असहिष्णुता पर बोले आमिर खान, 'पत्नी ने देश छोड़ने की बात कही थी'

By: | Last Updated: Tuesday, 24 November 2015 2:38 AM
Wife suggested moving out of India: Aamir Khan on intolerance

नई दिल्ली: दिल्ली में रामनाथ गोयनका अवॉर्ड्स में शामिल होने आए आमिर खान ने पहली बार देश में बढ़ती असहिष्णुता के मुद्दे पर अपनी चुप्पी तोड़ी. आमिर खान ने कहा है कि पत्नी किरन ने देश से बाहर जाने की इच्छा जताई क्योंकि उसे बच्चों के बारे में डर लग रहा है. देश में असुरक्षा का भाव है.

 

खान ने वस्तुत: उन लोगों का समर्थन किया जो अपने पुरस्कार लौटा रहे हैं और कहा कि रचनात्मक लोगों के लिए उनका पुरस्कार लौटाना अपना असंतोष या निराशा व्यक्त करने के तरीकों में से एक है. उन्होंने यहां पत्रकारिता के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य के लिए रामनाथ गोयनका पुरस्कार कार्यक्रम में कहा, ‘‘एक व्यक्ति के तौर पर, एक नागरिक के रूप में इस देश के हिस्से के तौर पर हम समाचार पत्रों में पढ़ते हैं कि क्या हो रहा है, हम इसे समाचारों में देखते हैं और निश्चित तौर पर मैं चिंतित हुआ हूं. मैं इससे इनकार नहीं कर सकता. मैं कई घटनाओं से चिंतित हुआ हूं.’’

 

पढें-  आमिर खान के विरोध में उतरे पाकिस्तानी मूल के लेखक तारिक फतह 

 

आमिर ने कहा कि वह महसूस करते हैं कि पिछले छह से आठ महीने में असुरक्षा और भय की भावना बढ़ी है. उन्होंने कहा, ‘‘मैं जब घर पर किरण के साथ बात करता हूं, वह कहती हैं कि ‘क्या हमें भारत से बाहर चले जाना चाहिए?’ किरण का यह बयान देना एक दुखद एवं बड़ा बयान है. उन्हें अपने बच्चे की चिंता है. उन्हें भय है कि हमारे आसपास कैसा माहौल होगा. उन्हें प्रतिदिन समाचारपत्र खोलने में डर लगता है.’’

 

शाहरूख ने भी दिया था असहिष्णुता पर बयान, साध्वी ने बताया था ‘पाकिस्तानी एजेंट’ 

 

आमिर ने कहा, ‘‘यह बेचैनी बढ़ने की भावना का संकेत है, चिंता के अलावा निराशा बढ़ रही है. आप महसूस करते हैं कि यह क्यों हो रहा है, आप कमजोर महसूस करते हैं. मेरे भीतर यही भावना है.’’ उन्होंने कहा कि किसी भी समाज के लिए सुरक्षा की भावना और न्याय की भावना होनी जरूरी है.

 

असहिष्णुता: आमिर खान के समर्थन में उतरी केजरीवाल सहित कई बड़ी हस्तियां 

 

उन्होंने राजनीतिज्ञों पर निशाना साधते हुए कहा, ‘‘..जो लोग हमारे चुने हुए प्रतिनिधि हैं, जिन लोगों को हमने राज्य या केंद्र में पांच वर्ष तक हमारी देखभाल करने के लिए चुना..जब लोग कानून अपने हाथों में लेते हैं, हम कड़ा रूख अपनाने, एक कड़ा बयान देने, कानूनी प्रक्रिया तेज करने के लिए उनकी ओर देखते हैं, जब हम देखते हैं कि कुछ हो रहा है हमारे भीतर एक सुरक्षा की भावना आती है लेकिन जब हम कुछ होते हुए नहीं देखते तब हमारे भीतर एक असुरक्षा की भावना आती है.’’ उन्होंने वैज्ञानिकों, लेखकों और फिल्मनिर्माताओं द्वारा अपने पुरस्कार लौटाने और बढ़ती असहिष्णुता के माहौल के खिलाफ अपना विरोध दर्ज कराने के कदमों का समर्थन करते हुए कहा कि रचनात्मक लोगों के लिए वह बात उठानी जरूरी है जो वे महसूस कर रहे हैं.

