घर में रखे गोल्ड को बैंक में जमा कराने पर कमा सकेंगे मुनाफा

By: | Last Updated: Wednesday, 20 May 2015 2:40 AM
gold_benefit

नई दिल्ली: अब घर में रखे सोने से आप पैसे भी कमा सकेंगे. जी हां, घर में रखे गोल्ड को बैंक में जमा कराने पर आप मुनाफा भी कमा सकेंगे. केंद्र सरकार ने गोल्ड मोनेटाइजेशन स्कीम शुरू की है. इसके लिए वित्त मंत्रालय ने ड्राफ्ट भी जारी किया है.

 

योजना के मुताबिक इसका फायदा उन्हीं लोगों को मिलेगा जो कम से कम 1 साल के लिए 30 ग्राम सोना बैंक में जमा कराएंगे. यह योजना ठीक वैसे ही है जैसे एफडी करना परब्याज मिलता है. लेकिन खास बात यह है कि सोने से मिले ब्याज पर कोई इनकम टैक्स या पूंजीगत लाभ टैक्स नहीं लगेगा.

 

गोल्ड मोनेटाइजेशन स्कीम के लिए ग्राहक को गोल्ड सेविंग अकाउंट खोलना होगा. इस स्कीम में ग्राहकों को टैक्स छूट मिलेगी. सरकार ने इस साल बजट में इस स्कीम की घोषणा की थी. गोल्ड मोनेटाइजेशन स्कीम पर अगले 15 दिन यानी आने वाली 2 जून तक कोई भी अपनी राय दे सकता है. इसके बाद सरकार फाइनल ड्राफ्ट बना आदेश जारी कर देगी.

घर में रखे सोने को बैंक में जमाकर कमाएं मुनाफा 

सोने पर मिलने वाले ब्याज को बैंक अपने हिसाब से तय करेंगे. इस ब्याज को नकद और सोना दोनों के ही रूप में लिया जा सकेगा.

 

बैंक और सरकार दोनों को होगा फायदा

इस स्कीम से सरकार और बैंक दोनों को ही फायदे होंगे. एक अनुमान के मुताबिक इस वक्त घरों और विभिन्न संस्थानों के पास करीब 20 हजार टन सोना पड़ा है जिसकी कीमत लगभग 60 लाख करोड़ के आसपास बनती है. अगर ये सोना बैंकों के पास आएगा तो बाजार में लिक्विडिटी बढ़ जाएगी.

सोने की खपत के मामले में अव्वल भारत में हर साल लगभग 800 टन सोना आयात होता है और अगर आयात कम होगा तो विदेशी मुद्रा बचेगी.

 

बैंक विदेशी मुद्रा के लिए ये सोना बेच पाएंगे और विदेशी मुद्रा से कर्ज भी दे पाएंगे. इससे सिक्के बनाकर बैंक दूसरे ग्राहकों क बेच सकते हैं. इसके अलावा कमोडिटी एक्सचेंज पर ट्रेडिंग भी होगी.

Business News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: gold_benefit
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017