं. उन्होंने 100 टेस्ट और उस तरह के तमाम आंकड़ों का इंतजार नहीं किया. उन्होंने फेयरवेल तक नहीं चाहा. यही उनकी क्वालिटी है.

 

आपको बता दें कि हाल ही में ऑस्ट्रेलिया में चल रहे 4 टेस्ट मैचों की सीरीज़ में 2-0 से पिछड़ने के बाद भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने टेस्ट क्रिकेट से संन्यास ले लिया था. 

पूर्व कप्तान धोनी के 10 बड़े रिकॉर्ड  

द्रविड़ ने धोनी की तारीफों के पुल बांधे 

रहाणे या अश्विन बन सकते हैं उप कप्तान 

Bollywood News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Team India_Mahendra Singh Dhoni_Virat Kohli_Ravi Shastri_
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017