ई-कामर्स क्षेत्र में 2-3 साल में 1.5 लाख नौकरियों की संभावना

By: | Last Updated: Sunday, 5 October 2014 6:38 AM

नई दिल्ली: तेजी से फल-फूल रहे ई-कामर्स क्षेत्र में बड़ी संख्या में नौकरियां सृजित हो रही हैं और इस मामले में यह प्रमुख क्षेत्र बनता जा रहा है. नौकरी तथा वेतन के लिहाज से यह खंड अगले 2-3 साल में 20-25 प्रतिशत की दर से वृद्धि कर सकता है.

 

इस आधार पर इस क्षेत्र में कम-से-कम 1,50,000 रोजगार सृजित हो सकते हैं. उद्योग का मौजूदा आकार करीब 18,000 करोड़ रपये है और 2016 तक यह 50,000 करोड़ रपये पहुंच सकता है और जब उद्योग में वृद्धि होगी तो प्रतिभा की मांग स्वभाविक रूप से बढ़ेगी.

 

अंतल इंटरनेशनल नेटवर्क इंडिया के प्रबंध निदेशक जोसेफ देवासिया ने कहा, ‘‘हमें भारत में ई-कामर्स क्षेत्र में तेजी को लेकर पूरी उम्मीद है. इस क्षेत्र में उद्यम पूंजी कोष के साथ करीब 200 नई कंपनियां आ रही है..हमारा मानना है कि अगले 2-3 साल में इस क्षेत्र में 1,50,000 रोजगार सृजित होंगे.’’

 

इस बारे में बिट्स पिलानी की नियोजन इकाई के प्रमुख मणि शंकर दासगुप्ता ने कहा, ‘‘उद्योग उम्मीदों से भरा है. अमेजन, ईबे, क्लिपकार्ट, मिंत्रा आदि जैसी क्षेत्र की प्रमुख कंपनियां संस्थान से लगातार लोगों को ले रहे हैं और वे काफी कमाई कर रहे हैं. इन कंपनियों ने इस साल नियुक्तियां बढ़ायी हैं.’’

 

चूंकि क्षेत्र अभी नया है और सभी स्तरों पर प्रतिभाओं की कमी है, ऐसे में योग्य लोगों को नियुक्त करने तथा प्रतिभाओं को जोड़े रखने के लिये ये कंपनियां अच्छी तनख्वाह भी दे रही हैं.

 

इस बारे में बिट्स पिलानी के दासगुप्ता ने कहा, ‘‘भारत में अधिकतर ई-कामर्स कंपनियां 2013-14 के बीच वेतन में 10 से 40 प्रतिशत की वृद्धि की है और फिलहाल 10 से 23 लाख के बीच वेतन दे रहे हैं और प्रवेश स्तर पर कर्मचारियों की नियुक्ति कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि मध्यम एवं वरिष्ठ स्तर पर वेतन में 10 से 15 प्रतिशत की हर साल वृद्धि हो रही है. साथ कंपनियां शेयर विकल्प की भी पेशकश कर रही हैं.

Business News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: 1.5 million jobs expected in 2-3 years in the region of E-commerce
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

GST के बाद रेंस्टोरेंट बिल में दिख रहे हैं SGST, CGST अलग-अलगः जानें क्यों
GST के बाद रेंस्टोरेंट बिल में दिख रहे हैं SGST, CGST अलग-अलगः जानें क्यों

नई दिल्लीः जैसा कि आप जानते ही हैं कि 1 जुलाई से जीएसटी लागू हो चुका है यानी एक देश-एक टैक्स की...

सेंसेक्स में 300 अंकों का शानदार उछाल, निफ्टी फिर 10,000 के करीब
सेंसेक्स में 300 अंकों का शानदार उछाल, निफ्टी फिर 10,000 के करीब

नई दिल्लीः आज शेयर बाजार में शानदार उछाल के साथ कारोबार बंद हुआ है. सेंसेक्स और निफ्टी दोनों...

कितने सुरक्षित है स्मार्टफोन हैंडसेट, बताएं मोबाइल हैंडसेट मुहैया कराने वाली कंपनियां
कितने सुरक्षित है स्मार्टफोन हैंडसेट, बताएं मोबाइल हैंडसेट मुहैया कराने...

नई दिल्लीः चीन से तकनीकी खतरे की आशंका के मद्देनजर सरकार ने भारतीय बाजारो में स्मार्टफोन...

जेपी विवाद पर बोले वित्त मंत्री: 'जिन लोगों ने पैसा लगाया है, उन्हें फ्लैट मिलना चाहिए'
जेपी विवाद पर बोले वित्त मंत्री: 'जिन लोगों ने पैसा लगाया है, उन्हें फ्लैट...

नई दिल्लीः एनसीआर में जेपी इंफ्राटेक के प्रोजेक्ट्स में घर खरीदारों के लिए थोड़ी राहत की किरण...

हिमाचल के लोगों को तोहफाः सरकार ने डीए में 4 फीसदी बढ़ोतरी का ऐलान किया
हिमाचल के लोगों को तोहफाः सरकार ने डीए में 4 फीसदी बढ़ोतरी का ऐलान किया

हिमाचल: हिमाचल प्रदेश के सरकारी कर्मचारियों को आज राज्य सरकार ने तोहफा दिया है. हिमाचल प्रदेश...

नोटबंदी के बाद लोन हुए सस्ते, बैंकों की ब्याज दरें घटीं: पीएम मोदी
नोटबंदी के बाद लोन हुए सस्ते, बैंकों की ब्याज दरें घटीं: पीएम मोदी

नई दिल्ली: आज स्वतंत्रता दिवस पर देश को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि...

सहारा को झटकाः एंबी वैली प्रोजेक्ट की नीलामी शुरू, रिजर्व प्राइस 37,392 करोड़ रुपये
सहारा को झटकाः एंबी वैली प्रोजेक्ट की नीलामी शुरू, रिजर्व प्राइस 37,392 करोड़...

नई दिल्लीः सहारा समूह के लिए आज बड़े झटके की खबर है. सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के 3 दिन बाद आज...

जेपी इंफ्रा की संपत्ति बेच अटकी परियोजनाएं पूरी करने की संभावनाएं खंगालने में जुटी सरकार
जेपी इंफ्रा की संपत्ति बेच अटकी परियोजनाएं पूरी करने की संभावनाएं खंगालने...

नई दिल्लीः राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से सटे नोएडा और ग्रेटर नोएडा में जेपी इंफ्राटेक के घर...

जुलाई में थोक मंहगाई दर 1.88 फीसदी बढ़ी, खाने-पीने की चीजें हुईं महंगी
जुलाई में थोक मंहगाई दर 1.88 फीसदी बढ़ी, खाने-पीने की चीजें हुईं महंगी

नई दिल्लीः देश के थोक मूल्य सूचकांक पर आधारित महंगाई दर जुलाई में बढ़कर 1.88 फीसदी रही. वाणिज्य...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017