नियमों का उल्लंघन कर रहे सरकारी स्कूल

नियमों का उल्लंघन कर रहे सरकारी स्कूल

By: | Updated: 01 Jan 1970 12:00 AM

नई दिल्ली: राष्ट्रीय राजधानी में बच्चों का भविष्य संवारने वाले 4,000 प्राथमिक स्कूलों में बच्चों का जीवन ही दांव पर है, क्योंकि आग लगने के उच्च खतरे वाले इन स्कूलों के पास दिल्ली अग्निशमन सेवा से अनापत्ति प्रमाणपत्र ही नहीं है.

 

दिल्ली अग्निशमन सेवा के निदेशक ए.के. शर्मा ने बताया, "ये 4,000 प्राथमिक स्कूल न सिर्फ नियमों का उल्लंघन कर रहे हैं, बल्कि इनमें आग लगने का जोखिम भी सर्वाधिक है. इनमें से किसी भी स्कूल में आग लगने की आपात स्थिति से निबटने के लिए कोई व्यवस्था नहीं है और न ही सुरक्षा उपकरण ही लगाए गए हैं."

 

उन्होंने आगे कहा, "यहां तक कि उन्होंने अनापत्ति प्रमाण तक नहीं लिया है."

 

शर्मा ने बताया, "इसके अलावा जिन स्कूलों ने अनापत्ति प्रमाण लिया भी है, उन्होंने उसका नवीनीकरण तक नहीं करवाया है, जबकि प्रत्येक पांच वर्ष के अंतराल पर इसका नवीनीकरण कराना अनिवार्य है."

 

उन्होंने आगे बताया, "आग लगने की दशा में अग्निशमन दल के घटनास्थल तक पहुंचने तक आग बुझाने के ये उपकरण काफी काम आ सकते हैं. इसलिए सघन बस्तियों के बीच जैसे चांदनी चौक, चावड़ी बाजार आदि जगहों पर स्थित स्कूलों के लिए इसका पालन अवश्य करना चाहिए."

 

दिल्ली में कुल 56 अग्निशमन केंद्र हैं, जहां 150 अग्निशमन वाहन और 1,300 बचावकर्मी हैं.

 

राष्ट्रीय राजधानी के दक्षिणी हिस्से में वसंत कुंज में हाल ही में हुए अग्निकांड में 1,000 से अधिक झुग्गियां खाक हो गईं.

 

एक अन्य हादसे में इसी इलाके में शॉर्ट सर्किट से लगी आग में एक वृद्धाश्रम पूरी तरह जलकर खाक हो गया. इस हादसे में दो वृद्धों की मौत हो गई, तथा अनेक घायल हो गए थे.

 

इस तरह के हादसों से निबटने के लिए दिल्ली अग्निशमन सेवा ने हाल ही में अग्निशमन सुविधाओं से लैस पांच इनोवा कार और कुछ मोटरसाइकिलों को अपने अग्निशमन सेवा दल में शामिल किया है.

 

स्कूलों को इस तरह के हादसों से बचाने के लिए किए जाने वाले उपाय पर शर्मा ने बताया, "हमारा जांच दल नियमित तौर पर स्कूलों का जांच करता रहता है. इससे कम से कम वे स्कूल अनापत्ति प्रमाणपत्र लेने के लिए आवेदन करने आगे आते हैं."

 

उन्होंने आगे बताया कि अनापत्ति प्रमाणपत्र जारी करने तक हमारा विभाग स्कूलों में जरूरी सुरक्षा उपायों की जांच भी करता है उनकी सुनिश्चितता भी तय करता है.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story बैंकों में धोखाधड़ी रोकने के लिए आरबीआई ने बनाई विशेष कमिटी, कहा 'बैंकों को बार-बार चेतावनी दी थी'