''हमारे देश में मौजूदा हालात बहुत सुखद नहीं है''

By: | Last Updated: Wednesday, 25 November 2015 7:18 AM
We have divided everything in our country, says Rajkumar hirani

पणजी: फिल्मकार राजकुमार हिरानी ने कहा है कि हमारे देश में मौजूदा हालात बहुत सुखद नहीं है, क्योंकि लोग रंगों से लेकर जानवरों तक हर चीज को बांट रहे हैं.

 

आमिर खान अभिनीत ‘‘पीके’’ का निर्देशन कर चुके 53 साल के हिरानी का मानना है कि यदि भारत के लोग अपनी विभाजनकारी प्रवृति से छुटकारा पा लें तो देश की सबसे गंभीर समस्याएं पल भर में सुलझ सकती हैं.

 

आईएफएफआई के इतर हिरानी ने कहा, ‘‘एक इंसान के तौर पर हमने हर चीज को बांट दिया है. हरा रंग मुसलमानों का, गेरूआ किसी और कहा. हमने जानवरों को भी बांट दिया है – एक के लिए गाय, दूसरे के लिए बकरी. हमें समझने की जरूरत है कि हम एक ही नस्ल के हैं. जिस वक्त हम इन सबसे छुटकारा पा लेंगे, हमारी बहुत सारी समस्याएं सुलझ जाएंगी. धर्म के नाम पर हमारे देश में बहुत सारे लोग मरे हैं, और कुछ नहीं.’’

 

‘‘मुन्नाभाई एमबीबीएस’’, ‘‘लगे रहो मुन्नाभाई’’ और ‘‘3 इडियट्स’’ जैसी फिल्मों के निर्देशक हिरानी ने कहा कि ‘‘पीके’’ जैसी फिल्म बनाने के पीछे उनकी सोच यह थी कि लोगों को यह समझाने की कोशिश की जाए कि धर्म इंसानों की बनाई हुई चीज है.

 

उन्होंने कहा, ‘‘यह एकमात्र ऐसी फिल्म थी जिसके बारे में मैंने वाकई कुछ बातें करनी चाही थी. मैं हमेशा इस बात को समझने की कोशिश करता रहा हूं कि ईश्वर क्या है. हमारे आसपास कई लोग हैं जो ये जवाब दे रहे हैं लेकिन इनमें कई विरोधाभास हैं.’’

 

हिरानी ने कहा, ‘‘हमारे देश में बहुत सारी लड़ाइयां धर्म के कारण होती हैं. हमें यह समझ नहीं आता कि धर्म और कुछ नहीं बल्कि इंसान की बनाई चीज है.’’

 

असहिष्णुता पर आमिर खान के बयान पर प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए हिरानी ने कहा, ‘‘मुझे कुछ नहीं कहना है.’’

Bollywood News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: We have divided everything in our country, says Rajkumar hirani
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: Aamir Khan pk rajkumar hirani
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017