क्या झूठी कहानी पर आधारित है 'एयरलिफ्ट' ?

By: | Last Updated: Monday, 25 January 2016 9:19 AM
What is the reality of Akshay Kumar Airlift ?

भारत छोड़े हुए उसे कई साल हो चुके हैं और अब वो कुवैत को ही अपने देश की तरह मानने लगा है. मगर एक रात सबकुछ बदल जाता है. इराक़ कुवैत में घुसकर हमला कर देता है और रंजीत कटियाल के परिवार के साथ-साथ, 1 लाख 70 हजार भारतीय कुवैत में बुरी तरह फंस जाते हैं.

नई दिल्ली: अक्षय कुमार की नई फिल्म एयरलिफ्ट एक नई वजह से चर्चा में है. फिल्म दावा करती है कि वो 1990 में कुवैत पर इराक हमले के एक ऐसे हीरो की कहानी है जो किसी ने कभी नहीं सुनी. आज एबीपी न्यूज आपको बताने जा रहा है उस हीरो और उसे लेकर किए गए दावे का पूरा सच.

बॉक्स ऑफिस पर शानदार ओपनिंग की गारंटी माने जाने वाले अक्षय कुमार की फिल्म हो और फिल्म में एक्शन का मसाला हो तो फिल्म की चर्चा होनी ही है. लेकिन इस बार लंचबॉक्स जैसी फिल्म में काम कर चुकी निमरित कौर की फिल्म एयरलिफ्ट एक बिलकुल अलग वजह से चर्चा में है. वजह है फिल्म को लेकर किया गया ये दावा कि फिल्म एक सच्ची कहानी और एक सच्चे किरदार पर बनाई गई है.

दरअसल एयरलिफ्ट फिल्म की कहानी जिस घटना पर आधारित है वो सच्ची भी और डरावनी भी. 2 अगस्त 1990 को इराक के फौजी तानाशाह सद्दाम हुसैन ने कुवैत पर हमला कर दिया था. शाम चार बजे हुए उस हमले के बाद कुवैत का पूरी दुनिया से संपर्क टूट गया था. ना कोई शख्स कुवैत से बाहर जा सकता और ना ही अपनी खैरोखबर देश के बाहर पहुंचा सकता था.

इन हालात में 1 लाख 70 हजार अप्रवासी भारतीय कुवैत में कैद होकर रह गए थे. 22 जनवरी को रिलीज हुई इस फिल्म के प्रचार के दौरान खुद अक्षय कुमार ने जिक्र किया था कि उन 1 लाख 70 हजार भारतीयों को कुवैत से बाहर लाने का ऑपरेशन दुनिया का सबसे बड़ा हवाई रेस्क्यू था.

फिल्म इराक के कुवैत पर हमले की उस हकीकत पर आधारित बताई गई लेकिन एक और दावा अब विवाद की वजह बन गया है. दावा ये कि फिल्म के हीरो यानी कुवैत में कारोबार करने वाले रंजीत कत्याल भारत के सबसे बड़े रेस्क्यू ऑपरेशन के हीरो थे और एयरलिफ्ट फिल्म उनकी सच्ची कहानी है.

फिल्म के इस प्रचार को आप सोशल मीडिया पर भी देख सकते हैं जहां भारत के सबसे बड़े हवाई रेस्क्यू ऑपरेशन को अंजाम तक पहुंचाने वाले रंजीत कात्याल की कहानियां वायरल हो रही हैं.

आपके चैनल ने एयरलिफ्ट फिल्म में दिखाए गए रंजीत कात्याल की हकीकत जानने की कोशिश की. ये जानने के लिए आखिर 1990 में 1 लाख से ज्यादा भारतीयों को जंग के मैदान से भारत निकालने के लिए रंजीत कात्याल ने क्या किया था, जवाब चौंकाने वाला है.

एबीपी न्यूज ने जोधपुर में रहने वाले उस शख्स से मुलाकात की जो 1990 में कुवैत से असली एयरलिफ्ट ऑपरेशन यानी हवाई रेस्क्यू मिशन के इंचार्ज थे. उस दौर में कुवैत के दूतावास में सेकेंड सेक्रेटरी के तौर पर तैनात सुरेशमल माथुर और उनके परिवार के मुताबिक उन 1 लाख 70 हजार एनआरआई में रंजीत कात्याल नाम का तो कोई शख्स था ही नहीं.

इतना ही नहीं भारतीय विदेश सेवा से जुड़ा ये परिवार तो ये भी दावा कर रहा है कि फिल्म में भारत सरकार की ओर से मदद से इंकार की कहानी भी झूठी है. खुद सुरेशमल माथुर के मुताबिक उस दौर के विदेश मंत्री इंद्र कुमार गुजराल जंग से जूझ रहे कुवैत जा पहुंचे थे.

