बीते साल एफडीआई रैंकिंग में एक पायदान नीचे आया भारत

By: | Last Updated: Thursday, 30 January 2014 9:14 AM
बीते साल एफडीआई रैंकिंग में एक पायदान नीचे आया भारत

संयुक्त राष्ट्र: प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) पाने वाले दुनिया के 20 शीर्ष देशों में भारत की रैंकिंग पिछले साल (2013) में एक पायदान घटकर 16 हो गई.

 

संयुक्त राष्ट्र की एक रपट के अनुसार भारत में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) 2013 में 17 प्रतिशत बढ़कर 28 अरब डालर रहा. साल के मध्य में अप्रत्याशित पूंजी बहिप्रवाह के बावजूद एफडीआई यह बढोतरी दर्ज की गई.

 

साल 2012 में भारत इस सूची में 15वें नंबर पर था.

 

रिपोर्ट में कहा गया है कि पूरी दुनिया में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश कुल मिला कर 2008 के अधिक संकट के बाद के उच्चतम स्तर पर पहुंच गया है.

 

व्यापार और विकास पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन :अंकटाड: की रिपोर्ट के मुताबिक जहां भारत में वर्ष 2013 में एफडीआई 17 प्रतिशत बढ़कर 28 अरब डालर रहा, वहीं वैश्विक एफडीआई 11 प्रतिशत बढ़कर 1460 अरब डालर हो गया.

 

अंकटाड का अनुमान है कि एफडीआई प्रवाह धीरे-धीरे 2014 और 2015 में बढ़कर क्रमश: 1600 तथा 1800 अरब डालर होने का अनुमान है.

 

वैश्विक आर्थिक वृद्धि में गति पकड़ने के साथ निवेशक नये निवेश कर सकते हैं.

 

हालांकि कई अर्थव्यवस्थाओं में वृद्धि में असामानता, कमजोरी तथा अस्थिरता एवं बांड खरीद कार्यक्रम को धीरे-धीरे नरम करने से एफडीआई में पुनरद्धार पर कुछ अंकुश लग सकता है.

Business News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: बीते साल एफडीआई रैंकिंग में एक पायदान नीचे आया भारत
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017