सेंसेक्स, निफ्टी में एक फीसदी से अधिक गिरावट (साप्ताहिक समीक्षा)

सेंसेक्स, निफ्टी में एक फीसदी से अधिक गिरावट (साप्ताहिक समीक्षा)

By: | Updated: 01 Jan 1970 12:00 AM

मुंबई: देश के शेयर बाजारों में पिछले सप्ताह प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स और निफ्टी में एक फीसदी से अधिक गिरावट रही. बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स पिछले सप्ताह 1.25 फीसदी या 284.18 अंकों की गिरावट के साथ शुक्रवार को 22,403.89 पर बंद हुआ. नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी 1.3 फीसदी या 87.95 अंकों की गिरावट के साथ 6,694.80 पर बंद हुआ.

 

पिछले सप्ताह गुरुवार, एक मई को महाराष्ट्र दिवस के मौके पर शेयर बाजार बंद रहे और चार दिन-सोमवार, मंगलवार, बुधवार और शुक्रवार-ही कारोबारी सत्र संचालित हुए.

 

सेंसेक्स के 30 शेयरों में से पिछले सप्ताह आठ में तेजी रही. डॉ. रेड्डीज लैब (4.25 फीसदी), ओएनजीसी (2.41 फीसदी), सिप्ला (1.84 फीसदी), एचडीएफसी (1.76 फीसदी) और विप्रो (1.51 फीसदी) में सर्वाधिक तेजी रही. गिरावट वाले शेयरों में प्रमुख रहे टाटा स्टील (8.33 फीसदी), हिंडाल्को इंडस्ट्रीज (7.81 फीसदी), सेसा स्टरलाइट (6.57 फीसदी), एलएंडटी (6.49 फीसदी) और भेल (5.45 फीसदी).

 

गत सप्ताह मिडकैप और स्मॉलकैप सूचकांकों में भी गिरावट रही. मिडकैप 0.22 फीसदी या 16.18 अंकों की गिरावट के साथ 7,357.46 पर बंद हुआ. स्मॉलकैप 0.85 फीसदी या 64.53 अंकों की गिरावट के साथ 7,532.81 पर बंद हुआ.

 

पिछले सप्ताह के प्रमुख घटनाक्रमों में मंगलवार को सरकार के एक पुराने फैसले को रद्द करते दूरसंचार विवाद निपटारा एवं अपीलीय न्यायाधिकरण (टीडीसैट) ने दूरसंचार कंपनियों को अपने लाइसेंसी क्षेत्र से बाहर भी 3जी सेवा देने की अनुमति दे दी.

 

दूरसंचार विभाग (डीओटी) ने पहले दूरसंचार कंपनियों को नोटिस भेजकर 3जी इंटर-सर्किल रोमिंग सेवा बंद करने के लिए कहा था. इसने कुल 1,200 करोड़ रुपये का जुर्माना भी लगाया था, जिसे टीडीसैन ने रद्द कर दिया.

 

टीडीसैट ने अपने आदेश में कहा, "हम यह पाते हैं कि इंट्रा-सर्किल 3जी रोमिंग समझौता दो पक्षों के पास मौजूद यूएएस लाइसेंस के किसी प्रावधान का उल्लंघन नहीं है और सरकार याचिकाकर्ताओं को समझौते के जरिए सेवा देने से रोकने के लिए मुक्त नहीं है." इस फैसले से एयरटेल, वोडाफोन और आइडिया सेल्युलर को बड़ी राहत मिलेगी.

 

पिछले हफ्ते देश में आम चुनाव जारी रहा. इसके परिणाम का शेयर बाजार की चाल पर प्रमुखता से असर होगा. चुनाव सात अप्रैल से शुरू हुआ और 12 मई तक नौ चरणों में संपन्न होगा. मतगणना 16 मई को होगी.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story भ्रष्टाचार के ग्लोबल इंडेक्स में भारत 81 वें स्थान पर, चीन, भूटान से भी पीछे