जो देश जंग का मैदान बन गया हो वहां से अपने लोगों को निकालना बेहद मुश्किल था लेकिन विदेश मंत्रालय और एयर इंडिया ने मिलकर दुनिया के सबसे बड़े एयरलिफ्ट ऑपरेशन को अंजाम दिया था और वो भी अपने खर्च पर. हकीकत तो ये है कि जंग से जूझ रहे कुवैत में भारतीय विमानों के उतरना नामुमकिन था इसलिए असली एयरलिफ्ट ऑपरेशन को जॉर्डन की शहर अम्मान से अंजाम दिया गया था.

विदेश विभाग के पूर्व कर्मचारी सुरेशमल के मुताबिक इस पूरे काम को कुवैत में तैनात भारतीय दूतावास के 30 अधिकारियों ने अंजाम दिया था और हवाई बचाव का काम करने के लिए जॉर्डन में 40 और अधिकारी भी तैनात कर दिए गए थे लेकिन फिल्म में ये काम सिर्फ एक शख्स यानी फिल्म का हीरो रंजीत कात्याल करते हुए दिखाए गए हैं.

1990 के कुवैत संकट का गवाह रहा ये परिवार उन लोगों में शामिल है जिन्हें कुवैत भारत सरकार और एयर इंडिया की मदद से बाहर निकाला गया था. सबसे पहले इस बेटी को जिसे मेडिकल कॉलेज में दाखिला लेना था.

सुरेशमल और उनके परिवार ने अक्षय कुमार की ये नई फिल्म देख ली है. उनका दावा है कि फिल्म में भारत सरकार के मिशन को नहीं बल्कि इराक के अत्याचार की कहानी को भी गलत तरीके से पेश किया गया है.

एबीपी न्यूज ने इस खुलासे के बाद ये जानने की कोशिश भी कि भारत के जिस सबसे बड़े रेस्क्यू मिशन पर अक्षय कुमार जैसे अभिनेता की फिल्म वाहवाही बटोर रही है उस मिशन में कुवैत के एनआरआई समुदाय की कोई भूमिका थी भी या नहीं.

इसमें कोई शक नहीं कि एयरलिफ्ट फिल्म देश के लिए प्यार और जांबाजी की बेमिसाल कहानी है लेकिन ये भी एक बड़ा सच है कि फिल्म एयरलिफ्ट और उसमें दिखाया गया किरदार रंजीत कात्याल . ऐसे में सवाल उठ रहा है कि अक्षय कुमार जैसे कामयाब अभिनेता को ये दावा करने की जरूरत आखिर क्यों पड़ी?

Bollywood News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: What is the reality of Akshay Kumar Airlift ?
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: Airlift Akshay Kumar Bollywood
First Published:

Related Stories

गुलज़ार के जन्मदिन पर फैन्स को मिला तोहफ़ा, 1988 में बनी फिल्म ‘लिबास’ होगी रिलीज
गुलज़ार के जन्मदिन पर फैन्स को मिला तोहफ़ा, 1988 में बनी फिल्म ‘लिबास’ होगी...

मुंबई : जाने माने गीतकार और फिल्म निर्देशक गुलज़ार के 83वें जन्मदिन के मौके पर आज उनके फैन्स के...

माधुरी पर बनने वाले अमेरिकी शो की प्रोड्यूसर होंगी प्रियंका
माधुरी पर बनने वाले अमेरिकी शो की प्रोड्यूसर होंगी प्रियंका

मुंबई : बॉलीवुड की धक-धक गर्ल व डासिंग क्वीन के नाम से मशहूर अभिनेत्री माधुरी दीक्षित ने उनके...

धर्मेंद्र ने ट्विटर पर की शुरुआत
धर्मेंद्र ने ट्विटर पर की शुरुआत

मुंबई : दिग्गज अभिनेता धर्मेंद्र ने सोशल मीडिया वेबसाइट ट्विटर पर शुरुआत की है, जिस पर बेटे...

Watch : रिलीज हुआ 'भूमि' का पहला गाना 'ट्रिप्पी ट्रिप्पी', दिखा सनी का बोल्ड अंदाज
Watch : रिलीज हुआ 'भूमि' का पहला गाना 'ट्रिप्पी ट्रिप्पी', दिखा सनी का बोल्ड अंदाज

नई दिल्ली : संजय दत्त की आने वाली फिल्म ‘भूमि’ का पहला गाना ‘ट्रिप्पी ट्रिप्पी’ रिलीज हो...

मूवी रिव्यू: फीकी है 'बरेली की बर्फी'
मूवी रिव्यू: फीकी है 'बरेली की बर्फी'

स्टार कास्ट: आयुष्मान खुराना, कृति सैनन और राजकुमार राव, पंकज त्रिपाठी, सीमा पाहवा डायरेक्टर:...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017