 

आमिर पर टूटे अनुपम खेर, पूछा- ‘कहां बसना चाहेंगी पत्नी किरन’ 

 

उन्होंने कहा, ‘‘बड़ी संख्या में रचनात्मक लोगों..इतिहासकार, वैज्ञानिक..के भीतर कुछ भावना है जिसके बारे में वे मानते हैं कि उसे व्यक्त करने की जरूरत है. रचनात्मक लोगों के लिए अपना असंतोष या निराशा व्यक्त करने का एक तरीका अपने पुरस्कार लौटाना है. मेरा मानना है कि यह अपनी बात रखने के तरीकों में से एक है.’’ यह पूछे जाने पर कि क्या वह लोगों के विरोधों का समर्थन करते हैं, आमिर ने कहा कि वह तब तक समर्थन करेंगे जब तक वह अहिंसक रहेगा क्योंकि ‘‘सभी व्यक्तियों को विरोध करने का अधिकार है और वे ऐसे किसी भी तरीके से विरोध कर सकते हैं जिसे वे सही मानते हैं जब तक वे कानून को अपने हाथों में नहीं ले रहे हैं.’’

 

पेरिस हमले पर बोले आमिर खान, ‘धर्म के नाम पर हिंसा निंदनीय है’ 

 

उन्होंने दादरी घटना के बाद आये राजनीतिक बयानों की आलोचना की और कहा कि हिंसा का कृत्य निंदनीय है, चाहे वह लोगों के एक समूह के खिलाफ हो या किसी व्यक्ति के खिलाफ हो.’’ उन्होंने कहा कि लोग नेताओं की ओर देखते हैं कि वे आश्वस्त करने वाले बयान दें. उन्होंने कहा, ‘‘इससे मतलब नहीं कि सत्ताधारी पार्टी कौन है..इससे मतलब नहीं कि सत्ता में कौन है..टेलीविजन पर होने वाली बहसों में हम देखते हैं कि वर्तमान में भाजपा सत्ताधारी है और उन पर विभिन्न चीजों के आरोप लगाये जाते हैं लेकिन वे कहते हैं कि 1984 का क्या. यह इसे सही नहीं बनाता. 1984 विनाशकारी था. वह भयावह था.’’

 

इस सवाल पर कि ऐसा क्यों कि इतनी अधिक संख्या में राजनीतिज्ञों ने दादरी में व्यक्ति की पीट पीटकर हत्या करने की घटना के बाद वहां का दौरा किया जबकि पिछले सप्ताह एक आतंकवादी हमले में शहीद हुए कर्नल संतोष महादिक के घर पर केवल रक्षा मंत्री गए, उन्होंने ,कहा, ‘‘प्रत्येक आतंकवादी एवं हिंसा के कृत्य की उतने ही मुखर ढंग से निंदा होनी चाहिए.’’

 

देश में बढ़ती असहनशीलता पर अभिनेता आमिर खान का बड़ा बयान 

 

यह भी पढ़ें-

आमिर पर टूट पड़े अनुपम खेर, पूछा- किस देश जाना चाहती हैं उनकी पत्नी

अमिताभ बच्चन का खुलासा, मैं 20 सालों से हेपिटाइटिस बी से जूझ रहा हूं 

जब चलती ट्रेन में दीपिका-रणबीर ने जमकर किया ‘तमाशा’ 

शादी की खबरों पर प्रीति जिंटा ने तोड़ी चुप्पी, कहा अभी कोई इरादा नहीं 

Bollywood News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Wife suggested moving out of India: Aamir Khan on intolerance
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: Aamir Khan Bollywood India Intolerance
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017