कालेधन की जांच पर भारत ‘न्यायोचित’ अनुरोध ही करे: स्विस बैंक

By: | Last Updated: Sunday, 6 July 2014 2:31 PM

नई दिल्ली/ज्यूरिख: कालेधन की जांच में सहयोग को लेकर भारत की ओर से बढ़ते दबाव के बीच स्विट्जरलैंड के बैंकों ने कहा है कि वे नियमों का कड़ाई से पालन करते हैं और भारत को इस संबंध में ‘पूरी तरह न्यायोचित’ ही करना चाहिए.

 

एसोसिएशन ऑफ फारेन बैंक्स इन स्विट्जरलैंड का यह भी मानना है कि एक स्पष्ट एवं पारदर्शी नीति अपनाकर ‘आशंकाओं’ को दूर किया जा सकता है. उसने यह भी कहा है कि केवल ‘अटकलों’ के आधार पर सार्वजनिक चर्चा नहीं की जानी चाहिए. यह एसोसिएशन चार दशक से भी अधिक पुराना समूह है.

 

विदेशों में स्थित बैंकों में जमा कालाधन वापस लाने के लिए भारत ने हाल ही में ऐसे लोगों के बैंक खातों के ब्यौरे हासिल करने के संबंध में स्विट्जरलैंड को एक नया अनुरोध पत्र भेजा है.

 

ज्यूरिख स्थित एसोसिएशन के महासचिव मार्टिन मॉरर ने कहा, ‘‘ भारत को यह समझना चाहिए कि एक न्याय की समुचित प्रणाली और कानून के शासन के रूप में स्विट्जरलैंड की छवि को हाल के समय में गंभीर नुकसान हुआ है. इसका कारण वित्तीय मामले नहीं हैं, बल्कि अन्य मामलों में भी इसके छींटे पडत़े हैं.’’ स्विट्जरलैंड के केंद्रीय बैंकिंग प्राधिकरण. स्विस नेशनल बैंक (एसएनबी) की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, स्विस बैंकों में भारतीय धन पिछले साल 43 प्रतिशत बढ़कर करीब 2.03 अरब फ्रैंक (14,000 करोड़ रुपये) पहुंच गया.

Business News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: black money_india_swiss
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017