खतरनाक हो सकता है छोटी कारों में सफर करना, क्रैश टेस्ट में फेल हो गई ये 5 कारें

By: | Last Updated: Saturday, 1 February 2014 9:17 AM
खतरनाक हो सकता है छोटी कारों में सफर करना, क्रैश टेस्ट में फेल हो गई ये 5 कारें

नई दिल्ली: खतरनाक हो सकता है छोटी कारों में सफर करना, क्रैश टेस्ट में फेल हो गई ये 5 कारें नई दिल्ली: आप जानकर हैरान रह जाएंगे कि मारुति 800, टाटा नैनो, ह्युंदेई-i10 जैसी भारत में खूब बिकनेवाली कारें यात्री सुरक्षा मानकों से जुड़ा बेसिक टेस्ट भी नहीं पास कर पाई हैं.

 

लंदन के ग्लोबल न्यू कार एसेसमेंट प्रोग्राम के तहत ये टेस्ट किया गया था. भारतीय बाजार में खूब बिकनेवाली पांच कारों को प्रयोगशाला में 64 किलोमीटर प्रति घंटा की गति से प्रयोगशाला में टक्कर करवाई गई, जिसमें पांच में से चार कारें फेल हो गईं.

 

सिर्फ फॉक्सवैगन पोलो का 2014 का मॉडल में एयरबैग था, जो इस टेस्ट में पास हो सका. विशेषज्ञों की मानें तो भारत में बिकनेवाली 90 फीसदी लोअर सेगमेंट की कारों को कंपनियां स्टैंडर्ड बताती हैं, लेकिन इनमें एयरबैग और एंटी लॉक ब्रेकिंग सुविधा तक नहीं होती है.
 

फॉक्‍सवैगन की तरफ से मुहैया कराई गई बच्‍चों की सीट को ‘थ्री-स्‍टार’ रेटिंग दी गई है. सिर्फ फॉक्सवैगन पोलो का 2014 का मॉडल में एयरबैग था, जो इस टेस्ट में पास हो सका.