फ्लिपकार्ट ने 2,000 करोड़ रुपये के सौदे में मिन्त्रा का अधिग्रहण किया

फ्लिपकार्ट ने 2,000 करोड़ रुपये के सौदे में मिन्त्रा का अधिग्रहण किया

By: | Updated: 01 Jan 1970 12:00 AM

बेंगलूर: घरेलू ई-रिटेलर कंपनी फ्लिपकार्ट ने देश के ई-कामर्स क्षेत्र में एक बड़ा कदम उठाते हुए ऑनलाइन फैशन रिटेलर मिन्त्रा का अधिग्रहण किया है. यह सौदा करीब 2,000 करोड़ रुपये में हुआ है. हालांकि, दोनों कंपनियों ने सौदे के आकार के बारे में नहीं बताया है, लेकिन सूत्रों का कहना है यह करीब 2,000 करोड़ रुपये का सौदा है.

 

फ्लिपकार्ट के सह संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी सचिन बंसल ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘यह 100 प्रतिशत अधिग्रहण है और आगे चलकर इस खंड में हमारी बड़ी योजनाएं हैं. फ्लिपकार्ट और मिन्त्रा एक साथ आकर सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कहानी का सृजन कर रही हैं. साथ मिलकर हमारा बाजार पर प्रभाव बढ़ेगा.’’

 

हालांकि, सौदे के मूल्यांकन के बारे में कंपनियों ने टिप्पणी नहीं की. बंसल ने कहा, ‘‘फ्लिपकार्ट में हमारा मानना है कि हम सभी खंडों में अग्रणी रहें. फैशन भविष्य की श्रेणी है. इस अधिग्रहण से हम इसमें भी अग्रणी स्थिति बना सकेंगे.’’

 

उन्होंने कहा कि निकट भविष्य में फ्लिपकार्ट फैशन कारोबार में 600 करोड़ रुपये यानी लगभग 10 करोड़ डॉलर का निवेश करेगी. फ्लिपकार्ट ने 2007 में ऑनलाइन बुकस्टोर के रूप में शुरआत की थी. यह फैशन इलेक्ट्रानिक्स के अलावा घर में इस्तेमाल वाले बिजली के उपकरण और फर्नीचर आदि भी बेचती है.

 

इस सौदे से फ्लिपकार्ट को अपने परिधान पोर्टफोलियो को मजबूत करने में मदद मिलेगी और वह ज्यादा आक्रामक तरीके से अमेजन और स्नैपडील आदि के साथ प्रतिस्पर्धा कर सकेगी. मिन्त्रा अलग इकाई के रूप में परिचालन करती रहेगी.

 

इसके सह संस्थापक और सीईओ मुकेश बंसल फ्लिपकार्ट के बोर्ड में शामिल होंगे और फैशन कारोबार का कामकाज देखेंगे. मुकेश बंसल ने कहा, ‘‘मिन्त्रा को एक अलग इकाई और इसकी संस्कृति को कायम रखना बेहद जरूरी है. हम बाजार में आगे बढ़ने के लिए काम करते रहेंगे.’’

 

देश का ईकामर्स बाजार हाल के वर्षों में काफी तेजी से बढ़ा है. अब इंटरनेट से शापिंग के लिए बड़ी संख्या में लोग लॉग करने लगे हैं. ई-कामर्स बाजार में परिधान और इलेक्ट्रानिक्स उत्पाद सबसे ज्यादा बिकते हैं. इसके लिए घर की साजसज्जा व अन्य उत्पादों की भी अच्छी बिक्री होती है. फिलहाल यह उद्योग अनुमानत: 3 अरब डॉलर का है. इस क्षेत्र की प्रमुख कंपनियों में स्नैपडील, ईबे और अमेजन शामिल हैं.

 

इंटरनेट की बढ़ती पहुंच और युवाओं में ऑनलाइन शापिंग का आकषर्ण बढ़ने से फ्लिपकार्ट ने तय समय से एक साल पहले 1 अरब डॉलर यानी 6,100 करोड़ रुपये की बिक्री का आंकड़ा पार कर लिया है.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story भ्रष्टाचार के ग्लोबल इंडेक्स में भारत 81 वें स्थान पर, चीन, भूटान से भी पीछे